चुदाई चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,लड़की पटाने का शायरी

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट वीडियो सेक्सी चुदाई: चुदाई चुदाई बीएफ, चाची बोलने लगीं- आह्ह्ह उन्ह चोद साले … चोद और जोर से चोद फाड़ दे मेरी गांड को … चोद भोसड़ी के बहुत मस्त लंड है तेरा … आज मेरी गांड को फाड़ दे.

सेक्स फिल्म दिखाओ वीडियो में

कुछ ही देर में उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और तभी एकदम से उसकी चूत से पानी छूटा. सेक्सी वीडियो में हिंदी मेंरूप- चाचा, तुम्हारा इतना बड़ा हथियार बिना चूं चपड़ किए मस्ती से झेलना सबके बस की बात नहीं.

अब मैंने शहद उसकी चूत पर डाला और जीभ से चूत के आजूबाजू को चाटने लगा. भोजपुरी आवाज में सेक्सीअब चाची रोने लगीं और कहने लगीं- प्लीज़ बाहर निकाल ले, बहुत दर्द हो रहा है.

सोफे पर नंगे बैठे बैठे मैंने वो बेल्ट रेशमा के गले में डाल दी और बेल्ट खींच कर उसका मुँह फिर से मेरे लौड़े के पास कर दिया.चुदाई चुदाई बीएफ: दस मिनट बाद वो भाभी के दोनों पैर एक तरफ करके उन्हें साइड से चोदने लगा.

अब वो थोड़ी देर रुका और धक्के देने शुरू कर दिए।मैं- आह आ आह और जोर ज़ोर से करो!अमन- जी चाची!उसने अपने धक्कों की गति बढा दी।मेरे दूध बहुत हिल रहे थे इसलिए मैंने उसे अपने हाथों में थामा।तभी अमन ने मेरे हाथ साइड किये और अपने हाथ से मेरे दूध को कस कर पकड़ लिया.फिर वो मेरे लंड के ऊपर बैठ गई और लंड चुत में लेकर जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी.

जब व्हात्सप्प डाउनलोड २०१८ - चुदाई चुदाई बीएफ

मैंने चूत की दरार पर लंड रगड़ना जारी रखा और अपने हाथ उसकी दोनों चूचियों पर गोल घूमकर चूचियों को मरोड़ता और दबाता रहा.फिर मैंने उसे नीचे लिटा दिया, उसकी टांगें फैला दीं और उसके बीच अपना मुँह घुसेड़ दिया, तो लंड सीधे मेरे मुँह में घुस गया.

वो बोला- सपना, तुम्हारी सेक्स लाइफ कैसी चल रही है?मैंने कहा- कुछ खास नहीं. चुदाई चुदाई बीएफ पापा- हां पूरा मजा लो यार … लाइफ के में जवानी एक बार ही आनी है जान.

वो मास्टर भाभी की चूचियां मसलते हुए बोला- क्यों भाभी, आपके पति का लंड काम का नहीं है क्या?भाभी बोलीं- हां, एक तो मेरे पति का लंड छोटा सा है और वो यहां ज्यादा रहते नहीं हैं, जिस वजह से मेरी चूत में काफी खुजली हो रही है.

चुदाई चुदाई बीएफ?

वो बोली- ये पूजा कितने दिन में पूरी होती है?मैंने उसे बताया कि इसमें पाठ की संख्या पर निर्भर होता है तथा उसी अनुसार पंडितों की संख्या तय की जाती है. उसको मैंने गप से अपने मुँह में पूरा भर लिया क्योंकि अभी वो बाबा सो रहा था. रेशमा हल्के से मुस्कुराती हुई बोली- इतना बड़ा मूसल लेकर घूम रहे हो और ऊपर से एक साथ पूरा घुसा दिया मेरे मुँह में … बेशर्म कहीं के?मैं- तो बहन की लौड़ी … तुझे ही रांड बनने का शौक है ना? चल अब चूस … देख साली तेरी चूत का भोसड़ा बनाने के लिए कैसे खड़ा है मेरी रेशमा रंडी.

एक दिन हम दोनों पढ़ाई के बीच बात कर रहे थे तो मैं उसका हाथ पकड़ कर उससे बात करने लगा. उसने मेरी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो मैंने उसे लंड चूसने का इशारा कर दिया. पापा जब तक कुछ समझ पाते, उसने एक पल में ही पापा के लंड को अपनी चूत में समा लिया और आंह आंह मर गई करती हुई ऐसा जताने लगी जैसे इतना मोटा पहली बार लिया हो.

सच बताऊं तो मेरी गांड भी बहुत फट रही थी कि कहीं कोई लफड़ा हो गया तो रायत फ़ैल जाएगा. पहले पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत की खुशबू को सूंघा, फिर फटाफट से उनकी पैंटी को उनके जिस्म से अलग कर दिया. उसकी खूबसूरती के बारे में मैं शब्दों में ज्यादा कुछ नहीं कह सकता थामैं बस उसे देखे ही जा रहा था.

उसके शरीर पर मैंने काटने के निशान बनाए थे, उससे उसका बदन और ख़ूबसूरत लग रहा था. मैं उसे अपने कमरे में ले गया, जिसे आज मैंने विशेष रूप से इस अवसर के लिए सजाया था.

काफी देर तक लंड झटके झटके खाकर पिचकारी मारता रहा जिससे पर्वी की जांघें और पेट सन गया.

उनके पति भी बोले- हां दीपक, इनको बताओ कि इतना ही सबका खड़ा होता है.

वो भी खाना खाकर अलसाए हुए थे तो एसी की ठंडक में आराम करने के मूड में आ गए थे. फ्रेंड्स,मेरा नाम श्रुति है और मैं जयपुर में रहती हूँ। मेरी शादी को 5 साल हो गए हैं।हमारा परिवार पहले साथ में उदयपुर रहता था. नीता ने उठते हुए मेरे हाथ का गिलास ले लिया और बोली- चलो हर्षद, अब काफी रात हो गई है.

डॉक्टर माँ को नंगी देख अपना लन्ड मसलने लगा और बोला- जब से चन्दा मैंने तेरी गांड को देखा है, तब से मुझे तेरी गांड मारनी थी. मेरे अज़ीज़ दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी कॉलेज गर्ल Xxx स्टोरी?[emailprotected]. मैं छोटे छोटे चूचों और नाभि से होते हुए दोनों मांसल जांघों के बीच उतर आया.

लंड को चूसते चूसते वो अपना मुँह ऊपर करके मुझे देखती और आंख दबा कर मुझे गर्म करने लगती.

मैंने उसका गाउन नीचे से उठाकर कमर के ऊपर ले लिया तो नीता ने अपने हाथ ऊपर करके सर से गाउन निकाल दिया. आशा करता हूँ कि इस अन्तर्वासनाX पोर्न कहानी को भी मेरी पिछली कहानियों की तरह आपका बहुत सारा प्यार मिलेगा. वासना की Xx हिंदी सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मुझे एक के बाद एक एक लड़की मिलती रही और मेरी वासना पूर्ण निगाहें उन लड़कियों के जिस्म को कुरेदती रही.

तब मैंने देखा कि एक लड़के ने अपना लंड एक लड़की की चूत में घुसेड़ दिया है. ये सुनते ही मैंने सबसे पहले उनको अपने ऊपर खींचा और उन्हें किस करने लगा. मैंने उससे पूछा- पहले सेक्स किया है न!उसने कहा- नहीं, अभी मैं वर्जिन हूँ.

मैंने भी हाजिर जवाबी होते हुए कहा कि और मर्दों का तो पता नहीं, लेकिन सारी औरतें इतनी दिलकश हसीना नहीं होतीं कि नजर हटाने का मन न करे.

भाभी ने मास्टर का लंड पकड़ा और बोलीं- ये तो लोहे जैसा सख्त हो गया है … मेरी फट न जाए. वास्तव में यह तय करना मेरे लिए बहुत मुश्किल था, लेकिन आखिरकार मैंने जोखिम लेने का फैसला ले लिया है.

चुदाई चुदाई बीएफ वो आ गयी तो मैंने सेक्स की एक गोली का चूर्ण बना कर पानी में गीला किया और उसे अपने लंड पर मला कर उससे लंड चाटने को कहा. भाभी को अपनी चूचियां चुसवाने मजा आने लगा था तो वो अपने हाथ से अपने दूध पकड़ कर मास्टर को पिलाने लगी थीं.

चुदाई चुदाई बीएफ पहली बार मुझसे रुका नहीं जा रहा था और मन कर रहा था कि जल्दी से इसकी चूत में अपना फौलादी लंड उतार कर इसकी ऐसी चुदाई करूं कि इसे जीवन भर याद रहे. मेरे ऐसे कामुक और नटखट बोलने से रेशमा दर्द में भी हल्के से मुस्कुरा दी.

मैंने उससे पूछा- तुम ही यहां रहते हो?‘जी मेम साहिब हम ही रहते हैं और साथ में दो और साथी भी हैं, वो अभी बाज़ार गए हुए हैं … सौदा पत्ता लेने.

गोरखपुर कॉल गर्ल

तुम उसे चुदवाओगी तो फिर मेरा भी रास्ता पराये मर्दों से चुदवाने का खुल जाएगा. फिर उसने मुझे अपनी बांहों में किसी खिलौने सा उल्टा उठा लिया और वो फिर से मेरी गुलाबी चूत को चाटने लगा. लंड अन्दर जाने के बाद मैंने थोड़ी देर झटके नहीं मारे, यूं ही रुका रहा.

तभी मेरे मन में एक ख्याल आया कि क्यों न आज सविता से अपने दिल की बात कह दी जाए. खटर-पटर की आवाज से खाट हिल रही थी इसलिए उसने दोनों टांगों को कंधे पर रख मेरे बाजू पकड़ लिए और मैंने उसे अपने लंड पर टांग नीचे फर्श पर लिटा दिया. लेटने के बाद उसने कुछ पल इन्तजार किया और अपने हाथ बढ़ा कर मेरे मम्मों को धीरे धीरे से दबाने लगा.

माँ को बहुत दर्द होने लगा, वो चिल्लाने को कोशिश करने लगी पर उनके मुँह में उनकी चड्डी होने के कारण उनकी आवाज नहीं निकल रही थी.

कुछ जिन्दगी में पीछे रह गए, कुछ नहीं बन पाए … न कर पाए, वो मिलने में झेंपते हैं. वो बोली- दो उंगलियों से ही मेरी हालत खराब हो गई है … इससे तो मैं मर ही जाऊंगी. फिर रात को रुकने के लिए एक स्कूल का हॉस्टल था, वहां जाकर रुके।वहां सब के लिए कमरे थे।मेरे कमरे में 5 और लड़कियां भी थी।और मजे की बात यह थी कि पटेल सर ने मेरे बाजू वाला कमरा ही लिया था, जो उन्होंने मुझे मेसेज करके बताया।रात को खाने के बाद सब लड़कियां सो गई लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी।मैंने सर को मेसेज किया, सर ने तुरंत मुझे अपने कमरे में बुलाया।मैं बिना आवाज किए चुपके से सर के पास गई.

जब भी ससुर जी घर पर नहीं होते तो मैं उसके सामने बार बार जाती और किसी न किसी बहाने से अपना अंग प्रदर्शन करती. छत से मैं मिहिका के घर जाने का रास्ता सोचने लगा कि छत से कैसे उतरना है. मैंने भी अपना एक हाथ उसके कंधे से ले जाकर उसकी चूची पर रख दिया और दूसरा हाथ उसकी मुलायम, अनछुई चूत पर रख दिया.

इसके बाद उसने अपना हाथ हटा लिया और अपने दोनों हाथों से मेरे हाथ पकड़ लिए, मेरे एक दूध को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. तभी ममा ने अपने भानजे के लण्ड पर क्रीम लगा दी।उसने दोबारा से मेरी चूत में धीरे धीरे लण्ड डाला।पहले धीरे धीरे लण्ड अंदर बाहर किया और फिर धीरे धीरे धक्कों की गति बढ़ा दी।मुझे मजा देने के लिए निहारिका और ममा ने मेरी एक एक चूची मुख में ले ली और चूसने लगी.

मेरी तो गांड ही फट गई पर मैंने उसको कुछ नहीं बताया, बस उसको वहीं उतार कर वापस आ गया. पिताजी की गांव में थोड़ी सी ही जमीन थी जहाँ पर मेरी माँ खेती करती जिससे हमारा घर चलता था।माँ के बारे में मैं आपको बता देता हूँ. यह उस समय की बात है जब मैं अपनी बारहवीं की परीक्षा में उत्तीर्ण होकर कॉलेज की पढ़ाई चालू कर रहा था.

उसकी उभरी हुई गांड मुझे मदमस्त कर रही थी जिसे मैं ट्रेन के कूपे में चोद नहीं पाया था.

कहानी के पिछले भागभाई के दोस्त से चूत मरवा लीमें अब तक आपने पढ़ा कि मुझे अपनी चूत गांड के नए शिकार के रूप में दो हट्टे-कट्टे बाबा मिल गए थे. तभी वह अचानक उंगली मेरे लंड पर लगाने को हाथ बढ़ा चुका था, मेरे मुड़ने से उसकी उंगली की क्रीम मेरे चूतड़ पर लग गई. फिर उसने यही सवाल मोनिका से पूछा, तो वो बोली- मेरे लिए तू दूसरा ही था.

उसने मेरे शरीर से अटके हुए सारे कपड़े कुछ ऐसे हटा दिए कि उसे मुझे चोदने में दिक्कत न हो. अब उनके दोनों पैरों को फैलाकर मैं उनकी टांगों के बीच में आ गया और अपने लंडराज को प्रिंसीपल मैडम की चूत के ऊपर हौले हौले रगड़ने लगा.

उसकी लार नीचे टपकते हुए उसकी चूचियों को भी गीला करने लगी थी पर रेशमा ने किसी भी चीज की तरफ ध्यान ना देते हुए पूरे लगन से मेरे लौड़े को चूसना जारी रखा. मैंने जानबूझ कर अपनी नाइटी को भी अस्तव्यस्त कर दिया ताकि उसे लगे कि मैं गहरी नींद में सो चुकी हूँ. ‘अअ अअअ सर आराम से चूसिए न … निप्पल पर जीभ आराम से फेरो आह … कितना सुकून मिलता है.

सेक्सी भाई

बेडरूम में मोनिका की चुदास से भरी हुई आवाजें गूँजने लगीं- अहा … आह … राज बस जल्दी से मेरी चूत में लंड डाल दो.

शौहर की नामौजूदगी में आरजू अपनी चुत की आग को उंगली के सहारे ही ठंडी कर पाती है, इसके सिवाए वो कुछ नहीं कर सकती थी. थूक से अपने लंड को पूरा लबालब कर दिया और नीता की चूत पर भी थूक छोड़कर अपने लंड का सुपारा दरार में रखकर दबाने लगा. कुछ देर में मम्मी ‘आहह हह …’ करती हुई पापा के मुँह को जोर से अपनी चूत में दबाने लगीं.

माँ मुझे देख मुझसे पूछने लगी- सारी रात कहाँ था? और ये मुखिया जी क्या बोल रहे हैं कि तूने उनसे पैसे उधार लिए है वो भी बहुत सारे?तब मैंने माँ को सारी बात बताई कि मैं जुआ क्यों खेलने लगा और कल रात कैसे मैं सारे पैसे हार गया. तभी तुरन्त उसका सन्देश आ गया- कैसे हो जेठ जी?मैं तो बस खुशी से मरते मरते बचा. छोटे बच्चों का बैगऔर ये जानकर कि मुझको सुहागरात पर मिलने वाला गिफ्ट भी तुम लेकर आए हो.

वो अनचाहा विरोध करने लगीं और मैं धीरे धीरे उनके ऊपर आकर होंठों को चूसने लगा. खुद मैं इतनी जोश में आ गई थी कि अपनी जीभ निकाल कर उनके मुँह में डालने लगी जिसे वो अपने दांतों से हल्के हल्के काटते हुए चूसने लगे.

ललिता भाभी मेरी बात सुनकर एकदम से उदास हो गईं और बोलीं- मेरी जिंदगी तो बेकार हो गई है. मैं तब तक पर्वी की चूत में लंड डालकर खड़ा रहा जब तक रस का एक एक कतरा उसकी चूत में न छूट गया. मैंने बोला- कपड़ों को चेंज करने की क्या जरूरत है, वैसे भी थोड़ी देर में ये सब उतरने वाले हैं.

मैंने उसकी चड्डी की इलास्टिक में उगलियां फंसाईं और चड्डी को नीचे कर दिया. मैंने वापस आंटी को बिस्तर पर लिटा दिया और गांड के नीचे तकिया लगा दिया. उन्होंने अपने अंगूठे से चूत को मसलना शुरू कर दिया और चूत से निकल रहा पानी उनके अंगूठे पर लग रहा था जिससे अंगूठा चिपचिपा हो गया और उन्होंने अंगूठा चूत में डाल दिया.

मैं अपने हाथों में उसका लंड लेकर हिलाने लगी।और मेरे लम्बे सीधे बाल उसकी जांघों और लंड के आस पास थे। जिनसे उसको गुदगुदी सी महसूस होने लगी.

मैंने एड़ी उचका कर लंड को उस नंगी लड़की की चूत में डालना चाहा, तो वो बोली- नो डार्लिंग, लंड अन्दर नहीं करना है. ये सब बातें मैं सुनकर मन ही मन खुश हो गया और सोचा कि अभी जाकर स्वाती और ज्योति रंडी को चोद लूं!पर मैंने अपने आप पर काबू रखा और उनकी बातें सुनता रहा.

मैं अपने घुटनों के बल जांघों के बीच बैठ गया और उसकी गोरी चिकनी चूत को निहारने लगा. मेरे अंडर नए आये कर्मचारी को, जब तक कोई इंतजाम ना हो, मैंने अपने घर में ठहरा लिया. मैं- दवा वाली बात या फिर कुछ और …भाभी शर्मा कर बोली- और क्या बात?मैं- यही कि दवा से झाग बहुत बना और दवा लगाने से घाव वाली जगह ने पानी भी फैंका.

मैं बेहद खूबसूरत हूँ, गोरी चिट्टी हूँ, लंबे लंबे बालों वाली और बड़े बड़े बूब्स वाली एक स्मार्ट महिला हूँ. चूचियां चूसते हुए मैंने अपने दूसरे हाथ से लंड पकड़ा और उसकी चूत को लंड से पीटने लगा. फिर नेहा भाभी बोलीं- मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा तोहफा तुमने मुझे आज दे दिया है, मुझे यह जन्मदिन याद रहेगा.

चुदाई चुदाई बीएफ मैंने बोला- कैसे?समीर ने कहा- कल मेरे घर पर कोई नहीं है, तो तुम सर को मेरे घर बुला लेना. शायद उसने पहले भी कभी शराब पी थी इसलिए बिना किसी दिक्कत के वो पी गई.

सेक्सी वीडियो हॉर्स

तब मैंने देखा कि एक लड़के ने अपना लंड एक लड़की की चूत में घुसेड़ दिया है. डांस जब खत्म होने ही वाला था तो मैंने देखा कि 2 -3 लड़कियां वहीं बैठ कर लड़कों के लंड चाटने लगी हैं. लंड चूसती हुई वो तिरछी नज़रों से मेरी तरफ़ देख रही थी, तो मुझे वो किसी पोर्न ऐक्ट्रेस की तरह लग रही थी.

मेरे ऐसे जवाब से शर्माते हुए उसने मेरी तरफ देखा और मेरी तरफ हाथ बढ़ाती हुई बोली- इस खूबसूरत मूरत का नाम साबिरा है … और आप?मैंने भी उससे हाथ मिलाते हुए अपना नाम बताया. मैंने अपना लंड श्रेया की गांड से बाहर निकाला, तो मैंने देखा कि मेरे लंड का धागा टूट चुका था और उससे थोड़ा खून निकल रहा था. मटका सटका न्यू गोल्डन सागरवो अपनी गर्दन झुका कर मेरे सामने किसी गुलाम की तरह बैठा रहा, पर उसके मुँह से एक शब्द भी नहीं निकला.

एक हाथ से चूत की पंखुड़ियां खोलते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के दाने पर फ़िराना चालू कर दिया.

वो बोली- मुझे लगता है कि तुम्हारे रहने से मेरी आजादी में खलल पड़ता है. वो वहां गया, तो दूध वाला बोला- अब बता … कैसा लगा?राज बोला- अंकल जी, इनके साथ Xxx एनल करो … पहले मेरी दोनों मामी की गांड मारो, तब मजा आएगा.

एक दिन की बात है, मेरे घर वाले सब गांव गए हुए थे, तो मेरा खाना पीना तमन्ना के घर ही रहता था. थोड़ी देर बाद मैंने सोचा कि कहीं इसको मेरे और भाभी के अफेयर के बारे तो नहीं पता चल गया. बाद में तो आपने जो कलाकारी दिखाई, वाह यह आर्ट तो यहां किसी के पास नहीं.

छठे दिन उन्होंने मेरे घर वालों को बताया- मेरे पति की रिपोर्ट अब नेगटिव आ गई है.

वह तो कब से चुदवाने के लिए मरी जा रही थी।उसकी फुद्दी से पानी रिस रिस कर चड्डी भीग चुकी थी और वीरू के हमले से उसने अपने आप को वीरू को समर्पित कर दिया. मैंने फिर से उसकी चुदाई की और अपने लंड का गर्म माल उसकी चूत में डाल दिया और एक दूसरे को बांहों में लेकर सो गए. उसने भी अपना विज़िटिंग कार्ड मुझे थमा दिया और इस तरह हम दोनों अपने अपने रास्ते चले गए.

बंगाली भाभी सेक्सीमेरी पिछली कहानीब्लू फिल्म देखकर गांड चुदाई शुरू कीआप लोगों ने पढ़ी होगी. इसके लिए मैंने उनको बताया कि मैं उनकी चूत की फांकों को पकड़ कर बाल निकालूंगा, कोई दिक्कत तो नहीं है.

यीशु फोटो फ्री डाउनलोड

फिर जब मैंने उनके चूत के ऊपर तेल लगाया और मालिश करना शुरू किया तो वो ऐसे सिहर सी गईं, जैसे उनको करंट लगा हो. मैंने उनकी चूत के पास के बालों पर वैक्स लगा कर झांटों को निकालना शुरू कर दिया जिसमें उनकी चूत की फांकों को पकड़ कर निकालना पड़ रहा था. जब मैं 20 साल का था, तो मुझे अपने गांव के पास एक कॉलेज में प्रवेश मिल गया था.

उस लड़के ने भी शिराज को घुटनों पर करके अपना झड़ा हुआ लौड़ा उसके मुँह में दे दिया. मैं तो मन ही मन बहुत खुश हो गया था कि जो मैंने सोचा था, मेरा वो ही काम हो रहा है. पहले तो मैंने सोचा कि ये केवल परेशान कर रही है और टाइम पास बस कर रही है.

एक बार मेरे हस्बैंड ने दिल्ली के एक होटल में एन्जॉय करने की सोची तो उन्होंने एक होटल में कमरा बुक किया. मैं बोला- क्या साथ में एन्जॉय करते हुए शॉवर लेना पसंद करोगी?उसने पलटते कर मेरी तरफ देखा, मैं उसके सामने पूरा नंगा खड़ा था और सिरफटे साहब भी अञ्जलि के सम्मान में अर्धमूर्छा में भी आदर पूर्वक खड़े थे. फोन लेने के लिए रूम की तरफ बढ़ते हुए मैंने फ्लैट के मुख्य दरवाजे की कुंडी पर नजर डाली, वो भी सही से बंद थी.

एक दिन की बात है, मेरे घर वाले सब गांव गए हुए थे, तो मेरा खाना पीना तमन्ना के घर ही रहता था. आह क्या चूसा भाई उसने … बस 5 मिनट में ही उसने मेरा पानी निकाल दिया.

कुछ देर बाद आकर लेट गया और दुबारा सोने की कोशिश करने लगा था मगर नींद नहीं आ रही थी.

फिर इसी तरह से मैंने उसे थोड़ी सी लिफ्ट दी तो वो मेरी तरफ आसक्त होने लगा. कॉलेज स्टूडेंट सेक्स व्हिडीओवो मुझे पहली नजर में ही इतनी पसंद आ गई थी कि लग रहा था कि आज मुझे कोई परी मिल गई है. बैड मस्ती स्टेटसउसे याद ही नहीं रहा था शायद कि चूत की फांकों में लंड का टोपा फंसा पड़ा है. मैंने सुमैत्री से कहा- मैं उसके साथ ऐनल सेक्स करूंगा और वह दुल्हन की तरह सज कर मुझे सुहागरात मनाने देगी.

उन्हें सामान लेकर 10 बजे एयरपोर्ट के लिए निकलना है और मुझे वापस आने में 12 या 1 बज जाएगा.

शायद आज पापा ने कुछ ज्यादा ही पोर्न देख लिया था तभी अपने लंड की गर्मी निकाल रहे थे. संजना- जब तुमने जान कहा न … तो तुम्हारी आवाज में इतनी कशिश थी कि मुझे तुमसे प्यार हो गया है. डिब्बी खोल कर एक उंगली में वैसलीन भर कर रुचिका की गांड पर हल्के हल्के फिराने लगा.

फिर एक दिन मुझे पता चला कि मेरा देवर अपनी पढ़ाई के लिए बाहर जाने वाला है. मैंने आंखें खोलकर देखा तो सोनाली बेड से नीचे उतरकर अपनी नाईटी निकाल रही थी. मैंने रेखा से कहा- क्या अब मैं जा सकता हूँ रेखा?तो रेखा बोली- ऐसे कैसे जाओगे.

सेकसीविडीयो

संजना- जब तुमने जान कहा न … तो तुम्हारी आवाज में इतनी कशिश थी कि मुझे तुमसे प्यार हो गया है. वीरू के सीने पर इस कम उम्र में भी बाल आ चुके थे, उसका जवान बदन याद करते हुए और पसीने से महकता टीशर्ट सूंघते हए जोर जोर से अपनी चूत खुजला रही शब्बो को वक़्त का पता ही नहीं चला. कुछ लड़कियां जो गोरी थीं, उनकी भी चूत गुलाबी नहीं … बस गेहुंए रंग की ही थी.

मैंने कहा- तुम डिस्चार्ज हो गई हो लेकिन मेरे लंड का ज्वालामुखी फटना अभी बाकी है जान … मेरे लंड में जो लावा भरा हुआ है, उसको तो तुम्हें अपनी चूत की गहराइयों में ही लेकर ही शांत करना होगा.

पर सपना हकीकत भी बनता है … और किसी किसी का सपना, सपना ही रह जाता है.

मेरी गांड फटती थी कि कहीं मैंने कुछ किया या कहा तो ये बुआ से शिकायत कर देगी और मुझे बुआ का घर छोड़ कर जाना पड़ेगा. फिर जुलाई 2017 में मेरी बीवी कुछ दिनों के लिए बाहर गई हुई थी और मैं घर पर अकेला ही रह रहा था. राजस्थान विलेज सेक्स वीडियोमुश्किल से तीस सेकंड में मेरा लंड फूट पड़ा और चाची ने मेरे लौड़े का सारा माल खा लिया.

मेरे साथ ही साबिरा ने भी अपने अम्मी से पढ़ाई का बहाना किया और मेरे पीछे पीछे ऊपर के मंजिल पर आने लगी. 5 फुट है और वो शुरू से ही भरे पूरे शरीर की मालकिन है, मेरी माँ के दूध का साइज 40”, कमर 32”, और चूतड़ 40” हैं. प्यारी पाठिकाओं को बताने के लिए यदि मैं अपने लंड के बारे में बात करूं, तो मेरे लंड महाराज जी काफी लंबे और मोटे हैं.

आपने उस दिन बड़ा मस्त डायलॉग बोला था … वो क्या कहा था … एक बार फिर से कहिए ना?मैं- अरे जाने दो यार … उस दिन जोश में कह गया. वीरेन्द्र सर- वह तो अच्छा रहा मैंने देखा, कोई और देख लेता तो बवाल हो जाता.

वो भी अपनी गांड को धीरे धीरे उठा कर मेरे लंड के दबाव पर अपनी चुत पर रगड़ने लगी थी.

क्रूरता के आधार पर तलाक की अर्जी दी गई व वो दोनों लड़के लड़की बंगलोर रवाना होने को रेडी हो गए. उनकी एक बड़ी बेटी सोनाली 19 साल की थी और दूसरी बेटी छोटी मुनमुन थी. इतना सब होने के बाद भी मेरी बीवी समझ ना सकी कि यह फकीर उससे क्या चाह रहा है.

देर तक कैसे खड़ा रखें दोस्तो मुझे आशा है कि आपको मेरी यह हॉट टीचर मैम Xxx कहानी पसन्द आई होगी. मैंने सोचा कि आज कुछ भी हो जाये, मैं आज दीदी की पेंटी में अपना लंड का पानी ज़रूर लगाऊंगा.

अब मैंने तनिक भी देर करना उचित नहीं समझा और अपने खूँटे जैसे खड़े सात इंच लम्बे लंड को बाहर निकाल कर उसकी बुर के मुहाने पर रख दिया. तरुण जयपुर का रहने वाला है। जब भी मैं जयपुर जाता तो तरुण के घर ही रुकता और तभी उसकी चचेरी बहन पायल से आँखें लड़ जाती।आँखें तो लड़ जाती पर मैं हर बार बस तिलमिला कर रह जाता कि इतने सही माल को जाने कैसे भोग सकूंगा।फिर एक दिन बातों के दौरान तरुण से पता चला कि पायल की शादी एक आर्मी वाले से तय हो गयी है और अगले महीने उसकी शादी है।यह सुनकर मैं बहुत उदास हुआ और जैसे मन मार कर रह गया।पर कर भी क्या सकते थे. लेकिन मैं ठहरा पक्का ठरकी, मैं अपना लंड भाभी के एकदम गले के अन्दर ठूँसे जा रहा था और ब्रा के ऊपर से उनके मम्मों को मसले जा रहा था.

सेक्सी व्हिडीओ हिंदी मराठी

तब रुचिका एक पीस लेकर उठी और अपनी माँ के मुँह में डाल कर जबरदस्ती खिलाने लगी. कई साल पहले जब मेरे पिताजी का देहांत हुआ तो मेरी माँ ने अकेले ही पूरे घर की जिम्मेदारी को उठा लिया. मौसी को नीचे नींद नहीं आती और हम दोनों सोहम के साथ तुम्हारे साथ वाले कमरे में सो जाएंगे.

चंडीगढ़ पढ़ाई के लिए आया तो मकान मालकिन से दोस्ती के बाद सेक्स का मजा मिला मुझे!जब मैं करीब बीस साल का था, उस वक्त मैं बारहवीं उत्तीर्ण करके घर से बाहर रहने के लिए चला गया. मेरी पिछली कहानीब्लू फिल्म देखकर गांड चुदाई शुरू कीआप लोगों ने पढ़ी होगी.

भाभी ने आंखें मटका कर कहा- ओहो … लाला मतलब तुम्हारी गर्लफ्रेंड चाहे जिधर से दे देती है?मैं कहा- हां भाभी, आप सही पकड़े हैं.

उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी, मैंने उनकी साड़ी को ऊपर उठाना शुरू कर दी. मैं अपने ऊपर पानी डाल कर साबुन साफ़ करने के बाद उठी और पापा के पास पहुंच गयी. चाचा उसे आया देख कर चौंक गए और बोले- कौन?रूप- मैं रूप, ऐसे क्यों कह रहे हैं?चाचा- तो फिर ये कौन है … क्या डाक्साब?उनका लंड मेरी गांड में पड़ा था, वो ढीला पड़ गया.

सोनाली ने झड़ते ही मुझे अपने ऊपर चिपका लिया और साथ में अपने दोनों पैरों से मेरी गांड को कस लिया, मेरे लंड का दबाव वो अपनी चूत पर बनाए रही. मैंने वहां जाकर चाची की गांड पर हाथ रखा, तो चाची उचक गईं और बोलीं- कौन है, मुझको निकालो बाहर. सारे साथी देख रहे थे कि मेरा लंड सरसराता हुआ राकेश की गांड में अन्दर घुसता जा रहा था.

तब मैंने कालू को मुझे सुम्मी ही कह कर पुकारने को कहा और बोली- आज मैं तुम्हारी हूँ राजा, मुझे जन्नत की सैर करा दो.

चुदाई चुदाई बीएफ: जैसे पानी की बूंदें उसके जिस्म पर पड़तीं, उसकी मदमस्त जवानी को देखकर मैं घायल हो गया. रेखा- अब उठो चलो बाहर आ जाओ हर्षद!वो बाहर आ गयी और खड़े होकर उसने मुझे हाथ देकर उठाया.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:दोस्त की बहन के साथ बितायी एक रात- 2. मैं 3 महीने तक अपने पति से ही चुदवाती रही और किसी ग़ैर मर्द से नहीं चुदवाया. आज आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने एक बंद स्कूल में अपनी गांड में लौड़ा लिया था.

थोड़ी देर बाद कोई बाइक से आया तो मैं दरवाजे से हटकर खेत में छुप गया.

मेरे बेड के सामने ही खिड़की थी और मेरा बेड उस खिड़की वाली दीवार पर टिका था. मैं भी चुपके से उन दोनों की सारी बातें और करतूतें वीडियो में कैद कर रहा था. ललिता भाभी फिर से चिल्ला दीं- ऊई साले … धीरे चोद न मेरी चूत सिकुड़ गई है.