मुसलमानों बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ फिल्में हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स व्हिडीओ सनी लियोन: मुसलमानों बीएफ, गुलजान ने एक लम्बी बिना आस्तीन वाली ड्रेस पहनी थी, जिसमें उसकी 38 साइज़ की चुचियां छोटी पहाड़ियों जैसी लग रही थीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी फिल्म

अब वो खड़ा हो गया और मुझे घुटने पर बिठा कर मेरे दोनों चुचों के बीच अपने लंड का निशाना बना लिया. बीएफ ब्लू पिक्चर भेजिएउसकी हंसी तो अब गायब सी ही हो गयी थी और चेहरा तो जैसे बुझ ही‌ गया था.

दो मिनट बाद ही संजू की नकली सी रोने की आवाज आई- नहीं विक्रम अब नहीं, नहीं ना बाबा … अब छोड़ो ना. नागी लडकीउसके जाने के बाद मैंने विक्रम से पूछा- कहो यार कैसी रही रात?विक्रम बोला- यार, मैंने एक से एक रंडी को चोदा है … लेकिन जितनी गर्मी तेरी बीवी में है ना … उतनी मैंने जिन्दगी में कभी नहीं देखी.

मैं उनके ऊपर से उठा, तो आंटी ने भी एक कपड़े से अपनी चुत को साफ़ किया.मुसलमानों बीएफ: एकदम से मैं बाथरूम में बाहर आ गया तो पारो चौंक गयी और उसने एकदम से उठकर झाड़ू लगाना शुरू कर दिया.

वह मेरी आंखों में देखती जा रही थी और अठखेलियां करने के लिए पीछे सरकती जा रही थी.मैंने उसकी दोनों टाँगें अपने कंधों पर रख लीं; लण्ड को चूत पर टिकाया और घुसाने का प्रयास किया तो लंड फिसल गया.

बड़े दूध वाली लुगाई - मुसलमानों बीएफ

मैंने कई बार अपनी मॉम को नंगी नहाते हुए देखा है और मैं रोज उनके नाम की मुठ मारता हूँ.अब भाभी मस्ती में चिल्लाने लगी थीं, क्योंकि वो अपने चरम को पाने वाली थीं.

हम दोनों ही एक दूसरे के होंठों व जीभ को जोरों से चूम-चाट रहे थे और पूरा मजा ले रहे थे. मुसलमानों बीएफ ममता जी के बिना मैं भी इस टुअर पर जाना तो नहीं चाहता था मगर एक तो मैंने फीस जमा कर दी थी.

ज़ारा- तो कर लेना!मैं- ज़ारा! आज एक बार सेक्स का तय हुआ था और वो हो चुका.

मुसलमानों बीएफ?

फिर मैंने उसको और ज्यादा तड़पाना ठीक नहीं समझा और मैंने उसकी टांगें फैला लीं. फर्क सिर्फ इतना है कि गुलाब मधुमक्खी को शहद देता है और चूत, लंड से सफेद शहद यानि वीर्य लेती है. हॉट वाइफ पोर्न कहानी के पिछले भागमेरी बीवी बड़े लंड से चुद गयी मेरे सामनेमें अब तक आपने पढ़ लिया था कि विक्रम मेरी बीवी को चोद रहा था.

मैंने केक का टुकड़ा अपने होंठों के बीच फंसा कर आधा बाहर ही निकला रहने दिया और उसे अपनी बांहों में लेकर बाहर निकले केक के टुकड़े को उसके होंठों की तरफ बढ़ा दिया. मैं ललिता भाभी की चूचियों को मसलने लगा और वो आह हहह आहह हह करके लंड पर सवार होकर उछल उछल कर अपनी चूत चुदवा रही थी. इस पोजीशन में उसने अपनी चूत मेरे मुँह की तरफ कर दी और खुद डॉगी सी बन कर अनामिका को अपने चूचे पिलाने लगी.

फिर चाची जी की गांड पर थपकी मारकर मैंने उन्हें लंड पर बैठने का इशारा किया. मैंने देखा कि बगल वाले रूम से कशिश दीदी और रुखसार भाभी मेरे पास आ गईं. अंकल ने सजावट को लेकर खर्चा जानना चाहा, तो मैंने उनसे ही पूछा- आप किसी मैरिज प्लेस के लिए कितना खर्चा मान कर चल रहे थे?अंकल ने कहा- मैंने दस लाख की चैक तो तुम्हें एडवांस के लिए दी ही थी बाकी और जो लगता … वो अलग से.

उसके बाद भी जब मन नहीं भरा तो मैंने उसको एक बार बाथरूम में भी चोदा. कुछ मिनट तक मैं कभी गांड का छेद चाटता, तो कभी उसके कूल्हे जोर जोर से चाटने लगता था.

जब तक वो और गुलजान रसोई का काम पूरा करके आती हैं, तब तक बात करते हैं.

वो अपनी गांड हिला हिला कर चोदने का सिगनल देने लगी।मैंने अब दूसरा झटका मारा और पूरा लन्ड उसकी चूत में पेश कर दिया.

स्नेहा- नाश्ता हो गया या बाकी है?पल्लवी- बस हमने भी अभी अभी शुरू किया है. मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और उसके दोनों निप्पलों को बारी-बारी से चूसने लगा. फिर उसने मेरे बदन को खूब चूमा, चूचियों को खूब मसल मसल कर चूसा, मेरी जबरदस्त तरीके से चूत चाटी और बहुत जल्दी मेरा पानी निकाल दिया.

सोनी इतनी बदहवास हो चुकी थी कि उसे पता ही नहीं था कि वो दोनों क्या कर रहे हैं?जैसे ही सोनी ने अंडरवियर का इलास्टिक लण्ड के ऊपर से उतारा तो सोनी की आंखों की पुतलियां फ़ैल गयीं. उसने फिर कहा- उठिये राज जी … सुबह हो गई है।मैंने कहा- सोने दो न … पारो!वो शरारती अंदाज़ में बोली- आपकी बाकी चीज़ें तो उठी हुई हैं और आप हैं कि सो रहे हैं!ये सुनकर मैं मन ही मन मुस्काराया और मेरे लंड में मैंने एक जोर का झटका दिया. ये सब सोचते सोचते मैं काफी देर तक जागता रहा … और फिर पता नहीं कब मुझे नींद आ गयी.

मगर हमारे इस चुम्बन का बाहर खिड़की पर खड़ी शायरा पर शायद कुछ और ही असर हो रहा था.

तभी उसने मुझसे कहा- तुम बस स्टैंड के आसपास ही कोई होटल ले लो, हम वहां पहुंच कर बाकी का काम कर लेंगे. उसने कहा- कुछ पूछूँ, बुरा तो नहीं मानेंगे?मैं बोला- पूछिए, बुरा क्यों मानना?उसने बोला- कल आप मुझमें क्या देख रहे थे?मैंने बोला कि आप सुंदर हो, बस आपकी सुंदरता को निहार रहा था. दिव्या ने तो जैसे मेरी मुस्कराहट को पढ़ लिया था; तुरंत मुझे चिढ़ाते हुए बोली- लगता है मौसी का मैसेज है.

उनकी चूत काफी महीनों से न चुदी होने के कारण टाइट थी, इसलिए चुदाई का आनन्द ही कुछ और था. इसके बाद मैंने उसे गोद में उठाया और कुर्सी पर बैठ गया, उसको अपनी जांघों पर बिठा कर प्यार करने लगा. ये बात तब की है जब मेरे भाई की शादी होने के बाद भाई भाभी एक रूम में सोते थे और मैं और मम्मी एक रूम में!मैं रात में उठ उठ कर उनकी जांघों को देख कर मुठ मारता था पर कभी हिम्मत नहीं होती थी कि कुछ कर पाऊं.

वो पढ़ाई के बाद यहीं जॉब करना चाहती थी क्योंकि उसके घरवाले उसकी शादी के पीछे पड़े थे.

वो किसी तरह अपनी बातों में मुझे फंसाना चाहती थी और मैं बचने में लगी थी. वैसे तो मेरी बीवी पूरी आश्वस्त थी कि हमारी बेटी की चूत सुरेश के लंड को झेल लेगी मगर फिर भी मुझे अंदर ही अंदर एक डर सता रहा था.

मुसलमानों बीएफ ऑफिस लेडी सेक्स कहानी में मैंने बताया है कि मैं बदली पर कम्पनी के बैंगलोर ऑफिस में गया तो वहां कई लड़कियां थी. दो महीने बाद ही देखना तुम्हारी उस चुत को मैं कैसे किसी और से चुदवा देती हूँ.

मुसलमानों बीएफ मगर हम दोनों अभी भी व्हाट्सएप पर सेक्स चैट करते हैं तथा जब भी समय मिलता है, हम एक दूसरे के फ्लैट पर आकर प्यार और चुदाई कर लेते हैं. छोटे मगर ठोस चूंचे वाली रंजू अपनी उठी हुई गांड में पैंटी के ऊपर नेट की लांग कुर्ती भर पहनी हुई थी, बिना ब्रा के उसकी नंगी नोकदार चूचियां आंखों को चुभ रही थीं.

मैंने मुस्कुराते हुए कहा- तो क्या घर ले कर जाऊं इस प्यार को?उसने बोला- हां, ऐसे ही अन्दर कर लो सारा.

चेन्नई सेक्सी मूवी

फिर थोड़ी देर उसके बड़े बड़े स्तनों को चूसकर, उसकी गर्दन को चूम कर, उसकी क्लाइटोरिस को रगड़ कर उसे गर्म किया. मैं आपको बता दूं कि करिश्मा भाभी ने मुझसे ईमेल के जरिये संपर्क किया था. संजू कुछ मिनट में बाथरूम से फ्रेश होकर आ गई और उसने अपनी नाईटी चेंज कर ली.

उसने कहा कि वो डॉक्टर के यहां नर्स है और ब्यूटी पार्लर का भी काम करती है. मैं- ठीक है, आप यामिना को देकर गेस्ट हाउस के रूम नंबर 1 में भेज दें. आज भी मैं अपनी सास की चुदाई करता हूँ लेकिन मेरी बीवी को इस बारे में नहीं पता है कि उसकी मां की चुदाई उसका पति ही कर रहा है.

मैंने उसकी गांड को पकड़ लिया और तेजी से उसके चूतड़ आगे पीछे करवाने लगा.

इस पर वो बोले- अभी तेरी जैसे दस चूतों का भुरता बना सकता है ये लंड! और फिर भी खड़ा रहेगा. शायद मेरी तरह ही पुराने गांडू थे।मैं लंड डाल कर उन पर चुपचाप लेटा रहा. तुम मुझे बताओ तुम्हें दूध कैसा लगा?मैंने कहा- भैया मुझे पता ही नहीं लगा लॉलीपॉप मेरे गले में थी और सारा दूध भी सीधा वहीं चला गया.

कुछ मिनट तक चाची की मस्त जवानी को याद करके मैंने अपना सारा माल उनकी पैंटी में निकाल कर उसे फिर से खूंटी पर टांग दी और हाथ धोकर नीचे आ गया. तो मैंने और सवाल किया- मेरे सारे कपड़े उतारकर ही करोगे न?कपड़े उतार सकती हो तो उतार देना. शैली खुश थी, उसका दर्द अब खत्म हो चुका था … अब रह गई थी तो बस उसकी सीत्कारें.

दोस्तो, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी ये देसी GF सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी. मगर जिस दिन हमें जाना था, उसी दिन पता चला कि ममता तो इस टुअर के साथ जा ही नहीं रही हैं.

बस तभी लंड ने अपना मुँह खोल दिया और चुत के अन्दर अपना फुआरा छोड़ दिया. आंटी ने कहा- अब सब कैसे होगा, मेरी तो कुछ समझ में ही नहीं आ रहा है. देखते ही देखते हमारे रिश्ते को पांच साल हो गए, पांचवी सालगिरह हमने इमैगिका जाकर मनाई.

ताई ने भी मेरा नाम ले कर कहा- हां मेरे पति अमन … मुझे आज पूरा ठंडा कर दे.

रूबी- मैं किस तरह से करवा दूँ … मुझे खुद ही इन बातों से डर लगता है. मैंने उनकी आंखों में आंखें डालकर कहा- जब तक आप दोनों बात करो, मैं ऊपर टॉयलेट से होकर आता हूँ. डॉक्टर बोला- अरे तुम टेंशन मत लो … तुम्हारी बीवी तो मेरी बीवी जैसी ही है.

मेरी बात बुरी लग गई क्या?मैंने उसे बताया- नहीं यार, मैं और मेरी बीवी शादी के बाद दो साल तक एक की थाली में खाते थे, लेकिन उसके बाद से उसे कुछ भी अच्छा नहीं लगता था. वो अपने नंगे चूचे अनामिका की पीठ पर रगड़ने लगी … और साथ ही उसके दोनों चूचे पकड़ कर मसलने लगी.

उसका लंड संजू के चूत के पानी तथा उसके प्रीकम के वजह से पूरा लसलसा हो गया था. फिर उसके दोनों हाथों के नीचे से हाथ डालकर कंधों को कसके पकड़ लिया और उसके होंठों को मुँह में भर लिया. उम्म… साहब ये क्या कर रहे हो … कोई आ गया तो?मैं जानता था कि वो ये सब नाटक कर रही है.

हिंदी सेक्सी फिल्म हिंदी वाली

उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसको बांहों में भर लिया और बोला- भाभी, मान जाओ ना … एक बार बस?वो मुझे पीछे हटाने लगी लेकिन मैंने उसको और जोर से पकड़ कर उसकी गांड सहला दी.

आंखें मानो कह रही थीं कि राजा जी आज मत रूको, बरस जाओ मुझ पर … और मेरी प्यास शांत कर दो. ”मेरी रचना की फिगर कमाल की थी और जब से उसने जिम चालू की थी, तभी से उसका बदन और भी सुडौल होने लगा था. फिर मैंने ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स मसल दिए और उन्होंने कसमसाकर मुझे पकड़ लिया.

मेरे केबिन में सीसीटीवी कैमरा लगा था जिससे मुझे बाहर बैठा स्टाफ लैपटॉप की स्क्रीन पर दिखाई देता रहता था. मैंने तो सुनते ही कान बंद कर लिये। गांव की सारी औरतें उससे बचकर ही रहती हैं. ट्रिपल एक्स सेक्सी सेक्सी व्हिडिओपैर के अंगूठे को चूसने से उसको गुदगुदी हो रही थी लेकिन मैं उसकी जांघों को पकड़े हुए था इसलिए वो छुड़ा नहीं पा रही थी.

बिना चोदे ही मेरे एक के बाद एक प्रहार से वो पागल हो रही थीं और कामुक आवाजें निकाल रही थीं- आह अक्की … आह ऊम्म्म यस आह आह … ऐसे ही चाटो … मज़े से चाटो खा जाओ मेरी गांड को … उम्म आह लगे रहो अक्की उफ्फ!यह कहते हुए भाभी अपनी गांड मेरे मुँह पर रगड़ रही थीं. मैंने किचन से देखा तो भाभी अपनी चूत पर हाथ फिरा रही थी और मेरी तरफ देख रही थीं.

वो थोड़ा खाना पीना एडजस्ट नहीं हो पा रहा, इसलिए कुछ दिन के लिए घर जा रहा हूँ. कुछ देर बाद रोहन ने उसकी चुत को चाटना शुरू कर दिया और मेरे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. महीने, पन्द्रह दिन में एक बार आता है और दरवाजा खटखटाकर चला जाता है.

मैं नोट्स लेकर आ गया और उन्हीं के बीच में मैंने अपना फोन नम्बर भी एक पर्ची पर लिख कर दे दिया. अंकल उठ कर गए, उन्होंने शेल्फ से तेल की शीशी निकाली और आकर बिस्तर पर बैठ गए. मेरी बीवी की गांड और चुत में एक साथ लंड घुसे थे और हम तीनों इस सैंडविच चुदाई का मजा लेने लगे.

और ममता जब तक‌ कुछ समझती, तब तक मैंने एक‌‌ जोर का धक्का मारकर अपना आधे से ज्यादा लंड चुत में घुसा दिया.

कुछ देर चोदने के बाद वो झड़ने को हुआ तो सनी से बोला- कहां डालूं अपना माल मैं?सनी बोला- इसकी गांड में ही भर दे साले की. मैं लग गया और 15 मिनट तक मम्मी को ताबड़तोड़ चोदने के बाद मेरा माल निकलने वाला था.

उसका विरोध न होता देख मैंने अपना दूसरा हाथ उसकी सलवार के ऊपर से गांड पर हल्के से रख दिया. आप लोगों को मेरी भाभी हॉट सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे ईमेल करके बताएं।[emailprotected]लेखिका की पिछली कहानी थी:पड़ोसन भाभी ने मेरी अन्तर्वासना को समझा. अब मैं उनका लंड चूस रही थी और वो मेरी चूत चाट रहे थे।मैं भी उनके लंड के साथ साथ उनके टट्टे भी चाट रही थी.

आज मनोज ने मेरे निप्पल खींच खींच चूसे तो इससे मुझको बहुत मजा आने लगा था. तभी उसने भी ऐडी तक का जोर लगाकर धक्के देना शुरू किया और उसका लंड अब पत्थर जैसा सख्त महसूस होने लगा. मन कर रहा था कि मैं भी किसी तरह से इसका पानी निकालूं और क्यों न सुरेश और सोनी की चुदाई देखते हुए ही मैं भी अपनी वासना को शांत करूं?इसलिए मैंने धीरे से अपने कमरे का दरवाजा खोला और बाहर निकल गया.

मुसलमानों बीएफ फिर दो साल बाद मेरे चचा की शादी हो गयी और वो अपनी बेगम के साथ शहर जाकर रहने लगे. जिसकी वजह से मेरे लण्ड ने अच्छी अच्छी औरतों का पानी निकाला हुआ है।जो भी भाभी या आंटी अब तक मुझसे चुदी है वो आज भी मुझे याद करती है।जैसा आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा कि कैसे मैंने मेरी प्यारी चाची को चोद कर अपना दीवाना बना लिया था.

सेक्सी फिल्म बफ फिल्म

करीब 5 मिनट की चुदाई के बाद मुझे लगा कि साबुन कुछ सूख सा रहा है तो मैंने लंड को बाहर निकाल लिया. उस पर बैठाते हुए बोली- अब बोलिए मेम क्या दिखाऊं?नेहा- मुस्कुराते हुए, क्या क्या दिखा सकती हो?नेहा ये बात उस लड़की की बेल जैसी बड़ी बड़ी लटकी हुई चूचियां की तरफ देखते हुए बोली थी. कुछ ही देर बाद हम कुछ इस तरह एडजस्ट हो गए थे कि उसका सिर मेरी गोदी में आ गया था.

मुझे महिलाओं को संवारने की कला भी आती है- मैनीक्योर, पैडीक्योर जो कुछ भी आप करवाना चाहो. आप लोगों को मेरी भाभी हॉट सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे ईमेल करके बताएं।[emailprotected]लेखिका की पिछली कहानी थी:पड़ोसन भाभी ने मेरी अन्तर्वासना को समझा. इंडियन पिक्चर ब्लूमैंने धीरे से उसके कान में कहा- जानू इसको प्यार करो न!वो धीरे से लंड का नाप लेने लगी और मेरे लंड के सुपारे को कसके पकड़ लिया.

मैंने जल्दी से गूगल पर करनाल में होटल सर्च किये और हम एक होटल पर पहुँच गए।होटल जाकर मैंने एक रूम बुक किया जिसके लिए होटल वाले ने मुझसे 1500 रुपए लिए.

शायद वो शादीशुदा थी … इसलिए अपनी मर्यादा को तोड़ना नहीं चाहती थी … या फिर ये सब करने से डरती थी. काफी देर तक लौड़े को अपने मुँह की लार से भिगोने के बाद रेशमा ने लंड बाहर निकाला और बोली- क्या खाते हो आप, जो इतना बड़ा बना लिया है.

अब भाभी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चुत में सैट किया और मेरे लंड पर बैठ गईं. मैंने अपने दोनों हाथों को लाकर नीचे से उसकी गांड को कस कर थाम लिया और अपने पूरे शरीर का वजन मैंने उस पर ही डाल दिया ताकि वो इधर उधर न हो. उन्होंने अपनी चड्डी उतारी और अपने दोनों हाथों ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरी गोद में बैठने का उपक्रम करने लगीं.

लगभग सभी लड़कियों का यही हाल था जिससे सारे ऑफिस का माहौल सेक्सी बना रहता था.

मैं अपना लंड उनकी टांगों के अन्दर घुमाने लगा कि अचानक मेरा लंड आंटी की गर्म ज्वालामुखी जैसे लपलपाती चुत में घुसता चला गया. वो सीट पर आगे हो कर बैठी थी और मैं नीचे उसके पैरों के बीच में बैठा था. हेलीमा से गुलजान की चूत चूसने को बोला और पीछे से हेलीमा की गांड में लंड घुसने लगा.

हिंदी सेक्स वीडियो भाई बहन कीइतने में उसने मेरे लंड को ज़ोर से दबा दिया और बोली- आपका सांप तो पूरी तरह फुंफकार रहा है. वो मां की चूचियों को दबाते हुए बोला- इतनी बड़ी चूची तो पूरे मुहल्ले में किसी की नहीं होगी.

जंगल का सेक्सी वीडियो देहाती

तभी उसकी चूत ने अपना फव्वारा छोड़ दिया और मेरे लन्ड को पूरा भिगाते हुए अंदर चूत में और चिकनाई बना दी, जिससे मेरा लौड़ा और तेजी से अंदर बाहर होने लगा।अब मेरा भी माल निकलने वाला था. मैं भी उसे अच्छी लगती थी तो वह जानबूझकर बाइक पर ये हरकतें करता था ताकि मेरे बदन का स्पर्श उसको मिल सके. मैं बोला- ठीक है जान … आराम से करूंगा … बहुत प्यार से।मैंने भाभी को लिटाया और उनके ऊपर आ गया.

अब मैंने अपने धक्के तेज कर दिए थे और अगले पांच मिनट तक मैं उसकी बुर में घमासान मचाता रहा. वो संजू की गांड को दोनों हाथों से थोड़ा फैलाकर अपनी जीभ को अन्दर तक पेल कर जोर जोर से चूसने चाटने लगा. फिर मैं उसको टीशर्ट के नीचे दबाकर वहां से चला गया और बेड पर जा लेटा.

वो जुलाई तक वहीं रहने वाली थी।रोज की तरह मैं और मोनिका रात में फोन पर चैट कर रहे थे।वो दिन था 13 मई 2016अचानक मुझे याद आया कि 2 दिन बाद मोनिका का जन्मदिन आने वाला था. लगभग 15 मिनट गांड मारने के बाद धीरू अंकल के झटके और ज्यादा तेज हो गए तो ही मैं समझ गई कि धीरू अंकल झड़ने वाले हैं. ताई कहने लगीं- अब मत तरसाओ अमन … बस जल्दी से चोद दो … घुसा दो अपना लंड … आह आज मुझे पूरा शांत कर दो.

उनको बहुत मजा आने लगा तो वो बोलीं- मेरा पेटीकोट ऊपर करके मेरी जांघों को भी मसल दे. उनके निप्पल और उसके पास का काला भाग देख कर मैं ललचा गया और मैंने दोनों बूब्स को दस मिनट तक खूब दबा कर चूसा.

हम दोनों की कमर की रफ्तार बढ़ने लगी और मैं जल्दी जल्दी झटके लगाकर ललिता भाभी की गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करके चोद रहा था.

फिर धीरे से मैंने बोल दिया कि मुझे आपके बड़े बड़े गोल गोल वो बहुत पसंद हैं. नंगी फिल्म नंगी फोटोफिर कुछ पल बाद कड़क चुचियों और कसी चुत की मल्लिका अर्चना मुझे फिर से भरपूर सहयोग करने लगी. नेपाली देसी सेक्सी वीडियोफिर कोई बीस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैं और जौहरा एक साथ झड़ गए. संजू बोली- अरे बाबा, तुम समझते नहीं हो … इसका बहुत मोटा है, मेरी फट जाएगी.

तो मैंने ही कहा- कोई बात नहीं भाभी शर्माओ नहीं, मैं आपका देवर ही तो हूँ … और वैसे भी देवर भी तो आधा पति ही होता है.

मेरे हाथों ने न जाने कब उसके दोनों कबूतरों को जकड़ लिया और उन्हें मसलने लगा. लण्ड चूंकि लंबा था अतः लोअर में सीधा नहीं हो रहा था फिर भी आँटी की चूत पर अड़ गया था. दिखा दी ना अपनी औकात … आज साबित कर ही दिया कि सब मर्द एक जैसे ही होते हैं.

अगले महीने अमेरिका से डॉक्टर साहब के गेस्ट आने वाले हैं और उसने उन सबका ख्याल मुझे ही रखने को बोला है. उनके घर में भी मैं जब चाहे जाने लगा था, इससे मेरी उनसे काफी घनिष्ठता हो गई थी. खुद नेहा अपने रूम आ गई, जहां आते ही उसने अपने पूरे कपड़े उतारे और एक छोटा सा टॉवेल लपेट कर बाथरूम में घुस गई.

सेक्सी वीडियो सेक्सी दिखाइए

मैंने उससे कहा- नीता चाबी तो दे दो … बाईक यहां बाजू में लगा देता हूँ. यहां कोई देखने वाला नहीं है मेरे अलावा!मैंने भी शर्म छोड़ी और बाथरूम से बाहर निकल कर आ गई. हम दोनों शादी के बारे में सोचने लगे और अभी एक महीने पहले ही हमारी शादी हो गयी थी.

मैंने कहा- क्यों पहले किसी ने नहीं किया?वो बोलीं- सच में तेरी कसम आज … पहली बार तूने ही नीचे किस की है.

मेरे गांव की लड़की की चुदाई मैंने कैसे की पहली बार … इस कहानी में पढ़ें.

अगले दिन मैंने अपने घर के काम किए और जब पति काम पर चले गए तब मैंने ऑटो वाले के लंड को याद किया और बाथरूम में चली गई. अब मैं गुलजान की गांड में जैसे ही तेज शॉट मारता, तो उसके दर्द से वो हेलीमा की चूत को काट लेती और ज़ोर से गांड में उंगली डाल देती. ब्लू फिल्म दे दो वीडियो मेंरात होने से पहले ही वो आ गया और डिनर करने के बाद बेडरूम में चला गया.

करीब दो मिनट तक होंठ चूसने और चूची दबाने के बाद वो अब चुदाई के लिए तैयार होने लगी. वह आह निकाल रही थी … पर मैंने उसका मुँह दबा दिया … ताकि समीना तक ऊपर आवाज़ न चली जाए. उन्होंने मेरा हाथ मेरी चूत से हटा दिया और मेरे दोनों हाथों को पीछे ले जाकर उन्हें अपने हाथ से पकड़ लिया.

उनका ये तरीका मुझे बहुत रोमांचित कर रहा था।मैंने भी उनका लंड पकड़ कर कहा- बूढ़े शेर में अभी भी बहुत दम है. मैं दीपक सोनी ऐसे ही आपके सामने बहुत मस्त मस्त रियल स्टोरी लाता रहूँगा।[emailprotected].

आज वह कहीं चला गया है। उसका भाई बुलाने आया था।ये सब बातें होने के बाद कल्लू ने मुझसे इजाजत मांगी और वो दोनों वहां से साथ साथ बाहर निकल गये.

उसने मुझे बताया था कि उसके पति ने उसके साथ सिर्फ एक बार ही सेक्स किया था. मैंने कहा- यहां कौन आएगा?वो मुस्कुराती हुई बोलीं- कोई नहीं आएगा तो तू क्या करेगा?मैंने थोड़ी हिम्मत करके मम्मी के दोनों कंधे पकड़ लिए. जिसकी वजह से मेरे लण्ड ने अच्छी अच्छी औरतों का पानी निकाला हुआ है।जो भी भाभी या आंटी अब तक मुझसे चुदी है वो आज भी मुझे याद करती है।जैसा आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा कि कैसे मैंने मेरी प्यारी चाची को चोद कर अपना दीवाना बना लिया था.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो भोजपुरी में वे अपनी गांड उठा कर मेरा लंड अंदर बाहर करवाने लगी थी और मेरा पूरा साथ दे रही थी. वह मेरे बूब्स को जोर-जोर मसलने लग गया और मेरी गर्दन पर किस करने लगा.

मुझे ध्यान आया तो मैंने कहा- अरे नहीं यार, फिर कभी आऊंगी, तब कर लेना. विपिन बोला- अरे दीदी, मैं इतना पागल थोड़े ही हूँ … किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा. मेरे मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं- आंह सीईई अंकल … मजा आ रहा है … आह आह मुझे अच्छा लग रहा है.

xxx सेक्सी वीडियोस

अब ललिता भाभी भी धीरे धीरे अपनी कमर आगे पीछे करने लगी और थप थप की आवाज़ आने लगी. वे सचमुच देवता पुरूष थे, इसी बात ने उनके प्रति के मेरे प्यार को बढ़ा दिया था. मैंने उसकी आंखों में झांका और झट से उसके दूसरे चूचे को अपने मुँह में भर लिया.

पर विक्रम को कोई फर्क नहीं पड़ा और वो संजू को डॉगी पोज में चोदने लगा. वो अपने जीजू से बोली- आज भी कहीं जाना है क्या?मनीष- नहीं साली साहिबा, आज इम्पोर्टेन्ट मीटिंग है मेरी, शायद लेट भी हो सकता हूँ.

मैं देखता रह गया, क्या दिख रही थी, शरीर का गोरा गोरा रंग, पैर तो पूरे खुले थे … एकदम आइटम दिख रही थी.

कुछ ही सेकंड बाद सुरेश के अण्डों के आस पास सफ़ेद गाढ़ा गाढ़ा माल बहकर निकलने लगा. अभी मेरे पास टाइम था तो मैंने एक बार फिर से रोहण का लौड़ा चूस कर उसका मूड बना दिया. मैंने मोबाइल के सामने देखा और जोर से बोल उठी ताकि मोबाइल में मेरी यह आवाज साफ रिकॉर्ड हो जाए- विजय, मुझे तुम्हारा लंड चूसना है.

कहां मिला? आज तो मस्ती होगी।लौटने पर भूरा ने मुझे बताया- सर जी उन्होंने मेरी तीन बार रगड़ी. मैंने मना किया तो मुझे बांहों में जकड़कर मेरे गालों को चूम लिया और अपना एक हाथ मेरी छाती पर रख दिया. खून से सराबोर लण्ड सोनल की बुर के अन्दर बाहर होते होते अपनी मंजिल पर पहुंचा तो मेरे लण्ड से फव्वारा छूटा और सोनल की बुर को सराबोर कर दिया.

ललिता भाभी अपनी चूत में मेरे लंड को कसने लगी और उछल उछल कर अपनी गांड पटक रही थी.

मुसलमानों बीएफ: पता नहीं दिल के कोने में कहीं कुछ टूट सा रहा था और शायरा के प्रति मेरा गुस्सा भी बढ़ता जा रहा था. हमने जम कर एक दूसरे के होंठो को चूसा जैसे हम जन्मों जन्म से प्यासे हों.

हम दोनों अन्दर गए तो वहां सब मुझे बड़ा घूर कर देख रहे थे क्योंकि सबको मालूम था कि मैं चुदने आयी हूँ. यामिना- सर, आपने लिली का फोन नहीं उठाया और रेशमा का उठा लिया, बहुत अच्छा किया, लिली का मुँह उतर गया था और रेशमा खुश हो गई. फिर बिना कुछ कहे मेरे होंठ उसके प्यारे लाल सुर्ख होंठों से टकरा गए और हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूमने लगे जैसे कि ये पहली और आखिरी बार का प्यार हो.

ऑफिस लेडी सेक्स कहानी में मैंने बताया है कि मैं बदली पर कम्पनी के बैंगलोर ऑफिस में गया तो वहां कई लड़कियां थी.

बसन्त कुमार जी 15-20 दिन बाद दुकान का सामान लेने बड़े शहर जाते रहते थे और रात को वहीं रुकते थे. ललिता भाभी की सिसकारियां बढ़ने लगीं और चूत लंड पर अपना कसाव बढ़ाने लगी. भाभी समझ गईं और बोलीं- अक्की, बहुत दिन से नहीं चुदी हूँ और तू मुझे इतनी देर से तड़पा रहा है.