वीडियो चलने वाली बीएफ

छवि स्रोत,राजस्थानी सेक्सी वीडियो दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी नंगे में: वीडियो चलने वाली बीएफ, कोई 6 महीने बाद उसके पति का ट्रांसफर हो गया और अब वो मुझसे दूर चली गई है.

बारा राजकुमारी की कहानी

अब मैं निम्मी की बुर को सुपाड़े से लेकर जड़ तक के लम्बे लम्बे धक्के देकर चोदने लगा. తెలుగు సెక్స్ ఓపెన్फिर उसको घुमा कर उसकी पीठ पर किस करने लगा और सामने उसके 34 साइज के चूचे दबाने लगा.

वो बोली- सर आपने वीर्य अन्दर क्यों डाल दिया?मैं मुस्कुराया और उसे पास की मेज़ से टेबलेट देते हुए कहा कि रख लो, अब तुम्हें इसकी ज़रूरत पड़ती रहेगी. सेक्स सेक्स मूवीफिर भाई की नज़र सामने की पहाड़ी पर पड़ी … वहां से एक रास्ता था जो ऊपर किसी गाँव की तरफ जा रहा था.

मैंने कहा- मैं तुमको पूरी तरह से जान न लूं, तब तक कैसे तुम्हारे साथ खुल सकूँगा.वीडियो चलने वाली बीएफ: वो जरा सी मुस्कुराईं और बोलीं- मैं अपना नाम नहीं बताऊंगी, तो आप मेरा नाम क्या रखेंगे.

मॉम- क्यों?पापा- वो बोला था कि तेरी बीवी ने यार पूरा मजा नहीं दिया था.मैं सोच रही थी कि मैंने उसको हां तो बोल दिया मगर मैं आज जाकर उसको गैर मर्द से अपनी चूत चुदाई करवाने के लिये मना कर दूंगी.

सेक्सी ओपन सेक्सी ओपन सेक्सी ओपन - वीडियो चलने वाली बीएफ

तभी मैंने उसकी चादर को अचानक से हटा दिया और वो अपने हाथों से अपने नंगे जिस्म को ढकने लगी.और जब चाची बहुत देर तक वापस नहीं आई तो मुझे डर लगने लगा और मैं भी पापा के कमरे की तरफ चल दिया.

चार साल तक बिना सेक्स संतुष्टि के जीवन गुजारना काफी मुश्किल रहा होगा उनके लिए. वीडियो चलने वाली बीएफ लंड चूसते हुए वो बोली- मुझे नहीं पता था कि लंड चूसने में इतना मज़ा आता है.

’मैंने उसे हल्का धक्का दिया और अपना वीर्य उसके मुँह और मम्मों पर झाड़ दिया.

वीडियो चलने वाली बीएफ?

मैंने सहमति में गर्दन हिला दी तो वो मुझे हाथ पकड़ कर एक कमरे की तरफ लेकर जाने लगी. फिर रवि ने मुझसे बोला- आज आप हमारे मेहमान हैं … आप भी अपने कपड़े उतार दीजिए. उस हॉस्टल में देश विदेश की मस्त और गर्म लड़कियों को देख कर मेरा लंड बार बार अपनी चरम सीमा पर खड़ा हो जा रहा था, लेकिन बेबसी में मुझे लंड को सिर्फ हिला कर ही शांत करना पड़ रहा था.

मैंने आंटी की हालत देख कर उसकी चूत के मुंह पर अपने लंड के सुपारे को लगा दिया और एक झटका देते हुए आंटी की चूत में लंड को उतार दिया. उसके दो दिन बाद ही मैंने उनको पूछ लिया कि भाभी आपके पति इतने दिन बाहर रहते हैं, तो आपको उनकी याद नहीं आती. मैंने सोते सोते महसूस किया कि कोई मुझे जगा रहा था, पर मैं इस वक्त थकान के कारण इस हालत में नहीं था कि जाग सकूँ.

मेरा भी बहुत मन था अपनी चूत में लंड लेने का; दो महीने से बॉयफ्रेंड नहीं चोदा नहीं था. फिर वो मुझसे बोला- साली रंडी पहले तो नखरे दिखा रही थी और अब लंड के मज़े ले रही है. अब मैंने थोड़ी हिम्मत की और उसके करीब आकर उसको अपनी बांहों में भर लिया.

इस बार मैंने नूर को घोड़ी बनाया और उसके पीछे आकर पूरा लंड एक बार में ही उसकी चूत के अंदर डाल दिया. मैंने आगे बढ़कर उसके चेहरे को हाथों में लेकर चूम लिया, फिर मैंने कहा- शीनू एक बात बताओ … क्या तुम मुझ पर विश्वास करती हो?उसने हां में सिर हिलाया.

सुबह 4:00 बजे उठकर सुजन उसकी चुत में फिर से लंड पेला, तो वो फिर से गांड उठा उठा कर मजा देने लगी.

मैं परिवार में अकेला हूँ, इसीलिए मॉम डैड ने मुझे पूरी आजादी दी हुई है.

मैं उसकी गांड पकड़ कर जोर से अपनी गांड ऊपर कर देता, ताकि मेरा लंड उसकी चूत में गहराई में समा सके. जैसे ही लंड अन्दर घुसा, मॉम की एक हल्की सी आह निकली और उन्होंने पापा के लंड को अपनी चुत में गायब कर लिया. इसलिए बिना परिणाम की परवाह किये मैं उस रास्ते पर चला जा रहा था जहां से मेरी जिन्दगी में ऐसा बदलाव आने वाला था जो मैं कभी सोच भी नहीं सकता था.

अब मैं ये जानना चाहता था कि आखिर दीदी प्राची से इतनी लंबी बात क्यों करती हैं. रात को मैं अपने कमरे में तनु की ब्रा पेंटी और एक लाल सलवार सूट दुपट्टा लेकर घुस गई. मैं बोला- यस मॉम!फिर मैं नाश्ता और जूस खत्म करके मॉम को बाय करके कॉलेज के लिए चला गया।कॉलेज में मेरा मन लग ही नहीं रहा था.

मैंने स्पीड बढ़ा दी और 15-20 धक्कों में हम दोनों का साथ पानी निकल गया.

मैंने उससे पूछा- क्या तुम मेरे लंड को मुँह में लोगी?उसने झट से छी … बोला. Nangi Chuchiउसके मक्खन से नर्म सुर्ख गुलाबी दो मम्मे मेरे सामने थे, पर उससे भी ज्यादा उस मम्मे के ऊपर एक सुंदर सा तिल था, जिसको देखते ही मैं जोर से बोला- अरे ब्यूटी स्पॉट!मैं दोनों से लिपट गया. बरखा कहने लगी- इस कच्छी को निकालने के लिए तुम क्या पंडित के मुहूर्त का इंतजार कर रहे हो?इतना कहते ही मैंने बरखा को अपनी गोद में उठा लिया और उसे वहां टेबल के ऊपर बैठाया, उसकी टांगों को फैला कर उसकी कच्ची को उसकी गांड से अलग कर दिया.

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वो सच में अपने दोस्त से मेरी चूत को चुदवाने वाली है. उसकी बात से मैं पहले तो डर गई और बोली- नहीं तुम अकेले ही आना … किसी और को मत लाना … कहीं मेरे पति को पता चल गया, तो उन्हें बहुत गुस्सा आएगा. इसी बीच मैंने धीरे से अपनी एक उंगली उसके चूत में घुसा दी, उसे बहुत दर्द हुआ.

मैंने उसको अपने बेड पर गिरा दिया और उसकी चुचियों पर अपने होंठ जमा कर निप्पलों को पीने लगा.

वो 69 की स्थिति बनाते हुए मेरे ऊपर आकर अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी … और लंड खुद के मुँह में भर लिया. लेकिन मेरी बीवी अकेली बच्चे को सम्भाल पाने में कठिनाई महसूस कर रही थी तो उसने दोबारा उस लड़की को बुला लिया.

वीडियो चलने वाली बीएफ अपनी सलहज की अच्छी चुदाई के बाद मुझे नींद आ गई और सुबह काव्या ने मुझे चाय देने के बहाने उठाया. जाते जाते उसने सबके सामने मेरे होंठों के पास चूम लिया और कामुक हंसी के साथ चली गईं.

वीडियो चलने वाली बीएफ मैं बहुत सेक्सी टाइप का आदमी हूँ, चुदाई का दीवाना हूँ … पर मुझे चुत मिलती ही नहीं थी. मैंने मिष्टी से कहा- मैं तुम्हारे पास एक दोस्त बन कर उस समय आना चाहता हूँ, जब तुम्हारी मम्मी घर पर हों.

तभी मैंने उससे पूछा- वकील साहब का टेस्ट करवाया?तो वो बोली- उनको अपने में कोई कमी नहीं लगती.

सेक्स कॉम सेक्सी व्हिडीओ

उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, ऐसा लग रहा था जैसे उसने मेरे लिए ही अभी-अभी शेव की हो. सोच रहा था कि जब पैसे ही खर्च करने हैं तो किसी सेक्सी चूत की चुदाई ही करूंगा. एकता बोले जा रही थी- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … आआहहह … येयेहह … जोर से … और जोर से चोदो मेरे भैया राजा.

वो बोल रहे थे- मैं तो आज पूरी तैयारी के साथ आया था सरदारनी की चुदाई करने के लिये! पर अब तो तुमसे पहले शादी ही करेंगे, उसके बाद सुहागरात मनायेंगे. शाम हुई तो मैंने फोन से मैसेज कर दिया कि मैं अपने कमरे में ही आपसे मिलूंगी. मैं अपने घर में पजामा और टीशर्ट पहनती थी, रात को सोने से पहले मैं शॉर्ट्स पहन लेती थी.

अचानक ही वो मेरे घुटनों के बीच में बैठ गई और अपने घुटनों के बल होकर उसने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया.

वो मेरे निप्पलों को दांतों से काटने लगे तो मैं जैसे पागल ही हो उठी. उस समय मेरी भाभी (मेरे दोस्त की पत्नी) अपने दोनों बच्चों के साथ अलग रहने लगी. मैं लंड को सीमा के मुँह के पास लाया और अपने हाथ से मुठ मारनी चालू कर दी.

उसके लंड के पानी इतना ज्यादा निकला था कि मेरी पूरी चूत भर गई थी और रस बाहर निकलने लगा था. एक दो मिनट तक उसने मेरे लंड को अपनी चूचियों के बीच में दबाये रखा और मैं लंड को रगड़ता रहा. फिर वो बोली- आपकी शादी हो गयी है क्या?मैंने कहा- नहीं, अभी तो कुंवारा हूं.

घर आकर रात को मैंने अपनी सौतेली माँ की चुत में लंड पेला और उनकी गांड मारी. ऐसे में जब अस्पताल में एक साथ कई बच्चे पैदा हो रहे होते हैं तो कई बार नर्स या पीडियाट्रिक डॉक्टर की गलती से बच्चे की अदला बदली हो जाती है.

मैंने हां कर दी, लेकिन मुझे मालूम था कि मिष्टी इस बात से मानेगी नहीं, वो पूरे समय पर इस ग्रुप सेक्स का हिस्सा बनेगी. मैं भी नीचे आ गया और लंड को भाभी को बिस्तर पर बिठा कर उनके मुँह से लंड को लगा दिया. कोई पन्द्रह मिनट बाद उसके घर से सब चले गए और उसके पापा मम्मी और दोस्त को मैं बाय करके अपने घर चला जाऊंगा, मैंने ऐसा उन सभी को दिखाया.

मन करता है कि तेरे मुंह में ही लंड को रखूं और तू सारा दिन इसको चूसती रहे.

हम चारों बारी-बारी से फ्रेश हुईं और फिर मेघा और सुरेखा अपने घर वापस चली गईं. हम दोनों साथ में गए और मैंने उसके ड्राईवर के साथ जाकर उसी एरिया में एक होटल में रूम बुक किया और निशा को गुड नाईट विश करके विदा ले ली. जिससे अब मुझे भी लगने लगा था कि मेरा लंड कोई मांस का अंग नहीं, बल्कि पत्थर का ही टुकड़ा है.

मैंने उससे पूछा- क्या प्लान है?उसने कहा- बाद में … अभी सब जाग रहे हैं. क्या गजब का जिस्म था उसका … हुस्न की रानी … कसा हुआ जिस्म और टाइट कुंवारी बुर!अब मैं थोड़ा बॉडी लोशन लगा कर आशी की अनचुदी बुर में उंगली अंदर बाहर कर रही थी.

करीबन दस मिनट तक मैंने और मेघा ने उन दोनों की चूत को चाटा और वो दोनों गांड को उठा-उठा कर एकदम से झड़ने लगीं. दोस्तो, मैं अपनी ग्रुप सेक्स कहानीगाँव की कुंवारी चुत की वासनाका दूसरा भाग आपके लिए पेश कर रहा हूँ. मैं उसकी कुंवारी बुर में उंगली किये जा रही थी और उसके मक्खन जैसे रसीले ओंठ चूस रही थी.

ब्लू फिल्म सेक्सी दिखाएं हिंदी में

प्रीति ने नौकरानी की चूत को बेपर्दा करने के लिए उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी छोटी सी पैंटी को खींच कर निकाल दिया.

मुझसे रहा नहीं गया, मैं जल्दी से बाथरूम में घुस गया और लंड हिलाने लगा. फोन करने वाले ने अपना परिचय देते हुए बताया कि उनका एक बेटा है जो तलाकशुदा है. कुछ देर होंठ चूसने के बाद मैं हेमा चाची की चुचियों को ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लगा.

तो उसने भरे गले से कहा- न जाने कब से इस लाइन को सुनने के लिए मेरे कान तरस गए थे … राज मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. फिर 6 महीने के बाद मैंने एक दिन हिम्मत करके उसको अपने दिल की बात बोल दी. ब्लीच करने से क्या होता हैमैंने शीनू के चुम्बन लेने लगा और उसके सुडौल गोल चुचियों का रसास्वादन करने लगा.

इतनी देर में उसका हाथ मेरे लोअर पर आ गया था और वो मेरे लोअर के ऊपर से ही लंड को पकड़ कर भंभोड़ रही थी. फिर दो महीने बात करने के बाद एक दिन मिलने के लिए क्लास बंक करके रविदास पार्क में मिलने गए.

फिर अगले दिन उसका मैसेज आया- थँक्स फॉर हेल्पिंग मी।मैंने उसको इट्स ओके बोला. हमने बहुत हसीन चुदाई की।मेरी कहानी आपको कैसी लगी, मेल करते रहें, ऐसे ही प्यार बनाये रखें. फिर मैंने लंड का सुपारा भाभी की चुत के छेद में फंसाया और एक ही झटके में ही उनकी चुत में अपना लंड डाल दिया.

मैंने उसको बांहों में लिया और एक बार में ही पूरा लंड चुत में उतार दिया. मैंने खुली शीशी को हाथ में लिया और लंड का सुपारा भाभी की गांड में सैट कर दिया. तभी हमारी गाड़ी एक शराब की दुकान और बार के सामने से निकली, तो उन्होंने गाड़ी रोक दी.

अगले दिन राजेश की जेठानी मेरे कमरे में आयी और बोली- कैसी रही हमारे घर में पहली रात?मैंने कहा- बहुत अच्छी थी.

मामी ने अपना पल्लू गिरा कर अपने दूध दिखाए और कहा- अच्छा … नीचे से बहुत निकलीं, मतलब पलंग कुश्ती बहुत खेल चुके हो. इतना सुनते ही उसने कहा- यार अभी तो खेलने खाने की उम्र है … इतनी जल्दी शादी क्यों कर ली?तब मौसा जी बोले कि साहिल की माता जी बीमार रहती हैं … इसलिए इसकी शादी जल्दी हो गयी.

तभी अन्दर से दो लोगों की कराहने की आवाज ‘आआह … आआ … ईईहहह …’ आने लगी. थोड़ी देर बाद मॉम की कमरे से आवाज आई- अर्जुन बेटा, बेडरूम में आ जा!मैं बेडरूम में गया. मेरे हिसाब से चाचा चाची को पेलने के लिए ही आते थे और उनको पेलकर सुबह चले जाते थे.

शरीर भले ही पतला हो लेकिन जो चीज मोटी होनी चाहिए उसका साइज बहुत अच्छा है. जब उसकी नजर मेरे पर पड़ी, तो तुरंत ही अपनी चुचियों को तौलिये से ढक लीं और शर्म के मारे अपनी आंखें बन्द करके अपना सर नीचे झुका लिया. एक दिन मैंने पुष्पा को बोला- मुझे आपसे मिलना है, हम कब मिल सकते हैं?उन्होंने बोला- मैं किसी से नहीं मिलती.

वीडियो चलने वाली बीएफ कभी वो अपनी चूत को अपने हाथ से सहला रही थी और कभी मेरे ऊपर झुक जाती थी. मैंने उसके हिजाब को उतारा और फिर उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिया.

सुहागरात की वीडियो सेक्सी बीएफ

मॉम ने मेरा इशारा समझते हुए चाची को हाथ से धकेलते हुए चित लेटने के लिए कहा. उन्होंने एक दूध अपने हाथ से पकड़ कर मेरे मुँह की तरफ बढ़ाया और कहा- लो चूसो. अब आगे:आगे की सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको फिर से बताना चाहता हूं कि अंतर्वासना को पढ़ते हुए मुझे 7 साल हो गए हैं … और कहीं ना कहीं इसकी कहानियों को पढ़कर मैंने बहुत सी लड़कियों और महिलाओं से सेक्स किया है.

मेरी बॉडी वैसे जिम वाले बन्दों की तरह टोन्ड नहीं है और न ही मेरे सिक्स पैक एब्स निकले हुए हैं लेकिन फिर भी वो मेरी तरफ आकर्षित होती थी. (मेरे घऱ में मुझे सोनू कह कर ही बुलाया जाता था)मैंने महसूस किया कि मोसी मेरे कंधे को इस तरह से सहला रही थी जैसे वो मेरे शरीर की मजबूती को जांच रही हो. किन्नर के गुप्त अंगवैसे जो लोग गुजरात में रहते होंगे, उन्हें तो पता ही होगा कि अहमदाबाद से राजकोट की दूरी अपनी गाड़ी से मुश्किल से चार घंटे का रास्ता है, पर बस में पांच से छह घंटे लगते हैं.

लंड रस की एक दो बूंदें उसके होंठों पर लगी थीं, जिसको वह बड़ी अश्लीलता से जीभ से चाट कर खा गयी थी.

फिर मैंने बात को बदलते हुए निम्मी से पूछा- अरे खूबसूरती की दुकान, तुमने अपना बर्थ-डे का दिन और प्रोग्राम तो बताया ही नहीं. क्या देखता हूँ कि एक हौंडा सिटी रुकी है और आशिमा उस कार से उतर रही थी.

लेकिन काफी मनाने के बाद मैंने उससे वीडियो कॉल पर बात करने की कही, तो वो कुछ दिन बाद वीडियो पर बात करने के लिए मान गई. राजेश की देवरानी ने मुझे बताया- तुम देखने में अब राजेश की घरवाली लग रही हो. मैंने रास्ते में उसके लिए खाने का कुछ सामान लिया और उसके घर की ओर चल दिया.

मिष्टी ने अपनी मम्मी से मेरा परिचय अपने साथ पढ़ने वाले लड़के के रूप में कराया.

मेरी दीदी की चुत का भोसड़ा और गांड का गड्डा बना कर वो तीनों लोग थोड़ी देर बाद हंसते हुए बाहर चले गए. कुछ पल तक मैंने उसके दोनों निप्पलों को भी बार बार से अपने मुँह में भर कर चूसा. यह बोल कर हमने भाभी की चूत पर लंड को एक दो बार रगड़ा और फिर उसकी चूत में लंड को घुसा दिया.

मेरा भी मन उससे चुदवाने कासुषमा आंटी ने मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए कहा- मुझे तुमसे कुछ ख़ास बात करनी है. … प्लीज़ रहने दो … मुझे बहुत दर्द हो रहा है … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे छोड़ दो.

बीएफ मूवी सेक्सी हिंदी

तभी मेरे दिमाग में एक तरीका आया, मैं बोला- मॉम, टीवी से बोर हो रहा हूं, कोई अच्छा प्रोग्राम भी नहीं आ रहा है. वो बोली- मामी को क्या बोलोगे?मैंने बोला- तुम पेट दर्द की शिकायत बोल देना. उसे देख कर मुझे याद आ गया कि अपनी कजिन से जानकारी करूं कि क्या हुआ था, तुम उस समय वहां से ऐसे क्यों भाग गई थीं.

करीब 10 मिनट की चुसाई के बाद मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चूत चुसवाने लगी. चाची बोली- ये क्या कर रहा है!मैंने उत्तेजना में उनकी गांड पर लंड लगा कर कहा- चाची, बस एक बार करने दो. उसके जिस्म से चिपके हुए कपड़ों में से झलकता छोटा सा निप्पल याद आ गया.

सुजन को अलग ले जाकर मैंने कह दिया- भाई तेरी चमन चुत चुदाई के लिए राजी हो गई है. मैं नींद में था … मैंने बाथरूम का दरवाजा खोलने की कोशिश की, तो बंद था. मैं दिखने में बहुत ही आकर्षक हूँये कहानी एकदम सच्ची घटना पर आधारित है.

मैं चुदाई करते करते अपने दाहिने हाथ से अंजना के पैरों को सहलाने लगा. और जैसे ही मैंने योनि में उंगली डाली, मुझे लगा कि वो सातवें आसमान पर चली गयी और ‘जोर से … और जोर से …’ करने को बोले लगी.

वो चाय बनाने रसोई में चली गई।तब तक मैंने टी वी ऑन किया और मूवी देखने लगा।जब वो चाय लेकर वापस आयी तब मूवी में एक गरमागरम सीन चल रहा था.

उसे गांड मराते हुए देख कर आंटी की हिम्मत भी बढ़ गई और उन्होंने ख़ुद कुतिया बन कर मेरे लंड को अपनी गांड में फिट करवा लिया. छोटे बच्चे की साइकिल बताइएकपड़े की लंबाई महज इतनी कि जैसे बस चड्डी को बहुत मुश्किल से छुपा रही हो. छोटी लडकी सेक्सजैसे-जैसे मेरी जीभ चाची की चूत में जा रही थी, उसके साथ ही उसके मुंह से सीत्कार और ज्यादा तेज हो रहे थे. यह जवाब सुनकर तो मेरे लन्ड जबरदस्त खुशी के मारे अंडरवियर में कूद रहा था.

मैं बीयर पीना छोड़ कर मौसा जी से बोला- मौसा जी वहीं चलते हैं, खाना-पीना भी शुरू हो गया होगा.

शादी के कुछ दिन बाद मेरे पापा को उनके ऑफिस अमेरिका में जाना पड़ा तो वो अकेले ही चले गए थे. वैसे भी सब मज़े एक साथ खत्म हो जाते, मैं तो आराम सब ट्राय करना चाहता था।कुछ देर में वो कॉफी लेकर आई और हमने काफी एन्जॉय की. उसके मुंह से सिसकारी फूट पड़ी- अहह्ह … हाह … आ … ऊँ।अब मैंने उसकी चूत के साथ खेलना शुरू कर दिया.

हाल यह था कि सारा दिन टट्टे भारी रहते और जब भी खाली होता, मन में चूत का ही ख्याल आता. मैंने भाभी को उठाया और उनके गाल पर एक चांटा खींच दिया- साली छिनाल बहुत गर्मी है … भैन की लौड़ी तुझमें … आज तेरी सारी गर्मी न निकाल दी तो कहना … आज तेरी चुत का भोसड़ा बना दूंगा. वो खुश होकर पूछने लगा- कब?मैंने बोला- मैं एक दो दिन में उसे लेकर आता हूं.

ப்ளூ ஃபிலிம் திரைப்படம்

मैंने उन्हें सीधा किया और अपने लंड को उनकी चूत में सैट करके एक जोर से धक्का मार दिया. वो बोले- क्या तुम शादी के लिये तैयार हो?मैंने कहा- हम शादी ऐसे कैसे कर लेंगे?तभी उन्होंने अपने बैग में से कुछ छोटी छोटी लकड़ियाँ निकाल ली और कहने लगे- मैं आग जलाने लगा हूँ. इतना बोल कर वो भी कम्बल में मेरे पास लेट गयी और टीवी चालू कर दिया।मेरे पैर उनके पैरों से सटे थे और मुझ पर सेक्स का सुरूर चढ़ने लगा था। मैंने उनसे पूछा- मौसा कैसे हैं?मोसी बोली- उनकी बात तो करो ही मत, वो तो हमेशा ही बाहर रहते हैं.

वह बेड पर सीधा लेट गया, मैं अपने घुटनों को मोड़कर उसके ऊपर जाकर बैठ गई.

मैं बोला- तो अब क्या करोगी?वो पास आकर बोली- तुमसे प्यार … थोड़ा तुम भी कर लेना.

इस सेक्स कहानी को आगे लिखने से पहले मैं आप सबको अपने और अपनी वाइफ के बारे में बता देता हूँ. मेरे दिमाग में एक आईडिया आया कि गर्लफ्रेंड को चोदने का इससे अच्छा मौका मुझे नहीं मिलेगा. फॉरएवर 21चूत में लंड का मजा वो चीज है जिसे पाने के लिये अच्छी खासी पढ़ी लिखी लड़की समझदार नंगी होकर टांगें पसार लेती है, कुतिया बनकर खड़ी हो जाती है लंड लेने को.

कैसे?अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम राहुल यादव है. फिर मैंने देखा उसके चेहरे में थोड़ा सुकून था, तो मैं धीरे धीरे लंड को आगे पीछे करने लगा. फिर मैंने बाथरूम जाकर अपने आपको साफ किया और बाहर आकर मॉम के साथ लिपट कर लेट गया.

वो पूरे चरम सीमा पर थी, पर मुझे लगा कि उसकी चूत काफी ढीली हो चुकी थी. फिर उन्होंने मुझसे अचानक से पूछा- आपकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?इस पर मैंने मना कर दिया तो भाभी बोलीं- यार आप तो इतने स्मार्ट और गुड लुकिंग हो … और कोई गर्लफ़्रेंड नहीं है … ऐसा हो ही नहीं सकता.

तो मैंने उसके पापा को कहा- रुक जाओ थोड़ा!वो थोड़ा से रुके … फिर थोड़ा सा और पेला अंदर.

मैंने अलमारी से एक टाईट पिंक कलर की लेडीज़ सेक्सी हाफ पैंट, जो लेडीज पैंटी से थोड़ी सी लंबी होती है और जो शायद मॉम बेडरूम में जब पापा होते थे, तब ही पहनती होंगी. मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था, लेकिन चुचियों की मसाज से ही मैम शायद दो बार झड़ चुकी थीं. ब्रा खुलते ही उसके मम्मे कबूतरों की तरह फुदकते हुए खुली हवा में सांस लेने लगे.

नई सेक्सी वीडियो पंजाबी थोड़ी देर में उसके लंड का साइज़ और भी ज्यादा बढ़ने लगा और मुँह से बाहर आने लगा. ज़िया मुझसे इन्हीं सब बातों को करके अपना दुःख मुझसे बांट कर बहुत हल्का महसूस करती थी.

कुछ ही देर में भाभी मेरा पूरा लंड अन्दर लेने की कोशिश करने लगी थीं. पहले तो मैं अपनी फिगर को ठीक ठाक रखने के लिये मैं रोज़ एक्सरसाइज करती थी. मैंने उसकी आंखों में देखा और देखते ही देखते हम दोनों के होंठ आपस में मिल गये.

सेक्सी पोर्न विडीओ

फिर बाद में वो अपने दोस्तों को लाता और वो लोग मुझे रंडी बना कर चोद देते. एक दो बार मैंने लड़कों से भी अपना लंड चुसवाया था मगर लड़की के मुंह से लंड चुसवाने का मजा कुछ और ही होता है. कोमल- यूँ ही … या कुछ पसंद आ गया है?यह कह कर कोमल शरारत से मुस्कुरा दी.

चाची बोली- अभी ला रही हूँ भैयाजी!और उसका बाद चाची उठ कर चली गयी।उन्होंने फ्रीज़ से पानी की एक बोतल निकली और पापा को देने चली गयी. मैं जिसको भी तेरी चुत चुदाई के लिए लाऊंगा, तुम बस उससे अपनी चुत चुदवा लेना.

फिर मैंने भाभी के पेटीकोट को उतार दिया और उसकी जांघों पर किस करने लगा.

मैंने उसकी गीली क्लिट पर अपना हाथ रखा और उसने मेरे लंड पर हाथ जमा दिया. मैंने भी उसका साथ दिया और कुछ देर चुम्मा चाटी के बाद मैंने उसको अलग करके पूछा- इतनी देर से क्यों?उसने बोला- दीदी, अभी सोई नहीं थी. तभी मॉम की नज़र मेरी हाफ पैंट पर गई जहां मेरे लन्ड एकदम बाहर निकल रहा था.

मैंने अपना सारा पानी भाभी की चूत में छोड़ दिया और उनके ऊपर ही लेट गया. मेरी ये बात भाभी को जम गई थी और वो बड़ी आसानी से मेरे साथ सैट होने को राजी हो गई थीं. मैं उसका एक निप्पल चूस रहा था और मेरा दूसरा हाथ उसके दूसरे दूध को दबोचे हुए था.

सच में बड़ी मस्त चूचियां थीं, आज तक मैंने वैसे मम्मों का मजा कभी नहीं लिया.

वीडियो चलने वाली बीएफ: उसके बाद का जो भी टाइम उसको दिया जाता है वह उसके आनंद को और बढ़ा देता है. कुछ मिनट बाद मैंने चाची के मुँह में ही पानी गिरा दिया और बाहर चला गया.

इसके बाद जब मम्मी ने मामा से मेरे इस निर्णय की बात कही होगी तो मामा नाराज होने लगे. उसने जाते समय मुझसे कहा- जब भी तुम लोगों का मन हो, तो मुझे बुला लेना, मैं तुम दोनों के साथ चुदने के लिए राजी हूँ. फिर वो गाली देकर कहने लगी- साले, तूने तो मेरे अन्दर ही दही जमा दिया … मैं तेरे बच्चे की माँ बन जाऊंगी कमीने.

इसी बीच मैंने धीरे से अपनी एक उंगली उसके चूत में घुसा दी, उसे बहुत दर्द हुआ.

प्रीति ने नौकरानी की चूत को बेपर्दा करने के लिए उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी छोटी सी पैंटी को खींच कर निकाल दिया. हम दोनों के बीच चुदाई को लेकर इतनी खुल कर बात होने लगी थी, जैसे हम दोनों एक दूसरे से सब कुछ बता देना चाहते हों. मैंने उसकी पैन्टी को सूंघ कर देखा तो उसकी चूत की खुशबू काफी अच्छी लगी मुझे.