बड़े-बड़े दूधों की बीएफ

छवि स्रोत,సెక్స్ వీడియో ఆంధ్ర సెక్స్ వీడియో

तस्वीर का शीर्षक ,

कैटरीना के बीएफ सेक्सी: बड़े-बड़े दूधों की बीएफ, मुझे ऐसे ही रोज चोदना और मेरी चूत और गांड में अपने ये मस्त लंड डाले ही रहना.

सेक्सी कहानी मां बेटे की चुदाई

अभी मैं शीशे के सामने अपने बालों को सैट कर रही थी कि सैमी ने मुझे पीछे से अपनी बांहों में ले लिया. सेक्सी फिल्म बजरंगीउन्हें देख कर वो बोला- यह बेचारी किसी लड़के से फंस गई है और मैं इसका वही इलाज़ कर रहा हूँ, जो तुम दोनों को आपस में करना है.

मेरे हाथ इस वक्त अपनी सास की चूत पे थे और मैं उनकी चूत को सहला रहा था. सेक्सी आदिवासी व्हिडिओमैंने पूछा तो बोला- मेम साब इतनी अच्छी औरत हैं और इस रंडवे को यहां वहां मुँह मारने से फ़ुर्सत नहीं है.

मैं कमरे में चारों तरफ चोर निगाह से देखा कि कहीं कोई कैमरा तो नहीं लगा है.बड़े-बड़े दूधों की बीएफ: तभी उनका बांध टूट गया और उनके लंड ने गाढ़े वीर्य के फव्वारे फिर से मेरे मुँह में छोड़ना शुरू कर दिये.

कोमल ने मुझे अपनी फ्रेंड से मिलाया, वो भी गुड़गांव में ही जॉब करती थी.मैं जूली की टांगों के बीच आकर बैठ गया और जूली से पूछा- अन्दर करूँ?जूली पेग की मस्ती में आ चुकी थी, बोली- यू वांट टू फ़क मी, ओके, फ़क मी डिअर.

भाइयों का सेक्सी वीडियो - बड़े-बड़े दूधों की बीएफ

हर सुबह बाथरूम में मेरी गांड मारते और ऑफिस जाते वक्त लंड का पानी मुझे पिलाते.मैंने उसकी बुर की गर्मी धीरे धीरे अपने मुँह से चाट चाट कर साफ़ किया.

उसे दिन के समय ऐसे नंगी दिखना शर्मनाक लग रहा था पर मुझे ज्यादा उत्तेजक कर रही थी जिससे मुझे चुदाई करने में ज्यादा मज़ा आ रहा था।मैं उसे चोदते चोदते उसके ऊपर चढ़ कर कर कुत्ते की स्टाइल में कमर हिला हिला कर चोदने लगा। फिर हम दोनों एक साथ झड़ कर साथ में चिपक कर लेट गए और मैं उसकी बॉडी पर किस करने लगा. बड़े-बड़े दूधों की बीएफ काश तुम्हारे लंड को मैं अपनी चूत में ले पाती!फिर मैंने उसके जवाब में कहा- कोई बात नहीं रेशमा जी, अब मुलाकात हो ही गई है तो अगर आप चाहो तो बार बार होती रहेगी और आप की चूत की अच्छी सी सेवा मैं कर दिया करुंगा.

अब चाची पर सेक्स का पूरा नशा सवार था, वो वासना से बस आह आह की आवाज निकाल रही थी और मुझे बार बार चोदने का बोल रही थी। लेकिन मैं उसको थोड़ा जानबूझ कर तड़पाना चाहता था.

बड़े-बड़े दूधों की बीएफ?

मैंने उसको कई तरीक़े से चोदा, हमने कई बार सेक्स किया उस दिन और हम दोनों की प्यास बुझ गयी थी. मैं उनका इशारा समझ गया और उनको बांहों में ले कर उनके बेडरूम में ले गया. उसकी सांसें मेरे कान पर अजीब सा सुकून दे रही थीं, उसके मम्मों का हल्का सा स्पर्श मेरे पीठ पर हो रहा था.

अब भीड़ होने के कारण जो भी कॉलेज में एंट्री कर रहे थे, तो उनको लाइन के बीच में से निकलना होता था. इतने में वो सिर्फ़ तौलिया में ही आ गए और रूम का दरवाजा लॉक कर लिया. अब इस घर में चुदाई की आंधी आने वाली थी… इस घर के सारे बच्चे आपस में खूब चुदाई करने वाले थे.

वो भी यदि तुमने मेरे बताए नियमों का पालन किया तो!वल्लिका- नियम बताइए प्रभु. रूबी बोली- वाह, बहुत दिन बाद जवान ताज़ा सड़का चखने को मिला!जब यह सब चल रहा था, तब मैंने और कीकु ने अपना लंड आज़ाद कर लिया था. भाई का साला दो दिनों बाद ही आ गया और उसका बहुत अच्छी तरह से स्वागत किया गया.

अब मैंने कोमल को डॉगी स्टाइल में खड़ा किया और खुद बेड से नीचे खड़ा हो गया. उन्होंने अपनी दोनों टाँगों को उठा कर मेरे कन्धों पर रख दिया और मेरा सर अपने हाथों से अपनी चूत पर दबा दिया.

वो मेरे ऊपर आये और मेरे दोनों पैरों को पकड़ कर मेरी खुली चूत में सीधे अपना मुँह जोर से रख दिया.

वे बोलीं- इस पल के इंतज़ार में न जाने कितने साल गुज़ार दिए दामाद जी.

तो अंकित बोला- कौन हो तुम? और ये क्या बोल रही हो?मैंने अंकित को सब कुछ बताया कि सुनीता मेरे घर में भी काम करती है उसी ने मुझे बताया कि कल आपने उसकी जमकर चुदाई की, तो आज उसी ने मुझे यहाँ भेजा है. ’ भरी और उन्होंने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और अपने दूध मेरे मुँह में घुसेड़ कर कहा- लो खा जाओ, पी जाओ. उस फ्लोर के बाकी के 3 फ्लैट बंद हैं, सो मेरे फ्लोर पे सिर्फ़ मैं हूँ.

उनकी गोल गोल चूचियां इतनी तेज़ी से उछल रही थीं कि बस ऐसा लग रहा था कि खा जाऊं इनको. शराब पीते वक्त उनकी हरकतें कुछ नॉटी सी हो रही थीं, मेरे दोस्त की सेक्सी मॉम मुझे एडल्ट जोक सुनाने लगीं और बार बार झुक झुक कर अपने मम्मे दिखाने लगीं. मैंने जब उस लड़की को देखा तो देखता रह गया, वो बहुत सुन्दर थी और उसकी 36-32-36 की गदरायी फिगर तो और भी ज्यादा सेक्सी थी.

मेरी चालू बीवी बोली- अब तो अपनी चुत में इसका लंड ले कर ही रहूंगी मैं!रितु ने भी उसकी प्रैक्टिस के समय पर जॉगिंग पर जाना शुरू कर दिया.

सुरेश जी मेरी जाँघों पे आके बैठ गए और मेरी गांड के छेद पर देर सारा थूकने लगे. उसकी चूत से अजीब सी आवाज आने लगीं और आशिना मस्त होकर चुदवाने लगी थी. मैंने एक झटके में उसका कुर्ता निकाल दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके चूचे चूसने लगा.

पर मैंने अपने हाथ और होंठ चलाने जारी रखे।फिर पीछे से नितिन भी अपने दोनों हाथ चलाने लगा. अब वक़्त आ गया है बदलने का सुहाग के बिस्तर पर सफ़ेद की जगह लाल चादर बिछाने का वक़्त आ गया है. आपको मेरी एक सच्ची देसी चुदाई कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे मेल जरूर करें और बताएं.

पद्मिनी ने अपनी गरदन को पीछे की तरफ करते हुए अपने बालों को खोलना शुरू किया.

वो इतने हट्टे कट्टे मजबूत शरीर दिखने भी हैंडसम हैं ओर चड्डी के अन्दर उनका लंड भी बहुत बड़ा लग रहा था. मेरे सभी दोस्त मुझे निट्स कहते हैं, मैं अन्तर्वासना की कहानियाँ हर रोज पढ़ता हूँ.

बड़े-बड़े दूधों की बीएफ फिर मयूरी को अचानक कुछ याद आया और विक्रम के होंठों से अलग होते हुए बोली- भैया… तुम्हारा लंड… मुझे वो देखना है. इस समय उनको मेरी नंगी गांड दिखाई दे रही थी, अब जाकर सामने मम्मी का पेटीकोट मुझे नजर आया.

बड़े-बड़े दूधों की बीएफ बाहर निकलते वक्त संजू ने मेरे हाथ में कुछ दिया और कहा- ठीक से करना, कोई गड़बड़ न हो जाये!संजू ने मुझे आंख मारी और दरवाजा बंद कर दिया. मैंने कहा- भाभी आज आप बहुत खूबसूरत लग रही हो तो आपकी एक पिक हो जाए.

मैं बोला- यू डर्टी बिच! (तुम गन्दी कुतिया हो!)वो बोली- येह, आई अम फक्किंग डर्टी बिच.

सेक्सी चूत में लंड डालना

वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी तो मैं उसे सहारा देकर ले गया, फिर हम भी बहन ने एक दूसरे को साफ किया और वापस आ गए।वापस आने के बाद हम भाई बहन बाक़ी पूरी रात एक दूसरे को चूमते चाटते रहे. अब मैं उसके बच्चे को क्लास देने उसके घर जाता हूं और मौका मिलते ही उसकी भी क्लास ले लेता हूं. जब भी मैं बुआ के घर उसके सामने पड़ जाती हूँ, वो मेरी चूची के उभार को घूर कर देखता है और मेरी उठी हुई गांड भी देखता है.

चुदाई के दौरान वो एक बार झड़ गयी पर मेरा हुआ नहीं था तो मैं करता रहा और 7 मिनट की चुदाई में वो मेरे साथ दूसरी बार झड़ गयी और हम दोनों थक कर वैसे ही लेट गए।मेरा लन्ड जूही की चूत में सिकुड़ गया और हम दोनों ऐसे ही सो गए. वो कसमसाते हुए बोलीं- आह मर गई हनी… आज मेरा सपना पूरा कर दो आह…मैंने झट से भाभी की पेंटी निकाल दी और उनकी चुत को किस कर दिया. फिर मैं उठकर फ्रेश हुआ तो भाभी ने मुझे अपने हाथों से खाना खिलाया और उस रात मैंने भाभी को सुबह 4 बजे तक 3 बार हर ऐंगल में चोदा.

वो जल्दी से फ्रिज से दो पेप्सी की बॉटल निकाल कर लाया और बोला- पीजिए!पेप्सी पीते हुए मैंने कहा- बहुत ज़्यादा गर्मी है.

अरुण ने किसी गुलाम की तरह उसकी बात मानकर आशिना को घोड़ी पोजीशन में कर दिया और अपना 7″ का लंड उसकी चूत पर रखकर रगड़ने लगा. उसकी मांसल जांघों के बीच, उसकी गीली पैंटी की खुशबू अब उस तक आने लगी. काफी देर तक किस करने के बाद मैंने उससे बोला कि क्या आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स कर सकता हूँ?तो उसने थोड़ा टाइम लेकर जबाब दिया कि हां कर सकते हो अगर मुझे कोई प्रॉब्लम हुई तो वहीं पर रोकना पड़ेगा.

भाभी अपनी गांड हिलाते हुए हँसने लगीं और बोलीं- बेटा, तुम्हारी भाभी की ये गांड तो तुम्हारे भैया से बहुत चुदी है. मैंने भाभी की फ्रेंड रिक्वेस्ट सेंड की और भाभी ने दो दिन बाद मेरा अनुरोध स्वीकार कर लिया. अब मैंने भाभी की चुत के छेद पर लंड सैट कर लिया और थोड़ा अन्दर करने लगा.

वो मेरे होंठों को मुँह में लिए किस कर रहा था और कुछ नहीं बोलने दे रहा था. मैं आज ही भैया से कहती हूँ कि आपका साला यहाँ पर क्या क्या करता है और भाभी से भी कहती हूँ कि ज़रा आओ और देखो इसकी करतूत को.

अब मैंने भाभी की चुत के छेद पर लंड सैट कर लिया और थोड़ा अन्दर करने लगा. अन्तर्वासना के प्यारे पाठको, आपको मेरी हिन्दी सेक्स कहानी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके बतायें![emailprotected]कहानी का अगला भाग:ट्रेन में मिली महिला की सेक्स की प्यास-2. वो पगली क्या जाने कि वो ऐसा न भी करती तो मैं तो उसको किसी ओर के लन्ड का सुख पाते देख ही स्वयम् स्खलित होने को उत्तेजित था.

मैंने उसे अपने दोनों हाथों से अपनी बांहों में उठा लिया और उसी झाड़ी में ले चला.

और पेटीकोट पैंटी को उतारते ही वो मेरा लंड पकड़े ही लेट गयी। उसकी चूत के चारों तरफ झांटें थी, साफ करने की जहमत नहीं उठाती थी क्योंकि घर में इस तरह से चुदने का मौका नहीं मिलता था तो हो सकता है कि यह एक तरह से विद्रोह भी था. अगले दिन शाम को जब मैं ऑफिस से निकलने की तैयारी कर रहा था, मुझे एक कॉल आया. मेरे मम्मे भी टाइट और बड़े हो गए और अब मुझे पेंटी का साइज भी बदलना पड़ा क्योंकि इसके बाद भी सैमी मेरी चुदाई करता रहा था.

धीरे धीरे मैं उनके ऊपर आ गया, उनकी टाँगें चौड़ी कर लीं और अपना मूसल उनकी कुँवारी चूत पे लगा दिया. वो लड़का उसके साथ बहुत बार चुदाई भी कर चुका था, जैसा उसने मुझे चैट में बताया था.

शायद खुद को टटोल रही थी कि अगर कभी राशिद और समर एक साथ उसे आगे और पीछे से भोगते तो वह स्वीकार करती या नहीं?शायद चली जाती. मैंने नीचे की और खिसकते हुए उनका बॉक्सर खोला और उनका लंड बाहर निकाल लिया. मैंने रितु को चोदना जारी रखा और वह हांफने लगी, उसकी चूत से पानी बह रहा था.

लेने वाला सेक्सी वीडियो

फिर एक दिन सोनी मेरे रूम पे आई, उसने टॉप और शॉर्ट पहना हुआ था, जिसमें वो ग़ज़ब की सेक्सी लग रही थी.

मेरी उससे ऑफिस के काम को लेकर कई बार बाहर से ही उससे बात भी हुई थी, जिस वजह से आस पास रहने वाले भी इस बात को जानने लगे थे और हमारे मिलने को कुछ गलत नहीं समझते थे. भाभी बोलीं- कब से चल रहा है यह सब?मैंने बताया कि ये कल ही मिली थी उसकी बुकिंग आई थी और रात 11-30 बजे उसे 17 सैक्टर छोड़ कर घर आ रहा था तो उसका दोबारा फोन आया कि उसने खाना नहीं खाया था और होटल में 11 बजे के बाद डिनर नहीं देते हैं. सुनीता थोड़ा मुस्कुरा कर बोली- हाँ दीदी, अंकित जी ने कहा तो है कि कल जल्दी आना.

तभी मैंने एकदम से उसकी चुत में लंड पेल दिया और वो बहुत तेज चिल्लाते हुए बोली कि आह माँ मर गई. मैंने थोड़ी हिम्मत करके मंच सजाने का जो सामान रखा था, उसमें से एक प्लास्टिक का गुलाब उठाया और उसके पास जाके उसे प्रपोज किया, तो उसने सबके सामने पहले तो मुझे मना कर दिया. तालिबानी सेक्सी वीडियोवो अपने पाँव मेरे बदन पर रगड़ने लगतीं, तो कभी बेड पर घिसने लगती थीं.

मैं चिल्ला भी नहीं सकती थी क्योंकि उसने मेरे होंठों को अपने होंठों से कस कर पकड़ रखे थे. हम अमृतसर में 11:00 बजे के लगभग पहुंच गए सबसे पहले हमने वहां एक होटल में कमरा बुक किया फिर मैं लगभग 3:30 बजे एक मैजिक कार से हम वाघा बॉर्डर के लिए गए.

”मैं अपने मम्मे रगड़ते हुए बोली- ये अब तुम्हारी ही है, चाटो, मारो कुछ भी करो. लेकिन तभी उन्होंने जोर से धक्का देकर मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और बिस्तर से नीचे उतर गईं. उन दीदी की चूत गर्म गर्म थी और वो आंखें बंद करके बस लंड के घुसने इंतजार कर रही थीं.

मम्मी ऐसा लगता है कि कमर के पास हल्का मोच आ गई है, मुझे दर्द हो रहा है इसलिए लेटी हूं. मैं बोली- ये टूट तो नहीं जाएगी?उन्होंने बोला- नहीं, ये नहीं टूटेगी जानेमन. वो नंगी ही किचन में चली गयी और जब वो आयी उन्होंने नाइटी पहनी हुई थी।मम्मी ससुर जी से बोली- आपने मुझे बहुत मजा दिया है.

मामी की वो बड़ी बड़ी चुचियों की घाटी देख कर लगता कि इन गोलों की गहराइयों में उतर जाऊं, बस मसल दूं, चूस डालूँ मामी की चूचियों को!फिर मैं अपने आप को शांत कराता कि यह मैं क्या सोच रहा हूँ.

वैसलीन, सरसों का तेल, रिफाइन तेल, नारियल तेल पर मेरे खड़े लंड पे धोखा हो गया. इसके बाद अगले ही मैंने भी ऊपर से झटका दे मारा तो मेरा लंड उसकी चूत में चला गया.

मगर मैं आपके घर पर नहीं आ पाऊंगा क्योंकि मैं अब पिंकी से नज़रें नहीं मिला सकता. मैं उनको अपनी गर्लफ्रेंड की तरह मानता हूँ और वो भी मुझे अपना ब्वॉयफ्रेंड मानती हैं. फिर मैं धीरे धीरे उंगलियों को दोनों तरफ घुमाना शुरू कर दिया, साथ ही साथ अन्दर बाहर भी कर रहा था, जिसके कारण गांड में थोड़ी सी जगह बन गई.

मैं उनके चूचे को देखकर अपने आपको रोक नहीं पाता था और दूध पीती हुई बच्ची के गाल पर किस करने के बहाने अपने मुँह को उनके चूचे के पास ले जाता था. उसके बाद कई बार जब भी हमें मौका मिलता, हम चुदाई कर लेते हैं, वो रात मेरी जिंदगी की सबसे हसीन और सबसे खूबसूरत रात थी, मैं उस रात को में कभी भी नहीं भूल सकता।मेरी बहन की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी आपको? जरूर बताएं मुझे… आपके मेल्स का इंतजार रहेगा! आशा करता हूँ कि आप मुझे और कहानियां लिखने के लिए प्रेरित करेंगे. वो हमारे कॉंप्लेक्स के छत पर बने हुए एक बड़े से हॉल जैसे रूम में रहते हैं.

बड़े-बड़े दूधों की बीएफ मैं अपने घर का काम भी करती हूँ और कभी कभी जॉब भी करती हूँ, जो कि मैं ऐसे ही टाइम पास के लिए करती हूँ ताकि मेरा दिन घर से बाहर निकल जाए. वो बहुत ही उत्तेजित हो गई थीं, इसलिए ज्यादा समय तक सह नहीं सकीं और उनकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

munna सेक्सी

अब मैंने उनकी मस्त नाज़ुक कमर पर हाथ घुमाते हुआ उनके गाल पर किस करना चालू किया. मेरी बात सुन कर वो बोला- क्या तुम चाहती हो कि मैं फिर से दुबारा उसी तरह से बीमार हो जाऊं?मैंने कहा- यह तो मैं मरते दम तक नहीं सोच सकती. एकदम परफेक्ट! उसकी नाभि अधिकतर नाभियों के भांति भीतर घुसी हुई नहीं थी बल्कि बाहर उभरी हुई थी.

अब माफी चाहते हैं कि इस कहानी के बाद दूसरी कहानी लिखने में एक साल से ऊपर निकाल दिया. मैंने सोचा किसी का फोन होगा तो नहीं उठाऊँगा, लेकिन देखा तो फोन राजू का था. लड़की और बंदर की सेक्सी वीडियोऐसा करने से मैं और गर्म हो गया और कुछ ही पलों में भाभी की चूत में ही झड़ गया.

उसके कुछ देर बाद मैं भी अपने मुकाम पे पहुँच गया और पूछा- कहां निकाल दूँ?उसने बोला- मेरी चुत में निकाल दो.

मैंने तुरंत कंडोम लगाया और उसकी चुत में लंड डाल कर हचक कर चोदने लगा. सीमा एक गरीब घर की मेरे ही मोहल्ले में रहने वाली लड़की थी। वो दिखने में सांवली थी लेकिन दिखने में फिर भी बहुत सुंदर थी। सीमा अक्सर अपनी भैंस के लिए घास लेने के लिए मेरे खेत में आती रहती थी।एक दिन छुट्टी के दिन में अपने खेतों में था और पापा शहर गए थे.

एक पल को रुक कर मैंने लंड को चूत में सैट किया और अब मैं धक्कों पे धक्के देते हुए मैडम की चुत को फटाफट चोदने लगा. मैं एक बहुत बड़े शो रूम में गयी, मैं वहां दुल्हन वाले सेक्शन में अन्दर चली गई. मेरे पति ने मुझसे कहा- मैं पोस्ट से सीधा वहीं आ जाऊँगा एक दिन के लिये!मैंने कहा- ठीक है।सच में उन दो दिनों में उसके घर पर बहुत तरह की सेक्स पोजीशन में सेक्स किया और उसके पापा को भी उसकी मम्मी के साथ सेक्स करते हुये देखा मैंने!आपको मेरी और अनुप्रिया की रियल सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे जरूर बतायें।[emailprotected].

और किचन की ओर जाते हुये मैंने उनसे पूछा- चाय पियोगे?वो बोले- हाँ, शांति (उनकी पत्नी का नाम) पीऊँगा।[emailprotected].

फिर मैंने उन्हें पूछा कि आपके हस्बैंड क्या करते हैं?तो उन्होंने कहा कि वे बिजनेस करते हैं. क्या कहूँ दोस्तों मुझे पक्का यकीन है कि आने जाने वालों में से बहुत लोगों के लौड़े उसने खड़े किए होंगे. जहाँ शाम के टाइम बच्चे स्वीमिंग, बैटमिंटन या क्रिकेट खेलने जाते हैं.

सेक्सी वीडियो चूत में लन्डउसके बाद मैं अपने कमरे में लौट आया। उनका हसीन चेहरा मुझे हर जगह नज़र आ रहा था। उनकी वो रसीली बातें. पर ये भी था कि मैंने जिससे भी सेक्स किया, उससे फुल मस्ती की और हर बार मेरे पार्टनर को भी बहुत मजा आया.

इंडियन ओपन सेक्सी मूवी

मेरी सहेलियां समोसे खाने के बाद बाहर आ गईं और मैं उस लड़के से बातें करने लगी. अब मेरा दांया पैर बीवी के दोनों पैर के बीच में था और बाया पैर बीवी की दांई ओर कमर के बाजू रखकर बीवी की चुत चोदने लगा. पेंटी उतारते से ही उसने अपना मुँह मेरी चूत में लगा दिया और मेरी चूत को चाटने लगा.

फिर मैं मेट्रो स्टेशन पर आ गया और मैं टोकन लेकर फ्लेटफॉर्म पर मेट्रो का इन्तजार करने लगा. उधर प्रभु अपने चोदने की रफ्तार बढ़ा रहा था, इधर रूबी और भी ज़ोर से मेरा लौड़ा चूसे जा रही थी. उसने बोला- वन्द्या मौसी, अब इस खेल को आगे आप ही बताओ, मुझे इतना तक ही पता है.

फिर धीरे धीरे नीचे उनकी दूध घाटी तक आ गया और उसी वक्त मैंने पीछे से उनकी ब्रा का हुक खोल दिया. मुझे बड़ा गुस्सा आया इसकी इतनी हिम्मत? मैंने थोड़ी देर उसे नज़रअंदाज किया, पर वो नहीं माना. उस समय सुजाता के घर में टी वी नहीं था तो वो देखने के लिए मेरे ही घर आती थी।एक दिन रविवार को वो मेरे घर टी वी पर उसका फेवरेट सीरियल देखने के लिए आई थी.

मैंने कहा- क्यों आपके पति तारीफ़ नहीं करते?उन्होंने थोड़ा दुखी हो कर कहा- नहीं वो मुझ पर इतना ध्यान नहीं देते. मेरी चूत वास्तव में पूरी गरम हो गई थी और उसका लौड़ा छत को देख रहा था.

इसलिए आप ऐसा ना सोचो, क्योंकि उसे गांड मारना मराना पसंद नहीं तो मैंने उसका मन रख लिया था.

मैंने चाची की बातों में रस लेते हुए पूछा- क्या मतलब चाची? मजा क्यों नहीं आता मैं समझा नहीं. ब्लू नई सेक्सीथोड़ी देर चूत चुदवाने के बाद उसने अपने दोनों पैर बिस्तर से नीचे छोड़ दिए. देवर भाभी सेक्सी रोमांटिक वीडियोअब दिनेश मेरी गांड मार रहा था और मनोहर मेरी चूत में अपना मूसल पेले हुए मुझे धकापेल चोदे जा रहा था. मेरे मना करने पर बोली- फिर इतनी देर कैसे?मैं- मुझे नहीं पता, मेरा तो पहली बार ही है.

इसी बीच मैंने उसकी चड्डी नीचे कर दी और उसके लंड को हाथ में पकड़ कर बोली- अब से यह मेरा है और किसी की चूत में नहीं जाएगा.

उसकी इन सब बातों से मेरा जोश और बढ़ गया, अब मैं पूरा लन्ड बाहर निकाल निकाल के धक्के लगाने लगा. मैंने कहा कि फिर आपका मन कैसे लगता है?तो उन्होंने कहा कि किसी तरह मन मार के बर्दाश्त कर लेती हूँ. मैं धीरे से एक आँख खोल कर देख रहा था, वो मेरी तरफ देखते हुए निकल गईं.

फिर मैंने जोश में उनकी मैक्सी फाड़ दी और उन्होंने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए. वो मेरी चुदाई कर रहा था और कभी कभी मेरी चुदाई करते करते मेरी चूची को चूस रहा था. लेकिन मैं थोड़ा असमंजस में था क्योंकि वो तो बड़ी ऑफिसर थीं और उन्होंने मेरी इतनी हेल्प की.

बताना सेक्सी वीडियो

विक्रम को जैसे विश्वास नहीं हुआ, वो ख़ुशी और उत्साह के मारे उसकी गोल-गोल बड़ी चूचियों को पकड़कर हल्के-हल्के से दबाने लगा. मैं उनकी इस हरकत से जब नहीं हिला, तो धीरे से बोलीं- मुझे पता है कि तू जाग रहा है, एक्टिंग मत कर. ऐसे ही स्कूल के बारे में बातें करते करते उन्होंने मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि हां मेरी गर्लफ्रेंड है.

जैसे ही उसका भाई आया, मैंने गुस्से में उसके भाई से 10 रूपये लिए और अपने घर आ गया.

जब हमारी शादी हुई थी तब मेरी बीवी को चुदाई कैसे करते हैं, ये मालूम ही नहीं था.

मैं समझ गया कि ये अब मेरा लन्ड लेने के लिए तैयार है मगर मैं सब आराम से करना चाह रहा था कि जिससे कोई काम गलत न हो. मेरे टीचर मेरी स्कर्ट में हाथ डालकर बोले- वन्द्या, मैं तुम्हें बहुत पसंद करने लगा हूं, तुम बहुत सेक्सी हो. सेक्सीकहानिया’मैं भी लगातार चोदे जा रहा था और उसकी लड़खड़ाती ज़ुबान ने कह दिया था कि उसका निकलने वाला है.

फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि तुमने उसके साथ कुछ किया है?तो मैं अनजान बनने की एक्टिंग करते हुए बोला- क्या मतलब?इस बात पर भाभी ने अपनी जांघ खुजाने का बहाना करते हुए अपनी बेबी डॉल को और ऊपर तक चढ़ा लिया. इतना बोला ही था कि मनोहर के लंड से गरम गरम पिचकारी लंड रस की निकलना शुरू हो गई. दिनेश मेरी तरफ बढ़ गया और सीधे मेरी नाभि को चूम कर बोला- ऐसी सेक्सी नाभि मैंने नहीं देखी.

फिर अचानक से उसने मेरे सर को जकड़ लिया और अपना गर्म गर्म पानी मेरे मुँह पे निकाल दिया, जिसको मैं हल्का सा पी भी गया. वो बहुत ही उत्तेजित हो रही थी, उसके मुँह से चुदास से भरी सिसकारियां निकल रही थीं.

उन्होंने लंड को गांड से निकालकर पलंग की चादर से साफ किया और मुँह में लेकर चूसने लगीं.

अब तक की इस चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरी चुत पीयूष चाट रहा था और मैं लाल जी का लंड चूस रही थी, तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. एक तो मुझे मेरे मोटे और बड़े लंड की प्रॉब्लम होती है, क्योंकि कुँवारी लड़की मेरे लंड को पहले दिन लेने से घबराती है. कोमल कमरे में चली गयी और मैंने होटल के लड़के से पूछा कि व्हिस्की मिल सकती है क्या?उसने बोला- हां सर, 100 रुपये एक्स्ट्रा लगेंगे.

इंडियन सेक्सी वीडियो पंजाबी मैंने उसके मुँह से हाथ हटा दिया, उसकी कमर पकड़ के तेज़ी से चोदने लगा. एक दिन हम दोनों लोग शाम को ऑफिस से काम करने के बाद बाहर खाने गए थे, तो वो मुझे अपने बारे में बताने लगा.

जैसे ही मेरे नंगे पेट पर उसके हाथों का स्पर्श हुआ, तो मैं एकदम सिहर गयी. मैं जल्दी से अनीता दीदी से अलग हुआ और अनीता दीदी को बोला- अपने सारे कपड़े लेकर बाथरूम में जल्दी जाओ. वह पद्मिनी के पीछे किचन तक गया और दरवाज़े पर खड़े होकर खुद अपनी बेटी को वासना की नज़र से देखने लगा.

इंडियन देहाती सेक्सी वीडियो हिंदी

प्रोमिस!” पापा गर्म साँस छोड़ते हुए मुझसे बोले।ठीक है पापा…” मैं धीरे से पापा से बोली।पापा बिना देर किये साबुन उठाकर मेरी पीठ पर लगाने लगे, उनका हाथ साबुन लगाते हुए जब मेरी गांड तक पहुंचा तो पापा के हाथों में थरथराहट सी हुई, लेकिन मैं इसका कारण नहीं जान पायी, अब पापा मेरे चूतड़ों पर हाथ चलाने लगे, उन्हें जोर से दबाने और सहलाने लगे. कई बार हरीश को कॉलेज से आने में देर हो जाती है, तो मैं तुम्हें ही फोन कर लिया करूँगी. तभी मनोहर मेरे सामने खड़े होकर अपनी शर्ट खोलने लगा और पैन्ट खोलकर नीचे उतार दिया.

एक हाथ से मुठ मारते और एक हाथ से पद्मिनी की चूतड़ों को थाम कर अपने लंड को शांत करने लगा. मैंने उससे बात शुरू की, तो वो मेरी फ़ोटो मांगने लगा लेकिन मैंने नहीं दी.

पूरा लौड़ा घुसाने के बाद जब सोनू ने चोदना शुरू किया तो मैं सातवे आस्मां की मस्ती पर थी, पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ हो रही थी और मेरी सिसकारियाँ गूँज रही थी!सोनू- ले साली, और कस के चुद तू आज, आज तेरे इस कामुक बदन की आग बुझा ही दूंगा!मैं- हरामी साले, ये आग सालों की है, इतनी जल्दी नहीं मिटेगी.

ललिता मैडम की उम्र यही कोई 35 साल की होगी, पर उनका बदन ऐसा तराशा हुआ था कि बड़े बड़े तीस मारखां लंड भी झटके से पानी छोड़ दें. तुम बाजार चले जाओ और उधर से कुछ सब्जियां वगैरह लेकर आओ, मैं खाना बना देती हूँ. फिर एक दिन मेरे घर वालों को नाना के यहाँ जाना पड़ा, लेकिन ट्रेनिंग के कारण हम दोनों नहीं जा सके.

थोड़ी देर इसी पोजीशन में रहने के बाद मैंने उन्हें अपनी गोदी में बैठा लिया और अपनी बांहों में जकड़ कर उनकी योनि में जोर से झटके देने लगा. किस करते करते वो अपना लंड मेरी गांड पे रगड़ रहा था और मेरे मम्मों को मसल रहा था. मैं उसके मुँह में अपना लौड़ा आगे पीछे करने लगा, वो गों गों कर रही थी.

फिर 9 बजे भाभी का फोन आया, उन्होंने कहा- किधर हो?तो मैंने बोला कि घर पर ही हूँ, आपकी राह देख रहा हूँ.

बड़े-बड़े दूधों की बीएफ: इसलिए डरती थी, वरना मैं तो चाहती थी कि मुझे पूरी नंगी कर के मेरी चूत को चाट चाट कर चाटा जाए. रात होने लगी तो मैंने सोचा कि आज रात मौसी मुझे अपने पास नहीं लिटायेगी.

ऐसा बोलते ही उसने मेरे हाथ पकड़ कर अपने गाउन के बटन खोल कर अपने मस्त चूचों पर रख दिए. मेरे सभी दोस्त मुझे निट्स कहते हैं, मैं अन्तर्वासना की कहानियाँ हर रोज पढ़ता हूँ. पर ये भी था कि मैंने जिससे भी सेक्स किया, उससे फुल मस्ती की और हर बार मेरे पार्टनर को भी बहुत मजा आया.

मैंने मना किया तो बोली- एक बार की बात होती तो नहीं देती, पर तुम्हें तो मेरे पास बार बार आना है.

रितु की चूत में फिर से पानी आने लगा और मैंने नीचे से धक्के मारने शुरू किये. उसने एक उंगली चूत में डाल कर चाटना शुरू किया तो मैं ख़ुद पर कंट्रोल नहीं कर पायी और मेरा पानी निकल गया. वापस आकर सबसे पहला काम मैंने कोमल को फोन किया और उसको बोला कि तुम वहां से डाकपत्थर आ जाओ, यहीं मिलते हैं.