सगी बहन की बीएफ

छवि स्रोत,सेकसिविडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

लंका बीएफ सेक्सी: सगी बहन की बीएफ, इसलिये आतुर न होकर थोड़ा आराम से सोच समझ कर काम लीजिये!मैंने सीमांशी के बदन को चाटना शुरू कर दिया.

अन्तर्वासना सेक्स कहानी

मेरे जीजा ने उसकी जांघों को दोनों हाथों से फैलाया हुआ था और उसकी चूत में जीभ देकर मस्ती में ऐसे चाट रहे थे जैसे किसी मीठे फल का रस चूस चूस कर निकाल रहे हों. सेक्सी वीडियो गाना पर केवही साफ़-सुथरा बेदाग़ चेहरा, रौशन पेशानी, कमान सी भवें और बिना किसी लिपस्टिक के गुलाबी सुडौल होंठ.

मैंने भी अपना एक हाथ भाभी के पजामी में डाल दिया और हाथ से महसूस किया कि भाभी की चूत से पानी निकल रहा था, जिससे भाभी की चूत गीली हो गयी थी. ब्लू पिक्चर नंगी नंगामैंने पूछा- कैसा लगा?बोली- बहुत खूबसूरत।इसके बाद मैं सायरा के सीने पर अपने सिर टिका कर उसके दिल की धड़कन सुनने लगा.

फिर उसने झट से अपना चेहरा संजना की तरफ घुमाया और उसके होंठों पर किस करने लगी.सगी बहन की बीएफ: मैंने कहा- जब गोली खा ही है, तो अभी क्यों लगा रही हो?उसने कहा- मुझे इसका अनुभव करना है.

मैं कराह उठा ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर वो लंड को पेल कर रुक गया था.चित्रा दीदी बड़े मजे से मेरे लंड को चूस रही थीं और मैं धीमे स्वर से सीत्कार कर रहा था.

चाची की चुदाई की कहानी - सगी बहन की बीएफ

मैंने उसे उठा कर सीने से लगाते हुए कहा- मेरी भी इज्जत का सवाल है, मेरे बेटों की नजर में अपनी इज्जत कम नहीं करना चाहता.और मैं धीरे धीरे उसके स्तन सहलाते हुए अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने लगा.

गिन्नी के गोरे गोरे चूतड़ और गांड के गुलाबी रंग के चुन्नट गिन्नी की गांड मारने के लिए उकसा रहे थे लेकिन आज पहले ही दिन मैं यह सब नहीं करना चाहता था. सगी बहन की बीएफ इस पर उसने मुस्कुरा के कहा- ऐसी कोई बात नहीं है सर!फिर मैंने उसे उसकी पढ़ाई पूछी तो उसने मैंनेजमेंट कोर्स करना बताया.

मैंने लंड को उसकी चूत पर ठोकते हुए उसे ज्ञान देने की कोशिश की और लंड का सुपारा उसकी चूत के छेद में दबा कर फंसा दिया.

सगी बहन की बीएफ?

कभी उसके निप्पल्स को मुंह में लेकर चूस रहा था तो कभी दांतों से काट रहा था. अम्मी बोल रही थीं- हम्म … बस तुम्हारा हो गया … झड़ गए … मेरी आग अब कौन शांत करेगा?अब्बू कुछ बोले नहीं और वैसे ही पड़े रहे. और ना जाने जीजू ने क्या क्या गालियां दीं … जो सब मैं यहां नहीं लिख सकती.

फिर मैंने ड्रेसिंग टेबल से जैतून के तेल की शीशी से कुछ बूंदें तेल लेकर अपने सुपारे पर चुपड़ लिया और फोरस्किन को तीन चार बार आगे पीछे करके अच्छे से चिकना कर लिया. तभी मैंने मुस्कान को सतीश के पास भेज दिया और प्रियंका मोनू के पास चली गयी और मेरे पास आ गयी सीमा!मैंने सीमा की जीभ पर जीभ रख कर उसे किस किया और सीमा ने भी मेरे कान के पास मुंह करके कहा- उफ्फ … मस्त मज़ा आयेगा आज तो!मैंने उसे जवाब में कहा- येस साली, आज तेरी मज़े से गांड फट जायेगी. मैंने भी एक जोर का धक्का लगाया और मेरा लंड उनकी चूत के अन्दर घुस गया.

मेरा लंड यानि मेम रानी का नाग, न जाने कब से अकड़ा हुआ चूत की प्रतीक्षा करते करते दुखी हो गया था. मैंने उसकी पैंटी उतारनी चाही पर उसने मना कर दिया। फिर मैंने उसे किस किया उसके बूब्स ज़ोर ज़ोर से दबाये. फिर कुछ देर बाद मेरा लंड खड़ा होने लगा क्योंकि आंटी उसे अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी थी।मैं भी एक हाथ से चूची को दबा रहा था तथा दूसरे से उनकी गांड में उंगली कर रहा था.

छटपटाहट भी ऐसी कि कभी दिल जोरों से धड़कने लगता, तो कभी योनि से रक्त बहने का डर सताने लगता. नंगी बेबी रानी एक अच्छे से मादक पोज़ में आकर अपने शरीर को मुझे लुभा लुभा के दर्शाने लगी.

अब शायद शीना समझ चुकी थी कि मैं और संजना मेरे लौड़े के सफेद पानी की बात नहीं कर रहे थे.

सुनील बोला- ज्यादा नौटंकी मत कर, मैं एक घंटे से बाहर खड़ा हुआ अपना लंड सहला रहा हूँ.

दीपिका ने एक सिप ली और उसी गिलास को अपने हाथ से पकड़ कर मेरे होंठों से लगा दिया. सहसा ही वसुंधरा के होंठों पर एक स्निग्ध मुस्कान झिलमिला उठी और वसुंधरा की उंगलियों की पकड़ मेरी उँगलियों पर मज़बूत हो गयी. अनिल भैया ने अपना लंड मेरे मुँह के पास लाने के हिसाब से अपने जिस्म को जरा सैट किया.

संजना की बात समझते हुए उसने सीधे सीधे संजना के मम्मों को दबाया और जोर से उसके निप्पल खींचते हुए बोली- चाहे जो कुछ भी हो मेरी जान, मैं सब कुछ पीने के लिए, पिलाने के लिए और खाने के लिए तैयार हूं. इससे बहू समझ गयी कि वो चली तो थी शेर बनने, अब गीदड़ बनना ही ठीक रहेगा. इधर में जीजा जी की बीवी को पेल रहा था, उधर वो मेरी होने वाली बीवी को पेल रहे थे.

कुछ देर बाद रोहित किचन में आया और दरवाज़े पर खड़ा होकर मेरी तरफ देखने लगा।मैंने रोहित की तरफ देखा.

मैं- कोमल सच बोलना … किस के साथ सेक्स करने में मजा आया? मेरे साथ या अपने पति के साथ. मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।मैंने कहा- यार ये कैसे हो सकता है कि कोई भी लड़का इतनी खूबसूरत लड़की के पास ही ना आये?हीना ने अपना काम करते हुए ही कहा- मैंने ऐसा भी नहीं कहा सर. मैं भी अब खुश हो गया था- तुम्हारा घर कौन सा है?वो- बिल्लू पर्धन को जानते हो?मैं- हां वही, जिसके विपक्षी पार्टी वालों ने मार मार कर हाथ पैर तोड़ दिए थे.

श्लोक और मैंने गोआ में एक और याराना मनाया जो कि एक बहुत ही रोमांचक घटना थी जिससे मैं आपको बाद में अवगत करवाऊंगा।जिन लोगों ने याराना को अभी से पढ़ना शुरू किया है वो कृपया इस कहानी के पहले भाग से लेकर पूरी कहानी पढ़ने के बाद ही यहां पर वापस इस कहानी को पढ़ने के लिए आयें. मैंने फोन में आज सुबह जो जीजा जी और आलिया की वीडियो रिकॉर्ड की थी, वो देखने लगा और अपने लंड को सहलाने लगा. अब आगे की साली के साथ सेक्स कहानी:मेरी मुस्कान को देखकर जीजू बोले- क्यों हंस रही हो मेरी रानी?अब मैं ये तो बोल नहीं सकती थी कि आपका लंड बहुत अच्छा है इसलिए मैंने बात घुमा दी.

मायरा ने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगी.

फिर बहू की दोनों टांग चौड़ी करके लंड के सुपारे को चूत के छेद पर रख कर अन्दर पेलने की तैयारी की. कुछ सवालों के जवाब मिल गए थे, पर कुछ नये सवालों ने जन्म भी ले लिया था.

सगी बहन की बीएफ मोनू बोला- वाह प्रियंका, सही बात की है तूने!मैंने कहा- फिर ऐसा करो … हम सभी लड़कियों के एक एक करके कपड़े उतारते जायेंगे. आप सब मेरी उस पोजीशन को इमेजिन तो कर ही सकते हैं और उस पोजीशन में मेरी चूत पूरी तरह खुल गयी थी.

सगी बहन की बीएफ एक ड्राईवर और चार खलासियों ने मेरी वो दुर्गति की थी कि मैं बता नहीं सकती. मेरा नाम सुजाता है, मैं एक आदिवासी परिवार से हूं, इसलिए न तो गोरी चिट्टी हूं, न ही चेहरा बहुत सुन्दर है.

मैंने भाभी से कहा कि आप एक बार फोन करके भैया की पोजीशन मालूम कर लो.

अच्छे सेक्सी बीएफ

पर मैंने अपने धक्के लगातार जारी रखे और स्पीड बढ़ाते हुए ताकत से चोदने लगा. मनीष ने धीरे से अपनी एक उंगली मेरी गांड के अन्दर घुसाई, मैं एकदम उछल सा गया. [emailprotected]सेक्सी कहानी का अगला भाग:सहेली का अन्तर्वासना और पहला सेक्स-2.

कुछ पल बाद संजू थोड़ा रुकी और रोहित को प्यार से देखते हुए मुस्कुरा कर बोली- अरे इतना अच्छा सेक्स करना कहां से सीखा?रोहित बोला- भाभी मैंने दो माह में बहुत सारी ब्लू फिल्म देख ली हैं, वहीं से. लेकिन उनको मैं कहना चाहता हूँ कि मैं कोई एजेन्ट नहीं हूँ, जो आप लोगों के लिए चुत की सैटिंग करता फिरूं. फिर बड़ी ही कातिल अदा से अपनी काली ब्रा निकाली और मेरी तरफ फेंक कर झटके से घूम गयी.

उसके ससुर भी थोड़े नॉर्मल हुए और आशा भरी निगाहों से मुझे देखने लगे.

मैंने उसकी बाजू से पकड़ कर उसे अपनी ओर घुमाया, तो उसे देख कर मेरी आंखें फ़टी की फटी रह गईं और मेरे मुँह से वाओ निकल गया. लेखक की पिछली सेक्सी कहानी:मेरी बहन और जीजू की अदला-बदली की फैंटेसीआज मैं अपनी एक्स-गर्लफ्रेंड कोमल से एक साल बाद मिलने जा रहा हूँ. हे नाथ अब तुम्हीं रक्षा करना मेरी!” साली जी बोलीं और उठ कर बैठ गयीं फिर मेरे लंड को अपनी मेहंदी रची मुट्ठी में पकड़ कर सात आठ बार मुठिया कर छोड़ दिया और फिर से लेट गयीं.

मैंने कहा- जब गोली खा ही है, तो अभी क्यों लगा रही हो?उसने कहा- मुझे इसका अनुभव करना है. उसकी चूत को सामने करके अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पर लगा दिया और लंड को चूत के मुंह पर लगा कर मिशनरी पोजीशन में उसके ऊपर लेटते चले गये. फिर जीजू ने आकाश से पूछा- वैसे आकाश तुम्हें सबसे ज्यादा किस के साथ चुदाई करने में मजा आया.

मैंने अपना लण्ड बहन की चूत के अन्दर बाहर करते हुए रुकैय्या से पूछा- मेरे साथ ऐसे ताल्लुकात कायम करने का ख्याल तेरे मन में कैसे आया?अपने चूतड़ उचका कर चुदाई का मजा लेते हुए रुकैय्या बोली- सोते समय अक्सर तुम्हारे पायजामे पर नजर पड़ती थी और तुम्हारा तम्बू तना होता था. उसके धक्के इतनी दिक्कत नहीं कर रहे थे, जितना वो मेरे स्तनों को मसल कर कर रहा था.

मैंने उसके दूसरे हाथ को पकड़ कर पेटीकोट के ऊपर अपनी बीवी की चूत के ऊपर रखवा दिया. फच फच चप चप की आवाज और नीचे से वे मेरे चूचियों की भुंडी को मसल मसल कर घायल कर रहे थे. मैंने मनीषा भाभी का एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया और अपने दोनों हाथों से उनके चूतड़ पकड़ कर उनको लंड पर ऊपर नीचे करने लगा.

वो- कैसे?मैं- तुम्हारी चुचियों को चूस कर लाल करने बाद तुम्हारी बुर को अपने हाथों से सहलाऊंगा.

ऐसा करते-करते आधे घंटे हो गया, मेरा पानी नहीं निकला।फिर अंत में भाभी को भी जोश चढ़ने लगा और वे मेरे लिंग को पकड़ कर बहुत तेज मुठ मारने लगी. उसके कहने पर फिर मैं नँगा ही बालकॉनी में गया और ड्रिंक का सारा सामान अंदर ले आया. चुम्मी लेते लेते अपने ब्लाउज और ब्रा को खोलने का तरीका भी बताती गईं.

यही वो मर्द है जो अपनी मर्दानगी से हम दोनों के अंदर की आग को बुझायेगा. मेरी रीढ़ की हड्डी में एक बिजली का करंट ने दौड़ लगायी और ऐसा लगा एक कुछ मोटी सी चीज़ रीढ़ की हड्डी में ऊपर से भागती हुई नीचे लंड में समा गयी.

मैंने चुपचाप आँखें बंद कर लीं लेकिन चाचा मेरी खुली आँखें देख चुके थे. मैंने अपने आपको पास ही पड़े कम्बल में खुद को आधा लपेटते हुए पूछा- क्या हुआ भैया … आप वहां क्यों बैठे हो … सब ठीक तो है न!इसी के साथ मैंने पास ही बेड साइड के लैंप को जलाया और देखा तो उनके पास वाइन की एक आधे से ज्यादा खाली बोतल और एक गिलास पड़ा था. इधर मैं अपनी गर्लफ्रेंड आलिया के रसीले होंठों को चूमने के लिए तड़प रहा था.

काजल की सेक्सी बीएफ

मेरी बीवी के साथ अपनी बीवी के साथ?आकाश- तुम्हारी बीवी चित्रा के साथ … चुदाई में टेस्ट बदल गया.

खैर … मैं अपने घर अपने पैतृक गांव गई हुई थी, तो मैं अपने खेत घूमने को चली गई. मेरी रंडी बहन की चुदाई का पूरा इंतजाम कुछ तरह से कर दिया था, जिसमें उसके ससुर को ये लगे कि वो ही कसूरवार था जिस वजह से उसकी बहू यानि मेरी बहन को चुदना पड़ रहा था. उनकी सिसकारियों से मेरे अन्दर दुगनी ताकत आ रही थी और मैं उनको जोर जोर से झटके मारते हुए चोदने में लग गया था.

निकले भी क्यूँ न … मर्द की कमजोरी ही औरत होती है!कुछ समय तक ऐसा ही चलता रहा. अब मेरा एक हाथ उसकी चूचियों पर पहुंच गया था और मैं उसकी चूचियों को मसलते हुए उसकी चूत में उंगली कर रहा था. सोनाक्षी सिन्हा की सेक्स वीडियोबाद में बात करने पर मुझे पता चला था कि उनकी शादी 8 महीने पहले हुई थी.

बड़ी दर्दनाक कहानी है तुम्हारे चाचा जी की, इतना बदनसीब मैंने तो कभी नहीं देखा. पर इसके साथ साथ मुझे उस पर दया भी आ रही थी और उसका वो करुण रुदन देखकर अफ़सोस भी हो रहा था कि मेरी प्यारी साली मेरे कारण ही दर्द से छटपटा रही थी और इसका जिम्मेवार सिर्फ मैं था.

मैंने महसूस किया कि उसकी आंखों में बस वासना थी, जो कि उसके चेहरे पर मुझे साफ दिख रही थी. चूत पर आइसक्रीम लगते ही जैसे मेरी चुत में आग सी लग गयी और मैं जोर से तपड़ उठी. उसी समय रोहित ने अपनी एक उंगली संजू की फिर से गीली हो चुकी बुर में घुसा दी.

वह जमकर मेरी गांड को चोद रहा था और मैं हल्के हल्के दर्द के कारण चिल्लाए जा रही थी. ” आलिजा मुस्कुराते हुये मजाक में बोली।उसके कहे अनुसार मैंने सारा पानी उसकी गांड में उड़ेल दिया।थोड़ी देर बाद हम अलग हुये, फ्रेश होकर एक दूसरे की बांहों में सो गये।कहानी पूरी तरह काल्पनिक है। पाठक सिर्फ कहानी से संबंधित मेल ही करें, फालतू मेल ना करें।[emailprotected]. फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा और मेरी उंगलियों में अपनी उंगलियों फंसा ली और फिर मुझे पीछे की तरफ बेड पर लेटा दिया और मेरे कपड़े निकालने लगा.

फिर बहू की दोनों टांग चौड़ी करके लंड के सुपारे को चूत के छेद पर रख कर अन्दर पेलने की तैयारी की.

थोड़ी देर में उसका मैसेज आया- क्या कर रहे हो?मैं- तुम्हारे बारे में सोच रहा हूं. उसने मुझे सिर से पैरों तक यूं लिपटा रखा था जैसे कि हम बड़े बरसों के बाद मिले हों और जल्दी ही दुबारा अलग होने वाले हों.

चूत में मिलते हुए मज़े से मस्त होकर वह भी चुदाई का आनन्द उठा रही थी. अपने होंठों को मेरी चूचियों की वक्षरेखा पर रगड़ते हुए वो उनको नाक घुसा कर सूंघ रहे थे. मुझे नहीं पता था कि मेरी मम्मी इतनी बड़ी वाली रंडी हो सकती हैं, दो दो लंड ही साथ ले रही थी.

सबसे ज्यादा मुझे मजा आया, जब मैं पहली बार दीदी की गांड मार रहा था और दीदी दर्द के मारे चिल्ला रही थीं. उस टाइम पता नहीं, मुझे क्या हो गया था … मैं उसका बिल्कुल भी विरोध नहीं कर रहा था. वैसे जितना वो स्मार्ट था, मुझे कबसे उसके लंड देखने की तमन्ना थी, पर आज मानो वो तमन्ना पूरी होने को जा रही थी.

सगी बहन की बीएफ अब मुझे सिर्फ चुदाई दिख रही थी इसलिए मैंने कोमल की बात को अनसुना कर दिया और बस पूरे जोश में झटके मारने लगा. उसकी चूचुक मेरी छाती में गड़े जा रहे थे लेकिन उनको मैंने जो अच्छे से निचोड़ा था इसलिये उनकी अकड़न अब घट चुकी थी.

जिम वाला सेक्सी बीएफ

मैंने पूछा- क्यों?तो सामने से पायल की बड़ी बहन आंचल ने कोट उतार कर देने का इशारा किया. अन्तर्वासना भाभी की चुदाई हिन्दी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्त की बीवी ने मुझे ललचा कर अपने साथ सेक्स करने के लिए आकर्षित किया. जब मैं भाभी के करीब गया तो उसने उठ कर मेरे पैर छूना चाहा लेकिन मैंने भाभी को अपने पैर नहीं छूने दिया.

मैंने फुसफुसा के कहा- करमजली रंडी … मज़ा आ रहा है ना?रानी ने धीरे से सिर हिलाकर हाँ में जवाब दिया. मैं- साली रंडी कबसे बोल रही थी कि चुत फ़ाड़ दे … ले रंडी कुतिया ले … मेरा मूसल ले. रिंगटोन मूवीजीजू थोड़े गुस्से में बोले- अच्छा और फोन करके क्या बोलूं कि तेरी बहन की चूत क्रीम लगाकर मारनी है … क्रीम किधर रखी है!जीजू एकदम से झल्ला गए थे और तभी वो बोले- याद आया … मैं फ्रिज में देखता हूँ … वहां जरूर होगी.

उसी पर शीना ने मेरे गोटियों को इतना तेजी से दबाया था कि उसमें से अब मूत भी निकलने वाला था.

एक दिन वो दोनों इसी तरह से साथ में एक ही बेड पर लेटे हुए बातें कर रहे थे. मैंने धीरे से अपने हाथ को उनकी कमर पर लाकर उनकी कमर को दबाया, तो आंटी ने मदमस्त आवाज निकलते हुए कहा- आह … ह उह … उह तुम तो पक्के खिलाड़ी निकले … शाबाश … लगे रहो मुझे और गर्म करो.

वो चीख पड़ी उम्म्ह… अहह… हय… याह… मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया. वो अपना सिर दायें बाएं पटकने लगी थी, उसने अपना निचला होंठ अपने दांतों तले दबा लिया था. गुड्डी रानी ने लंड को मुंह से निकाल कर प्यार पूर्वक निहारा, फिर सूंघा.

उस दर्द का इलाज नहीं किया गया तो तुझे बहुत दिक्कत होगी कल को और ज्यादा दर्द हुआ तो तुम्हारा कभी खड़ा नहीं होगा।मैं- लेकिन आपको दिखाऊं कैसे? मुझे बहुत शर्म आ रही है।भाभी- अब शर्म किस बात की … हम दोनों ने एक साथ बैठकर ब्लू फिल्म देख ली.

धीरे धीरे मेरा इंटरेस्ट मेरे देवर में और बढ़ने लगा क्योंकि वो मेरी हर बात मानते थे. मैं उनकी तरफ देखते हुए पूछने लगा- मैंने कैसा डांस किया?मौसी- तूने अच्छा किया, काफी जल्दी सीख जाएगा. रिया ने उसे अपने डैड को दिखाते हुए पी लिया और बोली- और थूको डैड। प्लीज और दो।उसने मुंह खोल दिया।रमेश ने फिर वैसे ही किया। इस बार भी रिया ने वही किया। वो सारे थूक को मस्ती से चाट कर अंदर पी गयी.

नहीं सेक्सी वीडियोइसलिए पहले मैं उस पानी को थोड़ा सा पीती हूं … और अगर तुझे पसंद आए … तो तू भी पी लेना. थोड़ी देर बाद ही मोहित ने पूजा की शर्ट के बटन खोल दिये और उसकी शर्ट निकाल दी.

बीएफ हॉलीवुड वीडियो

धर मेरा लोहे जैसा अकड़ा हुआ लंड देख कर, सूंघ कर उसकी कामोत्तेजना बढ़े जा रही थी. बिल्कुल ब्लू फिल्म की रंडियों की तरह।रिया- डैड चुदाई का मज़ा तो गालियों के साथ ही आता है। मुझे गालियों से कोई ऐतराज नहीं है. मैं खुद को एक रंडी महसूस कर रहा था, जो ग्राहक को खुश करने के लिये कुछ भी करती है.

मैं उस समय तो बहुत एन्जॉय करके यह सब करवा रही थी और बिल्कुल भूल चुकी थी कि इसके बाद मैं अपने पति को क्या बोलूँगी. पांच मिनट तक मेरे लंड को चूसते रहने के बाद मैंने उसके मुंह में ही वीर्य छोड़ दिया. मैं सुनीता मम्मी के निप्पलों को चूसते हुए अपने एक हाथ दो उंगलियों को उनकी चुत में डाले जा रहा था.

पिछली सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कियात्रा में सलहज की चूत चुदाईकिस तरह हुई थी. किचन में कॉफ़ी बनाते-बनाते और आतिशदान के निकट ट्विनसीटर सोफ़े पर एक ही शॉल में सिमटे, आजू-बाज़ू बैठ कर इवनिंग स्नैक्स का आनंद लेते-लेते और कॉफ़ी पीते-पीते वसुंधरा ने बताया कि उसका वुड-वी वसुंधरा का ही एक एक्स-क्लासमेट है और आजकल मर्चेन्ट-नेवी में है. मैं अपने लिए खुद ही अंडरगारमेंट्स खरीदती हूँ, जबकि तुम खुद सोनिया के लिए ब्रा पैंटी वगैरह लाते हो.

उसको देख कर तो किसी भी मर्द का दिल उस पर आ जाये और उसको चोदने के लिए तैयार हो जाये. मैंने कई बार तुमको इशारा किया था कि माई तुम गलत कर रही हो, पर तुम चाहती थी कि दोनों नाव पर सवार होकर दोनों को साध लूँ … पर ऐसा होता कहां है.

तू टेंशन मत ले, आज तेरी चुत की ऐसी कुटाई करके चोदूंगा कि तू अपने पति को भूलकर मेरी दीवानी हो जाएगी.

वही साफ़-सुथरा बेदाग़ चेहरा, रौशन पेशानी, कमान सी भवें और बिना किसी लिपस्टिक के गुलाबी सुडौल होंठ. सोनम कपूर का फोटो[emailprotected]गांडू की चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरी गांड एक बड़े लंड के नाम- 2. आलिया भट्ट की सेक्सकोमल- सबसे पहले किसके साथ मजा करोगे?मैं- पहले जिया … बाद में तुम्हारी बारी. उन्होंने कहा- और पगली! देखा नहीं कि उनका लिंग कितना बड़ा और मोटा है?मैंने कहा- हाँ भाभी, कमरे में बिल्कुल अँधेरा था.

उसकी आवाज से हमें होश आया और हमनें रास्ते पर नजर डाली, हम सब शरमा गए और हमने खुद ही मनु को उठाकर ठीक किया.

लेखक होने के साथ साथ ज्ञान जी नारी तन की बारीकियों के ज्ञाता भी हैं. मैं जिया के बारे में सोचकर तेजी से पूरे जोश में एक्स गर्लफ्रेंड की चुत को पेल रहा था. और उसे चड्डी नहीं बोलते हैं, पेटी बोलते हैं।मैंने कहा- ठीक है, आप की पैंटी में ही उतार देता हूं.

वो उठे और मेरी एक टांग को सोफे पर रख कर अपने लंड को पीछे से मेरी चूत पर सटा दिया. जिसमें हमारी चुदाई वाली वीडियो रिकॉर्ड थी और नताशा ने वो वीडियो देख लिया. मैंने हंस कर पूछा- तो क्या स्नेहा डार्लिंग कहने लगूं?भाभी बोलीं- अभी स्नेहा तक ही रखो.

सोलंकी बीएफ

यह संयोग मेरे लिये काफी फायदेमंद साबित हुआ जिसके कारण हम मेरा उस मकान मालिक की दूसरी बीवी बसंती से मिलना हो पाया. श्लोक और मैंने गोआ में एक और याराना मनाया जो कि एक बहुत ही रोमांचक घटना थी जिससे मैं आपको बाद में अवगत करवाऊंगा।जिन लोगों ने याराना को अभी से पढ़ना शुरू किया है वो कृपया इस कहानी के पहले भाग से लेकर पूरी कहानी पढ़ने के बाद ही यहां पर वापस इस कहानी को पढ़ने के लिए आयें. ”नहीं कल नहीं, व्हिस्की का मजा शाम को पीने में है, सात बजे पीना शुरू करो तो दस बजे तक पीते रहो.

मैंने तो तुम्हें एक अच्छा लड़का समझा था और बताओ तो तुम मेरे बारे में क्या सोचते हो?ये सब बोल कर भाभी चुप हो गईं.

मैं कोमल के ऊपर चढ़कर उसके होंठों को चूमने लगा और गर्दन को चूमने लगा.

बेबी रानी ने कहा- कुतिया सब ख़त्म … अब होंठों पर जो लगा हुआ है उसको चाट के साफ कर ले मादरचोद. जिया- भाभी आप क्या बोल रही हो?कोमल- देखो जिया … अब तुम भी जवान हो गई हो, आज तुम्हारे पास अपनी सेक्स की ख्वाहिश पूरी करने का सही मौका है. बॉलीवुड sexउनकी गुलाबी चुत का स्वाद खट्टा और नमकीन सा था, पर मदहोश करने वाला था.

मैंने उसके होंठों को सोनम के निप्पलों पर सटा दिया और वो उसकी चूचियों को पीने लगा. मगर अम्मी की वजह से मुझे ब्रा पहनकर स्कूल जाना पड़ता था, क्योंकि उस वक़्त भी मेरा फिगर 32-26-32 के आस पास रहा होगा. ”गुड्डी रानी धीमी सी आवाज़ में बोली- हाँ हाँ … दे दे सब माल मसाला … मैं वेट कर रही हूँ.

” अभी भी वसुंधरा के बायें हाथ की उंगलिया मेरे दाएं हाथ की उँगलियों में गुंथी हुयी थी और मेरा बायां हाथ वसुंधरा के बायें हाथ की पुश्त मुसल्सल सहला रहा था. मेरी सेक्स कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मैं और मेरे जेठजी, हालात की वजह से रसोई में एक दूसरे से चिपक कर खड़े थे.

उसका घेराव बड़ा सा था, उत्तेजना में चुचूक उठ खड़े हुए थे।हीना ने अपने दोनों हाथों को स्तन पर भरपूर गोलाई में घुमाया फिर अंत में हाथों से चुचूको को हलके से मसला और फिर अपने ही दांतों से अपने ही होठों को काट कर इस्स्स की आवाज निकाली, और फिर झुक कर उसने अपने गजब ढाते स्तन मेरे मुंह में चूसने के लिए दे दिया।मैं तो पहले से बेसब्र था, मैं स्तन चूसने लगा.

कहानी पढ़ते पढ़ते मेरी हवस ने मुझसे मेरी बुर को सहलवाना शुरू कर दिया. उसके मुँह से ये सुनते ही शीना भी नीचे से बाहर आ गई और वो संजना की गांड के बीच में अपना मुँह डालने लगी. फिर मैं थोड़ी देर के लिए मार्केट की तरफ निकल गया और अपने लंड को सहलाते हुए घूमने लगा.

अघोरी बाबा फोटो जैसा कि आप सब जानते हैं कि भले ही ये पोज़ इंटरेस्टिंग है, पर इस पोज़ में थकान भी जल्दी लगती है. ज़ेबा ने जैसे ही बाथरूम के दरवाजे को नॉक किया, मैंने दरवाजे ओपन कर दिया.

मेरा हाथ भी रवि के पेट से होता हुआ उनके पायजामे के अंदर उनकी चड्डी में चला गया. मेरी इस कहानी के पहले भागकामवासना की तृप्ति- एक शिक्षिका की जुबानी-1में मैंने आपको बताया था कि मेरी कहानियों की एक प्रशंसिका ने मुझे मेल किया और मेरे द्वारा लिखी सेक्स कहानियों की तारीफ की. मैं- साली रंडी कबसे बोल रही थी कि चुत फ़ाड़ दे … ले रंडी कुतिया ले … मेरा मूसल ले.

जानवरों की बीएफ वीडियो

तुम्हारे जीजा जी ने इस बार मालदीव में हमारे सम्मेलन का बंदोबस्त किया है … वो भी एक हफ्ते के लिए. मैंने कहा- मैं अकेले तो हमेशा ही सोता हूँ … आप मेरे पास आ जाओ, आप पास होगे, तो नींद भी आएगी और डर भी नहीं लगेगा. मैं हूँ शरद चोपड़ा … मेरी पहली कहानीश्रीनगर की लड़की की कुंवारी चूतसबको बहुत पसंद आयी।कुछ लोगों के मेल भी आये.

अब मुझसे रहा नहीं गया और मैं सीमांशी को नीचे पटक कर उसके ऊपर चढ़ गया. वो पूरा मन लगा लगा कर अपने पापा के लण्ड को चाट रही थी।कभी लण्ड के सुपारे को जीभ से रगड़ती और चूसने लगती। लण्ड के छेद को जीभ से छेड़ती। फिर लण्ड पर थूक कर अपने हाथों से मलती और फिर लण्ड को मुंह में भरकर चूसने लगती।रिया चूसते हुए बोली- डैड तुम्हारा लण्ड बहुत मस्त है। एकदम कड़क है.

मोनू फिर सीमा को बोला- तेरी फाड़ दें क्या?सीमा बोली- नहीं, अभी तो प्रियंका की फाड़ दो.

वो बोले- अच्छा जी, इतना पसंद करने लगी हैं क्या आप हमें?ज्ञान जी की पैंट में आकार ले चुके लंड पर मैंने हाथ से सहलाते हुए कहा- आप ही बेरुखे से हो रहे थे, मैं तो पहले दिन ही चुदने के लिए तैयार थी. फिर अंकल ने मम्मी की साड़ी को ऊपर उठा दिया और मम्मी को घोड़ी बना दिया. यदि आप एक औरत हो, तो कमेन्ट में जरूर बताएं कि क्या आप भविष्य में अपनी गांड मरवाओगी.

यदि आप भी आगे की कहानी जानने के लिए उत्सुक हैं तो थोड़ा सा इंतजार कीजिये. तब मैंने बड़े ही आराम से अपने लंड को हल्के हल्के से अन्दर डालता गया. वह तो मुझे सुबह पता चला जब मेरे साथ श्लोक था। उसने मुझे बताया कि यहां सब हैं और सबके साथ ऐसा खेल खेला है। तब मैं थोड़ी नॉर्मल हो पाई हूं.

अब तक की इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी और रोहित दोनों बाथरूम में थे.

सगी बहन की बीएफ: खैर … मैं अपने घर अपने पैतृक गांव गई हुई थी, तो मैं अपने खेत घूमने को चली गई. मैं एक हाथ से उसकी गांड दबा रहा था और एक से उसके बूब्स को मसल रहा था.

लेकिन पहले तीन गिलास, ठंडा पानी और थोड़ा नमकीन ला कर दो … हम सब बैठ कर पीते हुए आपस में बात करेंगे. मैंने समय न गंवाते हुए अपना फनफनाता हुआ लंड उनकी चूत के मुँह पर जैसे ही लगाया, नीचे से भाभी खुद गांड उठा कर धक्का लगाने लगीं. मैं उन सबकी हवस भरी नज़रें और डांस करते हुए मेरे हिप्स को छूने से ही उनके इरादे भांप गयी थी.

उसने मेरा पैंटी को नहीं निकाला … पर अब उसने अपना कुर्ता और पज़ामा निकाल दिया.

मैंने ब्रा तो पहनी ही नहीं थी, तो एक खलासी चिल्लाया- गुरू … इसने ब्रा नहीं पहनी है. हकीकत यह है कि मैं तुम पर फिदा हो चुका हूँ और हर हाल में तुममें समा जाना चाहता हूँ, एक बार सिर्फ एक बार. मैंने लन्ड पहली बार देखा था तो मैंने सोनल से पूछा- ये क्या है?तो वो बोली- इसे लन्ड कहते हैं, यहाँ से लड़के सुसु करते हैं.