सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में

छवि स्रोत,क्या इस हफ़्ते के आखिर में बारिश होगी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू वीडियो नंगी सेक्सी: सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में, मैं सातवें आसमान पर उड़ने लगी, मैंने अपने चूतड़ ऊपर उठा दिए और नीचे से धक्के मारने लगी।मैं बोली- मोनू इतना मज़ा तो आज तक कभी नहीं आया.

सेक्सी वीडियो बताइए ना

फिर मैंने बात की शुरूआत की- चलो बच गए झंझट से वरना चुदाई भी हो जाती हा हा हा हा. वीडियो हिंदी में’उसकी चूत में मैंने लंड इस तरह डाला कि वो चिल्ला उठी- हाय क्या करते हो?‘तूने वैसलीन को लगाया ना चूत में.

पर साइज़ कुछ-कुछ बराबर ही था।वो अपना लंड हिलाते हुए बोला- इसकी भी मसाज करो. गाना पर सेक्सीक्योंकि मुझे अचानक अपनी किताबों की याद आई।मुझे वहाँ पर बस एक ही किताब मिली.

आइए मैं आपको सुनाती हूँ कि कैसे मेरा नाम लेकर मेरा ही नौकर अपना लण्ड सौंट रहा था।‘आहह्ह्ह.सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में: मेरी चूत तो इतनी गर्म थी कि मैं खुद चाहती थी कि मेरी अब चुदाई हो जाए बस.

उसकी सिसकारियां मुझे पागल करती जा रही थी। मैंने उसकी कमर के नीचे तकिया लगा दिया जिससे उसकी चुत बिल्कुल मेरे सामने थी।मैंने अपने लंड को उसकी चुत के छेद पर रखा और एक हल्का सा झटका दिया जिससे करीब 2 इंच लंड उसकी चुत में घुस गया.क्या मैं अपनी प्यारी सी बहन से ये भी नहीं पूछ सकता?मैंने कहा- नहीं भाई.

नल फिटिंग - सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में

इसलिए मैंने धीरे धीरे अपनी गांड पीछे सरकाई और उसके लंड को गांड की फांक में सैट करने लगी.मेरी चूत की प्यास और बढ़ती गई। कुछ ही देर में उसने मुझे उठा कर बिस्तर में पटक दिया।अब मेरी चूत के सामने दुबारा परीक्षा की घड़ी आ चुकी थी.

उस पर अपने मंगेतर से मिलने को लेकर बहुत ही खुश थी।लेकिन उसके साथ अच्छा नहीं हुआ. सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में फिर से पिंकी ने गुलाबी साड़ी पहनी हुई थी।मैंने पिंकी को अपने पास खींच लिया और दरवाजा बंद कर दिया ‘क्या मस्त लग रही हो जान.

मैं ऐसे लिख कर ज्यादा अपने आपको को तुर्रम खां नहीं बनाऊंगा कि मेरा लंड घोड़े जितना बड़ा है, या सांड के जैसे लम्बा है.

सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में?

अब उसने हां कर दिया और वो उठ कर मेरे लंड के सुपारे को मुँह में लेकर चूसने लगी. वो बस धीरे-धीरे कराह रही थी।कुछ देर तक पुनीत धीरे-धीरे लौड़े को अन्दर करता रहा। उसका आधा लण्ड अब गाण्ड में जगह बना चुका था। अब वो आधे लण्ड को ही अन्दर-बाहर करने लगा।पायल- आह्ह. चुदाई के बाद मैं झड़ गया और हम दोनों ने थोड़ी देर के लिए रेस्ट किया.

अन्तर्वासना की हिंदी सेक्स कहानी पसंद करने वाले मेरे प्यारे मित्रो, अन्तर्वासना पर मेरी यह पहली कहानी है. ’करीब 8 से 10 मिनट तक पिंकी को घोड़ी बना कर चोदा और फिर मैं पिंकी को बिस्तर पर लेकर आ गया।बिस्तर पर लाकर उसे पीठ के बल लेटा दिया और 2 मिनट उसकी चूत को चाटने के बाद फिर से अपना लण्ड उसकी चूत में डाल कर फुल स्पीड में चोदना शुरू कर दिया।थोड़ी ही देर में पिंकी अकड़ उठी ‘ऊऊह्ह्ह ह्ह्ह्ह. अन्तर्वासना के सभी पाठक तीसरे तरह जैसे हैं, जिन्हें पढ़ के मन में उत्पन्न होने वाली हर क्रिया को प्रकाशित करके कल्पना के सागर में गोते लगाने में मजा आता है.

और अपने भाई से ऑख नहीं मिला पाते इसी लिए मैंने चूत देकर नायर का मुँह बंद कर दिया। अगर गलत है तो अब नहीं जाऊँगी।मैंने जानबूझ कर बात को बढ़ाकर बताया ताकि मेरे और नायर के सेक्स सम्बन्ध को जानकर जेठ नायर को घर से निकाल देते। मैं जेठ की निगाह में मैं गिरना नहीं चाहती थी।मेरी बातों का जेठ पर गहरा प्रभाव पड़ा, वे बोले- सॉरी नेहा. पता ही नहीं चला।लेकिन मुझे अन्तर्वासना की सब कहानियाँ अच्छी लगती हैं।अब कहानी पर आते हैं. ’मेरी सिसकारियां निकलने लगीं और बड़ा मज़ा आने लगा।वो 15 मिनट लण्ड चूसती रही.

उसका चूतरस मुझे और उत्तेजित करने लगा।थोड़ी ही देर में मेरा लौड़ा फिर से खड़ा हो गया।मैं उसकी चूत को लगातार चाट रहा था। अचानक से वो अकड़ने लगी और वो सिसकारने लगी- मैं जाने वाली हूँ. वो दस मिनट तक मेरी चुत चुसाई झेल नहीं पायी और उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया.

मुझे बेहद मजा आ रहा था।मेरे लण्ड ने भाभी के मुँह में माल निकाल दिया, भाभी को एकदम से उल्टी सी आई.

ब्रा भी आधी खुल चुकी थी।गीत ने अपने हाथ को आगे बढ़ाते हुए संजय की पैंट की जिप खोल कर उसका लंड बाहर निकाल लिया।संजय के नंगे लंड को गीत सहलाने लगी थी.

ऐसा मुझको लगता है।मैं आगरा की रहने वाली 26 साल की एक मस्तमौला औरत हूँ। सेक्स मेरी जिन्दगी का अहम पहलू है। मेरे पति एक मल्टीनेशनल कम्पनी में असिस्टेंट जनरल मैनेजर हैं। सेक्स के बारे में उनके विचार कुछ फ्री किस्म के हैं। तो हम दोनों में कुछ भी छुपा नहीं था। चोदने के मामले में वो जितने बड़े चुदक्कड़ थे. उनके मुँह में मेरा हथियार और भी गर्म हो गया इसलिए मैंने देर न करते हुए उन्हें एक बार फिर से कुतिया बनाया और उनके पीछे आ गया. तो उन्होंने कहा- तुम अपना मुँह उधर को करो।मैंने कहा- क्यों भाभी, शर्म आ रही है क्या?वो बोली- हाँ, तुमसे थोड़ी शर्म आ रही है।मैंने पूछा- फिर कैसे होगा?तो कहने लगी- सब्र करो.

लेकिन वो मेरे अलावा किसी और को घास नहीं डालती थी।हम दोनों एक साथ पढ़ाई वगैरह करते थे. तो गर्लफ्रेंड को टाइम कब देते हो?मैंने थोड़ा सोच कर- आपको ख़ुश रखना ज़्यादा ज़रूरी है. पर उस कहानी का महत्व कम हो जाता।अब कहानी पर आता हूँ।मेरा नाम नील है, मैं मॉडलिंग से जुड़ा हुआ हूँ। मेरी पत्नी का नाम कीर्ति है। हम दोनों ही लंबे और ऊंचे कद के हैं.

क्या रस भरे होंठ थे। दस मिनट तक रेणु के होंठ चूसने के बाद मैंने जैसे ही उसके मम्मे पर हाथ लगाया तो उसने मुझे दूर कर दिया और कहने लगी- मैं अभी ये सब नहीं कर सकती.

थोड़ी देर में जब उसके लंड से वीर्य का भंडार छूटा तो माँ ने उसके सारे वीर्य को पी लिया. फिर मैंने उसे बिस्तर पर उठा कर रखा और लटकती साड़ी पूरी तरह अलग कर दी. मुझे उसका लंड बहुत अच्छा लग रहा था … पर वह थोड़ा डर रहा था और मैं भी असमंजस में थी कि वह आखिर है तो मेरा भाई.

तुम्हारी गर्लफ्रेंड सहन कर लेती है?मैंने कहा- हाँ भाभी, शुरू में दिक्कत हुई थी।आप सबको क्या बोलूं दोस्तो. मेरी आँखें बंद हो गई थीं और मैं धीरे धीरे करते हुए उसके मुँह को ही चोदने लगा था. मैंने आवाज लगाई- प्रिया कहां हो?तो उसकी आवाज आई- बेबी, मैं तैयार हो रही हूँ.

मेरे से पूछने लगी कि इतनी स्पीड और इतने माल का क्या राज है? जब कि उसके पति इतनी स्पीड के कभी आस पास भी नहीं पहुंचा.

सच में मजा आ गया।वो मुझे किस करने लगी और हम दोनों की ख़ुशी हमारे चेहरों पर थी।उसके बाद मैंने उसको उसी रात में दो बार और चोदा।सुबह सुनयना चाय लाई और मैंने और उसने साथ नाश्ता किया, फिर मैं वापिस आने लगा।सुनयना ने मुझे बोला- जब भी मैं बुलाऊँ तो आ जाना. दस मिनट बाद वे उठे तो चुत में से उनका रस और मेरी चुत का रस बह रहा था.

सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में तो वो लड़का मेरे पीछे-पीछे कमरे में आ गया और पूछा- सर कुछ चाहिए क्या?मैंने उसे पैसे दिए और व्हिस्की का क्वॉर्टर लाने को कहा।वो गया और क्वॉर्टर लेकर आया. मैंने शुरुआत में भाभी को बड़ी इज्जत से प्यार देना शुरू किया, ताकि भाभी ये न समझें कि मैं उनके शरीर का प्यासा हूँ.

सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में और लैपटॉप खोलकर कुछ परेशान सी है।तो मैं समझ गया कि वो अपने नेट फ्रेण्ड से चैट करना चाहती है।इसलिए मैं फ्रेश होकर बोला- मैं कुछ देर घूम कर आता हूँ।यह कहकर मैं बाहर चला गया और नेटकैफे जाकर अनु से चैट करने लगा।मैं- हाय अनु. उसके होंठ देख कर लगता है कि उसे लिपस्टिक लगाने की ज़रूरत ही नहीं है और उसकी छाती संतरों के जैसे फूल चुकी है.

लौड़े को जन्नत का आनन्द प्राप्त हो रहा था। मैं लगातार स्वाति की चूत में धक्के लगाता जा रहा था और उसकी हिलती हुई चूचियों को देखकर पागल हो रहा था।मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि स्वाति जैसी अप्सरा मेरे नीचे मेरे लौड़े से चुद रही है। मेरा मन तो कर रहा था कि उसकी चूत को चोदता ही रहूँ.

काला लड़की सेक्सी

लेकिन उनके साथ सेक्स करने का मेरा भी बहुत मन कर रहा था।थोड़ी देर के बाद उन्होंने मुझसे पूछा- तुमने किसी के साथ सेक्स किया है?तो मैंने मना कर दिया. बाहर ही निकालो।मैंने सारा माल सुमा के पेट पर निकाल दिया।फिर मैंने और सुमा ने कितनी ही बार चुदाई की।दोस्तो, कैसी लगी. मेरा लंड तो मेरी जॉकी में ही नहीं समा पा रहा था और लगभग आधा बाहर निकल आया था। मौके का फायदा उठा कर रोज़ी ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और धीरे-धीरे अपनी जीभ लण्ड पर घुमाने लगी।मैं भी बिल्कुल पागल सा होने लगा। आग दोनों तरफ लगी हुई थी और लगता था कि वो काफ़ी दिनों के चुदासी है।मैंने भी उसके लोवर और पैन्टी को उतार फेंका.

जबकि उन्होंने चार शादियाँ की हैं और उनकी चारों बेगमें उनसे बड़ी खुश दिखाई देती हैं।उसका राज एक दिन उनकी एक औरत ने खोला। मैंने इन मियाँजी की औरत के पीछे मेरी रखैल सोनू को लगा रखा था।मेरी रखैल सोनू उर्फ़ सोनल. और आज उसकी छाती पर और पीछे चिपके कपड़े देख मेरा मन मचल रहा था।संजय की बात सुनकर मुझे लगा कि इसके बाद संजय खुद ही कीर्ति को चोदने के लिए आगे बढ़ा होगा. तो मैंने इशारे में पूछा- क्या हुआ?वो बोली- बहुत दिनों बाद मुझे ये आनन्द मिला है.

इसलिए मेरी फुद्दी काफी पानी छोड़ कर चुदने के लिए मचल रही थी।तभी जेठ ने मेरी चूत पर शॉट लगा कर अपने लण्ड को मेरी चूत में उतार दिया।देखते ही देखते जेठ का पूरा लंड मेरे अन्दर था और वे झटके देकर मेरी चूत का बाजा बजाने लगे। मैं घोड़ी बनी हुई पीछे को चूतड़ और चूत धकेल कर अपनी बुर मराने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !‘गपागप्प.

स्विमिंग पूल के आसपास कोई सर छुपाने की जगह नहीं थी और इसलिए हम दोनों कमरे की तरफ भागे. मैं तो पूरा पागल हुआ पड़ा था।उसकी चूत की सुगंध मुझे मदहोश कर रही थी।फिर मैंने उसको कुतिया बनाया और मेरा लंड उसकी चूत पर रख दिया। उसके मुँह से चीखें निकल रही थीं- प्लीज़. मैं समझ गया कि ये अब अपनी चूत दे देगीं।चाची ने लण्ड को लॉलीपॉप जैसे चूसना चालू कर दिया। मेरे लण्ड का पूरा सुपारा उनके मुँह में था। मेरा मन कर रहा था कि धक्का मार कर पूरा लण्ड मुँह में डाल दूँ.

वो अपने में सिमट गई।मैंने उसको बाँहों में ले लिया और उसकी आँखों में देखा. वो मुझसे बोलने लगी- ओह माय डियर, ये तो बहुत ही अच्छा हुआ कि आज इस समय तुम मेरे साथ हो और हम दोनों के दिल में जो भी आए, हम कर सकते हैं. जिनके साथ हर उम्र के लोग शारीरिक सम्बन्ध बना कर अपनी सेक्स की जरूरत को पूरा करते थे।साथियो.

गर्दन को चूसने-चाटने लगा, मैं उसकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा लेकिन वो मना कर रही थी।बोली- भैया आज से पीरियड शुरू हो गए हैं. बस कल हम सब इस मिलन की अलबेली बेला की पूरी दास्तान के साथ मिलते हैं।अपने ईमेल मुझे जरूर भेजिएगा।[emailprotected].

पहले‌ तो मैंने सामान्य पढ़ाई की ही बातें की, फिर सुमन की शादी पर आ गया. ये भी तो बॉडी का एक पार्ट ही है। फिर हम तीनों के अलावा यहाँ और तो कोई है भी नहीं।मैंने पहले तो उन्हें मना किया. शायद कोई नया अनुभव हो सो मैंने उनसे आग्रह किया कि मैं उन्हें देखना चाहती हूँ.

उधर जीजू ने अपना लन्ड निकाल लिया, इधर रवि ने रवि का लौड़ा देख मैं पागल सी हो गई क्योंकि वो जीजू के लंड से भी बड़ा था.

तो वो मुझसे चुदने का तैयार हो जाए।एक तरह से देखा जाए तो मैं अपने लिए परमानेंट चुदाई का जुगाड़ करना चाहता था और मैं जानता था कि ममता को अच्छे से संतुष्ट कर दिया. मैं उन्होंने समय सब भूल चुका था कि वो मेरी आंटी हैं।जैसे ही वो घोड़ी बनी. जिससे एक महक सी आ रही थी।मेरे अस्त-व्यस्त कपड़े और मेरी बदहाशी की हालत देख कर वह केवल एकटक मुझे देख रहा था और मैं भी उसके शरीर की बनावट को देखे जा रही थी।एक तो पहले से ही आज मेरी बुर की प्यास हर बार किसी ना किसी कारण अधूरी रहे जा रही थी। मैं भी सब कुछ भूल कर उसको देख रही थी।मुझे होश तब आया.

सारी लाइटें जल उठीं और हम सब सीधे होकर बैठ गए।तब उसने बोला- इन्टरवल से पहले ऊपर का काम हो गया. अगले पन्द्रह दिन में मुझे किस तरह से 15 मर्दों ने कहाँ कहाँ किस किस तरीके से मेरे जिस्म से खेले, किस तरह से इंज्वाय किया, सबने अपनी और मेरी हवश को जगाया और फिर कैसे खुद को और मुझे भी सेटिस्फाई किया.

उनके आने तक मैं तुम्हारी गाण्ड को अपने लंड के काबिल बना लूँगा।तो अनु बोली- इसका मतलब आप कल तक और 7-8 बार मेरी गाण्ड मारेंगे?तो मैंने उसे चूमते हुए कहा- तुम तो बहुत समझदार हो अनु!मैंने उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर थोड़ा ऊपर उठाकर ज़ोर का झटका मारा। अनु के मुँह से आवाज़ इतनी ज़ोर से निकलने लगी कि मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उसमें की पहली क्लिप हम दोनों ने सम्भोगरत रहते हुए देखी।फिर मैंने दूसरी सीडी लगाई।‘आह्ह्ह्ह. अब वो नीचे से अपनी गांड इधर उधर हिलाने लगी और छूटने की कोशिश करने लगी.

करीना कपूर सेक्सी सेक्सी वीडियो

अगले भाग में आपको बताऊँगा।यह भाग कैसा लगा जरूर बताना, मेल जरूर करें।आपका लोगों का प्यारा दोस्त यश हॉटशॉट[emailprotected].

मेरे लंड को मुँह में लेने‌ के लिया प्रिया अब उस पर झुकी ही थी कि तभी‌ उसे मेरे लंड पर लगे‌ हुए सफेद सफेद धब्बे दिखाई दे गए और वो कहने लगी- छीईईई … पहले इसे साफ तो करके आओ. जब उसका बदन टाइट हो गया और वो ज़ोर-ज़ोर से सांस लेने लगी और फिर अचानक उसने अपना बदन ढीला छोड़ दिया।उस वक़्त उसकी चूत से गरम पानी निकल रहा था।मैं समझ गया कि वो झड़ गई है. लेकिन बाद में तुम पैसे भी ले लोगी।मैं- मैं अपनी मम्मी को कुछ नहीं बताऊँगी और जैसा आप कहोगी.

उसकी चूत जो कि अब चिप-चिप हो रही थी।फिर धीरे से मैंने अपना सुपाड़ा उसकी कुंवारी चूत में डाल दिया, लगभग तीन इंच लौड़ा उसकी चूत में जा चुका था. जो कि उसने तुरंत कर दिया। मैंने उसको उसकी चड्डी उतारने को कहा सो उसने डरते हुए उतार दी। फिर मैंने कहा- यह तुम्हारा इनाम है. लड़की की चुदाई जंगल मेंमैं थोड़ा झिझकी तभी राकेश जी ने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और अब वे एक हाथ से मेरी को कमर सहला रहे थे.

अन्दर कमरे में डैड ने मॉम को कपड़ों के ढलान से टिका लिया था और मॉम अपने बालों को दबने के चक्कर में अधलेटी सी उचक उचक कर लंड पर झूल रही थीं. उनकी चूत मेरे सुपारे से लेकर पूरे लंड तक एकदम टाईट रबर की रिंग की तरह महसूस हो रही थी।इससे पहले भाभी को मैंने उनके ऊपर से ही चोदा था इस दौरान मुझे उनकी चूत इतनी टाईट नहीं महसूस हुई थी और जब मैं ऊपर होता था.

मैंने अपने हाथ उसकी जाँघों पर रखे और सहलाता हुआ उसकी कमर से टी-शर्ट के अन्दर ले गया. भाभी हँसने लगीं और मुझसे कहा- मेरे राज़ा आज तूने जीना सीखा दिया… अबसे मैं बस तेरी हूँ. धीरे से हल्का सा धक्का लगाया कि मेरा फूला हुआ सुपाड़ा उसकी चूत की गलियों में जा के फंस गया।ममता- आआह्ह्ह्ह.

तो हम दोनों से कन्ट्रोल नहीं हो रहा था। फिर हम दोनों इस तरह काफी देर तक रहे।अचानक मैंने उसके मम्मे दबाने शुरू कर दिए. तो मेरी चाची अपने दरवाजे पर खड़ी थीं और मेरी दादी बाल्कनी में खड़ी थीं।चाची बिल्कुल साफ सुथरी खड़ी थीं। मतलब किसी ने उनको अभी तक बिल्कुल भी रंग नहीं लगाया था. गौरव के पापा आने के दूसरे दिन ही वह गांव चले गए ताकि उनका राज नहीं खुले.

जैसा कि आपने पिछली कहानी में पढ़ा था कि कैसे विकी ने मुझे मसाज़ देते हुए मेरे साथ सेक्स किया.

मैं भला अपने प्यारे देवर को ऐसे तड़पता हुआ कैसे छोड़ सकती हूँ।भाभी की यह बात सुनते ही मुझमें जोश आ गया और भाभी को जोर से भींच दिया। मैंने भाभी को ‘I Love You’ बोल दिया. मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो मैं चोरी से उन्हें देखने लगा। उनके गोरे-गोरे चूतड़ों को देख कर मेरा लण्ड कड़क हो गया। उनका ध्यान मेरी तरफ ही था.

तो उन दोनों ने गाउन पहन लिया और दरवाज़ा खोलने के लिए सपना आई। दरवाज़ा खुलते ही हम दोनों अन्दर चले गए और दोनों ने अपने-अपने गाउन उतार दिए और बिल्कुल नंगी हो गई।मैं उन दोनों का नंगा जिस्म देखकर दंग रह गया।क्या मस्त बदन था उन दोनों का. नहीं उसका लौड़ा छिल जाता। थोड़ी देर बाद पुनीत ने लौड़ा पूरा बाहर निकाल लिया।पायल- ऑउच. और फिर मैं भी तो वासना के नशे में चूर हो कर उनकी हरकतों का कोई विरोध नहीं कर पाई।जेठ जी तो वाईफ के न रहने के बाद से अब तक बेचारे चूत के लिए तरस रहे थे, पता नहीं कितनी बार मुझे चुदते देख कर या मेरी कल्पना करके मेरे नाम की मुठ मार चुके होगें.

अपने लंड को मैंने धीरे से उनकी चुत के छेद पर रख कर धीरे से धक्का दे मारा. !’ मैंने गर्दन नीची करते हुए जवाब दिया।‘फिर पढ़ाई छोड़ कर मस्ती क्यों करते हो?’पिताजी की इस बात पर मैं गर्दन उठाकर उनकी तरफ आश्चर्य से देखने लगा। कुछ तो गड़बड़ थी. मुझे भाई से पैसे मिल जाते, तो जब भी भाभी को कुछ ख़ास मंगवाना होता या शॉपिंग करनी होती तो वो मुझे कॉल कर देती और मैं उसे घर से पिक कर लेता.

सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में तो मैंने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। फिर थोड़ी देर बाद मुझे भी लंड चूसने में मजा आने लगा और मैं अपनी जीभ उसके लंड पर फिरा रही थी।वो अपनी आँख बंद करके ‘अहह. ’ बोली और बाथरूम चली गई।यह मेरे जीवन की सबसे अच्छी बर्थडे गिफ्ट थी।‘थैंक्यू सो मच समीर!’मैं मुस्कराने लगा।तभी मुझे लगा मेरे पीछे कोई खड़ा है, मैंने पलट कर देखा तो अनन्या मुस्करा रही थी, मैंने मुस्कराते हुए उसकी डायरी उसे दे दी।आपको यह घटना कैसी लगी, मुझे जरूर बताईए।मेरी ईमेल आइडी है[emailprotected].

हॉट सेक्सी वीडियो भेजें

अंकल ने जीभ को और अन्दर घुसाया और चूँ… चूँ… कर चुत का रस पीने लगे, मुझे तो अजीब लग रहा था. ’ की आवाज़ से चुदाई की स्पीड बढ़ने लगी और वो एक बार झड़ चुकी थी।करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद मैं भी अपनी सीमा पर पहुँचने वाला था।मैं तेज झटके लगाने लगा और उससे कहा- मेरा निकलने वाला है. तो मैं सवेरे 6 बजे के ट्रेन से मुंबई को निकल गया और 10:30 बजे पहुँच गया।वो मुझे लेने स्टेशन आई थी, उसने ब्लू जींस और पिंक टॉप पहना हुआ था।दोस्तो, क्या माल लग रही थी वो.

उसने बताया कि उसका पति बाहर किसी काम से गया हुआ है और उसके ससुर गांव गए हुए हैं. सुनयना- मेरे पति कनाडा में रहते हैं और मैं और मेरी 2 साल की बच्ची है. चूत में वीर्यसुपारे की चमड़ी उनके द्वारा पीछे किए जाने से वो फड़फड़ाने लगा।‘कितना उड़ रहा है ये.

अब अपने आपको शांत करने के लिए मेरे पास एक ही सहारा था और वो थी मेरी खुबसूरत भाभी की खुश्बूदार पैन्टी.

वैसे भी मेरे बारे में जान कर भी आप लोग क्या करेंगे।मैं आपको सीधे अपनी बहन के बारे में बताता हूँ, यह कहानी मेरे और मेरी बड़ी बहन के बीच में हुए अनुभव की है।मेरी उम्र 25 साल है और मेरी बहन की 28 साल, मेरी बहन की शादी हुए करीब दो साल हो गए हैं।मेरी बहन देखने में एकदम माल है. मेरे सामने अपने बदन के कामुक अंग दिखाने लगीं। हर वक्त मुझसे टच होती थीं.

और जब वो अकेले होती है तो ‘आई लव यू सैयाँ’ भी बोलती है, मैं भी उसे ‘आई लव यू टू. इसलिए मेरे लंड को चूसते हुए प्रिया ने अब अपनी लचीली गर्म जीभ को भी धीरे धीरे मेरे सुपाड़े पर घुमाना शुरू कर दिया. तब चाची ने मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। फिर मैंने चाची को एक बार बाथरूम में चोदा.

तो मेरा डर भी कम हुआ और मैं धीरे-धीरे उसके मम्मों को दबाने लगा।वो टेबल पर बैठी थी और मुझे जोर-जोर से किस किए जा रही थी। अब मैं भी उसके मम्मों को जोर-जोर से दबा रहा था और कस कर उसे किस कर रहा था।मेरा एक हाथ उसके मम्मों पर और दूसरा उसकी चूत को सहला रहा था। वो अब बहुत गर्म हो चुकी थी और उसकी चूत से पानी निकल रहा था। वो अब नीचे आ गई और मेरे पैंट से मेरा लण्ड निकालने लगी। उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए.

तो वो लड़का मेरे पीछे-पीछे कमरे में आ गया और पूछा- सर कुछ चाहिए क्या?मैंने उसे पैसे दिए और व्हिस्की का क्वॉर्टर लाने को कहा।वो गया और क्वॉर्टर लेकर आया. मैंने कहा- रानी अब मैं कुर्सी पर बैठे बैठे तुझे शीशे के सामने चोदूंगा. प्रिया लगातार सीत्कार रही थी- आइया … अह्ह्ह … ऊऊह्ह …लम्बी चुदाई के प्रिया अब अकड़ने लगी और बोलने लगी- बेबी … मेरा होने वाला है …मैंने फुल स्पीड में कुछ धक्के मारे होंगे और प्रिया की गांड में सारा माल डाल दिया.

कंडोम से करने की विधिमुझे पुणे सिटी में अपने फ्रेण्डस के साथ घूमना और एंजाय करना बहुत पसंद है।तभी मैंने एक खूबसूरत लड़की देखी और बस. उसके बाद जीजू जब भी हमारे घर आते हैं तो हम दोनों मौक़ा बना कर सेक्स करते हैं.

अमेरिकन सेक्सी व्हिडिओ फुल एचडी

पूछने पर उसने बताया था कि वो कम उम्र में ही चुदाई कर चुकी थी, अब तक जब मौका मिलता है तब कर लेती है. इसके बाद हम दोनों मम्मी पापा की चुदाई देखते और गर्म होकर उनके जैसे ही चुदाई के आसनों का मजा लेते. मैं भाभी के मम्मों को दबाने लगा और वो मेरा लंड मसलने लगी। फिर वो उठी और मेरा अंडरवियर उतार कर लंड को मुँह में डाल लिया.

इतनी गरम चूत मैंने कभी नहीं मारी थी। मैं लंड पर चूत की गर्मी महसूस कर रहा था।फिर वो तेज़-तेज़ झटके मारने लगी और मैं भी नीचे से उसको सपोर्ट कर रहा था। ‘अहह. शायद यह बात स्वाति ने नोटिस नहीं की थी। मैं फ्रैश होकर खाना खाने के लिए आ गया, स्वाति ने बड़े प्यार से खाना परोसा।तब तक मेरा साला भी आफिस से आ गया था। खाना खाते समय मेरे साले ने बताया- मुझे आफिस के काम से चेन्नई जाना पड़ रहा है और एक हफ्ते के बाद लौट पाऊँगा।वैसे तो हर बार वो स्वाति को अपने साथ ले जाता था. जब तुम साथ रहते हो तो मुझे बहुत खुशी मिलती है।तभी मैंने भाभी को अपने से अलग किया और उन्हें समझा कर उनके चेहरे पर स्माइल लाकर जाने लगा।तभी सुनीता भाभी ने जोर से आवाज़ लगाई- सूरज रूको.

लंड चाटने की वजह से मेरा लंड फिर से तन गया और अब मुझे मज़ा आने लगा. चाचा ड्राइवर हैं और इसी कारण उनका अधिकतर समय शहर के बाहर गुजरता था।चाचाजी और पिताजी में आयु का काफ़ी अंतर है और उन्होंने शादी भी देर से की थी। मेरी छोटी चाची मुझसे केवल आठ या दस वर्ष ही बड़ी हैं।जैसे मैंने बताया कि मैं शुरू से ही कामुक प्रकृति का हूँ. मुझ पर पागलपन सवार हो गया था, मैं कभी मुँह से चूचियों को चूसता तो कभी ज़ोर-ज़ोर से दबाता.

जिनकी शादी एक साल पहले ही हुई है।एक दिन भाई किसी काम से बाहर गए थे, भाई दो दिन के लिए गए थे।भाई के जाने के बाद मैं भाई के घर गया. फिर मैं नीचे गई, नहा कर उन दोनों के लिए नाश्ता चाय बनाया और लेकर ऊपर गई.

मार्ग-दर्शन मिलता रहेगा।जैसा कि आपने पूर्व में बताया था कि आप सरकारी नौकरी में उच्च पद पर हैं.

तभी मुझे लगा कि अनु अपने बिस्तर से उठ रही है। फिर अनु धीरे से उठकर मेरे बगल में आकर लेट गई और मैंने नींद का बहाना करके उसे पकड़ लिया।मैंने कहा- आओ राखी आई लव यू. मनीषा कोइराला सेक्सी फोटोलोग जा रहे थे उन सबकी नज़रें मेरे को घूर रही थीं।मैंने सुधा से कहा- यार ये तो सब मुझे घूर रहे हैं।तो सुधा बोली- अच्छा है. करिष्मा सेक्सीमित्रहो, आज या क्लब मध्ये मी नवीन अनुभवांसाठी आली आहे आज मला जो सटीस्फाई करेल त्याला पुढचा महिनाभर तो म्हणेल तेव्हा आणि म्हणेल तिथे मी अवलेबल असेल तो म्हणेल त्या प्रमाणे चोदवुन घेईल. इसके बाद हम दोनों मम्मी पापा की चुदाई देखते और गर्म होकर उनके जैसे ही चुदाई के आसनों का मजा लेते.

मैं भी पेशाब करने लगा। मैंने पानी से उसकी चूत धोई और उसने मेरा लण्ड धोया।फिर उसने एक गाऊन पहन लिया और मैंने एक लोअर और शर्ट। उसने फ़ोन से खाने आर्डर किया और हम टीवी देखने लगे।वो मेरे कन्धे पर सर रख कर मुझसे कहने लगी- अखिल तुम बहुत अच्छा चोदते हो.

मन कर रहा था कि एक-दूसरे में समां जाएँ।जब दो प्यार भरे दिल पहली बार मिलते हैं. साथ ही मैं उसकी चुत के दाने को लगातार रगड़ रहा था, जिससे प्रिया मस्ती भरी सीत्कारें ले रही थी. उन्हें खुश करना होगा।मेरे बॉस ने कहा कि वो दो आदमी हैं तुमको दोनों को खुश करना होगा।मैं करती.

जब वह करीब आ गया, तो मैंने अपनी गांड की सैटिंग उसके लंड के हिसाब से ऐसी कर ली कि उसका फड़कता लंड मेरी गांड की फांक और गांड के छेद पर धड़कने लगा. दिल ने गवाही दी कि इस हाल में भी सत्तर प्रतिशत के आसपास लिंग से समागम हो सकता था।अब कुतिया की पोजीशन में हो जाओ और अपने दोनों छेद जितने बाहर निकाल सकती हो, निकाल दो. अब तुम इस तरह मेरे पास बैठोगी तो तुम्हें क्या लगता है कि कब तक मैं शांत बैठ पाऊंगा? बोलो?”अहाहा … काबू रखो खुद पर … समझे!”जैसे मीता आज मुझे चैलेंज कर रही थी कि ‘मैं तो यूं ही बैठूँगी और देखती हूँ कब तक कंट्रोल करते हो खुद को!’बस फिर मैंने भी खेलने की आज ठान ही ली थी.

सेक्सी पिक्चर हिंदी नया

आप जैसे चाहे स्क्रीन टेस्ट ले सकते हैं।सुधा ने मेरे पास आकर मेरी पीठ थपथपाई और बोली- वाहह. मेरे तने हुए लंड का प्यारा सा गुलाबी टोपा देख कर उसको लंड टच करने की इच्छा हुई. और फिर मैं भी तो वासना के नशे में चूर हो कर उनकी हरकतों का कोई विरोध नहीं कर पाई।जेठ जी तो वाईफ के न रहने के बाद से अब तक बेचारे चूत के लिए तरस रहे थे, पता नहीं कितनी बार मुझे चुदते देख कर या मेरी कल्पना करके मेरे नाम की मुठ मार चुके होगें.

मैंने उसके मुँह की तरफ लंड किया तो पहले उसने मेरे लंड को चूमा और फिर लंड चूसने लगी.

’ की आवाज़ से अब मेरा लण्ड मोटा लोहे का 7 इंच का रॉड बन गया था। मेरा लण्ड भाभी के चूतड़ों के दोनों मांसल उभारों के बीच रगड़ कर पैंट से बाहर आने को बेकाबू था।इतने में भाभी ने मुड़कर और मुझे अपनी दोनों बड़ी चूचियों के बीच कस लिया। मैंने बिना वक़्त गंवाए उसका ब्लाउज खोल दिया.

उसके कसे लेकिन मुलायम मम्मों, जैसे गुब्बारों में पानी भरा हो, का क्या कहना. वो रात को खाने पर आता और एक बार भी उसने कभी कीर्ति की तरफ बुरी नजर से नहीं देखा. लॉकडाउन की चुदाईजो आपने मेरी पिछली स्टोरीचाची को नंगी नहाती देखाको बहुत पसंद किया और मुझे बहुत से मेल भी आए.

मैंने परदे की तरफ देखते हुए पूछा- मैं क्या करूं अंकल?अंकल बोले- बस मेरे लंड की मालिश करते रहो!मैंने अपने गोरे गोरे हाथ से उनके लंड को पकड़ लिया और ऊपर नीचे करने लगा. मैं जानता था कि उत्तेजना के कारण वो ज्यादा देर नहीं टिकेगी और वही हुआ, उसने 10 मिनट में ही अपना पानी छोड़ दिया और मैं उसे पी गया।मैं तो जानता था कि वो जाग रही है लेकिन उसे यह नहीं पता था कि ये सब मेरा ही प्लान है।फिर मैंने उसके टॉप को ऊपर उठाया और ब्रा को ऊपर कर दिया, अब मैं मज़े से उसकी चूचियाँ चूसने लगा. काफी देर तक ऐसे ही चलता रहा, फिर मैंने उसके टॉप को ऊपर किया और उतार दिया.

तो उसने कहा कि आपको कैसे पता?तब मैंने उसे बताया कि मैंने मूवी देखी है. बस ब्रा की स्टेप के ऊपर ही ब्लाउज की स्टेप चिपकी थी। मैं बहुत सुन्दर लग रही थी। मैंने सिर्फ़ सिंदूर छोड़ कर पूरा मेकअप किया था। आज मैंने अपने बाल खुले रखे थे.

तो मेरी नजर उनकी हरकतों पर पड़ी और उस दिन मेरे मन में कोमल के प्रति सेक्स करने की इच्छा करने लगी.

क्या तुमको इतनी सेक्सी लगती हूँ मैं?’‘क्यों पिछली बार जब मेरे नीचे सोयी थीं, तो क्या कहा था मैंने तुम्हें?’‘क्या कहा था. आज मैं सेक्स में सनक के इस लेख में सबसे पहले अपनी उसी मित्र की व्यथा उसकी इज़ाज़त से अन्तर्वासना के पाठक-पाठिकाओं को बता रहा हूँ। मैं यहाँ उसके मुझे लिखे हुए मेल को हू-ब-हू कॉपी पेस्ट कर रहा हूँ।इस मेल में उसने शुरू में करवा चौथ को लेकर उसका उत्साह और मंगेतर से मिलने की ख़ुशी लिखी है।लीजिए प्रस्तुत है उसका ख़त:अरुण जी नमस्ते. मैंने अपने दोनों हाथ पीछे गांड पर रखे हुए थे और अपने कूल्हे खोल दिए थे ताकि उसका मोटा लंड मेरी चूत के अन्दर बाहर आसानी से हो सके.

पुराना विडमेट मैंने ज्यादा नहीं सोचा और उसके पैर के ऊपर ही हाथ रख दिए, उसने जरा भी विरोध नहीं किया।उसके विरोध न करने से मेरे लौड़े की घंटियाँ बजने लगीं और मेरे दिमाग में वासना जागने लगी, मेरी आँखों से नींद गायब हो चुकी थी. जो मुंबई में रहती थी।हम दोनों एक-दूसरे से रोज रात में बातें करने लगे। वो काफ़ी खूबबसूरत और गोरी थी.

और मुँह से भी चूसा जाता है। ये सब मुझे ब्लू फिल्म देखकर पता चला है और मैंने चुदाई सीखी है। ऐसे भी तुम्हारी क्या मस्त चूत और चूचियां हैं, मैं तो इन्हें देखकर ही पागल हो जाता हूँ।यह कहकर मैं अनु के ऊपर लोटने लगा. मैंने मुँह नीचे करके उनकी चूत पर पर होंठ रख दिए।वो पूछने लगीं- ये क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- आप बस मूत दो. कुछ देर चूसने के बाद जब मैं थोड़ी नॉर्मल हुई तो अंकल ने मेरे होठों को कस के चूसते हुए अपना लंड पीछे खींचा और बिना कहे धक्का दे मारा.

18 साल की लड़कियों सेक्सी वीडियो

मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसकी पेंटी खोली तो उसकी चिकनी चुत देख कर मैं फिर से पागल हो गया और उसकी चुत चाटने लगा. ऋतु जी आप बुरा ना माने तो मैं आपका स्क्रीन टेस्ट लेना चाहता हूँ।मैं कुछ बोलती. यानी मेरी कल्पना हकीकत हो गई थी। मेरी चूत मेरी चूचियों और मेरे चूतड़ चाचा के हाथों से रोंदे जा रहे थे।‘आअअअ अअआप?’‘हाँ मेरी जान.

फिर उसे अपनी गोल गदराई गाण्ड में अन्दर तक लेना पड़ेगा।मैं मुस्कुरा दिया।वह खड़ा हो गया और मैंने उसका लौड़ा अपने मुँह में लिया और धीरे से चूसने लगा. ’अचानक उसकी चीख निकल पड़ी और उसने अपना सारा पानी छोड़ दिया।इधर मैं भी अपनी चरम सीमा पर पहुँच चुका था.

जोकि हर लड़के के लंड में सुबह उठते समय होता है।चाची तो ये करके रसोई में चली गईं लेकिन मैं विचार में पड़ गया।तभी चाची ने आवाज़ दी.

मैंने प्यार से उसका हाथ अपने हाथ में लेने की कोशिश की, तो उसने मेरा हाथ छिटक दिया. आधा लंड प्रीति आंटी की गांड में चला गया और वह जोर से चीख पड़ीं- आहह … मेरी गांड फट गई कमीने. तो मैंने धीरे से एक औऱ झटका मार दिया और इस बार तो वो हिलने के काबिल भी न रही।पर मैंने इस बार परवाह न करते हुए तीसरे झटके में पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया। उसे इतना दर्द हो रहा था कि उसके मुँह से चीख भी नहीं निकल पा रही थी।फिर थोड़ी देर के बाद उसका दर्द कम हुआ.

मैं बाथरूम के पास खड़ा हो गया। वहाँ काफ़ी लोग खड़े थे और मेरे बाजू में एक लेडी खड़ी थी. मैंने भाभी को थोड़ा और उकसाने के लिए कहा- किसमें नई जान डाली है मैंने. लो थोड़ा तो आपको टेस्ट करा देती हूँ।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !इतना कहकर पायल ने अपनी जीभ की नोक से बूँद को उठाया और पुनीत के मुँह में अपनी जीभ घुसेड़ दी.

हम लोग अभी जो शरारत करेंगे, उसमें तुम्हें और मुझे दोनों को बहुत मज़ा आएगा.

सेक्सी बीएफ सेक्सी एचडी में: तो मैंने देर ना करते हुए उसकी पैन्टी और अपने सारे कपड़े निकाल दिए और उसके ऊपर चढ़ गया। मैंने अपना लण्ड उसके मुँह के पास ले जाकर उसे चूसने के लिए कहने लगा. फिर हम रोज बात करने लगे, एक दिन बातों-बातों में उसने मुझे बताया कि मेरी शादी हो चुकी है।मुझे बहुत गुस्सा आया और सोचा कि अब इस लड़की से बात नहीं करूँगा.

ओके नो प्रॉब्लम, मैं उठा शॉर्ट्स टी-शर्ट पहनी, गाड़ी निकली और निकल पड़ा अपनी ड्यूटी निभाने. मैंने देखा कि हरामिन ने अपनी आदत के अनुसार पैंटी नहीं पहनी थी … यानि कि लोहा गर्म था. फ़िर उसने मुझे बाँहों में लिया और मेरी शर्ट के सभी बटन खोल दिए और शर्ट निकाल दी।अब वो मेरे सीने को चूमने लगी.

मैंने भी अपना मुँह खोला और दादा जी का लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

उसने कहा- ठीक है, आज की रात तुझे मेरा गुलाम बनना होगा और मैं जैसा बोलती हूँ, वैसा करना होगा. फिर क्या प्रॉब्लम है यार।हमारी बातों से गीत को भी थोड़ी समझ आ गई और एकदम से खुलते हुए बोली- ठीक है फिर यारों. और बोली- क्यों न हम लोग मिलें और मिल कर बाकी का कम निपटा लें?मैंने थोड़ा सा सोचा कि मिलने में कोई बुराई नहीं है।उसने मुझे अगले दिन अपने घर आने का न्योता दे दिया मुझे तो लगा कि मेरी मुराद पूरी हो गई।मैं बताए हुए पते पर बिल्कुल टाइम पर पहुँच गया और साथ में लाल गुलाबों का एक गुलदस्ता ले गया।घंटी बजाते ही उसने दरवाजा खोला.