मोटी वाली बीएफ

छवि स्रोत,गांड वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

नई बीएफ हिंदी में: मोटी वाली बीएफ, अभी मैंने थोड़ी देर ही चाटा था कि भाभी ने मेरे बाल पकड़े और मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगीं.

पाकिस्तानी गर्ल्स

मेरे लोअर में लण्ड का उभार अभी भी बना हुआ था और लोवर पर चूत और लण्ड के प्रीकम के गीले निशान बने हुए थे. विलेज चुदाईफ़िर भी इशारों इशारों में मैंने सवाल कर लिया- चुम्मी किस लिए?उसका कोई जवाब नहीं देते हुए उन्होंने मुझे सवाल किया- तुम्हें बुरा तो नहीं लगा?मैंने न में सिर हिला दिया.

बुआ एकदम छोटी सी दिखने वाली ब्रा पैंटी ले रही थीं, जिसमें से उनका कुछ भी छुपने वाला नहीं था. सेक्सी दिखाओ चुदाईमगर मैं सजग था, अपनी तरफ से कुछ भी ऐसा जाहिर नहीं कर रहा था कि मुझे बुआ के साथ कुछ करने का मन है.

उसकी गांड की खुशबू ने मुझे पागल से बना दिया और मैं उसकी गांड को कुत्ते की तरह चाटने लगा.मोटी वाली बीएफ: ममता की चुत चाटते चाटते मैं तिरछी नज़रों से खिड़की की तरफ भी देख ले रहा था.

उसका लंड चूत में सरसराता हुआ घुस गया और एक मीठी आह के साथ मेरी गांड ऊपर नीचे होने लगी.मेरे अकेलेपन में अन्तर्वासना ने मेरा बहुत साथ दिया है तो मैंने भी सोचा कि आज मैं भी अपनी जिंदगी के कुछ किस्से आप सबसे शेयर करूं.

ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಮೂವಿ - मोटी वाली बीएफ

अबकी बार शायद जौहरा को और भी ज्यादा चुदास चढ़ गयी थी, तो वो मेरे सामने सोफे के नीचे बैठ कर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी और साथ साथ पैग पीने लगी.वो बोली- आज रात यहीं रुकूंगी, फिर मैं कल सुबह की फ़्लाइट से दिल्ली चली जाऊंगी.

मेरे गर्लफ्रेंड की शादी हो गयी पर उसे अपने पति के साथ सेक्स में मजा नहीं आता था. मोटी वाली बीएफ मैं- अब क्या बताऊं भाभी … किया तो सब कुछ था और हम अलग भी उसी ‘सब कुछ.

फिर वो बोले- तुमने कहा कि भूरा अच्छा है, इसका क्या मतलब हुआ?मैं- अरे आप तो दूसरी ओर ले गये, मेरा मतलब था कि प्रेमा के साथ तो भूरा ही जमता है.

मोटी वाली बीएफ?

अब जब बंगलौर में भाई रहता हो तो बहन हॉस्टल में क्यों रहे?मैं और सोनल एक ही फ्लैट में रहते हैं, दिन में वो कॉलेज में रहती है और मैं अपने ऑफिस!रात हमारी एक ही बिस्तर पर कटती है. चाची जी दूध की तरह गोरी हैं और दिखने में बिल्कुल 29-30 साल की लगती हैं. अब मैंने उसकी पैंट को और पैंटी को सरका कर नीचे कर दिया और कंबल के अन्दर से होते हुए उसके पैरों के बीच में आ गया.

शादी की तैयारी को लेकर अंकल जी ने मुझसे कहा- तुम्हें ही सभी तैयारी करना है बेटा. तो उसने बेरुखी से कहा- सर, मैं यहाँ ऑफिस के काम से आती हूँ न कि चाय पीने! और मुझे ये भी अच्छा नहीं लगता कि मुझे बिना काम के अन्दर बुलाया जाए. उस वक्त आपा नहाकर एक वाइट कलर की शर्ट और पिंक कलर का शॉर्ट स्कर्ट पहनी हुई थी.

मैं हंसने लगा- कोई बात नहीं!शेखर- वह तुम्हारा अहसान कैसे उतारे? तुम्हें दिलवाएं प्रेमा की?मैं- अरे नहीं शेखर जी, उससे बढ़िया तो भूरा ही है. उनकी चूत के पानी के सैलाब में मेरा लंड पूरी तरह से सराबोर हो गया था. ममता की चुत चाटते चाटते मैं तिरछी नज़रों से खिड़की की तरफ भी देख ले रहा था.

उसने घुंडियों को चूसना छोड़ दिया और फिर से कुछ चुम्बन मेरे गालों पर दे दिए. अगर कमी मेरे भैया में थी, तब भी आपने परिवार की इज्जत की खातिर किसी से कुछ नहीं कहा.

अदिति अपनी गांड आहिस्ता आहिस्ता आगे पीछे करके मेरा लंड अपनी चूत पर रगड़ रही थी जिस वजह से मेरी नींद टूट गई थी.

विक्रम ने संजू को नीचे बैठाया और अपना लंड संजू के गदराई हुई चुचियों के बीच में रखकर चुचियों को ही चोदने लगा.

जिसे देखकर पहले तो मैं चौंक गयी और सोचने लगी- भारतीय मर्दों का इतना बड़ा और मोटा कैसे हो सकता है?लेकिन दूसरे ही पल मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया. क्लास के उन तीनों लड़कों ने मुझे अगले शनिवार को मुझे अपनी बर्थडे पार्टी में आने को बोला. अब आगे सिस्टर सेक्स्क्स स्टोरी:मनीष के ऑफिस निकलते ही घर के अन्दर नेहा और स्नेहा दोनों बहनें सोफे पर आ गईं.

उसकी चुदने की मंशा जानकर मैंने गाड़ी को सड़क से उतार कर कच्चे में लगा दी और नीचे चादर बिछा कर अक्कू के ऊपर चढ़ गया. मैं अगले दिन अपने उसी दोस्त से मिला और मैंने उससे मौलवी जी का फोन नंबर ले लिया. इंडियन देसी मॉम सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी सौतेली मम्मी खुले आंगन में नहाती हैं.

उस दिन मैंने 10 बजे उसके नौकर के नम्बर पर फोन लगाया और उस बंदे ने मुझे एक पते पर आने को कहा। मैं तुरंत उस पते पर गई और बाहर पहुंचकर नौकर को फोन लगाया।वो मुझे सड़क पर लेने आ गया और मैं उसके साथ चल दी। वो मुझे एक 4 मंजिला बिल्डिंग में ले गया.

तभी अनामिका उससे बोली- साली मुझे खोल ना … कुतिया अकेले अकेले लंड के मजे ले रही है. वो सीत्कार भरकर बोली- आंह प्रकाश तुझे एक बात बोलूं … तेरी और मेरी सोच बहुत हद तक मिलती जुलती है. मैं उसे चोरी छुपे देखता रहता था और वह भी मुझे कमोवेश कुछ इसी तरह से छुपी हुई नजरों से देखती रहती थी.

आह क्या मुलायम चूतड़ थे, मुझे पता नहीं क्या हुआ … मैंने आंटी के चूतड़ों को हाथों से दबाना शुरू कर दिया और कस कस के दबाता रहा. इसलिए मामाजी के घर पहली बार अनु दीदी को लेकर मैं दोपहर को पहुंच गया. ताई- आह मेरे राजा … चोदो मुझे चोदो मुझे … आज प्रेग्नेंट कर दो आह मैं तो मर ही गयी थी … आज मुझे चोद कर फिर से जिन्दा कर दो.

फिर सनी चोदने लगा मगर मेरी गांड में दो लंड फंस गये थे इसलिए चुदाई सही से नहीं हो पा रही थी.

बसन्त कुमार जी 15-20 दिन बाद दुकान का सामान लेने बड़े शहर जाते रहते थे और रात को वहीं रुकते थे. जैसे ही मेरा हाथ सरिता की कमर पर लगा, सरिता के सारे बदन में झनझनाहट हुई और उसने अपनी कमर को झटके से पेट की ओर अंदर किया.

मोटी वाली बीएफ ’ और आआह्ह्ह्ह करते करते 2-4 धक्के जोर जोर से मारे और मेरी चूत में झड़ गए. मैं अपना मोबाइल लाने कमरे में गया तो उधर सीन देख कर मेरी सांसें थम गईं.

मोटी वाली बीएफ इधर मेरा भी लंड पानी छोड़ने को तैयार हो गया था, तो मैंने लंड बाहर निकाला और उसके पेट पर ही सारा माल गिरा दिया. ‘अंकल वो पेमेंट करना है, कैश नहीं है, आप गूगल पे के थ्रू ले लो प्लीज.

इतने में चाची जी कॉफी लेकर आ गईं और कॉफी देने के लिए वो जैसे ही झुकीं, मेरी नजर फिर से उनके बाहर को झांकते हुए मोटे मोटे चूचों पर पड़ गई.

रोमांटिक वीडियो सॉन्ग

मैं उसे एक बंद पड़े पार्क में लाई और मैंने अपनी हुडी उतारकर उसके साथ छेड़खानी करके भागने लगी. ममता- क्यों? उसके पास कुछ अलग छेद है क्या?मैं- अलग तो नहीं है, पर उसकी चुचियां आप‌से काफी बड़ी‌ हैं. उसके बाद मैंने 3 बार Xxx भाबी चुदाई की और उन्होंने मुझे बताया कि मेरा लंड उसके पति से बड़ा और मोटा है.

पहले मैंने उनके बेडरूम में भाभी की चुदाई की और फिर उसको किचन में चूसा और चाटा. उसकी चूत से साबुन के झागों के साथ ही उसकी चूत का पानी मिलकर बाहर आने लगा. मैं उन दोनों की गाली गलौच को सुन कर मजा लेते हुए अनामिका के मम्मों पर चॉकलेट मल रहा था.

मैं एक दोस्त के साथ एक दिन के लिये रुक गया था क्योंकि वह मुझे स्टेशन पर लेने आया था.

मगर अब मेरे लंड में कड़कपन इतना बढ़ गया था कि मेरा लावा किसी भी वक्त फूट सकता था. रिसेप्शन वाली लड़की ने मुझे थोड़ी इंतज़ार करने को बोला।3:10 हो गये लेकिन कोई रेस्पॉन्स नहीं मिला।फिर मैं थोड़ी गुस्से में उस लड़की से पूछा- क्या हुआ? इतना टाइम क्यों लग रहा है?उसने किसी को कॉल की; फिर मुझे बोली- सॉरी मेम, नीलम जिस दुल्हन को तैयार करने गयी थी। वो अभी उसे नहीं छोड़ रही है।मैं बोली- कोई बात नहीं. शायद अब दिव्या के बदन में भी सेक्स की आग लग चुकी थी और वो चुपके से आकर रूम में लेट गयी.

इस तरह से सब कुछ ठीक ठाक हो गया और अगले हफ्ते ही अनन्या और मनोज की शादी हो गई. हालांकि मैं रानी से बातें कर लेता था … मगर मेरी फटती थी कि कहीं रानी ने मुझे कुछ कह सुन दिया, तो मेरा काम लग जाएगा. मैंने कहा- इतना जल्दी!वो बोला- हां यार … दो तीन मीटिंग हैं … ये बहुत ही इम्पोर्टेंट हैं.

मेरी निगाहें मंडप पर थीं और मेरा ध्यान अपने बगल में खड़ी ब्यूटी पर था।ब्यूटी मुझसे इस कदर चिपक कर खड़ी थी कि उसकी गर्म गर्म साँसें मुझे अपने कंधे पर महसूस हो रही थी।मैंने हिम्मत करके अपनी कोहनी से उसके चूचों को हल्का हल्का दबाना शुरू कर दिया. वाइफ पोर्न सेक्स स्टोरी के पिछले भागमेरी दूसरी बीवी संग सुहागरात- 1में अब तक आपने पढ़ा था कि आज मैं अपनी दूसरी बीवी सुधा के साथ चुदाई की शुरुआत करने वाला था.

दोनों की आँखों में संतुष्टि और थकान दिख रही थी।मैंने उसकी आँखों में देखा जिसमें फिर से एक युद्ध की चुनौती थी। शायद आज वो वर्षों की प्यास बुझाना चाहती थी और मैं बरसना चाहता था। हमारी इस काम की प्यास और बरसात का आनंद आप अब कहानी के अगले भाग में लेंगे. चुदाई के बाद मैंने उनको अपने हाथ से उनके कपड़े पहनाए, जिससे भाभी बड़ी ख़ुश हुईं. मम्मों पर उसका पारदर्शी दुपट्टा जो उसके डीप गले को ढकने की नाकाम कोशिश कर रहा था.

बस फिर क्या था … उसने मेरी चुत की भी वैसे ही चुदाई की, जैसे अनन्या की की थी.

मैंने भी अपने कपड़े निकाल कर फैंक दिए और मां को लिटा कर उनके मुँह पर अपनी चूत को रख दिया. उसकी इच्छा को देखते हुए उसके प्रयास के साथ मैंने नीचे से ताक़त लगा कर एक ज़ोरदार झटका दे मारा. वह अब बेजान सी हो गई थी, पर उसके होंठों ने भरपूर जवाब दिया कि अभी वह मेरे साथ ही है.

आआ आआहह … आअहह … हाआय यइईई … बस्स … अब कुछ आगे भी करऊओ ओह आग लग गई है. शायरा के घर मेरी शायरा से तो इतनी बात नहीं हुई … मगर वहीं मकान मालकिन से मुझे पता चला कि अगले दिन मकान मालिक और वो कहीं बाहर जा रहे हैं और वो अगले दिन ही वापस आएंगे.

ललिता भाभी और अम्मा कुछ बातें कर रही थीं तो मैं दिव्या के साथ खेलने लगा. उसके मुँह में मेरा लिंग होने की वज़ह से वो सीत्कार भी नहीं पा रही थी, मगर उसके नितंब सिकुड़ जाते थे।मैं झड़ने वाला हूँ!” मैंने उत्तेजना को संभालते हुए कहा. हेलीमा- अब हम दोनों की चूत में आग लगी है राज, तुम बहुत अच्छी चुदाई करते हो.

डिजाइन वाली चोटी

संजू बेड पर डॉगी स्टाईल में पूर्णतः नंगी थी और पीछे से विक्रम अपने विशालकाय लंड से संजू को डॉगी स्टाईल में ही जोरदार तरीके से चोद रहा था.

कशिश दीदी मेरी मम्मी के पास जाती हुई बोलीं- सन्ध्या आंटी, मेरे पापा पर थोड़ा रहम खाओ. कहानी के पहले भागमौसेरे भाई संग सुहागरात मनाने की योजनामें आपने पढ़ा कि मैंने अपने मौसेरे भाई सन्नी के साथ सुहागरात मनाने का कार्यक्रम बनाया. यह सारी सेक्स कहानी समीना की बेटी को हमारी चुदाई देखने की पहले की है.

वो अपनी मुट्ठी में टोपे को लेकर चूस रही थी और फिर पूरे लंड पर नीचे से ऊपर हाथ फिराकर उसको महसूस करने की कोशिश कर रही थी. हालांकि ये हम दोनों का पहली बार वाला सेक्स नहीं था लेकिन उसकी बुर इतनी ज़्यादा टाइट थी कि ये साफ़ लग रहा था कि उसकी चुदाई या तो बहुत पहले हुई है या अच्छे से नहीं हुई है. ब्लू पिक्चर वीडियो दिखाओउस रात मैं बस यही सोच-सोच कर परेशान हो गया था कि मैं संभोग के लिए कितना नीचे गिर गया था.

पहले तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने आने से मना कर दिया था, शायद उस बात की खुजली थी और दूसरे तो यह मुस्टंडे अपने लौड़ों के साथ मेरे सारे बदन को सहला रहे थे और उसके साथ खेल रहे थे. सुबह मैं नाश्ता करने के बाद कोचिंग चला गया और वापिस आकर लोअर और टीशर्ट पहन कर नीचे चला गया.

इससे हुआ ये कि उसने अपनी टांगों को खुला छोड़ दिया था और अब वो अपनी गांड उठाते हुए मुझे चुत चटवाने का मजा लेने लगी थी. हुक खोलकर मैंने उसको उतार दिया और भाभी के गोल मोटे स्तन मेरे सामने झूल गये. कुछ ही देर में बुआ ने अपनी दोनों टांगों को कुछ इस तरह से फैला दिया, जिससे मुझे उनकी चूत की दरार साफ दिखने लगी थी.

इस जोरदार आक्रमण से रेनू चीख पड़ी और मुझे कसकर दबोच लिया।मैंने उसके खड़े हो चुके चूचकों को चूसना शुरू कर दिया. मैं उसके लिए क्षमा चाहता हूं क्योंकि मैं ऐसे किसी की इजाजत के बगैर उसका कॉन्टेक्ट नम्बर आपको नहीं दे सकता हूं. उसकी बुर के लब फैला कर अपने लण्ड के सुपारे को बुर के मुखद्वार में फंसाकर मैंने सोनल को नीचे की ओर दबाया तो सुपारा उसकी बुर में चला गया.

जब उन दोनों की बातें खत्म हुईं … तो मैं और प्रीति आपस में घर परिवार की बातों में लग गईं.

उनका लंड मेरे दोनों चूतड़ों के बीच बार बार टक्कर पर टक्कर दे रहा था. आज तक मुझे ऐसा दोस्त नहीं मिला जो मेरी इतनी परवाह करता हो। आज पहली बार मैंने अपना जन्मदिन मनाया है नहीं तो गांव में तो ये सब कहाँ होता था।मैं उसके आँखों से आंसुओ को पौंछते हुए बोला- ऐसा कभी नहीं सोचना, तुम्हारे लिए मैं जितना करू उतना कम है। तुम मेरी सबसे अच्छी दोस्त हो.

उसके लंड के लिए योनि केवल एक योनि ही होती है चाहे फिर वो किसी की भी हो. इधर कविता मुझसे निरंतर हर एक या दो दिन के अंतराल में बात करती रहती. मैंने अपनी नाक चूत से हटा कर उनकी पैंटी को उनके जिस्म से अलग कर दिया.

वो शायद नीचे बैठी हुई थी और एसी के बगल‌ में जो‌ खाली‌ जगह रह गई‌ थी, वहां से हमें देखने की कोशिश कर रही थी. सामने वाली बर्थ पर धकेलते हुए मैंने उसको लिटा दिया, उसके पैरों में बैठ कर मैंने एक ही झटके में उसकी कच्छी फाड़ कर निकाल दी और उसने खुद अपने पैर फैलाते हुए मुझे अपनी नूरानी फुद्दी के दीदार दिए. मैंने भी उसके पैर अपनी कमर के इर्द-गिर्द फैलाते हुए एक हल्का धक्का देकर सुपारा चूत में घुसा दिया.

मोटी वाली बीएफ मुझे भी एक चाह थी कि मेरा पति मेरी गांड चाटे और ये सब करे, जो तूने किया है. तो मैंने भी उन्हें प्रॉमिस कर दिया और कहा- मैं कभी किसी को कोई भी हमारे बीच की बात नहीं बताऊंगा.

चोदा चोदी भेजें

तब जाकर संजू की नींद खुली और वो हम लोगों को देख कर गुडमॉर्निंग बोली. उसने मेरी कमर हो दोनों हाथों से पकड़ा और अपना सख्त लंड टिकाए हुए बोला- तैयार हो जा मेरी रंडी दीदी, अब तेज तेज चोदूंगा. इतना चोदने के बाद मैंने भाभी को एक कुर्सी में बिठाया और उसके मुँह के सामने अपना लंड रख के खड़ा हो गया.

अगर आप लोगों को रेस्पोन्स अच्छा रहा तो मैं इस कहानी से संबंधित अन्य घटनाएं भी आपके लिए लिखने का पूरा प्रयास करूंगी. जब मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आया और मेरा लण्ड अकड़कर मूसल जैसा होने लगा. एक्स एक्स एक्स बांग्ला मूवीरोज शायरा के हाथों का खाना खाने की आदत पड़ गयी थी इसलिए उसके घर के पास आकर अब उसकी याद तो आई, मगर आज से वो टेस्टी नाश्ता बंद, बंद मतलब बंद और मैं चुपचाप सीधा नीचे आ गया.

वो आवाज ऐसी मीठी लगी कि उसके बाद मेरी रातों की नींद और दिन का चैन खत्म हो गया.

अब उसे उस प्यारी सी चूत में जाना था, जिसके मूतने की आवाज अभी मैं सुन रहा था. मैंने अब देर करना ठीक नहीं समझा और मौनी के होंठों को अपने होंठों में कैद कर लिया.

एक रात को उन्होंने मेरी गांड में भी लंड रगड़ा लेकिन वो चूतड़ों के ऊपर ही झड़ गये. कुछ लोग कहेंगे कि 35 या 30 के बाद औरत की चूत फ़ैल जाती है, तो मैं उनको बताना चाहूंगा कि जो मज़ा एक शादीशुदा और अधेड़ उम्र की औरत के साथ सेक्स करने से आता है, वह जवान लड़की के साथ चुदाई नहीं आता. दोस्तो, आज मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी सेक्स लाइफ की एक सच्ची घटना आप लोगों को बताऊं.

मतलब ऊपर वाले ने मेरी चुत के लिए लंड का इंतज़ाम एकदम पक्का करके रखा था.

अभी परसों ही मैंने बैगन घुसा कर अपनी चुत ठंडी कर रही थी, तब से पता नहीं क्या हो रहा है कि चुत के अन्दर खुजली सी बनी रहती है. अब मेरा लंड उसकी चूत चोद रहा था और मेरी उंगली उसकी गांड को गर्म करने में लगी थी. भाभी ने बताया कि आप लोग केवल कुछ ही दिनों में यहां से चले जाएंगे, तो हमने आप से अपनी चुदास मिटाने का सोचा है.

பிஎஃப் செக்ஸ் தமிழ்जब भाभी ने सही से लंड को चूत में एडजस्ट कर लिया तो मैंने फिर धक्के देने शुरू किये. अंकल से रहा नहीं गया और उन्होंने मेरे दोनों नंगे कंधों से मुझे पकड़ कर अपनी छाती से लगा लिया.

ब्लू फिल्म छोडा छोड़ी

तभी मीना के पति का दोबारा फोन आया और वो पूछने लगा कि कहा पहुँच गयी?मीना ने उसे बताया कि करनाल से निकल चुकी है और अपनी दीदी के घर पहुंचकर फोन कर देगी।फिर मीना मुझसे वहां से जल्दी निकलने के लिए बोलने लगी।मगर अभी मेरा काम पूरा नहीं हुआ था. इस तरह से ना-ना करते करते मेरी पड़ोसन लड़की ने अपनी चूत चुदवा ही ली. फिर मैंने जबरदस्ती उसका लंड निकाल दिया और हाथ में पकड़ लिया।अभी उसका लन्ड एकदम आग की तरह गर्म था।फिर उसने मेरे हाथ लन्ड हटाया और मेरी चूत पर निशाना लगाया.

तो आज मैं आपको बता रहा हूँ कि समीना को मैंने ब्लोजॉब और अनाल सेक्स के लिए कैसे मनाया. उनको बहुत मजा आने लगा तो वो बोलीं- मेरा पेटीकोट ऊपर करके मेरी जांघों को भी मसल दे. उन दोनों को निबटा कर मैंने अपना बैग खोला और दारू की और पानी की बोतल बाहर निकाली.

वो भी मुस्कुराते हुए मेरी पास आई, तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपनी गोद में बिठा लिया. मैं पीहू के पीछे खड़ा होकर हुक लगाने लगा तो मेरा खड़ा लंड उसकी गांड में टच होने लगा था. परंतु विक्रम का लंड अभी तक नहीं झड़ा था; वो नीचे से ही मेरी बीवी की चूत में कंद से जोर जोर से झटके मारने लगा.

जैसे ही मेरा लण्ड टनटनाया, मामी घोड़ी बन गई और बोली- उठ जा विजय, आज मुझे कुतिया बनाकर चोद. उधर जय ने भी आगे से साड़ी को हाथ से थामा, उसने भी लंड को बाहर निकाला और मेरी पैंटी को नीचे खींच कर मेरी चूत पर लगा दिया.

मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए, वह भी किस करने लगी और मुझमें जैसे खो सी गई.

ऑफिस गर्ल Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मेरी सहकर्मी लड़की मुझसे अपनी मालिश करवा रही थी. मराठी सेक्सि विडिओआपा ने मेरे लंड को देख कर कहा- वाह मेरे भाई क्या मस्त लंड है तुम्हारा. सेक्सी नंगीमैंने भी मौका नहीं छोड़ा और घर में घुसते ही उसको अपने गले से लगा लिया. मुझे आप सभी के मेल मिल भी रहे हैं और मैं कोशिश भी कर रही हूँ कि आप सभी को जबाव दूं.

सफ़र के कारण मुझे नहाने की इच्छा हो रही थी, तो मैंने उससे कहा- मैं तो नहाऊंगा, यदि आपको फ़्रेश होना हो, तो आप हो लें.

उधर साला सुरेश अपने नाक और मुंह से उसकी जवानी की खुदाई करने में लगा हुआ था. अपने गुदाद्वार को सहलाने लगी।अरे डरो मत … वैसे भी रास्ता तो बन ही गया है, अब तो मजे ले लो. ख़ुशी ने एक भद्दी सी गाली निकाली- इस मादरचोद को भी अभी ही आवाज देनी थी.

मतलब गांड मराने का शौकीन हूँ … साधारण भाषा में मुझे आप गांडू कह लीजिए. हुआ यूं कि सोनी का एक छोटा भाई है रोहण, जो चेन्नई में रह कर पढ़ाई कर रहा था. उसके बाद नमन ने कहा कि अगर तूने ये बच्चा गिराया, तो तेरी वीडियो वायरल कर देंगे.

सेक्सी पिक्चर चोदी चोदा चोदी चोदा

घर में सेक्स करने का बहुत मन था, पर नहीं किया … क्योंकि घर में मेरे परिवार वाले भी थे. मैं उनको बोली- आपका दिमाग ख़राब है क्या? ऐसे गेट पर खड़े होकर लंड सहला रहे हो? खुद तो पिटोगे ही … और मेरी भी इमेज ख़राब करवाकर मानोगे. यह मेरी पहली कहानी है, उम्मीद करता हूं कि आपको यह ऑफिस गर्ल Xxx कहानी पसंद आएगी.

फिर मैंने दूसरे चूचक को भी न्याय देते हुए मुँह में ले लिया और अपने दोनों हाथों से उसके नितंबों को दबाने लगा।शायद वो काफी समय से प्यार से वंचित थी.

फिर …कुँवारी को न चोदिये जो चूत पर करे घमंड,चुदी चुदाई चोदिये जो लपक के लेवे लन्ड!हर बात कहने का एक अंदाज़ होता है.

उसमें से छोटी वाली लड़की हमेशा ही मुझे देखकर अपने होंठों पर जीभ फिरा देती थी. फिर अपने घर की चाबी निकाल कर दरवाजा खोलकर अन्दर आ गयी और सब लाईटें जला दीं. सेक्सी फिल्म ब्लू सेक्सीजब मैं उनको लेने गया तो मैंने उनको नमस्ते किया और फिर उनका सामान उठाया.

पता नहीं क्यों किताबों में भी‌ मुझे बस शायरा ही शायरा नजर आ रही थी … और रह रह कर बस उसके‌ ही ख्याल दिल‌ में आ रहे थे. ”वो चौंक गई और डर कर बोली- पागल हो गए हो क्या … ये लंड मेरी गांड को तहस नहस कर देगा. अब मैंने सोचा कि आज तो मेरा लौड़ा भूखा रह जाएगा।तभी मुझे आंटी की याद आ गई.

तेज चोद साली रांड को।वो बोला- हां साली … पूरी रांड है ये … मेरे लंड को गांड में भींच रही है. ये अच्छा ही हुआ क्योंकि मेरे वापिस आने के आधा घंटे बाद ही अशोक आ गया और बोला- फ्लाइट कुछ जल्दी ही शुरू हो गई थी.

कुछ ही देर में उन्होंने समर्पण कर दिया और वो बोलीं- ओके ठीक है, पर अभी ये सब नहीं.

मतलब ऊपर वाले ने मेरी चुत के लिए लंड का इंतज़ाम एकदम पक्का करके रखा था. आंटी मेरे मुँह में अपनी जीभ को अन्दर तक डाल कर किस करती जा रही थीं. फिर मैंने आंटी की गांड पर लंड को लगाया और उसकी गांड पर चिकने लंड के सुपाड़े को फिराने लगा.

ब्लू सेक्सी फिल्म ब्लू सेक्सी मैं कहानी तो रेशमा की बता रहा था लेकिन चूत मुझे शगुफ्ता की दिखाई दे रही थी. सोनी ने कोई असहजता नहीं दिखाई और वह उसकी छोटी छोटी चूचियों को सुरेश की बालों से भरी छाती पर टिकाते हुए आराम से उसके भारी भरकम बदन पर सेट हो गयी.

उनको बहुत मजा आने लगा तो वो बोलीं- मेरा पेटीकोट ऊपर करके मेरी जांघों को भी मसल दे. हाय दोस्तो, मैं योगी मैं फिर से हाजिर हूँ आप लोगों ने मेरी भतीजा बुआ सेक्स कहानीखेत में चुदाई करके मिटाई बुआ की चूत चुदासको बहुत पसंद किया. तो वो अपने कपड़े पहनने लगे और फिर मेरे पास आकर मेरे बूब्स दबाकर बोले- मेरी जान, तेरे लिए मैं कुछ भी कर सकता हूँ.

मछला हरण डाउनलोड

कुछ देर बाद विक्रम बोला- रुको भाभी, तुम्हारा घुटना दर्द कर रहा होगा, तुम मेरे ऊपर आ जाओ. तभी विक्रम ने संजू की गांड को चूसते चूसते उसमें अपनी एक उंगली घुसा दी. मैं एक दोस्त के साथ एक दिन के लिये रुक गया था क्योंकि वह मुझे स्टेशन पर लेने आया था.

वो पूरी तरह से मचल रही थी- आह बेबी, ये क्या कर रहे हो आह उम उम आई मां … रुको यार इतना मत तड़पाओ. कुछ ही देर में मुझे दिमाग में आया कि नाटक करके देखता हूँ कि मेरी बीवी कैसे चुदती है.

जब मेरा लण्ड उसकी बुर में जाने के लिए बावला होने लगा तो मैं उठा और टांगें फैला कर बैठ गया.

वो बोली- मुझे भी ले चलेंगे?मैंने बोला- आप मेरे साथ क्यों चलेंगी? और जहां तक मुझे जानकारी है कि आप किसी और जगह की टीम से यहां आयी हुई हैं. इतने में अनामिका बोली- जीजू … मुझे आपका लंड चूसना है … मेरा बड़ा मन है. भैया ने मेरी आंख बंद करने के बाद मेरे दोनों हाथों को पकड़ लिया और हाथ पकड़ कर लॉलीपॉप पर लगवा दिए.

आवाज तक नहीं निकल पा रही थी मेरी।करीब 10 मिनट बाद मेरा दर्द कुछ कम हुआ और मेरी बुर ने भी पानी छोड़ना शुरू कर दिया. मैंने ध्यान किया कि जब से मैं बुआ के घर आया था, तब से ही बुआ मंद मंद मुस्कुरा रही थीं. भाभी ने अपनी चूत पर हाथ रखते हुए इस अदा से कहा कि मेरे छक्के छूट गए.

सनी बोला- देख क्या रहा है साले गांडू? तेरी गांड की सर्विस करेंगे आज हम.

मोटी वाली बीएफ: इसके बाद ऐसा कुछ हुआ कि अगले बीस पच्चीस दिनों तक शायरा से बातचीत करना तो दूर, उससे मिलना भी नसीब नहीं हुआ. वो अभी कुछ समझ पाती कि मैंने एक तेज झटका दे दिया, जिससे मेरा आधा लंड चुत के अन्दर चला गया.

तो मैंने उससे कहा- ओ मैडम ये बस है आपका घर नहीं … ज्यादा ऊ आ की आवाज मत निकालो. उसने अपनी जांघों, कमर और चूत पर बार बार गर्म पानी डालकर अच्छी तरह से सेंक लिया, तो उसे बड़ा चैन मिला. फिर धीरे धीरे आपा को भी मजा आने लगा और वो बड़बड़ाने लगी- आह हहह उम्मह हह आह हहह … भाई चोदो … चोदो और तेज चोदो … अपनी बहन को! फक मी … फक मी हार्ड भाई … और तेज चोदो अपनी बहन को फाड़ दो मेरी चूत फाड़ दो और बना लो अपनी रखैल रंडी फाड़ दो आहहल्ला कसम सही बोल रही हूँ भाई बहुत मजा आ रहा है.

उससे अब सहन नहीं हो रहा था, तो उसने हाथ डालकर मेरे लंड को पकड़ लिया और मस्ती में मेरे कान के पास बोली- भैयाय्य्या प्लीज मुझे चोद दो … अपना वो अन्दर डालो न अब.

इससे विपिन के चेहरे का रंग उड़ गया और वो बोला- ये क्या बोल रही हो दीदी?मैंने खिलखिला कर हंसते हुए कहा- अरे तू डर मत, मैं मज़ाक कर रही थी. शायद आज हम दोनों ने कपड़े न पहनने की कसम खा रखी थी।खाना खाने के बाद हल्की सी नींद आ गयी. शायद मेरे लिंग ने उसके नितंबों को थोड़ा चौड़ा कर दिया था। मैंने चाय बनने के समय में उसके नितंबों को चूमा और सहलाया.