बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर

छवि स्रोत,गाव की बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

चोदी चोदा इंग्लिश पिक्चर: बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर, जब वो शाम को आई, तो वो मेरा गिटार लेकर बैठ गई, तो मैंने कहा- ऐसे नहीं मैं बताता हूँ!ऐसा कह कर मैं उसके पीछे चला गया और ऐसे ही उसके हाथ को पकड़ लिया.

नीतू बीएफ

अशोक- हाँ… याद है… अब क्या उनको भी बुलाना है आपको चोदने के लिए?मयूरी- आप बात तो सुनो… आज आपको बहुत सारी बातों का पता चलेगा और ये सारे आपके जीवन के बड़े रहस्य हैं… जो आपको जरूर पता होना चाहिए. 12 साल लड़की की सेक्सी बीएफदूसरे दिन मैं फिर से एक्सर्साइज़ कर रहा था तब भी वो दोनों मुझे ही घूर रही थीं.

महीने में दो तीन बार बुआ जी की चुत ज़रूर चोदने मिलती है, लेकिन अनु ने शादी के बाद कभी भी चुदाई नहीं करने दी. एनिमल की बीएफअभी भाभी कुछ समझ पातीं मैंने अपने लंड का सुपारा उनकी चूत की फांकों में फंसा दिया और रगड़ने लगा.

”मैंने हंस कर उसकी साड़ी खींच कर निकाल दूसरे हाथ से उसके 36 साइज के चूतड़ दबा दिए.बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर: तब राज अंकल बोले- चल तेरे लिए यह मैं करवा दूंगा और तुझे कभी भी अगर कुछ दिक्कत आई या तेरी मम्मी जान भी गई तो कुछ नहीं बोल पाएगी.

तभी मैडम ने मुझे आवाज दी- हैलो कहां खो गए!मैं डरते हुए हकला कर बोला- क … कुछ नहीं … बॉस ने भेजा है मुझे.अब जबकि मेरे पास मज़े के लिए एक पार्ट्नर भी आ गया था मगर संकोच के चलते कुछ हो नहीं पा रहा था.

बिहार बीएफ बीएफ - बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर

तब टूर की बातों के साथ उसने मेरे बारे में भी पूछा और कुछ अपने बारे में बताया.फिर उन्होंने धीरज से कहा- बोलो क्या बात है?मगर धीरज अभी झिझक रहा था.

अचानक इतने मोटे लंड से चूत में हुए फैलाव को मामी बर्दाश्त नहीं कर पायीं. बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर जैसे ही मैंने उसकी चूत में थोड़ी सी उंगली डाली, तो उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं.

वो हमारी ही कदकाठी का था, पर बहुत ज्यादा सफेद रंग का था, बिल्कुल दूध जैसा सफेद.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर?

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:विशाल लंड से चुदाई का नया अनुभव-2. इस बात पर वो हँसने लगीं और मेरे करीब आकर बोलीं- इतने साल से तो कुछ कर नहीं पाया. मैं इतने बड़े साइज़ की फोटो को देख कर ख्यालों में ही उसे चोद रहा था कि तभी अचानक किसी ने पीछे से मेरे कंधे पे हाथ रखा.

मैंने फिर तीसरी मंजिल पर आकर मनीषा के रूम में जाकर देखा, मनीषा निढाल होकर सो रही थी. डॉक्टर ने बताया कि इसको कोई दिमाग में किसी सोच ने असर किया है, जिससे यह बेहोश हो गया है. मेरे गोलों को हाथ से पकड़कर देखते‌ हुए प्रिया ने गोलों को अपनी मुट्ठी में पकड़ कर दबा दिया.

मैं यूपी के गाजियाबाद का हूँ, अच्छा ख़ासा मस्त जिस्म वाला लड़का हूँ. रात हुई तो तारा का भी संदेश आया कि चलो पिछली बार की तरह फिर से कुछ किया जाए. फिर उसने मेरे पजामे को नीचे कर दिया, अब मैं मेरे आशिक़ के सामने ऊपर उठा शमीज, उसके अंदर नीली ब्रा और काली चड्डी में थी.

फिर उसने अपनी भावनाओं पर पता नहीं क्यूँ नियंत्रण किया और अपने बेटों को कहा- विक्रम, रजत…रजत- हाँ माँ?विक्रम अभी भी अपनी माँ की चूत चाटने में व्यस्त था और उसकी जबान शीतल के चूत के अंदर था इसलिए वो जवाब भी नहीं दे पाया. मैंने उनकी कुछ नहीं सुनी और वापस अपने होंठ उनके होंठों से चिपका दिए.

तब वो बोलीं- देख भई, वो तो एक गांडू था, जो पैसे लेकर हम जैसी औरतों का ख्याल रखता था.

कुछ देर बाद हिमानी से जब मेरी नजरें ही नहीं हट रही थी तो भाभी ने हिमानी से कहा- हिमानी! जरा अपनी मम्मी को ऊपर ही बुला लाओ, अभी आमने सामने ही बात कर लेते हैं.

प्रिया के कंठ से मस्ती में उसकी बस मीठी आवाजें निकल रही थीं- ओह्ह … आहह … ओह्ह चोदो … ओर जोर से चोदो … बहुत दिन से इन्तजार कर रही थी … तुम्हारी इस चुदाई का … आह … चोदो मेरी जान … और जोर से पेलो … आआह … ओह्ह!प्रिया की ये मस्ती भरी बात सुनकर मैंने लंड को बाहर निकाला और उसके ऊपर आ गया. समय बीतता गया, मेरी मामी के प्रति काम आसक्ति ज्वालामुखी की भांति धधकती रही. सहारे के लिए कम्मो ने अपना बायां हाथ अगली सीट पर रख रखा था जिससे उसका मेरी साइड वाला स्तन अपने कहर ढाने वाले अंदाज में लुभाने लगा था.

वो अपनी दोनों हथेलियों से मेरे दोनों दूध पकड़ के कस कर दबाता तो मेरी चीख निकल जा रही थी. कमलेश को सब लोग कम्मो नाम से ही बुलाते हैं तो अब मैं भी उसे इस कहानी में कम्मो नाम से ही संबोधित करूंगा. वहां एक बड़े से हाल में, जिसे शायद दीवाने आम या दीवाने ख़ास कहते होंगे, एक बड़ा से तख़्त जिस पर पीतल की नक्काशी थी उसे देख कर कम्मो उसी पर जा बैठी.

मम्मी गर्म होने लगीं, फिर संपत ने मम्मी का हाथ अपने लंड पर रखवाया तो मम्मी बोलीं- आपका लंड इतना बड़ा कैसे हो गया है.

हम दोनों सड़क के किनारे से थोड़ा अन्दर गए और वहां एक साफ़ जगह देख कर जमीन पर बैठ गए और किस करने लगे. मैंने सोचा ‘यह क्या … आया था मैं यहां पर मालकिन के लिए … लेकिन यहां तो नौकरानी भी चूत खोले बैठी है! इसका मजा भी मुझे चख लेना चाहिए!जब वह मुझे बाथरूम में छोड़ कर बाहर जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ा कर अपनी ओर खींच लिया और उसकी चूचियां दबा दी, साथ ही कस कर एक किस कर दिया मनमाने ढंग से!वो मुझसे खुद को छुड़ाने की कोशिश करती रही लेकिन वह असल में छुड़वाना भी नहीं चाह रही थी, मजा लेना चाह रही थी. माइक का वजन बहुत ज्यादा था, तारा बिस्तर पर पूरी तरह पेट के बल गिर पड़ी.

बोलो क्या खाओगे?मैंने उनसे सादा खाना रोटी और मटर पनीर की सब्जी बनाने के लिए कहा. इधर राज अंकल मेरे ऊपर बिल्कुल मस्त होकर थक कर मेरे ऊपर लेटे पड़े हुए थे. उसका कारण ये था कि एक तो उनकी जॉब का बोझ उनके ऊपर था और ऊपर से उनके 2 छोटे छोटे बच्चे थे.

वहां एक अच्छे किस्म का सोफा डला हुआ था सामने कांच की सुन्दर मेज थी जिस पर प्लास्टिक के फूलों से सजा गुलदस्ता रखा था.

उसमें बहुत सी नंगी लड़कियों की फोटो थीं, जिसमें उन्होंने अपने मम्मों को दबा दबा कर दिखलाया था और कुछ ऐसी थीं, जिसमें वो अपनी चूत को खोल कर दिखा रही थीं. उसकी मम्मी मुझे बोली- सोनू तू तो बड़ी दिखने लगी है पढ़ाई ठीक चल रही है तेरी?मैं बोली- जी मौसी जी!और चली गई.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर पर बाद में जैसे जैसे गपशप होने लगी, कहानियों का, पॉर्न का और सेक्स का जिक्र होता गया, माहौल अपने आप बनता गया. थोड़ी देर बाद मैं उनके चेहरे तथा होंठों को चूमने लगा, साथ ही प्यार से में उनके गाल को चूमने लग गया.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर लेकिन अब कुछ देर के बाद मेरा भी टाइम आ गया था, मैं भी अब पानी निकालने को था, मैंने उससे पूछा- पानी कहां निकालूं?क्योंकि वह अविवाहिता थी. हां फर्स्ट टाइम थोड़ा दर्द होगा, वो तो वैसे भी तुम्हारी रियल सुहागरात है, तो दर्द तो होगा ही.

एक दिन बुआ जी का दिलशाद गार्डन से कोई रिश्ता आया, लड़के का अपना बिजनेस था और फैमिली भी अच्छी थी.

बीपी पिक्चर वीडियो बीपी

ट्यूबलाइट की तेज रोशनी में उसका जवां हुस्न मेरे तन मन में हाहाकार मचाने लगा. इसके बाद जैसे ही मैं सामने हुई तो मेरी पूरी चूत खुल गई, मेरी खुली चूत अंकित के आंखों के सामने थी, वह खा जाने वाली नजरों से उसे देख रहा था. जब मैं उनके साथ रहूँ तो उनकी बीवी बनकर रहूँ और जब मैं कमरे पर रहूँ या कॉलेज में रहूँ तो विद्यार्थी बनकर रहूँ.

चाची- आह … निकाल ले आह … आह!मैं- आह … आह!हम दोनों जोर जोर से आह भरते हुए एक दूसरे को चोदने लगे. पर मेरे साथ नार्मल रहती है, मैं पढ़ाई में अच्छी हूँ और क्लास में अच्छे नंबर लाती हूँ इस कारण कॉलेज में भी चर्चे होते हैं मेरे!अब कहानी पर आती हूँ. तो मैं उसके दोनों मम्में पकड़ के होंठ चूसने लगा और बीच बीच में उनके गाल भी काटने लगा.

ये जगह मेरे दोस्त के खेत पर बना एक फार्म हाउस का कमरा था, इसलिए कोई आ भी जाए, तब भी किसी तरह का बवाल होने जैसी सम्भावना नहीं थी.

वो बोली- हरामी मैं कुतिया नहीं बनूँगी, चोदना है तो खड़े खड़े घोड़े की तरह चोद. तो कभी माइक के ख्याल से डर लगता … क्योंकि मैं उससे पहले कभी मिली नहीं थी और न ही वो हमारी प्रजाति से था. कुछ देर बाद हमारे लंडों को रूसी गोरी लड़की के मुंह में पूरा अन्दर घुसने की इच्छा जोर पकड़ने लगी और हम बारी-बारी से अपने लंडों को उसके होठों के बीच घुसा कर बाहर निकालने लगे.

उस दिन पानी मे नमकीन के साथ हल्का सी मिठास भी आ रही थी तो मैं सारा पानी चाट गया।और वो तो निपट गयी थी, अब बारी उसकी थी कि वह मुझे शांत करे; मैंने उससे कहा- अब तुम्हारी बारी है मुझे प्यार करने की!तो वह बोली- आज तुमको तड़पाऊँगी. फिर थोड़ी देर के लिए वो बस लेटे रहे और मैं भी उनके पास लेटा रहा और उनके लंड को सहलाता रहा. ”इससे पहले की मैं कुछ बोलती, वो मुझसे बोली कि यार सच सच बताना कि तुमने वाकयी कभी कोई लंड नहीं लिया?मैंने कहा- लिया है.

पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों अपने चरम सुख तक पहुंच गए और एक दूसरे से लिपट गए. बीच बीच में मैं भी उनकी चूचियों को दबा देता था और उनके होंठ पर अंगुली फिरा देता था.

फिर टीचर ने अपने सारे कपड़े उतार दिए, उनका लंड और बॉडी देख कर मेरे तनबदन में आग सी लग गई. कभी मेरे गाल पकड़ लेते, कभी मेरी गांड पर हाथ मार देते, कभी मेरी जांघों पर हाथ मार देते. चाची- आह … निकाल ले आह … आह!मैं- आह … आह!हम दोनों जोर जोर से आह भरते हुए एक दूसरे को चोदने लगे.

कुछ देर लंड चूसने के बाद उसने लंड बहर निकाल दिया और बोली- अब मेरी चुत में डालो.

तभी फूफा जी ने उनकी चुत पर हाथ से सहलाना शुरू कर दिया और उनकी नाइटी को ऊपर कर दिया. हालांकि मैं बहुत शर्मीला इंसान हूँ, जो लड़कियों से बातें करने मैं बहुत शरमाता है. उसके गोल गोल चुचे इतने मस्त थे कि मैंने देर न करते हुए उसके एक चुचे को पकड़ कर चूसने लगा.

मैं समझ गयी कि उसने अन्दर कुछ नहीं पहना है और साथ ही अचंभित भी थी कि जिस प्रकार लिंग झूल रहा था, वो काफी बड़ा लग रहा था. फिर एक बड़ी सी आह भरते हुए उसने कहा कि उसकी जमीन अभी भी सूखी है, अभी तक चुदाई का मौका नहीं मिल पाया है.

जवान लड़की की गर्मी जब तक उसकी चूत के रास्ते से न निकल जाए और उसकी चूत चरमरा न उठे तब तक उसकी चूत चुदाई मांगती है. अब हम तीनों ढाई घंटे तक एक रेस्तरां में बैठे रहे और बातें करते रहे. मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?मामी बोलीं कि मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दो.

इंडिया xxxx

मेरे सर की निगाहें हमेशा मेरे ऊपर रहती थीं, वो कैसे भी मेरी गांड पाना चाहते थे.

क्यों मेरी जान ऐसा क्यों लग रहा है?”उस दिन तूने ऊपर छत पर मेरे चूतड़ दबाए थे. क्योंकि हमेशा कोई न कोई काम करने वाला या मालिक सामने ही रहते ही थे. यह बात तो आप जानते ही होंगे कि नारी का ये हिस्सा कितना सम्वेदनशील होता है.

मुझे लड़कों में भी रुचि है, ये मुझे दसवीं क्लास में ही पता चल गया था. मैं- मेरा भी निकल रहा है … आह … चाची … आह आपकी चूत!इतने में ही मेरा लंड भी पिचकारी मारने लगा. सेक्स करती हुई बीएफजैसे जैसे उनकी किसिंग बढ़ती गयी, मैं अपने हाथों से दोनों को सहलाने लगा.

मैंने अपना लंड फिर से उसके चुत पे टिकाया और धीरे धीरे अन्दर डाल दिया. अब मैंने उसके पूरे शरीर पर चुम्बनों की बारिश कर दी, जिससे वो गर्म हो गई थी.

इतना सुनते ही जगतदेव अंकल अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे, पर लंड फिसल गया और छेद से बाहर हो गया. आपने मेरी पिछली कहानीसहकर्मी भाभी ने दोस्ती करके चूत चुदाईपढ़ी होगी. आप सब मुझे इस सेक्स स्टोरी के लिए अपने फीडबैक देकर जरूर बताएं, इससे मैं और भी जल्दी कहानी आपको बताउंगी.

हम दोनों भाई बहन जब भी मिलते हैं, एक दूसरे का हाल चल लेते रहते हैं. और हां मैं और तुम्हारी आंटी बाजार जा रहें हैं शाम को आठ साढ़े आठ तक लौटेंगे. इन्हीं बातों से उत्तेजित होकर वो मुझे ऐसे किस करने लगा, जैसे एक हीरो अपनी हीरोइन को किस करता है.

ज्योति के पुट्ठे बहुत मस्त थे बड़े बड़े … क्योंकि मैंने ही चोद चोद कर बड़े किये थे.

शीतल- हाय मेरी प्यारी बेटी…और ऐसा कहकर शीतल के होंठों पर एक प्यारा सा चुम्बन देकर अपने बेटों के कमरे में चली गयी और मयूरी ने अशोक के कमरे का रुख किया. जब भी मैं उसके कमरे में जाती तो इधर उधर भी देखा करती थी ताकि कुछ ऐसा उसके सामने मिल जाए, जिससे मैं उससे पूछूँ कि यह सब क्या है.

फिर मैं उसको नंगा ही अपनी गोद में उठा कर कमरे में बेड पर ले गया और उसको लेटा दिया. बस अब तो ‘कम्मो की कुंवारी चूत और मेरा लंड’ मैंने खुश हो कर सोचा और जेब से क्वार्टर निकाल कर तीन चार तगड़े घूंट नीट ही गले से उतार लिए और खाली क्वार्टर वहीं फेंक कर तेज कदमों से बारात में शामिल होने चल दिया. यह कहानी मेरी पड़ोस में रहने वाली भाभी, जिनका बदला हुआ नाम माया है, के साथ हुई एक घटना की बारे में है.

मुझे ईमेल के जरिये बहुत संदेश प्राप्त हुए, बहुत से लोगों ने मेरी दूसरी कहानी की नायिका से मिलने की इच्छा जताई।दोस्तो, मैं एक कॉल बॉय हूँ, अपनी किसी दोस्त और अपनी किसी भी ग्राहक के संपर्क सूत्र बता नहीं सकता, यह मेरे उसूल के खिलाफ है।अभी तक मैंने कई लड़कियों और भाभियों की चुदाई की है और उनको भरपूर आनंद भी दिया पर उनकी बिना सहमति कहानी नहीं लिख सकता हूँ. वो थोड़ा सिस्कारियां भरने लगी थीं फिर कुछ देर ऐसे ही करने के बाद मैं भाभी से कहने लगा- भाभी, अब मुझे आपकी चूत को चूसना है. अब आगे:चाची फुंफकार मारते हुए बोले जा रही थीं- ओह … आह … चोद … चोद मुझे … अपनी छिनाल चाची को चोद मेरे राजा भतीजे … मेरे चूत की आग मिटा मेरे चोदू भतीजे … तेरे लंड ने मेरी चूत की गहराई की आग को और बढ़ा दिया रे … चोद जोर जोर से.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर मैंने रूमाल खोला तो उसमें तरह तरह के नोट बेतरतीब ढंग से उल्टे सीधे मुड़ेतुड़े हुए रखे थे; दस, बीस, पचास, सौ … सब तरह के नोट थे. मुझे लगा कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ और किसी भी टाइम मेरी आँख खुल जाएगी.

hindisexy वीडियो

पति ने मेरा एक निप्पल होंठों में ले लिया और दबा कर मजा लेते हुए चूसने लगे. फिर मैं वहीं खड़ा रहा, वो झाड़ू लेकर आईं और मेरी ओर गांड करके एकदम मुझे सटक कर खड़ी हो गईं. मयूरी अपना फैसला सुनाती हुई बोली- तो एक बात मेरी भी सुन लो… अगर तुम लोग एक साथ नहीं आओगे तो मेरे शरीर को हाथ लगाने के बारे में भी मत सोचना… अगर मैं अपनी चूत तुम्हें दूंगी तो एक साथ … नहीं तो मैं अपना कोई और इंतज़ाम कर लूंगी.

कृपया ऐसे सवाल न पूछें जिनका मैं जवाब न दूँ क्योंकि मैं अपने हर साथी की जानकारी गुप्त रखता हूँ।मेरी यह सेक्स कथा कुछ दिन पहले गए करवाचौथ की रात की है जब मैंने अपनी पड़ोसन को चुदाई का असली मज़ा दिया।मेरा नाम चन्दन है और मैं रेवाड़ी का रहने वाला हूँ। मेरी हाइट 5’10” है. दो दिन बाद उनका फोन आया कि आज शॉपिंग के लिए बाहर जाना है, तुम मेरे साथ ही चलना. सेक्सी भोजपुरी फिल्म बीएफअगले दोपहर मेरे पास संदेश आया कि सब तैयार है और तारा मुझे अपने साथ दिन भर के लिए ले जाएगी.

मैंने अपने होंठों से उसका मुँह बंद किया और झटके से अपना भी लंड अन्दर डाल दिया.

अगले ही पल दोनों मम्मे मेरे हाथों से होते हुए मेरे होंठों तक पहुंच गए. हां मेरे भैया थे, लेकिन वो कुछ नहीं कहते थे क्योंकि में घर पे नहीं होता था तो उन्हें भी अपनी गर्ल फ्रेंड को मकान पर लाकर चोदने का मौका मिल जाता था.

तभी चाचा बोले- सुनो दिनेश और मनोहर, अब वन्द्या बिल्कुल तड़पने लगी है. रजत- ठीक है मेरी जान!ऐसा कहते हुए रजत ने मयूरी की चूत पर एक लम्बा सा चुम्बन दिया और अपने कपड़े पहनता हुआ बाहर चला गया. भाभी ने शरमाते हुए कहा- ये क्या कर रहे हो?मैं- भाभी सच कहूं तो जब से वो मायके गई है, मैं तो जैसे तड़प गया हूं.

तो उसने कहा- मेरी बात का उत्तर दो, बताओ ना क्या ऐसा होता है?तो मैंने कहा- मुझे एक साल हो गए हैं गिटार बजाते हुए, मगर ना तो मेरी कोई जीएफ है.

मेरा वीर्य इतना ज्यादा निकला कि चाची की पूरी चूत ऊपर तक भर गयी और लंड रस बिस्तर तक बहने लगा. मैं अपने रूम में बैठे बैठे अपने मोबाइल में पोर्न मूवी देख रहा था, तभी पीछे की तरफ से किसी के होने की आवाज आई. मुझे पक्का पता लग गया था कि चाची उसको मोहरा बना कर सारी संपत्ति पर कब्जा करना चाहती हैं.

दिखाओ बीएफ बीएफमैंने उनके दोनों पैरों को फैलाकर चुत को सूंघा तो उनकी चूत से एकदम मदहोश कर देने वाली खुशबू आ रही थी. छोरी कम नहीं थी … इतना समझ आ गया मुझे! और अब मुझे कम्मो को चोद पाने की अपार संभावनाएं नजर आने लगीं थीं.

नेपाली चुदाई दिखाओ

क्या हुआ पापा?” मैं आश्चर्य से बोली।मैंने तुम्हें बोला था ना … मम्मी के सब काम तुम्हें करने है… तो चलो मैं तुम्हें मम्मी की जगह भी दे देता हूँ. उधर नीचे मेरे चूत में अंकित अपनी दो उंगलियां घुसाये हुआ था और उन्हें चूत में अंदर बाहर करने लगा. मैंने सब कुछ पहले ही प्लान कर रखा था कि पहले थोड़ा घूम फिर कर किसी रेस्टोरेंट में लंच करेंगे उसके बाद फोन खरीद कर दिल्ली के नज़ारे देखते हुए शाम तक वापिस लौटेंगे.

हम रूम में आए, रीना के लवर ने बोला- बॉस प्लीज़ अन्दर जाइए, आज की नाइट के लिए बेस्ट ऑफ लक. और इसी लिए मैं तेज गति में चुदाई कर रहा था। परन्तु उनको मजा आ रहा था।कुछ 15 मिनट के बाद मेरा स्खलन होने को हुआ तो मैंने लंड उनके मम्मों पर रख दिया। जब मैं खाली हुआ और साइड में लेट गया तो कुछ 10 मिनट के बाद उन्होंने कहा- सॉरी रवि, मैंने तुम्हारे साथ नहीं दिया. तब तक यह सामान वापस रख दो और इस पर मसाज के वीडियो देखो। अब जब यह कर लिया है तो वह भी कर लोगे।”मेरा दिल फिर जोर से धड़का.

क़रीब 15 मिनट की लगातार चुत-चटाई में मयूरी एक बार झड़ गयी और रजत अपनी कामुक सगी बहन के कामरस का एक एक बून्द चाट गया. जब मुन्ना ने पिंकी की चूत को देखा तो ख़ुशी से उछल पड़ा- वॉव पिंकी तुम्हारी चूत तो बहुत मस्त है. फिर मैंने अपने लंड पे शहद लगाया और उसके चूत पे टिका दिया और लंड को ऊपर-नीचे उसकी चूत पे रगड़ने लगा.

दोस्तो इस प्रकार मैं ऐसी शरारतें उसके साथ हमेशा करता रहता था क्योंकि इसी में असली मजा है. फिर कुछ देर बाद रशीद ने अपने लंड का पूरा पानी पायल के मुँह में डाल दिया.

मैं हॉल में बैठ कर टीवी देख रहा था कि रात के करीब 2 बजे मामी के रूम का दरवाजा खुला.

फिर मैंने देर नहीं करते हुए लंड को उसकी चुत पर रख दिया और ऊपर से ही घुमाने लगा. एडल्ट बीएफ एडल्टहमारे यहां पर कचरा की गाड़ी आती है तो घर का कचरा नीचे जाकर देना पड़ता था. बीएफ वीडियो में देखे वालाभाभी मुझे बोली- राज! तुमने तो नजर ही नहीं हटाई? इसकी मम्मी के सामने ऐसा मत करना. वो मेरा लौड़ा चूस रही थी और एक हाथ से आंडों के नीचे उंगली फिरा रही थी.

कुछ देर के बाद मानसी साथ देने लगी और चिल्लाना छोड कर सिसकारी भरने लगी.

वाह और लंड को क्या चाहिए था अब … नेकी और पूछ पूछ … जिसकी चुदाई के सपने देखते थे, वो हमारे सामने चूत देने को राजी हो गई थी. मैंने भाभी को दोनों हाथ से पकड़ कर उठाया और सहारा देकर अपने बिस्तर पे बिठा दिया. तो फिर ऐसे में और क्या ऑप्शन हो सकता है? सबसे बड़ी बात कि मेरे पास और रुकने का टाइम भी नहीं है, आज रात में शादी है और कल शाम को मेरा वापिस घर अकेले जाने का तय था, ट्रेन की कन्फर्म टिकट जो थी.

इतना मज़ा आ रहा था मामी जी को कि बिना चूत में कुछ डाले ही चरमोत्कर्ष के कारण स्वतः ही उनकी चूत का बाँध छूट गया और उनका कामरस जांघों से होते हुए नीचे गिरने लगा. वो बोली- अब कान पर क्यों कर रहे हो?लेकिन मैं उसकी बात को न सुनते हुए उसे लगातार किस करे जा रहा था. एक दिन फोन पे मैंने उससे किस माँगा तो उसने मस्ती से कहा- फोन पर क्या किस लेते हो राजा.

टीन पोर्न वीडियो

चाची- मेरी चूची को चूस ना रे!मैं- चाची, चुची चुसवाने में मजा आता है?चाची- चुदाई के वक्त चुची की चुसाई से चूत में ज्यादा से ज्यादा गुदगुदी पैदा होती है. तो मैं उसके दोनों मम्में पकड़ के होंठ चूसने लगा और बीच बीच में उनके गाल भी काटने लगा. तो मैंने उससे चले जाने को कहा कि मैं खुद ट्रेन पकड़ लूँगी, तुम चले जाओ नहीं तो लेट हो जाओगे.

यह देख के पायल बोली- सुनील सर, मेरी हालत बहुत खराब है … मैं चल भी नहीं पा रही हूँ और आपका ये मूसल लंड मेरी चूत फाड़ देगा … प्लीज आप मत करो ना.

अब तक मेरा सब दर्द गायब हो चुका था और मैं फुल जोश में अपनी कमर और गांड आगे पीछे उचका उचका कर चुदवा रही थी.

मैंने भी देर ना करते हुए धीरे से अपने लंड को प्रिया की चूत में धकेल दिया, मगर मेरा लंड फिसल गया और धक्का उसकी चूत के दाने पर लगा. मुझे दसवीं कक्षा तक ही पढ़ाया गया था और फिर मुझे घर के काम काज में लगा दिया गया. बीएफ सेक्सी एचडी हिंदी बीएफवो कुछ ही देर में मेरे मुँह में झड़ गई और मैंने उनका कामरस चुत में जीभ डाल डाल कर चूसने लगा.

कम्मो ने मेरे सीने को कुछ देर तक निहारा और फिर उठ कर मेरी छाती से लग गयी और अपना मुंह वहीं छुपा कर गहरी गहरी सांस लेने लगी, फिर वहीं पर दो तीन बार चूम लिया. मुझे अजीब लगा पर जोश जोश में मैं निगल गया और थोड़ी देर में मेरा भी हो गया और मेरा रस उसने निगल लिया. मम्मी चुदास से भरी आवाजें कर रही थीं और संपत जी लंड पेलते हुए कहे जा रहे थे- आह.

दिखने में वो मेरी तरह नार्मल ही हैं, लेकिन उनका फ़िगर बहुत ही जबरदस्त है. थोड़ी देर बाद मैंने उनका घाघरा गांड तक ऊपर उठा लिया और मौसी की गांड के छेद में जुबान डाल कर गांड के छेद को चाटने लगा.

स्टॉप का बटन जो एना ने दबाया था, वो अपने आप बाहर आ गया और लिफ्ट चल दी.

मेरी चूची चूसते चुसवाते और मसलवाने की वजह से थोड़ी बड़ी हो गई हैं, इसलिए मेरी चूची उसके हाथ में अच्छे से नहीं आ रही थीं. रजत की आँखों और मयूरी की चुत के बीच मुश्किल से 5-6 इंच का फैसला होगा. अशोक भी कहाँ पीछे रहने वाला था, वो भी उसकी चूचियों और दूसरे हाथ से कभी उसकी कोमल गांड तो कभी माखन जैसी जांघें तो कभी मलाई जैसी चूत को मसलता रहा.

जबरदस्ती चुदाई बीएफ हिंदी यह सुनते ही उन्होंने मुझे बेड पे पटक दिया और अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया. अबकी बार 69 में होकर हम लोगों ने एक दूसरे को पूरी तसल्ली से चूसा और दोनों का पानी जब निकला तो दोनों ने ही अपने अपने मुँह में लेते हुए पी लिया.

जैसे ही चाचा का लंड मेरी गांड के छेद में टच हुआ, मुझे बहुत अजीब सी फीलिंग हुई. अब तक मेरा लंड भी एकदम तन कर रॉड बन गया था, जो अंडरवियर में जकड़ा हुआ था. इसके बाद जब उसकी सलवार को खोलने की बारी आई तो देखा कि उसने अपनी सलवार के नाड़े की गांठ बड़ी जोर से लगा रखी थी.

राजस्थानी सेक्सी चूत

फिर उसने गले तक जो माल बह गया था, उसको उंगलियों से पौंछा और बड़ी ही कातिलाना मुस्कराहट के साथ मेरी तरफ देखते हुए अदाओं के साथ एक एक करके उंगलियों को चाटने लगी. बोलो क्या खाओगे?मैंने उनसे सादा खाना रोटी और मटर पनीर की सब्जी बनाने के लिए कहा. एक दिन फोन पे मैंने उससे किस माँगा तो उसने मस्ती से कहा- फोन पर क्या किस लेते हो राजा.

इतने में अंकित ने अपना हाथ मेरी समीज के अंदर घुसा दिया और मेरे पेट मेरी नाभि को हाथ से रगड़ने लगा, मेरी नाभि में उंगली भी डाल कर घुमाने लगा, मुझे अजीब सा कुछ होना शुरू हो गया. अगर आप पहली कहानी नहीं भी पढ़ते हैं तो भी आप सीधे इस भाग का आनंद ले सकते हैं.

उसने आसमानी नीले रंग का स्पोर्ट्स वाला शार्ट्स पहन रखा था जिसमें अंदर लटक रहा उसका लंड उसके कदमों के साथ इधर-उधर डोलता हुआ एक बार दाईं.

तारा ने मुझसे कहा कि हम सब इतनी दूर से आये हैं … पैसा खर्च किया और अब तुम नाटक करने लगी हो. एक दिन रात को वो मुझसे से मैसेज के थ्रू बात कर रहे थे, तभी उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैंने कभी सेक्स किया है?तो मैंने भी कह दिया- हां. कुछ देर बाद हिमानी से जब मेरी नजरें ही नहीं हट रही थी तो भाभी ने हिमानी से कहा- हिमानी! जरा अपनी मम्मी को ऊपर ही बुला लाओ, अभी आमने सामने ही बात कर लेते हैं.

तो मैंने कहा- मेरे बारे में यहाँ कौन सा सामूहिक मेल मिलाप चल रहा है. पहला शॉट सीधा उसके मम्मों के बीच की घाटी में जा कर लगा, दूसरी धार उसके गले पर लगी और तीसरी धार सीधे उसके बाएं निप्पल पर जा कर लगी. मगर मुझ से पहले एक वायदा करो कि चाहे कोई कुछ भी कहे, तुम मुझसे पूछे बिना कोई अंतिम फैसला नहीं करोगे जिसमें तुम्हारी और मेरी जिंदगी की बात हो.

संपत जी ने मम्मी से बोला- रचना जी, जो खेल उस रात को नहीं हो पाया था, यहाँ पूरा कर लें?मम्मी इठला कर बोलीं- आपका क्या मतलब है जी.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर: साब, दो घूंट और मिल जाती तो रात आराम से कट जाती; ठंड बहुत होती है रात में!” वो बोला. तुम्हारे साथ कोई फोटो तो नहीं है ना उसके पास?”उसने जवाब दिया- नहीं सर.

रात को मौसी बेड पे जसवीर की जगह सो गईं, स्नेहा बीच में, उसके बाद में लेट गया और मौसा शराब में टल्ली होकर मौसी की चारपाई पे सो गए. पूजा भी अपने दोनों पैरों को मेरी कमर पर डालकर अपनी गांड को उछाल उछाल कर मेरे लंड के धक्कों का जवाब देने लगी और बोली- चोदो, चोदो मेरे चोदू राजा, और जोर से पेलो मेरी चुत में अपना लंड. टॉयलेट में पहुँच कर पहले पूजा ने अपना चेहरा धोया और एक तौलिया भिगो कर अपने पूरे बदन को पौंछा.

कुछ देर मैं ऐसे ही उसके गालों को चूमता चाटता रहा और फिर अचानक से अपनी पूरी ताकत लगाकर एक जोर का धक्का लगा दिया.

उस पते पर पहुंच कर डोर बेल बजाई तो अन्दर से एक नौकरानी सी दिखने वाली औरत आई. पहले उन्होंने मुझे चड्डी पहनाई फिर ब्रा, फिर ब्लाउज और लास्ट में साड़ी पहना दी. उम्म ले मेरे लंड का वीर्य चुत में ले…” यह कहकर मेरे पति ने अपना लंड चुत में जड़ तक घुसा दिया और वीर्य की गरम तेज धार मेरी चुत में ही छोड़ दी.