बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा

छवि स्रोत,बहन भाई की सुहागरात

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बिडीवो: बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा, !जूही भाग कर बेड पर चढ़ जाती है और आरोही उसको वही। दबोच लेती है और उसके पेट पर बैठ जाती है।आरोही- अब बोल क्या बोल रही थी तू…!जूही- सॉरी दीदी.

शेष की वीडियो

मुँह, गाल, स्तन, गर्दन, सब आनन्द रस से तर थे सखीवह गर्माहट वह शीतलता, कैसे मैं करूँ बखान सखीमेरे मन के इस आँगन को, वह कामसुधा से लीप गयाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. रंडी का नंबरउसकी चूत और मेरे गोलियों के टकराव से थप ठप थप ठप की आवाज़ हो रही थी।क्या सुरमयी वातावरण हो गया था… रोमांचित वातावरण में चुदाई का कार्यक्रम जोरों शोरों से चल रहा था… हर धक्के में वो ‘आआअहह.

कुछ मत बोलो… आज मैं तुम्हे छोड़ने वाला नहीं… मेरी इच्छा पूरी करूँगा!’मुझे तो आनन्द आ रहा था… छोड़ने की बात कहाँ थी, वो तो मैं यूँ ही ऊपर से बोल रही थी, मेरे मन में तो चुदने की ही थी. खून बह रहा है! मुझे डर लगता है कहीं मेरे पेट में कुछ …!”अब मैं समझ गया था कि वो क्यों डर रही है, मैंने उसको जोरदार चुम्मी ली और कहा- जो लड़कियाँ हर रोज अपने बॉय-फ्रेंड से चुदती हैं.

यह कहानी शबाना नाम की एक लड़की ने मुझे भेजी थी, जो मैं आप के सामने उन्हीं के शब्दों में पेश कर रहा हूँ.बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा: ’मैंने उनसे उनके बारे में कुछ नहीं पूछा था वो अपने आप बोलीं- मैं शादीशुदा हूँ और काम करती हूँ, मेरे शौहर भी बड़े ओहदे पर हैं और ज्यादातर विभागीय काम से बाहर रहना पड़ता है.

!फिर मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला पर बुआ ने कहा- जब मैं पूरी नंगी हो चुकी हूँ तो तू भी पूरा नंगा हो जा.सब बातों का जबाब आपको आगे मिलेगा, तो पढ़ते रहिए और कमेंट करते रहिए। आप जल्दी से[emailprotected]पर मेल करो और बताओ कि आपको आज का भाग कैसा लगा.

सेल्फी लो - बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा

दोनों जंघाएँ पकड़ सखी, अंग को अन्दर का लक्ष्य दियानितम्बों से ठोकर दे देकर, मुझे चरम-सुख की तरफ धकिय़ाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.!मैंने भारती को चोदना जारी रखा, वो खूब मजे ले-ले कर मुझसे चुदवाती रही। लगभग एक घंटे तक चोदने के बाद मैं भारती की चूत में ही झड़ गया।इस दौरान वो 4 बार और झड़ चुकी थी।भारती की चूत में पूरा पानी निकालने के बाद मैं हट गया। भारती ने इस बार मेरा लंड अपनी जीभ से चाट-चाट कर साफ किया, साबुन से नहीं.

चाची बोली- नहीं कबीर, रहने दे, चूत को ही चोद ले! मैं नहीं सह सकती दर्द को!मैंने कहा- कुछ नहीं होगा चाची! एक बार चोदना शुरु किया तो आप को मस्त क़र दूंगा. बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा मैं श्रुति 23 साल की हूँ, उन्नीस साल की उम्र में मुझे अपने पड़ोस के एक लड़के से प्यार हो गया था लेकिन इससे पहले की हमारी प्रेम कथा आरम्भ होती किसी दूसरी लड़की से उसकी शादी हो गई।इस एक तरफा प्यार में दिल टूटने के बाद मैं दो साल पहले अपने एक सहकर्मी के करीब आ गई जो विवाहित है।हम दोनों ने अनेकों बार बिना किसी गर्भा निरोधक के सेक्स किया.

!सब हँस पड़े कामिनी ने काँच के सुंदर गिलास में चार पैग तैयार किए फिर सब ने गिलास को उठा कर चियर्स” कहा।कामिनी बोली- आज का जाम जवानी के नाम.

बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा?

मगर हालत तो उसकी भी खराब हो गई थी।दीपाली एकदम नंगी हो गई थी और जब वो पलटी तो उसके तने हुए चूचे उसकी कसी हुई गुलाबी चूत की फाँकें देख कर तीनों मद-मस्त हो गए।दीपाली- हा हा हा. आप रुकिये…मैं आँखें बन्द करके लेटी रही !पाँच मिनट बाद एकदम मुझे अपने निप्पल पर कुछ ठंडा सा लगा, एकदम आराम मिला, सुकून मिला… आँखें खोली तो श्रेया मेरे निप्पल पर बर्फ़ लगा कर बैठी थी और उसने भी… कुछ भी नहीं पहना था, वो पूरे कपड़े नीचे उतार कर आई थी… उसका गोरा बदन धूप से लाल हो रहा था…मुझे बुरा लगा, मैंने कहा- अरे मुझे गुस्सा तुम पर थोड़े ना आया था. एकदम पतली सी कमर… उनकी फिगर थी 34-30-37लेकिन उनके उभारों में बहुत सेक्सी उफ़ान आ चुका था… ख़ासतौर से कूल्हों में.

मैं पागल हूँ, जो बार-बार भूल जाती हूँ कि आप मुझे सिखा रहे हो।रेहान- ओके, अब बस फील करो कि तुम अपने बॉय-फ्रेंड के साथ मस्ती कर रही हो और यार तुम भी थोड़ा कुछ करो. बस मैं उसी वक्त ये सोच चुकी थी कि अब किसी भी तरह दीपक को फंसाऊँगी और अपनी चूत का मुहूर्त उसी से करवाऊँगी।दीपाली- यार सुबह कुछ नहीं कहा उसने. विकास का लौड़ा अब पूरा तन गया था और तीन लौड़ों से चुदती हुई लौन्डिया का ख्याल करके दीपाली और अनुजा दोनों की चूत पानी-पानी हो गई थीं।विकास- चल मेरी रानी.

! जीजाजी मेरी बुर में घुस कर यहाँ तक आए हैं।उसकी चालाकी भरी इस करतूत को देख कर हम दोनों हँस पड़े। जीजाजी खाने की बड़ी मेज के खाली जगह पर उसके चूतड़ को टिका कर उसकी बुर को चोदने लगे।चमेली घबड़ा कर बोली- अरे जीजाजी यह क्या करने लगे. !रेनू को मैं नज़र बचा कर बार-बार देख रहा था कि वो क्या कर रही है।फिर जब उसने देखा मेरे पर कोई असर नहीं है, तो वो पूरे लंड को अपने हाथों में भर कर मसलने और खींचने लगी। मेरे लंड का आकार बढ़ने लगा।रेखा- क्या हुआ…!रेनू- लंड हिला रही हूँ. ***प्रीतो ने एक उत्सव में जाना था तो उसने अपने शौहर सन्ता से पूछा- अजी सुनिये तो, जरा बताइए कि मैं कौन सा सूट पहन कर जाऊँ? यह कढ़ाई वाला या यह लाल फूलों वाला?सन्ता- लाल फूलों वाला पहन लो मेरे ख्याल से तो!प्रीतो- लेकिन लाल फूलों वाला तो मैंने परसों पड़ोसियों के कीर्तन में पहना था.

तभी सुनील ने मेरी कमर पकड़ी और मुझे अपनी गोद में खींच लिया और बोला- आज तो देख ही लिया जाए, तुम आगे-पीछे, ऊपर-नीचे से कितनी अच्छी हो. लगातार मेरी नाक बह रही है, सारा बदन टूट रहा है, अभी उठी हूँ… श्रेया ने कॉफी बना कर दी, उससे भी ज़्यादा कुछ फ़र्क नहीं लगा उसने पूछा- कैसी तबीयत है?मैं बोली- थोड़ा दर्द है चूचियों और निप्प्लों में पर ज्यादा नहीं !वो हंसती रही मुझे देख कर.

!लैपटॉप में एक लौंडा लड़की की बुर को चाट रहा था। मैंने उसके टाँगों को खोला और मोड़ कर उसकी बुर को दोनों हाथों से खोलकर चाटने लगा। उसकी चूत पहले से गीली थी, बुर का पानी मुँह में आने लगा।उसने कहा- उसे पियो.

रात को कोमल के पिताजी ने पापा को फ़ोन करके मुझे उनके घर के बाहर बने बरामदे में सोने के लिए कह दिया था ताकि घर सुरक्षित रहे.

!आरोही वहाँ सीधी लेट जाती है और अन्ना उसके पास जाकर उसके होंठों पर हल्की सी किस कर देता है फिर उसके पास लेट कर उसकी मम्मे सहलाने लगता है।एक हाथ उसकी जाँघों पर रख देता है और उनको मसलने लगता है, आरोही की सिसकारियाँ निकलने लगती हैं। अन्ना धीरे-धीरे उसकी चूत को रगड़ने लगता है।आरोही- आ सीसी उफ. वरना गाण्ड इतनी टाइट थी की टोपी भी नहीं घुसती।अनुजा ने दीपाली का सर ज़ोर से पकड़ कर चूत में घुसा दिया।दीपाली- आआआअ आआआ उूउउ…विकास का लौड़ा एकदम फँस सा गया था. !यह क्या होता है?”तुम मेरे निचले होंठ को चूमो और मैं तुम्हारे होंठ को चूमूँगा।”नीति ने उत्साहपूर्वक चुम्मा लिया।अब फ्रेंच-किस दो.

!फिर मैं अपने फाडू धक्के मारने लगा।धीरे-धीरे उसे भी मज़ा आने लगा वो बोली- चोद मुझे और ज़ोर से चोद मुझे. वो वासना की आग में जल रही थीं। वो इतनी गर्म हो गईं कि कमरे में पहुँचते ही उन्होंने मुझे बुरी तरह चाटना शुरू किया और एक झटके में मेरे लंड को मेरे अंडरवियर से आज़ाद कर दिया।मैंने भी उन्हें जोर से जकड़ लिया. !!***दोस्ती को बड़े प्यार से निभाएँगे,कोशिश रहेगी तुझे नहीं सतायेंगे,कभी पसंद न आये मेरा साथ तो बता देना…गिन भी न पाओगेइतने ‘थप्पड़’ लगायेंगे!***देख कर लोगों को,सोचा, इश्क हम भी कर लें!फिर बेवफाओं को देख कर सोचा,थोड़ा सब्र कर लें.

!आरोही समझ गई कि अन्ना क्या चाहता है पर वो इसके लिए रेडी नहीं थी और उसको मना भी नहीं कर सकती थी, वो बड़ी दुविधा में आ गई कि क्या करे अब.

अब गड़बड़ हो गई तो?मैंने कहा- तो फिर यह डॉक्टर किस लिए है…अब जब भी मौका मिलता है, हम हरीश के क्लिनिक में सेक्स का मजा लूटते हैं…आपके मेल के इंतजार में…[emailprotected]प्रकाशित : 03 नवम्बर 2013. वो जो स्कूल है न उसमें…मैं- चलो, मैं घर आकर बात करता हूँ…सलोनी- ठीक है… हम भी बस पहुँचने ही वाले हैं…मैं- अरे, अभ तक कहाँ हो?सलोनी- अरे वो वहाँ साड़ी में जाना होगा ना… तो वही शॉपिंग और फिर टेलर के यहाँ टाइम लग गया. अब सहन नहीं हो रहा।देर ना करते हुए हम बेड पर आ गए। मैं उसकी टांगों के बीच बैठ गया और चूत को निहारने लगा। उसकी चूत के बाल चूत पर भा रहे थे। चूत कली जैसी लग रही थी।लंड उसकी चूत पर रखते ही मनु की सिस्कारी निकली, मैंने थोड़ा दबाया तो मनु की चीख निकली।मैं धीरे-धीरे अन्दर घुसाने लगा, मनु ‘आह.

उसके पास घर की दूसरी चाबी है। वो घर की साफ-सफ़ाई, कपड़े धोना ये सब काम निपटा कर चली जाती है। उसके बाद दोपहर का खाना भी वहीं ख़ाता हूँ शाम को हल्का नाश्ता करके घर आ जाता हूँ. यह सब सोच कर ही मेरा लंड खड़ा हो गया…तभी दीदी वापिस अंदर आई और थोड़ी कड़क आवाज़ में बोली- सुन छोटे, आजकल मोहल्ले में चोरी बहुत होती हैं, और चोर छत पर से अंदर घुस कर चोरी करते हैं. !आरोही ने लौड़े को जीभ से चाट-चाट कर साफ कर दिया और बेड पर निढाल होकर पसर गई।आरोही- ओह रेहान आप कितने अच्छे हो.

!इस तरह मैंने उसे दस दिन तक चोदा, उसके बाद मेरा दोस्त आ गया था।उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता, हम दोनों नहीं चूकते थे।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]gmail.

!!!”यह आह मेरी थी जो योगेश का लण्ड घुसने से निकली थी। मैं अब तक कई बार योगेश से चुद चुका था, लेकिन अभी भी जब उसका लण्ड घुसता था, मेरी दर्द के मारे आह निकल जाती थी। वैसे उसका लण्ड था भी खूब मोटा और गदराया हुआ।योगेश ने अपना पूरा लण्ड मेरी गांड में पेल दिया था और हिलाने लगा था।अब आहें लेने की बारी मेरी थी, अह्ह्ह्ह …. और जब ऊपर से ये दीदी पर आ जाए तो दीदी को कभी नहीं पता चलेगा कि उसके पीछे खाट के नीचे कौन बैठा है।अब उसने दीदी की टांगों को उठाकर अपने कंधे पर रख लिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया।सच कहूँ दोस्तो, आज तक इतना कामुक हसीन नज़ारा किसी ने नहीं देखा होगा जो आज मैं देख रहा था।सिर्फ़ कुछ इंच की दूरी पर मेरी दीदी की पावरोटी जैसे फूली हुई चूत थी.

बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा सन्ता- बाल कटवाने? ऑफिस में काम के समय में?इरफ़ान- जी सर !सन्ता- लेकिन क्यों? काम के वक्त में क्यों?इरफ़ान- मेरे ऑफिस में ही बढ़ते हैं. सॉरी दोस्तो, रिकॉर्डिंग ने धोखा दे दिया… लगता है यहाँ तक बैटरी थी…उसके बाद बैटरी खत्म !मगर इतना कुछ सुनकर मुझे यह तो लग गया था कि सलोनी को अब रोकना मुश्किल है.

बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा चूस …!अब मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था। फिर मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए। फिर मैंने उसकी फूली हुई चूत को देखा।क्या मस्त चूत थी साली की. मैं जो चाहता हूँ, वो मेरी हर चाहत का पूरा ख्याल रखती है… अपने ऑफिस में ही उसको मैं कई बार पूरी नंगी करके चोद चुका हूँ… उसको कभी ऐतराज नहीं हुआ…मैं कहीं भी उसके साथ मस्ती करने के लिए उसके कपड़ों के अंदर हाथ डाल देता हूँ या उसके कपड़े उतारता तो वो तुरंत तैयार हो जाती है.

!आरोही- ओके, मैं रेडी हूँ क्या करना है…!रेहान- एक और रोमॅंटिक सीन करेंगे और जो मैं करूँगा, तुम बस मेरा साथ देना…!आरोही- फिर से वही सीन.

सेक्सी हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ

मेरी पत्नी योनि से लिंग निकलते ही उसे अपने मुँह में लेकर मुझे तो पूर्ण आनन्द दे देती है पर खुद उस परम अनुभूति से वंचित रह जाती है !पहले बच्‍चे के जन्‍म से पूर्व हम किसी गर्भनिरोधक गोली का इस्‍तेमाल भी नहीं करना चाहते।कृपया कोई ऐसा घरेलू उपाय बताएं जिससे हम बिना कंडोम, बिना गोली के सेक्‍स भी कर सकें, पत्नी भी यौनानन्द ले पाए और पत्‍नी को गर्भ भी न ठहरे।अपनी सलाह यहीं डिस्कस पर ही लिखें !. ऐसा क्या कह दिया आरोही को कि वो सच में नंगी मेरे सामने आ गई…!रेहान- अब तुमको आम खाने हैं या पेड़ गिनने हैं…!राहुल- मुझे तो आम ही खाने हैं पर मेरा नसीब खराब है वो भी नहीं खा पाया मैं तो…!रेहान- क्यों क्या हुआ. लेकिन मैं भी होशियार था। मैंने उसकी कमर थाम ली थी और निकलने नहीं दिया, उलटे तेल की चिकनाहट के साथ पूरा लंड अन्दर ठेल दिया।उई ई ई.

‘नहीं दीदी सिर्फ पिनें खोल दो… स्कर्ट तो पहले ही फटी पड़ी है’ मैं आने वाले लम्हे को सोच कर बेकाबू हो कर बोला. फ़च फ़च की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था।सच बताऊँ तो यह नज़ारा देख और इशरत की कामुक चीखें सुन मेरा लंड तुरंत खड़ा हो गया लेकिन फिर जब महसूस हुआ कि यह मेरी बीवी है. दीपाली को फिर से विकास की बात याद आ गई कि बूढ़े का लौड़ा खड़ा नहीं होता है और हो भी जाए तो कुछ कर नहीं सकता।बस दीपाली में थोड़ा हौसला आ गया।दीपाली- मैं डर नहीं रही हूँ और आपसे किस बात का डर.

वो मुझे मारते हुए छूटने की नाकाम कोशिश करने लगी और कहने लगी- तुम बहुत झूठे हो, अब मैं कभी भी नहीं आऊँगी.

कपड़े पहनो नहीं तो आज खैर नहीं हमारी…!सब भाग कर अन्दर चली जाती हैं। अन्ना को दूर से सब दिख जाती हैं।अन्ना- अईयो नीलेश… ये क्या जी ये सब छोकरी पागल होना जी. !”इस पर चमेली उसके पास आ गई और अपनी चूची को उसके मुँह में लगा दिया। कुछ देर बुर चूसने के बाद जीजाजी उठे और कामिनी के बुर में अपना लौड़ा घुसा दिया और दनादन धक्के मारने लगे।कामिनी नीचे से सहयोग करने के साथ गंदे-गंदे शब्दों को बोल कर जीजाजी को उत्साहित कर रही थी, जीजाजी आप पक्के चुदक्कड़ हैं. मेरा मन बल्लियों उछल रहा था, जिसको याद कर के हस्त-मैथुन करता था वो आज मेरी बाँहों में थी और मुझसे बच्चा मांग रही है। मुझे और मेरे लौड़े को बस एक ही ठुमरी का वो अंश याद या रहा था-आजा गिलौरी, खिलाय दूँ किमामी,लाली पे लाली तनिक हुई जाए.

मैंने सोच लिया कि इस कमीनी के साथ पूरा मजा लेना है पर अब मेरा दिमाग केवल यह सोच रहा था कि मैं ऋज़ू को भी चोद लूँ और सलोनी को भी देखता रहूँ !अब ये दोनों काम एक साथ कैसे होंगे… !?!कहानी जारी रहेगी।. आज रात को खूब मस्ती करेंगे…!जूही- पर दीदी एक बात समझ नहीं आ रही भाई के होते ये सब कैसे होगा…!आरोही- भाई का टेन्शन तू मत ले यार… तू जानती नहीं हमारा भाई एक नंबर का हरामी है…!जूही- वो कैसे…!आरोही ने उसको पूरी बात बतादी, चुदाई की भी…!जूही- ओह वाउ. ऐसा लग रहा था जैसे चुदाई का बैकग्राउंड म्यूजिक चल रहा है…और मुझे अचानक होश आया…नीलू पर जैसे कोई फर्क नहीं पड़ा.

बाथरूम का दरवाज़ा खुला ही था। मैं नंगी ही नहाने लगी।मुझे शैतानी सूझी, मैंने कहा- देवर जी आओ आप भी नहा लो ना. ऐसा अक्सर हो जाता है।मैं अपने मज़े को खराब नहीं करना चाहता था, मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरा लण्ड सीधा नम्रता की बच्चेदानी से जा टकराया।इस जोरदार हमले की वजह से नम्रता की चीख निकल गई- मार डालोगे क्या.

!रेनू ने नाइटी की नीचे काली ब्रा-पैन्टी पहनी थी। उसने उतार दी, अब रेनू हल्की पारदर्शी नाइटी में थी। उसके बोबे मध्यम साइज़ के थे और भूरे निप्पल देख कर मुझे कण्ट्रोल करना मुश्किल हो रहा था।रेनू ने लंड चूसना चालू कर दिया।रेखा की आवाज़ आई, रेनू जब तक वीर्य न निकले जब तक लंड चूस. !और मैं चल दिया, मुझे यह नहीं मालूम था कि दवा किस बात की चल रही है। मैं बाइक पर मोना को ले जा रहा था कि मोना ने मुझ से बात करना चालू कर दी।मैं भी बात करने लगा।उसने पूछा- तुम्हारी कोई सेटिंग नहीं है क्या?मैंने शर्माते हुए कहा- नहीं है भाभी. हर बटन के साथ वो मेरे शरीर के हर उस हिस्से को भी चूमती जा रही थी।मेरे हाथों ने उसके अमृत कलशों को अपनी पकड़ में ले लिया.

?उसने कुछ नहीं कहा और मैं दो धक्कों बाद ही उसके अन्दर झड़ने लगा और सपनों की मीठी दुनिया में खो गया।हम दोनों निढाल होकर बिस्तर पर गिर पड़े और जोर-जोर से साँसें लेने लगे.

! थोड़े देर और बात हुई, फिर भाभी चली गईं।सच बताऊँ दोस्तो, तो मैं तो बाथरूम के उस नज़ारे को देखकर कल्पना कर रहा था और खुश हो रहा था।थोड़ी देर ऐसे ही बैठे रहने के बाद मुझे पता नहीं ऐसा क्यूँ लगा कि शायद अगर मैं भाभी को यह खुश होने वाली बात बता दूँ, तो मुझे भाभी के साथ शायद ‘मौका’ मिल जाए।मेरे दिमाग में भाभी के बारे में पहले ऐसा कुछ भी नहीं था, पर अचानक. फिर कुछ देर बाद मैंने उसको धक्के लगाने को कहा तो उसने धक्के मारना शुरू कर दिए और मेरे मुँह से आह… आह… की आवाजें आने लगीं. एक दिन वो मेरे पास आई और उसने कहा- मेरे कंप्यूटर में कुछ खराबी आ गई है और मैंने एक जरूरी इमेल करनी है.

वो नीचे जाकर सीधा रसोई में घुस गया और मैं चुपचाप नीचे उतर कर आया और अंदर की बातें सुनने की कोशिश करने लगा।‘इशह ! क्या करते हो? ऊई माँ ! अह्ह्ह ! आहह… ओइंआ ! मान भी जाओ ना. तेरी मक्खन जैसी गाण्ड मुझे पागल बना रही है।अनुजा वापस टेक लगा कर बैठ गई और दीपाली घोड़ी बन कर उसकी चूत चाटने लगी।विकास- हाँ बस ऐसे ही रहना जानेमन.

!” नीति ने आग्रह किया।मैंने उसको और कसके भींच लिया। अब नीति बड़े प्यार से मेरे बालों से खेलने लगी।साहब ये क्या. ! ऐसे तो वो सबके मम्मे दबा कर मज़ा ले सकता है।जूही- हाँ रेहान जी वो ही तो आप आगे तो सुनिए, उस कुत्ते की करतूत…!रेहान- अच्छा बता, मेरा तो दिमाग़ घूम रहा है तू बच कैसे गई उनसे क्योंकि ये तो 100% मैं जानता हूँ तेरी चूत की सील मैंने तोड़ी है, अब बता उस दिन क्या हुआ? कैसे बची?जूही- आप सुनो तो सही. दर्द होगा, मगर उतना नहीं।दीपाली ने विकास के लौड़े को हाथ से पकड़ कर देखा।दीपाली- देखो दीदी शाम को ये इतना फूला हुआ नहीं था अभी तो बहुत मोटा लग रहा है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अनुजा- अरे ऐसा कुछ नहीं है.

कॉलेज गर्ल ट्रिपल एक्स व्हिडीओ

साजन की गोद में सिर मेरा, आवारा साजन के हाथ सखीऊँगली के कोरों से उसने, स्तन को तोड़ मरोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!ज़ोर से दबाने की वजह से शायद उसे दर्द हुआ और वो सीईईई सीईईई… करने लगी।मैंने छोड़ दिया, तो उसने खुद मेरे हाथ अपनी कमर पर रख दिए और मेरे हाथों को दबाते हुए मुझे घूरने लगी। मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ जड़ दिए, तो उसने मुझे धक्का दे दिया।मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो उसने कहा- ये सब शादी से पहले ग़लत है. साली का तिल खा जाऊँ। आज शादी के पाँच साल बाद भी वो चूत की रानी और बुर की शहजादी है।हम रोज घंटों बात करते और रोज रात को मैं उसकी पेलाई करता और वो बहुत चिल्लाती और जब उसके बुर से पानी निकलता… तब कहीं जाकर शांत होती. ! मैं सोच भी नहीं सकता।रेहान- चुप बहनचोद मैं अपनी जान का बदला लेने के लिए तुम लोगों के साथ खेल रहा हूँ.

इस बात पर मैंने हंसते हुए बारिश का कुछ पानी उनके मुँह पर फैंका तो उन्होंने भी बदला लेने के लिए ऐसा ही किया. !उसका शरीर अकड़ने लगा और वो मेरे मुँह पर झड़ गई। मैंने उसकी चूत चाट-चाट कर साफ कर दी, जिससे वो बहुत खुश हुई। अब बारी थी चूत चुदाई की।दीप- कविता, कैसा रहा?कविता- बहुत अच्छा, मैं तो तुम्हारी दीवानी हो गई हूँ। बहुत समय से चूत चटवाने को तरस रही थी, पर तुमने आज मेरी इच्छा पूरी कर दी। अब मेरी काई शर्त नहीं. काजल की नंगी फोटोवो तेरा इंटरव्यू लेंगा। पहले तो उसने मना कर दिया था, पर मैंने दोस्ती का वास्ता दिया, तब यहाँ आया है। अब बाकी तुम संभाल लेना.

अब यह सेक्स का नशा मुझ इतना हावी हो गया है कि मुझे हर आती जाती लड़की सिर्फ एक चुदाई का माल दिखाई देती है।क्या आप लोग मेरी इस समस्या का कोई हल दे सकते हैं मुझे?मैं अपने दिमाग में से ये सब आदतें निकाल कर एक साधारण इंसान की जिंदगी बिताना चाहता हूँ।एक ऐसे इंसान की लाइफ जिसमें कोई गिल्ट न हो। आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा।. इसी उलझन में वो घर चला गया।दीपक की माँ ने बताया कि प्रिया आज यही रहेगी तो दोनों एक ही कमरे में सो जाओ.

नलिनी भाभी- अर…रे… क्या कर रहा है… वो ऋतु की वैक्सिंग हो रही है अन्दर! वो पूरी नंगी थी जब मैं गई थी।मैं- अरे तो क्या हो गया… बस एक नज़र देखने दो न. कहो क्या है…!रेहान- जब राहुल को पता चलेगा कि तुम ऐसी फिल्म कर रही हो तो वो मेरे बारे में क्या सोचेगा…!आरोही- अरे नहीं रेहान जी. मैंने उसके सर पर हाथ फेरा, मेरा मन तो हो रहा था कि उसको उठा कर सीने से लगा लूँ, पर अभी कुछ जल्दबाजी लगी सो फिर उससे पूछा- बताओ मुझे बताओ क्या बात है? कोई दिक्कत है क्या? क्या जुगल दारु पीता है? या तुमको परेशान करता है? मैं उसको ठीक कर दूंगा, तुम मुझसे खुल कर कहो.

तो देखा अंकिता अपनी बेल्ट पकड़े मेरी गाण्ड पर दुबारा वार करने को तैयार थी।‘चटाआआआक…’ की एक और जोर की आवाज़ हुई और मेरी चीख निकल गई।मेरे हाथ तो बंधे थे. और निढाल होकर में पड़ा रहा… इसी दौरान वो एक बार झड़ गई थी और थक़ कर मेरे बगल में लेट गई, दोनों की साँसें फूल रही थी. मैं बाजार से चिकिन लाया और हम दोनों ने मिल कर बनाया और खाना खाकर मैं लेटने के लिए भाभी के बेडरूम में आ गया.

अपना काम कर… वो बाथरूम में है…मदन लाल- व्व… व…व…वो साब यहाँ उनके कपड़े…??कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail.

!उसकी बात को अनसुना करके मैंने एक और झटका दिया और उसे चूमने लगा। थोड़ी देर में तगड़े शॉट लगाने लगा।करीब दस मिनट बाद जबरदस्त ठुकाई के बाद मैंने कहा- मैं जाने वाला हूँ. !और मैं फिर से पागलों की तरह चूमने लगा और मैं इतनी तेज़ उसे पकड़े हुए था कि उसके पूरे खरबूजों का मज़ा आ रहा था।वो बोली- ठीक है रात को आऊँगी लेकिन अभी जाने दो.

!मैंने कहा- जान एक बार फिर से मेरे लंड को चूसो और गीला करो।उसने पाँच मिनट तक फिर लंड चूसा। मैंने उसकी चूत को चूसते हुए उसकी चूत में फिर से चिंगारी भड़काई। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब फिर से दुबारा कोशिश की लौड़े से मेहनत और निशाना लगाया और दोनों सफल. !इसी तरह से बातों की शुरुआत करती। एक दिन हम दोनों ब्लू फिल्म देख रहे थी, उसी बीच हीरो हीरोइन की गाण्ड मारने लगता है।मैंने कहा- उसे लगता होगा न, जब कोई मर्द ऐसी जगह पर लंड डालता है और बेचारी लड़की को कितना दर्द हो रहा होगा… पीछे तो कितना छोटा सा छेद होता है. कहानी का पिछला भाग:फुफेरी बहन की सील तोड़ी-2अंजलि की चूत पर एक भी बाल नहीं था, बहुत ही हल्के-हल्के रोयें थे, ऐसा मुझे अपने हाथ से अहसास हुआ।खैर.

मैं डाल रहा हूँ तुम प्लीज़ एक बार बर्दाश्त कर लो बस…!जूही- अई आ इतना दर्द आ क्या कम है जो अब और सहूँ आ डाल दो रोनू आ. नीलू भी यही चाह रही थी और वो मेरे लिंग को मुँह में लेकर चूसने लगी और मैंने उसके मुँह में ही अपना वीर्य गिरा दिया और मुझे अचरज हुआ देख कर कि उसने वीर्य को इतने कायदे से पिया कि एक बूँद बाहर नहीं आई और मेरे लिंग को निचोड़ कर सारा वीर्य पी गई और फिर मुझे छोड़ दिया, बोली- जाओ, आराम कर लो. प्रीति वही बेसुध सी हो कर लेट गई।तभी बाहर कुछ खटपट की आवाज़ हुई।मेरा ध्यान उस तरफ गया… सोनम की सिसकारियाँ भी रुक गई थीं।मैंने चुपके से उसकी तरफ देखा तो दोनों ही डर गए थे और लगता था अभी-अभी सुनील के लण्ड ने सोनम की चूत भरी थी, उसकी चूत और जाँघों का गीलापन जबरदस्त चुदाई का गवाह था।उस खटपट की वजह से दोनों ही जाने को हो रहे थे.

बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा तो उसने फिर पूछा- नहीं…कुछ तो बात है?मैंने कहा- कुछ नहीं बस ऐसे ही।शालू हँसते हुए- कहीं गर्ल-फ्रैंड की याद तो नहीं आ रही है।मैं- नहीं… मेरी कोई गर्ल-फ्रैंड नहीं है।शालू- या आप हमें बताना नहीं चाहते? प्लीज बताइए ना. उन्होने मेरे पेट को चूमा। पहले तो लहंगे में हाथ घुसा दिया, फिर लहंगे को खोल दिया।मैं बड़ी खुश थी कि शायद जो मर्द मुझे चाहिए था, मिल गया। मैंने शर्म का खूब नाटक किया।इन्होंने मुझे पलटा और मेरे चूतड़ों पर हाथ फेरा, मेरे ऊपर लेट गए।मुझे कुछ हार्ड-हार्ड चीज़ फील हुई, मैं खुश थी कि लंड खड़ा था, हाय घुस जाए.

कोलकाता सोनागाछी के बीएफ

मेरी सिसकारियों की आवाज सुनकर मेरा दोस्त बाथरूम के दरवाजे के पास आ गया उसने बाथरूम का दरवाजा खुला हुआ देखा तो वो सीधा अन्दर ही आ गया. मुझे अचानक से वो सब बातें याद आ गई जो दीदी ने चाची को बोली थी-ज़्यादा बकवास मत करो चाची, वरना अगर तुम्हारे बारे में घर में बता दिया तो तुम घर से निकाल दी जाओगी. जय- एक बार मिलोगी नहीं?मैं- क्या करोगे मिल कर?जय- सेक्स! तुमसे सेक्स करना चाहता हूँ एक बार बस!मैं- मैं भी तुमसे पहली बार सेक्स करना चाहती हूँ पर मज़बूर हूँ.

! तेरी तरह नहीं कि पूरे दिन टॉयलेट में मुठ मारती हूँ…!लेकिन मैं अभी भी प्यासा था। मेरा उससे मन नहीं भर रहा था. !इस तरह मैंने उसे दस दिन तक चोदा, उसके बाद मेरा दोस्त आ गया था।उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता, हम दोनों नहीं चूकते थे।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]gmail. हाय मैं मर जावाआरोही बेबी को शर्म आ रही है चिकनी, मेरे सामने नंगी बैठी हो, मेरा लौड़ा सहला रही हो, अब इससे ज़्यादा क्या कह दिया मैंने जो शर्म आ गई?आरोही- आप पागल हो एकदम… आज मेरा पहली बार है और ये आपको भी पता है, फिर भी पूछ रहे हो कि मैंने पहले सेक्स किया या नहीं.

मुझे छोटी चड्डी में डाल कर नीलू मजा ले रही थी, क्योंकि मेरा लिंग फूल कर बाहर झाँकने की कोशिश कर रहा था.

यह जरूरी है ताकि तुम्हें पता लग जाए कि आगे क्या करना है और अबकी बार हमारा यह सीन रिकॉर्ड होगा, वो देखो वीडियो कैमरा, मैंने सैट किया हुआ है ताकि डायरेक्टर को सीधा ये टेप ही दे देंगे।आरोही ‘हाँ’ में गर्दन हिलाई और रेहान ने वीडियो ऑन करके उसके पास आकर उसे बांहों में भर लिया।रेहान- आओ जान. उसने मुझे आते ही अपनी बाँहों में ले लिया और चूमने लगी।उसकी उम्र कोई पैंतीस साल की थी और मैं बीस साल का, इसलिए वो एक्सपर्ट थी और मैं नया खिलाड़ी।अब हम दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे। उसने अपने गरम होंठ मेरे होंठों पर लगा दिए।दोस्तो, पहली बार मैंने किसी को चुम्बन किया था.

उसकी चूत और मेरे गोलियों के टकराव से थप ठप थप ठप की आवाज़ हो रही थी।क्या सुरमयी वातावरण हो गया था… रोमांचित वातावरण में चुदाई का कार्यक्रम जोरों शोरों से चल रहा था… हर धक्के में वो ‘आआअहह. उसने आँखें खोल ली थीं और प्रिया को दीपाली समझ कर उसकी गाण्ड दबा रहा था।दरअसल प्रिया की पीठ उसकी तरफ थी और वो लौड़ा चूस रही थी। उसका जिस्म भी दीपाली जैसा ही था. सबने आरोही को ‘विश’ किया और पीने का दौर शुरू हो गया।उसके बाद बीयर की बोतलें खोली गई।जूही- न बाबा मैं नहीं पीऊँगी.

हे भगवान… मेरी बेटी सिगरेट पीती है!”दरवाज़ा थोड़ा सा और खोला तो सामने टेबल पर व्हिस्की से भरा हुआ गिलास दिखाई दिया….

बड़ी बेसब्री से अंग मेरा, स्तम्भ पे चढ़ता उतरता थाजितनी तेजी से चढ़ता था, उतना ही तीव्र उतरता थामेरे अंग ने उसके अंग की, लम्बाई-चौड़ाई नाप लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. अब वो चुदने को तैयार थी, मैंने उसकी टांगों को फ़ैला कर उसकी चूत में धीरे धीरे लंड को घुसाना शुरू किया, उसे काफ़ी तकलीफ़ महसूस हो रही थी. सोनू जल्दी से बिस्तर के नीचे आ गया और लौड़ा दीपाली के होंठों के पास ले आया।मगर दीपाली ने होंठ सख्ती से भींच लिए।सोनू- अरे क्या हुआ.

लड़कियों को कैसे पटाया जाता हैतुम्हारी बुर फट जाएगी और तुम्हें बहुत दर्द होगा।वो बोली- भैया आपको मैं एक बात बता दूँ कि लण्ड कैसा भी हो. कुछ बाद वो खड़ी हुई और तेल की कटोरी नीचे रखने गई।इतनी अच्छी मालिश के बाद मुझे बहुत नींद आ रही थी मगर चाची के साथ ऐसा मौका बार बार नहीं मिलता इसीलिए मैं जागने की कोशिश कर रहा था।तभी चाची वापिस आ गई और अपनी साड़ी खोलने लगी और फिर बस पेटीकोट और ब्लाउज़ में आकर मेरी बाजू वाले बिस्तर पर लेट गई।फिर हम बातें करने लगे.

बीएफ सेक्स मूवी इंडियन

ज़ीनत ने खुशी खुशी कहा- जीजू, आप अपने हाथों से ही पहना दीजिए ना!इरफ़ान अफ़सोस करते हुए बोला- मुझे पता होता कि तू मेरे हाथों से पहनेगी तो मैं तेरे लिए चड्डी लेकर आता!***. मेरे पति ने अपने लिए एक ख़टिया जैसा पलंग लिया था… उसने मच्छरदानी बान्धने के लिये चारों तरफ़ जगह थी।एक दिया जला कर पास रख दिया उसमें ढेर सारा तेल डाल दिया मोमबत्ती के लिए काम आएगा. !मैंने जीजाजी की दुविधा को समाप्त करते हुए कहा- पहले तो होस्ट का ही नंबर होता है, वैसे हम लोग तुझे हारने नहीं देंगे।चमेली फिर बोली- हाँ.

! कैसे दो बुर मुँह बांए इस घोड़े जैसे लण्ड को गपकने के लिए आगे-पीछे हो रही हैं… जीजाजी आज इनकी मुतनियों को भोसड़ा ज़रूर बना देना. हूँन्न्न न्नन्न्न्न !” मेरा शरारती लंड फिर से उस हसीन चुदक्कड़ औरत की गाण्ड की बगिया में घुस गया था। मस्त पकी हुई गाण्ड थी साली की, जैसे कोई पका हुआ पपीता हो. कण्डोम नाल लै के जा रई ऐ!***बन्ता अपनी पत्नी जीतो को- आज फ़ैसला हो के रये गा! बता मैंनू के तूँ किहदे किहदे नाल सोन्नी ऐ!जीतो- कसम लै लओ जी मैं सिर्फ़ तुहाडे नाल ई सोन्नी आँ!.

फ़च फ़च की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था।सच बताऊँ तो यह नज़ारा देख और इशरत की कामुक चीखें सुन मेरा लंड तुरंत खड़ा हो गया लेकिन फिर जब महसूस हुआ कि यह मेरी बीवी है. इस…म्‍मम…साँसें बहुत ज़ोर से चल रही थी दीदी की !इधर उनकी गाण्ड और जोर से मचल मचल कर लंड को अंदर लेने की कोशिश कर रही थी… और तभी उसने लंड को चूत पर टिका कर एक ज़ोरदार झटका दिया. की आवाज़ें निकालती थी।फ़रहान कहता भी था- प्लीज रुखसाना, धीरे आवाज़ करो, बगल में अब्बू जी सुनेंगे तो क्या सोचेंगे !पर रुखसाना तो यही चाहती थी !एक बार फरहान को 15 दिन के लिए बाहर जाना पड़ गया तो अगले दिन रुखसाना ने मन में ठान ही लिया कि अब चाहे कुछ भी हो, मैं अब्बू से चुदवा कर ही दम लूँगी.

!”और वो मुझे खाना परोसने लगीं और सामान्य तरीके से बात करने लगीं, जैसे उन्हें कुछ पता ही नहीं कि उनके साथ क्या हुआ है. !मैंने वैसा ही किया, अपना सारा माल उसकी चूत में डाल दिया और वहीं उस पर ढेर हो गया। थोड़ी देर हम ऐसे ही एक-दूसरे की बाँहों में पड़े रहे।कुछ देर सोने के बाद वो उठी, अपनी पैन्टी पहनी और जैसे ही वो नाईटी पहनने लगी, मैं उठा और उसको पकड़ लिया और कहा- आज तुम सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी ही पहनोगी मेरे लिए.

वक्ष का नाप (V) – इंचीटेप से स्तन के अधिकतम उभार के ऊपर से नाप इंच में लें। यहाँ भी ध्यान रहे टेप समतल रहे और ना ढीला और ना ही तंग।3.

अब मेरा काम हो गया था, वो खुल गई मुझ से! अब मैंने कहा- आज मुझ पूरी खोल देनी है तेरी! देख कैसे तेरे नीचे वाले हिस्से का भुरता बनाता हूँ. अश्लील फिल्म!अब आपको पता चल जाएगा कि पिंकी किसी की कहानी की नकल नहीं करती। कुछ दोस्तों ने कहा कि ऐसी बहुत कहानियाँ पढ़ चुके हैं, जिनमें बहन को मॉडल बनाने के बहाने चोदना आदि हो, लेकिन दोस्तो, मैंने शुरूआत वैसे की जरूर है, पर आगे कहानी में कई मोड़ आएँगे, आप बस पढ़ते जाइए और अंत में बताना कि ऐसी कोई कहानी पहले कहीं पढ़ी है क्या. वॉलपेपर एक्स वीडियो!!”दोस्तों एक भूल कर के मेरी जिंदगी बर्बाद हो गई थी, तुम लोग ये भूल मत करना! किसी को मुझसे हमदर्दी है तो मुझे मेल करें।[emailprotected]. मैं सब समझ गई, पर अब मुझे डर सा लगने लगा कि सुमित मेरे बारे में क्या सोचेगा? तभी घंटी बजी, मैंने दरवाजा खोला, सुमित ही था.

मैडी तो बस बोल रहा था उसने तो एक निप्पल मुँह में लेकर चूसना भी शुरू कर दिया था।दीपक- अबे सालों आराम से मज़ा लो.

सुबह से न जाने कितनों के सामने मुझे नंगी दिखा दिया… और तीन अनजाने मर्दों ने मेरे अंगों को भी छू लिया…पारस- क्या… किस किस ने क्या क्या छुआ…झूठ मत बोलो भाभी…सलोनी- अच्छा बच्चू… मैं कभी झूठ नहीं बोलती…सुबह उस कूरियर वाले ने मेरी चूची को नहीं सहलाया. लगता है इसकी चुदाई की चाहत अभी खत्म नहीं हुई।उसने मुझे लगभग घसीटते हुए आशीष के लण्ड के पास ले जाकर बिठा दिया और जोर से गरजी- चूस मादरचोदी…मैं डर गई और मैं बिना कुछ कहे आशीष का लण्ड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।वो दोनों खिलखिला कर हँसने लगे. अंकल आंटी और हैप्पी शादी में चले गए।मैं शाम को स्कूल से आते ही सोचने लगा कि गुरविन्दर की जवानी के मजे कैसे लूँ…मैंने अपने एक दोस्त से ब्लू-फिल्म की सीडी मँगवाई।उसके घर जाते ही मैंने वो सीडी उनकी बाकी सीडी के बीच में रख दी।घर पहुँचते ही हम दोनों बातें करने लगे.

मैं चूसती रही कुछ ही देर में उसका लण्ड दुबारा खड़ा हो गया था।पिछले तीन घंटों की लगातार चुदाई की वजह से मेरा पूरा बदन टूट रहा था। मैं कुछ करने की हालात में नहीं थी। तभी आशीष ने मुझे उठाया और मेरे नीचे लेट कर मेरी गाण्ड में अपना लण्ड डाल दिया और अपनी गाण्ड उठा-उठा कर धक्के मारने लगा।मैं अन्तर्वासना से भर गई. मैं किसी अच्छे डायरेक्टर से बात करूँगा। रही बात फाइनेंस की, वो मैं कर दूँगा, पर स्क्रीन टेस्ट के बाद ही मैं कुछ बता पाऊँगा. बहुत खुजली हो रही है आ उफ़फ्फ़…!राहुल ने 69 का पोज़ बनाया और अपना मुँह चूत पर टिका दिया। आरोही ने जल्दी से लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी।पाँच मिनट भी नहीं हुए थे कि राहुल ने अपना कंट्रोल खो दिया।राहुल- आ.

बीएफ फिल्म दिखाइए ना

क्या रस निकल रहा था उनसे !मैं एक को चूसता और दूसरे को दबाता, फिर दूसरा चूसता और पहले को दबाता और भाभी मदहोश होती जा रही थी. मैं बुलाऊँगी, चलो फिर मिलते हैं।मैं वापस आ गया।आपको मेरी कहानी कैसी लगी, बताइएगा जरूर।callboyescort @gmail. लगता है इसकी चुदाई की चाहत अभी खत्म नहीं हुई।उसने मुझे लगभग घसीटते हुए आशीष के लण्ड के पास ले जाकर बिठा दिया और जोर से गरजी- चूस मादरचोदी…मैं डर गई और मैं बिना कुछ कहे आशीष का लण्ड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।वो दोनों खिलखिला कर हँसने लगे.

फ़िर दो घंटे के बाद मेरी नींद खुली तो मैं चाची की बगल में था, चाची और मैं एक ही रजाई में लिपट क़र सो रहे थे.

आज जल्दी जाना है, कल तू जल्दी आ जाना। मैं घर पर कह कर आऊँगी कि मुझे एक सहेली के घर नोट्स लेने जाना है।ठीक है हनी.

मैंने आगे बाद कर चाची के काम्पते हुए होंठों पर अपने होंठ रख दिए। और फिर हम दोनों एक दूसरे को जन्म-जन्म के प्यासे की तरह चूमने लगे. इसलिए कुछ अच्छी सी डिजायन का ब्लाउज सिलवाना चाहती हूँ।तो उसने कहा- मैं आपका ब्लाउज बिना नाप के कैसे सिलूँगा. संध्या भाभीचल उतार कपड़े और आ जा!***सलमा– सुन, मेरी फेसबुक आईडी बना दे…इरफ़ान– बना तो दूंगा, मगर तुझे चलानी आती है?… हुँह?.

?मैं- और नहीं तो क्या… ऐसे घुसाते हैं क्या !ननदोई जी- वो गीली नहीं थी, शायद इसलिए हुआ होगा !और चालू हो गए. !आरोही खड़ी हो गई और अन्ना ने मोबाइल में गाना लगा दिया। आरोही मटक-मटक कर नाचने लगी।उसकी हिलती गाण्ड देख कर अन्ना अपने लौड़े पर हाथ ले गया। करीब 5 मिनट के बाद अन्ना ने ताली बजाई और खड़ा होकर आरोही के पास आ गया।अन्ना- वेरी गुड डांस जी… हमको अच्छा लगा. हा हा हा हा …आँखें खुल चुकी थीं और सीधे दीवार पे लटकी घड़ी पे गई, देखा तो सुबह के 5 बज रहे थे…मैं थोड़ा अचंभित सा हो गया, ‘इतनी जल्दी…कौन हो सकता है??’ मैंने खुद से फुसफुसाकर पूछा और धीरे से आवाज लगाई…कौन…?? कौन है ?”मैं हूँ बुद्धू….

सुमित बोला- ‘अलीशा, देखो आखरी बार कह रहा हूँ, निधि की दिलवा दो पहले, वरना मैं तुम्हे छोड़ के कहीं दूर चला जाऊँगा, फिर बैठी रहना उंगली डाल कर!यह सब सुन कर मुझे हैरानी भी हो रही थी, डर भी लग रहा था और अच्छा भी लग रहा था. और मैं आते चाची को अपने बाहों में भर लिया और फिर चाची इठलाती हुई अपनी बातें करनी लगी।अब हालात ऐसे थे कि मैं एक मर्द की तरह अपनी औरत के साथ चिपक लेटा हुआ था.

आगरा पहुँचकर मैंने उन 6 लोगों को बढ़िया से सबको दिन भर आगरे का क़िला, सिकंदराबाद का मक़बरा और ताजमहल की सैर कराई, जो अगले दिन तक ख़त्म हुई.

!! बहुत मज़ा आ रहा है!!‘जान मैं तो कब से इस पल का इंतज़ार कर रहा था, आज मैंने तुम्हें अपना बना लिया है और आज के बाद मैं तुम्हें रोज़ इसी तरह प्यार करना चाहता हूँ।’मेरे लंड और उसके चूत की अनगिनत बार टकराने की ठप ठप. मैंने भाभी को लिटाया और उनकी टाँगें फैला कर उनकी टांगों के बीच में बैठ गया और अपना लण्ड भाभी की चूत पर रगड़ने लगा. सब मुझे नोचना चाहते हैं, पर सहारा देना कोई नहीं चाहता। मुझे तो इस सब से नफरत सी हो गई है, परन्तु मैंने देखा कि आपका स्वाभाव ही गिरे हुए को हाथ पकड़कर उठाना है। साहब.

सोनाक्षी सिन्हा क्सनक्सक्स !मैं खड़ा हुआ जो थोड़ा बहुत अनुभव था, वो सब अन्तर्वासना से ही मिला था। मैं नीचे घुटने टेक कर बैठ गया।उसकी दोनों टाँगें अपने कंधे पर रखी, लंड को उसकी चूत के मुँह पर रखा और एक ज़ोर का झटका मारा।उसकी चीख निकल गई, कहने लगी, भोसड़ी के. मैं आता और देखना मैं कैसे करता तुम डायलोग बोला अच्छा था, पर इस सीन में ज़ुबान नहीं हाथ का इस्तेमाल करो.

!रेहान के लौड़े ने पानी की पिचकारी चूत में मारी जिसकी गर्माहट से जूही का भी पानी निकल गया।यह उसका तीसरी बार था, पर अबकी बार उसको चूत में गुदगुदी हुई और झड़ने का मज़ा आया।जूही- आ. अब गड़बड़ हो गई तो?मैंने कहा- तो फिर यह डॉक्टर किस लिए है…अब जब भी मौका मिलता है, हम हरीश के क्लिनिक में सेक्स का मजा लूटते हैं…आपके मेल के इंतजार में…[emailprotected]प्रकाशित : 03 नवम्बर 2013. स्तन मुट्ठी में जकड़ सखी, उसने उनको था उभार लियाउभरे स्तन को साजन ने, अपने मुंह माहि उतार लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाएं

फिर जो होगा, आप देख लेना…मैं अपने होंठों से उसके निप्पल पकड़ चूसने लगा।एक बार फिर वो सेक्सी सिसकारियाँ भरने लगी- …आःह्हाआआ… बस अब छोड़ भी दो ना सर. तभी मुझे सलोनी के कमरे में आने की आवाज आई…उसके पैरों की आवाज आ रही थी…मैंने जल्दी से मधु को चादर से ढका और बाथरूम में घुस गया…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail. आह, ओह, सीत्कार सिवा, हमरे मुख में कोई शब्द न थेमैं जितनी थी बेसब्र सखी, साजन भी कम बेसब्र न थेसाजन के अंग ने मेरे अंग में, कई शब्दों का स्वर खोल दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

सखी साजन ने भर बाँहों में, मेरे होंठों को अतिशय चूमा,जल में जलमग्न स्तनों को, हाथों से उभार-उभार चूमा,स्तनों के मध्य रख कर अंग को, उन्हें कई-कई बार हिलोर दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. अब अगर किसी ने मुझे हाथ भी लगाया तो अच्छा नहीं होगा, मैं तुम सब को जेल की हवा खिला दूँगी और जूही तेरा तो वो हाल करूँगी कि तू याद रखेगी….

मैंने उसके आते ही उसको पकड़ कर एक चुम्मा उसके होंठों पर कर दिया तो वो शरमा कर बोली- बैठो, जल्दी जाना है.

मेरे मन में मोना के लिए असीमित प्यार उमड़ रहा था, मन कर रहा था आज यह जो मांगेगी इसे दे दूंगा !!और उसी दिन विश्वास हुआ कि सेक्स और प्यार एक दूसरे से कभी अलग नहीं किये जा सकते !!उस दिन के बाद पूरी ट्रिप में हमने खूब सेक्स किया, जहाँ अकेले मौका मिला वहीं शुरू हो गए. मादरचोद खड़ा हुआ या चूस कर खड़ा करूँ?मैं- रुक जा लंड की मालिश तो कर लूँअनु खुद ही मालिश करने लगी और मेरे ऊपर बैठ कर लंड अंदर लेकर उछलने लगी।अनु- कम ऑन माय मैन. !वो कुछ ना बोलते हुए चादर ओढ़ कर वैसे ही पड़ी रही। इतने में थोड़ी ही मेरा समाधान होने वाला था सो मैंने उसके ऊपर हाथ रखते हुए बोला- कैसा लग रहा है.

इरफ़ान की बीवी सलमा ने फोन देखा तोमालूम है कि क्या हुआ?अरे कुछ नहीं हुआबस सलमा ने ‘LOW BATTERY’ पढ़ कर उसे चार्जिंग पे लगा दिया. कहानी का पिछला भाग:फुफेरी बहन की सील तोड़ी-2अंजलि की चूत पर एक भी बाल नहीं था, बहुत ही हल्के-हल्के रोयें थे, ऐसा मुझे अपने हाथ से अहसास हुआ।खैर. एक दिन सुनीता की बचपन की सहेली ने उसको पूरे दिन के लिए अपने घर पर बुलाया तो में उसको छोड़कर ऑफिस चला गया.

जी माँ, अभी लाया!” और मैं रसोई से बिस्कुट ले आया और उसके बेटे को अपनी गोद में ले लिया और उसके साथ खेलने लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो कनाडा: मुझे लगा जैसे चाचू जाग गए हों, मैं लण्ड को मुँह से निकालने ही वाली थी कि चाचू ने मेरे सिर को अपने हाथों से दबाया और लण्ड मुँह में घुसा दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे. फिर साजन ने सिर पीछे से, होंठों को मेरे चूम लियाकुछ और आगे बढ़ स्तन पर, चुम्बन की झड़ी लगाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मैंने उनसे पूछा- आपने मुझसे बात की, क्या मैं जान सकता हूँ ऐसा क्यों किया?तब उन्होंने जवाब दिया- मैं आपको पूरा परख लेना चाहतीं थी और इसलिए बात कर रही थी. अपने एक साथ क्यों डाल दिया आ आह…!रेहान अगर आरोही को बोलता कि अभी उसका आधा लौड़ा भी नहीं गया तो वो फिर से चिल्लाने लगती, इसलिए उसने झूट कहा।रेहान- जान, सॉरी लेकिन पूरा नहीं गया है बस थोड़ा सा और है पर तुम फिकर मत करो मैं बस इतने से ही तुमको आराम-आराम से चोदूँगा…!आरोही- आअ. !मैंने कहा- आप मेरी क्या मदद करेंगी?उसने कहा- मैं तुम्हारी इस ‘झिझक’ को दूर कर सकती हूँ।मैंने कहा- कैसे.

मैं उसे नंगा देख कर पागल हो गया, क्योंकि मैंने जिन्दगी में पहली बार किसी लड़की को बिना कपड़ों के देखा था.

घर में वो हमेशा स्कर्ट ही पहनती थीं क्यूंकि वो फर्श पर यूँ ही घुटनों के बल घोड़ी की तरह चलती थीं जिससे सलवार ख़राब होने का डर रहता है. !”इस पर चमेली व्यंग्य करती हुए बोली- जब दूसरे की में गया तो भूस में गया और जब अपनी में गया तो उई दैया. मैं डाल रहा हूँ तुम प्लीज़ एक बार बर्दाश्त कर लो बस…!जूही- अई आ इतना दर्द आ क्या कम है जो अब और सहूँ आ डाल दो रोनू आ.