बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला

छवि स्रोत,ब्लू सेक्स ब्लू वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

2002 की बीएफ: बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला, घर पहुंचते ही उसने नए फ़ोन के लिए पूछा तो मैंने अगली बार दिल्ली से लाने की बोला और सुबह वाली ट्रेन से वापस दिल्ली आ गया.

छत्तीसगढ़ का बीएफ

इसके बाद एना ने खुद भी खुद अपनी टांगें खोल कर मुझे लंड पेलने का इशारा किया तो मैंने आसन में आते हुए अपना खड़ा लौड़ा एना की चूत में डाल कर मजा लेना शुरू कर दिया. क्सक्सक्स सेक्सी वीडियो देसीउसे और ज्यादा मजा आने लगा और कमर उठा उठा कर चुत में उंगली लेने लग गई.

फिर मैंने उनका पज़ामा भी खोल दिया और अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में थीं. छोटी बहन की चुदाई का वीडियोमत डालो…पर वो बोले- शुरू में दर्द होगा, पर बाद में मज़ा आएगा तो थोड़ा सहन करो.

भाभी ने मुस्कुरा कर मेरी आँखों में देखा और बोलीं- हैप्पी होली इन एडवांस.बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला: पहले ही दिन मैंने ऑफिस में एक लड़की से पूछा कि क्या कोई खाना बनाने वाली मिल सकती है, जो घर का सारा काम भी कर सके.

मेरे लंड के झटके के साथ आंटी अपने मुँह से मादक सिसकारियां निकालते हुए मुझे साथ देने लगीं.उसने पूछा- मुझे कब करोगे?मैंने कहा- रात को!वह खुश हो गई और वहां से चली गई.

ब्लू चालू - बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला

मैं एक हाथ से अपने लंड को पकड़ कर थोड़ा सा आगे की तरफ झुक गया और अपने सुपारे को उसकी चुत की दरार पर लगा दिया, जिससे प्रिया ने एक आह … भरी और अपनी टांगों को थोड़ा और फैला लिया.पर मैं अपनी योनि तब तक रगड़ती रही, जब तक कि मैं पूरी तरह स्खलित न हो गयी.

जब मुझे पता लगा, तो मैंने कहा कि उसे कल घर पर बुलाओ, मैं उससे मिल कर सोचती हूँ कि क्या करना है. बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला मुझे उन पर कुछ शक हुआ तो मैंने पूछा- क्यों प्रीति सब ठीक तो है ना?वो हड़बड़ाकर बोली- हाँ भाभी, सब ठीक है। मैं तो टॉयलेट गयी थी और आपकी आवाज़ से डर गयी.

वह अपने चूतड़ उठा उठा कर मेरे लंड पर पटक रही थी और पूरा मजा ले रही थी चूत चुदाई का!उसकी चोदन क्रिया देख कर मेरे मुंह से सिसकारी फूट पड़ी, कसम से इतना मजा मुझे चुदाई में कभी नहीं आया था जितना मजा मुझे नेहा मुझे ड़े रही थी.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला?

मैंने उसके चेहरे को बार बार चूम डाला और उसके पैरों के पास जा बैठा और उसकी पिंडलियां पकड़ कर पांव ऊपर उठा कर घुटने मोड़ दिए. शाम को उसका फोन आया तो मैंने कहा कि लैटर मेरे पास सुरक्षित हैं, तुम चिन्ता मत करो. ये महक सुपारे की थी, जोकि मेरी नाक में घुसने लगी और मैं कुछ मस्त हो गयी.

एक औरत का दूसरी औरत से मिलने में ज्यादा हिचकिचाहट नहीं होती, जैसा कि मर्दों से मिलने में होती है. इधर मेरे बदन में खून की रफ़्तार तेज हो गयी मेरी कनपटियां तपने लगीं और लंड धीरे धीरे अकड़ने लगा. इतना मजा करने के बीच में हम दोनों ने एक दूसरे से एक भी शब्द नहीं बोला था.

यह सोच कर पीछे के छेद को भी हल्का और साफ कर लिया ताकि किसी तरह का प्रेशर न बने। पिछली बार में तो मरवाने के टाईम ऐसा लग रहा था कि निकल ही जायेगा।”यह अच्छा किया क्योंकि शुरुआत में ऐसा होता है।”हां. स्त्री काफी मोटी ओर लंबी चौड़ी थी, वहीं मर्द का शरीर किसी पहलवान की तरह था. उस दिन बड़े दिनों के बाद चुत मिली थी और वो भी कुँवारी बुर का मजा मिला था.

दीमा ने अपने मूसल लंड से मेरी पतिव्रता पत्नी की चूत को टहोकना शुरू कर दिया. अपने हाथों से आंटी के आमों को मसलते हुए मैं अपनी गांड को गोल गोल घुमाता रहा.

मयूरी- अच्छा… तो आपको मजा आया पापा… अपनी बेटी की गांड मारकर?अशोक- हाँ बेटा… बहुत ज्यादा मजा आया… इतना मजा तो तुम्हारी माँ की गांड मारकर भी कभी नहीं आया.

बस माइक ने फिर देर न करते हुए हाथ बाहर हटाया और मुनीर के कंधों को पकड़ एक जोरदार झटका दिया.

कुछ ही देर में बहूरानी दो पेपर कप्स में चाय ले के आ गयी और कुर्सी डाल के मेरे पास ही बैठ के चाय सिप करने लगीं. उसकी बातों से मेरा ध्यान क्या भटका कि तभी अंकित अपने लंड को मेरी चूत के मुहाने में रखकर एकदम से लंड पेल दिया. मैंने बोला- इतना क्या है रीना यहां?उसने बोला- वो जो उनके दोस्त आने वाले है, उनके लिए पार्टी अरेंज की है, ये सब उसी की तैयारी हो रही है.

मेरे यह पूछने पर कि ‘उनके पति’, वह बोली- अब आठ बजे से पहले नहीं उठेंगे, सो डोंट वरी. उसकी आंखों में सन्तुष्टि के भाव मैं साफ‌ देख सकता था साथ ही हल्की सी शर्म भी उसकी आंखों में दिखाई‌ दे रही थी. मैं उनके पेट पर उंगली घुमाते हुए, हल्के से उनकी गांड दबाते हुए, कभी आंटी के गाल पर किस करते हुए.

बैठिये, आप कुछ लेंगे ठंडा या गर्म?मैं- नहीं, मैं तो बस आपसे ऐसे ही बात करने आया था.

मुझे अजीब लगा पर जोश जोश में मैं निगल गया और थोड़ी देर में मेरा भी हो गया और मेरा रस उसने निगल लिया. इन टीचर की उम्र लगभग 35 वर्ष, देखने में अच्छी कद काठी और ये शादीशुदा हैं. जब मैं उनके कान के नीचे किस करता तो वे बड़ी मदहोश हो जाती! वे सी सी करने लगती और मुझे मजा आने लगता.

कुछ देर के बाद हम दोनों ने एक बार और चुदाई की और इस बार उसने मुझे घोड़ी बना कर चोदा था. मुनीर और तारा एक दूसरे के चेहरे को निहारते, चूमते सहलाते बातें करने लगे. फिर मैंने अपने लंड पे शहद लगाया और उसके चूत पे टिका दिया और लंड को ऊपर-नीचे उसकी चूत पे रगड़ने लगा.

जब वो घर पर होता था तो मैं उसी के सामने नहा कर जब बाहर आती थी, तो सिर्फ एक तौलिया ही लपेटा हुआ होता था, जो मेरे मम्मों और चूत को ढकता था.

दुनिया का कोई भी इंसान मेरे हुस्न को दीदार करने के बाद मुझे चुदाई के लिए मन नहीं कर सकता था. अगर ऐसा नहीं होता तो वो अब तक मयूरी को जोर से डाँट चुके होते उसकी ऐसी हरकतों के लिए.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला पूजा ने एक बड़ी थाली में सारे पकवान सजा लिए और लाकर मेरे पास बैठ गई।मैंने जिंदगी में पहली बार पूजा को अपने हाथ से और किसी औरत को इतने प्यार से खाना खिलाया। पूजा ने भी मुझे इसी तरह बड़े प्यार से खाना खिलाया. वो बोली- अब कान पर क्यों कर रहे हो?लेकिन मैं उसकी बात को न सुनते हुए उसे लगातार किस करे जा रहा था.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला इसी के साथ उसने अपने पापा को कॉल करके बोल दिया कि मैं उदयपुर के पास में जैसमन्ड लेक घूमने जा रही हूँ और कुछ देर में आ जाऊंगी. अंकित अपने हथेली से मेरे बूब्स को दबाने लगा सहलाने लगा, थोड़ी देर बाद अब अंकित मेरे बूब्स जोर जोर से दबाने लगा और मेरी गांड के छेद के पास अपना लन्ड रगड़ने लगा.

फिर मैंने गिलास देते समय उसके हाथ को टच किया तो उसने मुझे एक स्माइल दे दी.

कुत्ता वाली सेक्सी वीडियो

चाची- मेरी चूची को चूस ना रे!मैं- चाची, चुची चुसवाने में मजा आता है?चाची- चुदाई के वक्त चुची की चुसाई से चूत में ज्यादा से ज्यादा गुदगुदी पैदा होती है. हमारी क्लास में एक सर पढ़ाने आते थे, जो कि मेरे उन 12 वीं क्लास वाले सर की तरह थे, जिनकी कहानी मैंने पहले भी बताई थी. फिर मैंने अपनी जीभ उनकी चुत में घुसा दी, वो एकदम काँप सी गईं और अब उनके मुँह से सिसकारियां तेज हो रही थीं.

तो तू पहले कोई टैक्सी बुक कर दे लालकिले के लिये” मैंने बहू से कहा तो उसने अपने फोन से ऊबर की कैब बुक कर दी. तुम्हें पहली चुदाई का परमानन्द को प्राप्त हो रहा है!जैसे जैसे उसका स्खलन नजदीक आता गया, वैसे वैसे उसकी पकड़ मुझ पर मजबूत होती चली गई. पापा- अच्छा… सॉरी बेटा… आजकल मैं शायद काम में कुछ ज्यादा व्यस्त रहता हूँ.

अब मैंने उसके दोनों अमृत कलश के चूचुकों को चिकोटी से हौले हौले दबाते हुए उसकी जांघें पूरी तन्मयता से चाटने लगा.

दिखावे के लिए मैं घर पर अपने पीसी पर कुछ इधर की चैटिंग करके पति को बता देती हूँ कि मुझे सुबह इस रिपोर्ट का प्रिंट आउट निकाल कर दे देना. उसने कहा- कोई क्यों मुझमें क्या कोई कमी है?मैंने कहा- कहाँ मेरी किस्मत और कहाँ तुम. पर वो बहुत ही ख़ुशी और गर्व से अपने पिता के लंड से निकले वीर्य को स्वाद ले ले कर पी रही थी.

कुछ देर तक उसने मेरे लौड़े की सवारी की और इस फौरान मैं उसकी चूचियों को मरोड़कर गूँथता रहा, चूसता रहा. कुछ देर बाद मैं रूम में आया और उसे अपनी बाहों में लेकर लेट गया और हम दोनों एक दूसरे के अंगों से खेलते रहे, फिर हमारा वापस मूड़ बन गया और इस तरह मैंने उस रात उसकी 4 बार दमदार चुदाई की. उसने ये भी नहीं देखा कि तारा सहज अवस्था में है या नहीं, वो तो बस अब चरम सुख की ओर अग्रसर था.

करीब 5 मिनट की चुदाई के बाद, वह धीरे-धीरे सिसकारियां लेते हुए कहने लगी- आअह्ह … आअह्ह … जानू बहुत मजा आ रहा है … उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से पेलो … ऊऊऊह ओहोहह … और चोदो मेरे राजा … आआह्ह्ह … ऊऊइईई … मरर्रर गयी मेरे बलमा … मुझे अपनी रानी बना लो … मेरी जान … चोदो आह … बहुत मजा आ रहा है … ऑऊईईई ऊईईई माँ … मेरी चूत को फाड़ दो मेरे साजन … बहुत मजा आ रहा है … आआह्ह्ह उऊंहह और तेज़ करो. इसके बाद वहीं पास के जियो सेंटर से मैंने जियो की नयी सिम भी अपने आधार कार्ड से ले कर एक्टिवेट करवा कर ले ली.

शादी तो अगले दिन थी और शाम का टाइम सो लोग घूमने फिरने निकल गये थे पर मेरी नज़रें तो बहूरानी को ढूँढ रहीं थीं. मैंने अनजान बनते हुए कहा- आंटी बताना जरा किधर लग रही है?यह कहते हुए मैंने उनकी साड़ी में अपना सर अन्दर घुसाया. लंड को साफ़ किया, फिर बाहर एक तौलिया में आ गया।साक्षी- इधर आ जाओ।मैं आवाज की तरफ गया तो एक बेडरूम था। अन्दर से मीठी से खुशबू आ रही थी। साक्षी की आँखें नशीली थीं.

अब मैं गांव कम ही जा पाता हूँ तो चाची से मुलाकात ज्यादा नहीं हो पाती, लेकिन जब भी होती है, तो अच्छे तरीके से होती है.

अपने एक हाथ की मुठ्ठी में हम दोनों का लंड पकड़ कर दूसरे हाथ से वो पास खड़े डीके का लंड हिला रहा था. मानसी- ठीक है … मगर आहिस्ते!मैं पूरा जानवर बन गया था, मैंने मानसी को पलट दिया और उसकी गाण्ड में कस के लंड पेल दिया. हम दोनों कमरे के अन्दर पहुंचे और मैंने जल्दी से दरवाजा लगाकर उसको अपनी बांहों में कस के भर लिया.

और उसी समय पापा मेरी गर्दन को पकड़ते हुए मुझे किस करने लगे। शुरू शुरू में मैं उन्हें दूर धकेलने का प्रयास करने लगी पर उनकी ताकत के सामने मेरा टिकाव नहीं लगा। पहले नीचे के फिर ऊपर के होंठों को चूसते हुए एक जबरदस्त किस देकर वे पीछे हटे।कैसा लगा?”यह सही नहीं है… मैं आपकी बेटी हूँ… हम यह गलत कर रहे हैं. मैंने हिम्मत करके भाभी से पूछ ही लिया- भाभी भइया घर पर नहीं रहते तो कैसे रहती हो.

वो मयूरी से बोला- मयूरी, अंदर चलें बेटा?मयूरी- क्यूँ पापा?अशोक- इनको रंगे हाथ पकड़ते हैं और फिर जोरदार चुदाई करेंगे… खुले में… सबके साथ…मयूरी- आज नहीं पापा… कल… यही तो मेरे जन्मदिन का तोहफा होगा… भूल गए?अशोक- अच्छा, चलो फिर कमरे में… तुम्हें तो चोद लूँ जी भर के… ये सब देखकर मेरा लंड उफान मार रहा है. तब तक मैंने भी बिना झड़ा लंड पैंट के अन्दर कर लिया और अपने घर वापस आ गया. फिर एक लम्बी ख़ामोशी के बाद शीतल को लगा कि अब अगर वो थोड़ी देर और रुकी तो या तो उसके बेटे उसको अभी पटक कर चोद देंगे या वो खुद ही उनको पकड़कर उनको चोद देगी.

सेकसी विडियो फुल

शाम को मैंने मामी से मज़ाक में ही बोला- मामी आज आपने कुछ देख लिया था क्या?तो मामी बोलीं- हां मैंने तो बहुत कुछ देखा है.

उधर नीचे मेरे चूत में अंकित अपनी दो उंगलियां घुसाये हुआ था और उन्हें चूत में अंदर बाहर करने लगा. मेरी उम्र अभी 20 साल है और मेरी लम्बाई पांच फुट सात इंच है और मेरे लंड की लंबाई छह इंच, व उसकी मोटाई ढाई इंच है. चाचा जी बोले- वाह रे मेरी बहू रानी, तेरी तो गांड तो और भी कमाल की है.

वहां स्नानघर कच्चा बना हुआ है, तो मुझे पता नहीं, लग रहा था कि कोई मुझे नहाते हुए देख रहा है. उसने हैरान होते हुए पूछा- तुम! तुम यहां क्या कर रहे हो?मैं अपने लंड को सहलाते हुए बोला- अरे मेरी जान, तेरे मम्मी पापा और मेरा छोटा साला बाइक से बाहर गया है, तो मैं अपनी डार्लिंग से मिलने चला आया. नंगीविडियोमैं उससे टिक गई तभी वो समझ गया कि लौंडिया राजी हो गई है और इसी के साथ उसका एक हाथ मेरे सूट के अन्दर चला गया.

ऐसे सोचते सोचते मुझे उस निर्भया का केस याद हो आया और मुझे पसीना आ गया. मेरी दो उंगलियां उसके निप्पल को ऐसे मसल रही थीं, जैसे हम धागे को सुई में डालने से पहले रगड़ते हैं.

जिन्होंने पहले वाली कहानी नहीं पढ़ी, मैं उनको पहले वो कहानी पढ़ने की सलाह दूंगा, इससे आप इस भाई बहन सेक्स की कहानी को दोगुना एन्जॉय कर पाएंगे. उसका फायदा वह उठाने लगा और सीधे मेरी चूत में अपना हाथ रख कर मेरी चूत में अपनी उंगली जल्दी-जल्दी डालने लगा, निकालने लगा और ऐसे जकड़ लिया था कि मैं कुछ कर नहीं सकती थी, और जोर दो-तीन मिनट ऐसे रगड़ा मेरी चूत को कि जो मुझे गुस्सा आ रहा था जिसके कारण मैंने उसके कंधे पर अपने दांतों से काट भी दी थी, वह गुस्सा अब मेरा न जाने कहां गायब होने लगा, मुझे इस खेल में मजा सा आने लगा. अंकल जी वो देखो गोलगप्पे वाला, हम यहां रुक कर गोलगप्पे खा सकते हैं न?” कम्मो ने उंगली से इशारा करते हुए मुझसे कहा.

उस बेचारे को तो यह पता भी नहीं था कि उसके किस्मत में अब क्या आने वाला है, उस पर तो अब साक्षात् कामदेवी की कृपा बरसने वाली थी. मेरी मम्मी हमेशा कहा करतीं है कि उससे दूर रहा कर, वो लड़की ठीक नहीं है, तुझे बिगाड़ देगी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:जनवरी का जाड़ा, यार ने खोल दिया नाड़ा-3.

तभी अचानक से समाली अंकल बोले- ओहहहह ऊंहहह वन्द्या … मेरा लौड़ा अब झड़ने वाला है.

वो मुझे अपनी कार में ले गयी, उसने पेसेंजेर साइड वाला दरवाज़ा खोला और सीट पर बाहर की तरफ मुँह करके बैठ गयी. मौसी गुस्से में बोलीं- तुम पागल हो गए हो क्या? मैं तुम्हारी सगी मौसी हूँ.

तभी उसने मेरे एक दूध को पकड़ के मुंह में भर लिया, और जैसे ही चूसना शुरू किया, जाने मुझे क्या होने लगा, मैं बहुत जोर से सांस लेने लगी. काश मेरे गांडू पति को भी ये सब मालूम होता तो मेरी चूत की आज ये हालत नहीं होती. मामी जी भी अपनी गुदा ढीला करके, पूरा दिल खोल के खुशी से गांड मरवा रही थीं.

तभी मैंने चाची को बिस्तर पर पटक दिया और चित्त करके दोनों पैर को हाथों से पकड़ कर फैला दिया. तो इसे आप वहां भी घुमा देना पहले, फिर चांदनी चौक या करोलबाग से फोन खरीद देना. धीरे धीरे डाल, दर्द हो रहा है!मैंने फिर रुक-रुक कर धीरे-धीरे से अपना लंड उसकी चूत में अंदर की ओर सरकाना शुरू किया। उसके बाद मैंने उसके मुँह पर अपना एक हाथ रख कर पूरा लंड घुसा दिया.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था, बहुत दिनों के बाद किसी ने मुझे चूमा था. मैं पड़ोस की औरतों के सामने कुछ कर भी नहीं सकती थी क्योंकि अगर उन लोगों को कुछ पता चलता तो वे हल्ला कर देती और मेरी कितनी बदनामी होती … ये मैं ही जानती हूँ.

सेक्सी पिक्चर सेक्सी वीडियो

वो इस माहौल से एकदम से कांप उठी और एक बार फिर से उसकी थिरकती हुई गांड मेरे लंड को छूने लगी. उसने दरवाजा बंद किया और अपने बाल बांधे और ड्रॉवर से ड्यूरेक्स का कंडोम निकाला और बोली- लगा लो. मैंने कहा- जाओ पूजा … पूजा कर लो!तो पूजा बोली- थोड़ी देर रुको, जब सब ऊपर से नीचे चले जाएंगे, तब हम जाकर पूजा करेंगे.

और कुछ अपनी तरफ से मिला कर उनको दहेज में ज़रूरी ज़रूरी वस्तुएं दीं और एक हनीमून ट्रिप ऊटी का बुक कर दिया. फिर मैंने उसके पेट पर चुम्बन किया और जीभ फेरने लगा, कभी चूमता तो कभी जीभ फेरता और वो मदहोश हो जाती. सेक्सी फिल्म ब्लू ब्लू सेक्सीवो लड़का मुझे चोद रहा था और मैं अपनी गांड हिला हिला कर उसका साथ दे रही थी.

अब या तो जो कुछ करना है अपने बलबूते पर करना है या नहीं … और फिर अभी कम्मो ही कौन से तैयार हो गयी है चुदने के लिए!ऐसी ऐसी बातें सोचते सोचते मेरा दिमाग भन्ना गया.

एक मर्द अपने घुटनों के बल कुत्तों की तरह बिस्तर पर झुका हुआ था और उसके पीछे मुनीर मर्दों की तरह धक्के मार रही थी. फिर कुछ देर बाद रशीद ने अपने लंड का पूरा पानी पायल के मुँह में डाल दिया.

मेरी सास ने मुझसे सबके जाने के बाद कहा- बहू मुझे नहीं पता था कि मेरे घर पर तुम जैसे बहू आई है. अब हम दोनों लोग एक दूसरे से अपनी सभी तरह की बातें शेयर करने लगे थे. मैंने होंठ जकड़ कर उसकी चूची को जोर से दबाया तो उसने एकदम से अपनी गांड उठा दी.

मेरी सिसकारियां बढ़ती ही जा रही थी और मैं उसके बालों में अपने हाथ फिराने लगी और उसके बालों को नोचने लगी.

तभी ये मुमकिन हो पाया कि आपके इस चूत में मेरा लंड गया… नहीं तो कैसे होता बताओ?मयूरी- वो मुझे नहीं पता… आप उनसे बात करो और मुझे उनका लंड दिलवाओ… बस. मैं बाहर जाने लगी, तभी मुनीर ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- रुको … हम सब तुम्हारे लिए ही तो यहां आए हैं. वो मेरे ऊपर चढ़ कर मुझे चोद रहा था और मैं मादक आवाजें निकल रही थी- आह आह भी चोदो और चोदो मेरी चूत को इसकी आग को आज शांत कर दो!मेरा भाई अपने लंड से मुझे चोद रहा था, हम दोनों भी बहन अपना रिश्ता भूल कर चुदाई कर रहे थे.

देसी सेक्सी वीडियो बीएफमैं ये देख कर गनगना उठा और चाची की चूत के फांक में अपना अंगूठा रगड़ रगड़ कर चाची को बेहाल करने लगा. सब घर वाले निकलने लगे और जाते समय मम्मी ने डिम्पल भाभी से कहा- हम सब 3 दिन के लिए जा रहे हैं तो आप विक्की का ध्यान रखना और खाना आदि खिला देना.

गद्दा सेक्स वीडियो

कम्मो के हिसाब से मुझे मोटोरोला का जी फाइव ज्यादा अच्छा लगा, बारह हजार के क़रीब कीमत थी. अब वो मुझे जगह जगह काटने लगी, अपने नाखून मेरे शरीर पर चुभाने लगी जिस वजह से मुझे और भी मजा आने लगा।दोस्तो, जब कोई लड़की मुझे लव बाइट्स देती हैं तो मुझे बहुत मजा आता हैं।उसके बाद करीब काफी देर तक मैं उसे चोदता रहा और जब मेरा निकलने वाला था तो मैंने उससे पूछा- कहाँ निकालूँ?तो वो बोली- मेरी चुत के अंदर ही निकाल दो, मैं दवाई ले लूंगी. आप सबने मेरी पिछली कहानीदेसी बॉय ने मेरी चूत चोदीपढ़ कर मुझे अपने मेल भेज कर प्रोत्साहित किया तो मैं अपनी एक और कहानी आपको बताने जा रही हूँ.

मैं सोचने लगा कि अगर इस फायदे का उठाकर बहती गंगा में हाथ धो लिया जाए, तो क्या बुरा है. जब गौर से देखा तो मैं अचंभित रह गयी मुनीर एक प्रकार का रबर का लिंग एक बैल्ट के सहारे टिकाये हुए उस व्यक्ति की गांड में घुसा कर गुदा संभोग कर रही थी. भाभी को भी मेरी याद आती होगी तो इसलिए उन्होंने एक दिन हनी से मुझे फोन करवाया.

मैंने मजबूर होकर उनको किस किया और कपड़े पहन कर खुद को ठीक करके घर आ गया. उस वक़्त मैं पूरी मदहोशी में था, तो मैंने शरमाते हुए कह दिया- सर ओके ठीक है. उसका फायदा वह उठाने लगा और सीधे मेरी चूत में अपना हाथ रख कर मेरी चूत में अपनी उंगली जल्दी-जल्दी डालने लगा, निकालने लगा और ऐसे जकड़ लिया था कि मैं कुछ कर नहीं सकती थी, और जोर दो-तीन मिनट ऐसे रगड़ा मेरी चूत को कि जो मुझे गुस्सा आ रहा था जिसके कारण मैंने उसके कंधे पर अपने दांतों से काट भी दी थी, वह गुस्सा अब मेरा न जाने कहां गायब होने लगा, मुझे इस खेल में मजा सा आने लगा.

मैंने अपने एक हाथ से भाभी की टांग को जरा और फैलाया और साड़ी ऊपर करके उनकी चूत को खोल दिया. अच्छा जी … और अब … अब क्या करोगी?” मैंने उसकी आंखों में देखते हुए उससे पूछा और उसके गाल पर एक चुम्मी लेकर फिर से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

कुछ और लाना हो तो बताओ देख के; पूरा सामान उधर कोने वाले कमरे में रखा है.

मैंने उसे पकड़ लिया और उसकी तरफ होंठ बढ़ा कर चुम्मी का इशारा किया, तो उसने अपनी बांहें फैला दीं और मैं उसके करीब होकर उसे लिप किस करने लगा. बिहारी लड़की ब्लू पिक्चरतो अगले दिन सवेरे क़रीब नौ बजे मैं और कम्मो मार्केट जाने के लिए तैयार थे. क्सक्सक्स सेक्सी हॉटअब मैं घोड़ी बनी मामी जी की गांड के ठीक पीछे आ गया और उनसे चिपक गया, पीछे से उनके दोनों मम्मों को पकड़कर मसल डाला. नीचे पापा का खड़ा हुआ लंड मेरी जांघों से रगड़ खा रहा था। मैंने अपना हाथ नीचे कर के उसको हल्के से दबाया तो पापा के मुँह से सिसकारी निकल गयी। मेरे हाथों में आने के बाद वह झटके मारने लगा।पापा … मैं पहली बार इतना लंबा और बड़ा लेने वाली हूँ.

तो मैंने भी उनकी इसी बात का फायदा उठा लिया और बोला कि मेरे पास भी कुछ ऐसा है, जो मैं सबको दिखा दूँगा.

कुछ ही देर में हम दोनों गुत्थमगुत्था हो गए और कब हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, मालूम ही नहीं चला. हिमानी ने अपनी पतली, नर्म और गुदाज हाथ पाँव की उँगलियों पर सुन्दर मैरून कलर की नेल पोलिश लगा रखी थी. मेरा हाथ लगने से शायद वो मदहोश होने लगीं, मैं भी खुजाने के बहाने उनकी पीठ सहलाने लगा और थोड़ा सा हाथ आगे ले जाकर उनके मम्मों को टच करने लगा, इससे वो एकदम सिहर से गईं.

उस साले मादरचोद को क्या मालूम कि चूत क्या होती है और उसकी चुदाई कैसे की जाती है. फिर वो खुद इतनी अधिक चुदासी हो चुकी थी कि अपनी गांड को उठाते हुए मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत में घुसवाने की कोशिश करने लगी. अब मेरे हाथ आगे की ओर होते हुए उनके स्तनों को मसल रहे थे, उनके निप्पल को पकड़कर खींच रहे थे.

क्ष्विदेओ

तब तक यह सामान वापस रख दो और इस पर मसाज के वीडियो देखो। अब जब यह कर लिया है तो वह भी कर लोगे।”मेरा दिल फिर जोर से धड़का. तारा ने मुझे बताया कि कुछ मर्द ऐसे भी होते हैं, जिनको अपनी गुदा में लिंग लेना पसंद होता है. उसका लंड चिकनाई की वजह से झट से लगभग आधा मयूरी की गांड में चला गया.

उन्होंने अपनी टांग को सीधा करते हुए साड़ी उठा दी और कहा- शायद जाँघों पर है.

मुझे तो मेरा पति रोज एक बार तो चोदता ही है, फिर भी मैं संतुष्ट नहीं हो पाती हूँ, सो मैं दूसरे के पास भी चली जाती हूँ.

उसके बताये टाइम पर चाची आई और हमें चुदाई करते देखकर बोली- वाह जी, यहां पर तो ये काम किया जा रहा है. मम्मी ने कहा- ठीक है तुम नीचे जाकर हाथ मुँह धो लो … मैं तुम्हारे लिए चाय बनाती हूं. सुनिता भाभीतभी अचानक से उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और हाथ को चूमते हुए बोली- यू आर सो क्यूट.

चाचा- इस उम्र में भी तेरी चूत इतनी कसी हुई है कि एक बार में घुसता ही नहीं है. अगर मेरी चूत रोती रही है तो तुम्हारा लंड भी रोता रहा है, अब हम दोनों का ही यह फ़र्ज़ है कि एक दूसरे का पूरा ख्याल रख कर उनको खुश करते रहें. बस इतना ही बोला कि जैसे तुम चाहो, मैं नहीं चाहता कि तुम यह समझो कि पिताजी नहीं हैं, तो मैं तुम पर अपना कोई दबाव डाल रहा हूँ.

और जोर से करो!इसके बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और उसके बाद आधा घंटा ऐसे ही पड़े रहे. आखिर में मैंने उसके कोमल रसीले होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और उसके होंठों से बह रहे अमृत को पीने लगा.

मयूरी ने वादा किया था कि वो सबको अपने घर में हुए दोनों भाइयों और पिता के साथ चुदाई की कहानी बताएगी.

मैंने उससे मसाज और चुदाई के पैसे पूछे तो 1 घंटे का ₹ 3500 में तय हुआ. उसने अपनी गांड को चुदाई के लिए मस्त सैट कर दी और लंड घुसने का इंतज़ार करने लगी. पायल के मम्मे इतने बड़े थे कि सुनील के हाथ में और मुँह में समा ही नहीं रहे थे.

चुदाई माँ की अशोक- बेटा… पहले बार गांड की चुदाई की वक्त थोड़ा बेरहम होना पड़ता है नहीं तो काम को अंजाम नहीं मिल पाता. प्रिया अब धीरे से मेरे कानों के पास आकर फुसफुसा कर बोल पड़ी- तुम्हारा लंड …यह कह कर उसने अपना मुँह मेरे सीने में छुपा लिया.

उनका पेटीकोट ढीला था, तो मुझे उनका पिछवाड़ा भी दिख रहा था और उनके बोबे जोकि नंगे थे साफ दिख रहे थे. अशोक- हाँ… याद है… अब क्या उनको भी बुलाना है आपको चोदने के लिए?मयूरी- आप बात तो सुनो… आज आपको बहुत सारी बातों का पता चलेगा और ये सारे आपके जीवन के बड़े रहस्य हैं… जो आपको जरूर पता होना चाहिए. ‘अहह…’ वो ज़ोर से कसमसाते हुए दर्द से कराहते हुए बोलीं- बेबी धीरे कर.

रक्षा बधन

मैं एक बार झड़ भी चुका था और उन्होंने मेरा सारा माल गटक लिया था, तब भी दीदी मेरे लंड को चूसती रहीं. मैं जल्दी से उसके पास को गया और उसके आंखों के आंसू पोंछ कर सांत्वना दी. मुझे भी इन लम्हात का पहले से अंदाजा होता तो यूँ तुम्हारा तन ढलने की नौबत न आती। तुम्हारे यह थन सनी लियोनी की तरह वैसे ही फूले होते, ये चूतड़ किम की तरह बाहर उभरे होते और यह चूत पावरोटी की तरह फूली होती और तीन-तीन इंच बाहर निकली क्लाइटोरिस चूसने वाले होंठों को लुत्फअंदोज कर रही होती।”काश.

वो ऑर्डर ले कर सभी जगह सामान पहुंचाती थी और मिले पैसों से घर चलाती थी. अंकल ने देखा कि मैं उनके लंड को काफ़ी हल्के तरीके से पकड़े हुए हूँ और कुछ लज़ा रही हूँ, तब वो धीरे से बोले- अरे कस के पकड़ … ये कोई साँप थोड़ी है कि तुम्हें काट लेगा … थोड़ा सुपारे की चमड़ी को आगे पीछे कर … अब ये सब करने की तुम्हारी उम्र हो गयी है … थोड़ा मन लगा के लंड का मज़ा लूट.

मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर बाहर हो रहा था और भाभी के मस्त चुचे तूफ़ान मचा रहे थे.

अब ऐसे चिल्लर नोट ले के फोन खरीदने जाना मुझे बड़ा अटपटा सा लग रहा था तो मैंने अपनी बहूरानी अदिति को बुला कर वो नोट उसे दे दिए और कम्मो को समझा दिया कि ऐसे छोटे छोटे नोट लेकर कुछ खरीदने जाना अच्छा नहीं लगता और उसके फोन का पेमेंट मैं कर दूंगा अपने अकाउंट से. अगले साल मैं भी वहीं चली जाऊंगी।मैं- ओके तो अब हम कहाँ जा रहे हैं?साक्षी- मेरे घर. मैंने भी उन्हें बोल दिया कि आपके जैसे सेक्सी कोई मिले, तब तो कुछ सोचूं.

तो मित्रो, पिछली कहानी से आपको याद होगा कि पिछली रात हम सब लोग साथ में डिनर कर रहे थे और कम्मो मुझे बड़े प्यार और अनुराग से सर्व कर रही थी … कभी दही बड़े, कभी रसगुल्ला कभी कुछ कभी कुछ. मैं भी थोड़ा जोश मैं आकर भाभी के निप्पलों को ज़ोर से दबाने लगा और उनके मम्मों के रस को निचोड़ने लगा. मैंने पहले तो अपनी उंगली को प्रेमद्वार पर गोल‌ गोल घुमाया और फिर उंगली को प्रेमद्वार पर रख कर हल्का सा दबा दिया, जिससे मेरी उंगली का लगभग आधा पौरा उसमें धंस गया और प्रिया के मुँह से एक जोर की सिसकारी निकल गयी- उइइईईई … इश्श्श्श्श … अह … ओह … उय्य्य्य …उसने मेरे हाथ को जोर से अपनी चुत पर दबा लिया और फिर से अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया.

मैं और मेरे पति बहुत दिनों से इस साईट पर चुदाई की कहानी पढ़ रहे हैं.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला: कुछ ही देर में अदिति बहू के अंकल जिनके बेटे की शादी थी आकर मेरे ही नजदीक बैठ गये. शादी के पहले मैं सिर्फ उसके बोबे दबाता था और चूमाचाटी होती थी, सुहागरात में भी यही सब कुछ हुआ, बस मैं उसे चोद नहीं पाया.

तो मेरे यारो, आज की कहानी में मैं आपको बताऊंगी कि कैसे मैं अपनी दीदी के देवर से चुदी. तब भाभी कहने लगीं- तुम उसकी चिंता बिल्कुल भी मत करो, कोई भी नहीं जागेगा. यार अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ पढ़ कर मुझे ऐसा लगने लगा था कि पता नहीं, कब और कहां चूत मिल जाए.

”यह कहते हुए डीके तैयार हो गया, पर मेरी मौजूदगी में वह थोड़ा हिचकिचा रहा था.

हम लोग दबे पांव चलते हुए एक कोने वाले कमरे तक गये और उसे खोल कर अन्दर चले गये और फिर मैंने भीतर से दरवाजा बंद करके बत्तियां जला दीं. मैंने बोला- इतनी उम्र का?तो वो बोली- उम्र से क्या होता, वो कितना पैसा मेरे लिए खर्च करता है और जितना सेक्स का मजा देता है, ऐसा तो कोई 25 साल का लड़का भी नहीं देगा. हम तीनों ने साथ में नाश्ता किया और चाची बोलीं- इसे अब घर छोड़ कर आजा.