जंगली बीएफ वीडियो हिंदी

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी वीडियो सनी लियोन का

तस्वीर का शीर्षक ,

खुला सेक्सी बीएफ एचडी: जंगली बीएफ वीडियो हिंदी, रुक जा, बस कर… और मत कर… अहहह… औऔऔऔ…आखिर में मैंने अपना माल सेक्सी चाची की चूत में छोड़ दिया और अहहः करते हुए मस्त आहें ली.

नई-नई लड़कियों का बीएफ

‘आआहह आहह उउउ इइईई ममम उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई किशोर अअअह हह ओओहह हहह’मैंने अपना लंड पूरा निकला और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर कर दिया।‘आआआहहह… बसस ससस… धधीरररे किशोर धीरे से…’थोड़ी देर वैसे हो अंजलि को और 2 मिनट तक ऐसे ही चोदता रहा. ई-मेल बीएफ वीडियोमजा आ रहा है।गुप्ता जी इस पोज में 5 मिनट तक संजू को चोदने के बाद उसकी कमर को कस कर पकड़ लिया और पूरे वेग से चूत को चोदने लगे। बमपिलाट धक्के लगने से संजू की चीखें निकलने लगीं।वो ‘हम्म.

रयान के पेरेंट्स को अचानक एक शादी में दो दिन के लिए जाना पड़ा और उस समय क्लोजिंग का समय होने से न तो निष्ठा को छुट्टी मिली न रयान आ पाया. एक्स एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश मूवीमैं अपनी बीवी और अपने दोस्त को अन्दर देखकर दंग रह गया।मैंने एक नजर अपनी बीवी को देखा वह चोटी बंधे आदमजात नंगी खड़ी थी.

फिर मुँह में ले कर चूसने लगीं।मुझे बड़ा आनन्द आ रहा था, मैं भी बोल रहा था- रानी आज इस लौड़े को पूरा चूस लो और ज़ोर से चूस साली.जंगली बीएफ वीडियो हिंदी: इसलिए मैं पहले उसके घर जाता था, फिर हम दोनों स्कूल जाते थे।ऋषि की मम्मी और मेरी मम्मी भी आपस में काफ़ी अच्छी सहेलियां थीं। ऋषि की मम्मी काफ़ी सुंदर और मॉडर्न टाइप की थीं। वो ऋषि को खुद ही टयूशन देती थीं.

मैं समझ गया था कि इसकी गर्मी शांत करना मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है वरना ये कुछ भी कर सकती थी.बारहवीं कक्षा तक आते आते वो हाहाकारी हुस्न की मलिका में तबदील हो चुकी थी जिसके मदमस्त यौवन के किस्से गली चौराहों में चलने लगे थे.

कुत्ता औरत की बीएफ - जंगली बीएफ वीडियो हिंदी

मैडम ने फिर मेरी गर्दन को दबाया और बोली- ज्यादा हंस मत!और इस बार उनके बूब्स मेरी छाती से पूरी तरह चिपक गये और मेरा लंड एकदम टाईट होने लगा.उसके अगले दिन मुझे एक महिला का मेल प्राप्त हुआ जिसने मेरी किसी पुरानी कहानी/समस्या को पढ़कर रिप्लाई किया था.

मेरा नाम अरहान है, मैं 22 साल का हूँ, मेरा कद 6′ है, पुणे से अपनी पढ़ाई पूरी करके मैं अभी मुंबई में जॉब कर रहा हूँ. जंगली बीएफ वीडियो हिंदी फिर वो बोला- वैसे मेरा नाम आदित्य है!और अपना एक हाथ मेरी तरफ बढ़ा दिया।मैंने उससे हाथ मिलाते हुए कहा- मैं सोनाली हूँ… और हाउसवाइफ हूँ।आदित्य की नज़र मेरे अधनंगे मम्मों पर ही थी… जिसे मैंने नोटिस कर लिया.

‘हाँ उसे पता है सब!’‘क्यों बताया उसे?’‘ऐसे ही… एक दिन बातों बातों में बात चली कि पहली पहली बार किसके साथ सेक्स किया था.

जंगली बीएफ वीडियो हिंदी?

आप मुझे माफ़ कर देना और एक सपने की तरह मुझे भूल जाना!उसकी चिठ्ठी पढ़ कर मैं भावुक हो उठा. मगर मुझे हटाने का प्रयास या फिर मेरा विरोध बिल्कुल भी नहीं कर रही थी।धीरे धीरे मैंने भी अपनी जीभ की हरकत को थोड़ा तेज कर दिया… और अब मेरी जीभ पिंकी के संकरे प्रेमद्वार की दीवारों पर घिसने के साथ साथ कभी कभी थोड़ा सा नीचे उसकी गुदाद्वार तक भी जा रही थी जिससे पिंकी की सिसकारियाँ भी बढ़ गई और उसने भी मेरी जीभ के साथ साथ धीरे धीरे अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया. वो सफेद रंग की नाईटी में हूर की परी तो नहीं पर गजब तो लग ही रही थी.

उसने पेंटी भी नहीं पहन रखी थी, उसके चिकने मुलायम नितम्बों को मैंने मसल दिया. किस ऐसे नहीं करते।उसके बाद जैसा उन्होंने कहा, मैंने वैसा ही किया।सबसे पहले उनके होंठों पर किस किया उसके बाद ऊपर वाले लिप को चूसा. चल अब अपना फिगर बता।उनकी बातों से सुमन घबरा सी गई उसके पैर काँपने लगे थे। उसने डरते हुए कहा।सुमन- ज्ज्जजी वो मुझे नहीं पता।साहिल- ले भाई अजय तेरे मज़े हो गए.

फिर मैंने उसकी साड़ी बहुत जोर से ऊपर उठाई और उसकी फटी हुई कच्छी में हाथ डाल दिया और उसकी गर्म चूत को जोर से मसलने लगा।उसके मुँह से आवाज निकल पड़ी- इसस्स. वो अपने पैर पूरे खोल करके मुझे और चुत के पास खींच रही थी। मैं भी इस मूमेंट को पूरा एंजाय कर रहा था।कुछ मिनट बाद उसने कहा- अब मत रुको अपना लंड पेल दो. लगभग 10 मिनट किस करने के बाद मधु बोली- अशोक, मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि तेरे जैसा लौड़ा मिलेगा.

मैं तो जन्नत के सफ़र में था। मेरे पूरे बदन पर गुदगुदी हो रही थी, मज़ा आ रहा था।अब नीचे की ओर होकर उन्होंने मेरे लोअर को खोलकर नीचे किया। मेरा लंड खड़ा था तो मेरे कच्छे के ऊपर से ही बुआ मेरे लंड को पकड़ कर सहला कर एक प्यारा किस किया।मेरे लंड में हरकत होने लगी। मैंने बुआ का हाथ कच्छे की इलास्टिक पर रख दिया, वो मेरा इशारा समझ गईं।अब उन्होंने मेरा कच्छा नीचे करते हुए. मैंने धीरे-धीरे से लंड पर ज़ोर लगाया और उनकी चुत में अपने लंड का टोपा घुसा दिया और फिर धीरे-धीरे धक्कों को तेज करता गया। फिर पूरा लंड उनकी चुत में पेल दिया, वो चिल्लाने लगीं और उनकी चीखें पूरे बाथरूम में गूंजने लगीं।पर उनके चिल्लाने में भी एक अजीब सा प्यार आ रहा था.

ताकि माल लगो।मैंने कहा- ये कैसे पासिबल है, तुम्हारे फ्रेंड्स दारू पीने आने वाले हैं।ये बोले- तुम सेक्सी लगोगी तभी तो सब तारीफ़ करेंगे।मैं तो जैसे खुशी से अन्दर ही अन्दर पागल हो रही थी।मेरे पति ने कहा- तुमको इतनी सेक्सी लगना चाहिए कि सब हैरान हो जाएँ।मैं अन्दर गई.

मेरे हॉस्टल आने के बाद मैंने ऋषि को सॉरी का मेसेज किया और सोने की कोशिश करने लगी पर टेंशन में और ऋषि की बात सुन कर नींद नहीं आ रही थी.

राहुल ने फ़िर झटका दे मारा और उसका आधा लंड मेरी माँ की चूत में घुस गया था। मेरी माँ दर्द की अधिकता से काढ़ते हुए ‘अह्ह्ह. मैं लौड़े से सुल्लू रानी का मुंह, जीभ से उसकी चूत और उंगली से उसकी गांड को एक साथ चोद रहा था. इतने में दरवाजा खुलने की आवाज़ आई तो मैंने देखा बिमलेश ने गुलाबी रंग की नाइटी पहनी हुई थी और बाल खुले हुए थे। मुझे तो इस समय बिमलेश बिल्कुल कामदेवी लग रही थी।मैंने टीवी चला रखा था.

इसी लिए वो इतने गुस्से वाले हैं।सुमन- ओह गॉड ऐसा भी होता है सॉरी दीदी, मुझे पता नहीं था। मैंने ऐसे ही आपको बोलने को मना किया, मगर पापा के साथ ये हो रहा है. बार-बार उसकी चुत पर रगड़ रहा था।फिर थोड़ी देर बाद उसने कहा- दीप मुझे तुम्हारा केला खाना है।मैं नीचे हो गया और वो मेरे ऊपर आकर मुँह नीचे करके मेरे लंड पर कैडबरी लगा कर लंड चूसने लगी। मुझे तो बहुत मजा आ रहा था।उतने में मेरे लंड ने उसके मुँह में ही पानी छोड़ दिया और वो उसे पी गई।अंजलि ने कहा- दीप तुम्हारा तो निकल गया. हमने बिना कोई जवाब दिए खाना खाया और खटिया पर आकर सो गए।थकान के कारण विकास तो जल्द ही नींद के खर्राटे लेने लगा.

ऐसा लग रहा था कि उसके बड़े चूचे उसकी टी-शर्ट को फाड़ कर बाहर आ जाएंगे।वाकयी कोमल एक मस्त माल थी.

फिर अपनी बाहें पूरी ऊपर उठा के ज़ोर से चिल्लाई- सुनो सुनो सुनो सब लोग सुनो… आज मेरी माँ चुद गई… आओ कमीनों सब के सब आकर देखो कैसे मेरी माँ चुदी पड़ी है… हा हा हा मम्मी कुतिया बधाई हो बधाई, आज तेरी बेटी कीमाँ की चुदाईहो गई… हा हा हा… राजे, बहन के लौड़े… दे मुझे लाख लाख बधाईयाँ… तेरी रीना रानी की माँ चुद गई…ये सब बोलते हुए रीना रानी सुल्लू रानी के मुंह पे चढ़ के बैठ गई- ले मेरी बदचलन माँ. मज़ा आ गया मगर उसमें कितनी गंदी भाषा का यूज होता है ना दीदी?टीना- वाउ मेरी जान चुदाई तूने कितने आराम से बोल दिया. इस तरह बाहर कहीं नहीं करती हूँ।’ आंटी ने अपने मम्मे रगड़ते हुए मुझे जबाब दिया।‘कम से कम दो मिनट के लिए तो आप कपड़े उतार ही सकती हो। न जाने क्यों मैं आपकी ब्रा के अन्दर क्या है, उसे देखना चाहता हूँ.

रजनी ने मुझे इतने जोर से पकड़ा हुआ था कि मुझे भी बाहर निकालने की बजाये अंदर ही छोड़ना उचित लगा. दिन पर दिन बीतते चले गये वो मुझे दिखी भी नहीं… हालांकि मेरे पास उसका फोन नंबर था लेकिन मैंने उसे फोन करना ठीक नहीं समझा क्योंकि हो सकता था कि वो मुझसे बहुत नाराज़ रही हो! पता नहीं बात करे या ना करे?इसी तरह करीब पन्द्रह बीस दिन निकल गये. ’ तो वो डरते हुए चूसने लगी।मेरी पत्नी दोस्त मुदस्सर का बैठकर लंड चूस रही थी.

इतने में भाभी बोली- नीचे सब इंतज़ार कर रहे हैं, जल्दी चलो, वरना सब शक करेंगे…मैंने कहा- जानेमन, ऐसे कैसे नीचे जा सकते हैं, तुम्हारे राजा को तम्बोला में कुछ तो मिलना चाहिए ना?तो उसने कहा- क्या चाहिए, जल्दी बोलो?मैंने कहा- एक मस्त ब्लो जोब…मैंने सोचा कि वो नहीं मानेगी पर जैसे ही मैंने कहा ब्लोजोब… मेरी सेक्सी कहानी बन गई, वो तुरंत नीचे बैठ गई, मेरी पेंट की ज़िप खोली और लंड को बाहर निकाल लिया.

अब मैं हमेशा तुम्हारी रहूँगी।उसने मुझे होंठों पर लंबा सा किस दिया और उठ कर बाथरूम में चली गई।तो साथियों कैसी लगी मेरी आंटी की चुदाई की सेक्स स्टोरी. मैंने मानसी की पैंटी को दोनों हाथों में कस कर पकड़ा और एक झटके में उसके दो टुकड़े करते हुए उसको पूरा नग्न कर दिया.

जंगली बीएफ वीडियो हिंदी कल से ये मुझे रोज अपनी फुद्दी में चाहिए।इतना कहते ही उसने मेरी फ्रॉक को पेट तक ऊपर उठाया और मेर ऊपर चढ़ गया।अब उसने एक और बार अपना लंड मेरी फुद्दी के मुँह पर रख कर एक झटके में लंड अन्दर पेल दिया। झटके के समय कुछ दर्द हुआ, पर अबकी बार फुद्दी खुल जाने के कारण मेरा दर्द बहुत कम हो चुका था।अब मैं भी उससे बोलने लगी- तेजी से करो. दूसरी बार तेरी जम कर चुदाई करूँगा और आज तो तेरी गांड भी मारूँगा।मोना- ओह नहीं गोपाल, गांड नहीं.

जंगली बीएफ वीडियो हिंदी अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि संजय अपनी मुँहबोली बहन की बेटी यानि भांजी पूजा को बिस्तर पर लिटा कर उसकी चुत चाट कर उसको मजा दे रहा था। मजा रस को लेकर अब पूजा भी कहने लगी थी कि उसको भी ये रस चाट कर मजा लेना है।अब आगे. रयान ने फोन उठाया, निष्ठा रो रही थी… बोली- तुम वापस आ जाओ, मेरे को तुम्हारी बहुत याद आ रही है.

पर अभी हमारा दर्द बन्द नहीं हुआ था और दोनों फिर से दर्द से कराहने लगीं, और दोनों के फिर से आँसू निकलने लगे थे, हम दोनों रोती हुई हमारी गांड को चुदवा रही थीं और चीख भी रही थीं- आअह्ह्ह आःह्ह्ह आह्ह्ह्ह्ह् आआह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह्ह आःह्ह्ह आह्ह्ह अहह ऊओह्ह्ह ऊओह्ह्ह उम्मन आह्ह्ह आअह्ह्ह आअह्ह्ह प्लीज धीरे चोदो बहुत दर्द हो रहा है, आह्ह्ह अहह आअह्ह.

ओखत्रिमाज़ा कॉम

उनकी चूत बहुत ही ज्यादा गीली थी, गीली होने के कारण वो आसानी से अन्दर चली गई, मैंने देखा कि उनका छेद बड़ा है और मेरी एक उंगली से उनका कुछ नहीं होगा. वैसे ही उसने अपनी गांड घुमा ली और पलट कर सामने आ गई। जोर से मेरे लंड को मुठ मारकर सारा पानी अपने चेहरे पर गिरा लिया और मैं शांत होने लगा।हम दोनों एक बार फिर डव सोप से नहाए और मैंने इसी बीच मेम से पूछ लिया कि मेम आपने दो बार मेरे लंड का पानी गिराया. ’ मैं सिसकारियां भर रही थी और दिनेश सर अपने लंड का सारा पानी मेरी चुत के अन्दर छोड़ कर मेरे ही ऊपर निढाल हो गए।दिनेश सर मेरे ऊपर पड़े-पड़े मुझे किस करने लगे। 2 घंटे में उन्होंने मुझे 3 बार चोदा।इसके बाद हम दोनों ने कपड़े पहन लिए थे। तभी बेल बजी और उनका सेक्रेटरी आकर बोला- मैडम सैट पर पहुँच गई हैं.

अम्मा की सारी बात सुनने के बाद मुझे महसूस हुआ कि उन दोनों ने मेरे साथ संतान पाने के लिए छल किया था. कुछ जवाब देने के बजाय मैं उसका लंड चूसने और चाटने लगी, उसको शक ना हो इसलिए दुगने जोश में उसका लंड चूसने लगी. ’मैं भी पूरी जीभ चुत में अन्दर तक डाल कर उसे जीभ से चोद रहा था।आह आह उफ़.

आ मैं मालिश कर देती हूँ।मैंने कहा- आंटी आप मालिश करके देंगे तो यहीं सो जाऊंगा और वो भी ऐसे.

थोड़ी देर बाद मेरा भी काम होने वाला था, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैंने सारा माल स्वाति की चूत में भर डाला।उसकी चूत से तो मानो आज बाढ़ निकल रही थी…अब हम दोनों ऐसे ही लेटे रहे और थोड़ी देर बाद दोनों फिर गर्म हो उठे. मैडम अब मेरे ऊपर काफी ध्यान दे रही थी, मुझे रोज नई लड़की चुदने को मिलती और उसके बदले में शाम के समय या फिर खाली समय में मैडम की चूत और गांड की सेवा करनी पड़ती. जाते-जाते आलोक ने मेरी चूत को सहला दिया जिससे मेरे अंदर चुदाई का कीड़ा गुनगुनाने लगा।आलोक को दूध दे कर मैं वापस कमरे में आ गई और गेट बंद कर लिया.

सुल्लू रानी पहली बार किसी को अमृत पिला रही थी इसलिए वो ज़्यादा कण्ट्रोल नहीं कर पाई. आज उसके बाल खुले खुले घने घनेरे कन्धों और पीठ पर बिछे पड़े थे और उसके जिस्म से एक मस्त मस्त भीनी भीनी सुगंध के झोंके रह रह के उठ रहे थे. निपटने के बाद मैंने रानी के बारे में पूछा तो वो बोली- आपका बीज जम गया है और वो अब प्रेगनेंट है और बहुत खुश रहती है और हाल फिलाहल तो वो अपने मायके चली गई है.

तुम कहो तो बात करूँ?मैंने मना कर दिया लेकिन अब रोज़ चुदाई के वक़्त वो ये सब कहते और मैं कुछ नहीं कहती. राजे अब मेरे ऊपर लेट गया और रेखा रानी रेखा रानी रेखा रानी मेरे कानों में फुस्फुस करके बोलता हुआ मेरे गालों, होंठों, कानों, गला और नाक पर गरम चुम्मियों की वर्षा करने लगा.

मैंने उनको होंठों पर होंठ रखकर नॉर्मल करने की कोशिश की, वो कुछ नॉर्मल हुई तो मैंने हल्का हल्का धक्का लगाना शुरू किया और पूरा लंड ज़ोर के धक्के के साथ चाची की चूत में घुसा कर चाची की चुदाई शुरू कर दी. मैं अपने लंड को माँ की गांड के छेद में घुसेड़ने की कोशिश कर रहा था. यह हिंदी पोर्न सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!आकृति उत्तेजित हो चुकी थी, वो तुरंत मेरा लोअर नीचे करके मेरे लंड को चूसने लगी, मुझे 2 ही मिनट में उसने सातवें आसमान में पंहुचा दिया और मैं उसके मुंह में झड़ गया और वो सब पी गई.

मुझे बहुत मजा आने लगा, मैंने राज से कहा- राज और तेज़ और तेज़ मेरी चूत का रस निकलने वाला है.

मैंने पूछा- आप और मौसाजी किस पोजीशन में सेक्स करती हो?वो एक बार तो शरमाई, फिर धीरे से बोली- उससे क्या फर्क पड़ता है?मैंने कहा- आप शरमाती रहिये, मैं नहीं बताऊंगा ऎसे कुछ भी!तब उन्होंने कहा कि वो तो हमेशा डॉगी स्टाइल में करते हैं. नीचे से किया था तो ऋषिका के उठते ही उसका वीर्य टपकता हुआ बेडशीट पर आ गया. ? बोल देखेगा क्या मेरे बड़े-बड़े स्तन?अब तक वो भी कुछ समझ चुका था सो उसने भी ‘हाँ’ बोल दिया।मैंने अपना पल्लू नीचे किया और ब्लाउज खोल दिया। उसका लंड खड़ा हो चुका था। मैंने कहा- तेरे इस लंड को अभी बाहर निकाल दे.

मैं उस वक्त ऊपर के रूम में सो रहा था। वो आई और मेरी रज़ाई में घुस गई और मुझे छेड़ने लगी। मेरे होंठों और बॉडी पर किस करने लगी।मैं नहीं उठा तो उसने कहा- उठो. तो उसने कहा- तो मैं कौन सा तुझसे शादी करने वाला हूँ, एक बार गांड दे दे जानेमन… लंड तो तू बहुत अच्छा चूसता है, एक बार मुझसे भी गांड की चुदाई करवा के भी देख ले कि मैं कैसे चोदता हूँ.

लेकिन मैं उसके साथ अब सेक्स नहीं करती हूँ क्योंकि मेरे बॉयफ्रेंड को पता चल गया तो वो मुझसे ब्रेकअप कर लेगा. यह सेक्स स्टोरी मेरे एक प्रशंसक की है, उसने कैसे एक साथ दो स्कूल गर्ल के साथ सेक्स किया. उसके बाद हम सो गये और अगले दिन रजनी ने हमसे विदा ली और अपने घर चली गई.

तेवर सेक्सी वीडियो

मैं चाहता तो था कि वो जोर जोर से तेज़ गति से लंड चूसे लेकिन उसकी धीमी धीमी गति और प्यार भरी पुचकार ने रोक दिया.

सुल्लू रानी ने आठ दस धक्के मारे, फिर बोली- रेखा रंडी कौन है? रीना कैसे जानती उसको?मैंने रानी के होंठ चूसते हुए कहा- रेखा रंडी है न तेरी ननद… रितेश और किरण की बहन… वो तेरी बेटी के साथ लेस्बियन सेक्स करती है. वैसे भी मोहल्ले की कोई कन्या जिसका नाम ले ले के हम सब मुठ मारते हैं या अपनी बीवी को उसी कामिनी का ध्यान लगा के चोदते हैं तो उसे इतने नजदीक से देखने बतियाने का मौका सालों में ही कभी आ पाता है. रानी मेरे ऊपर ही लेट गई तभी परीक्षित, जो हाँफ रहे थे, उनके लंड को मेरे मुँह के पास लेकर आये मैं उसे मुँह में लेकर चूसने लगी, और चिंटू जो मेरे पास में ही बैठे हुए थे उनके लंड को भी सहलाने लगी.

मैंने उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर पटका और उसकी टाँगों के बीच में आ गया. फिर शाम को वो चली गई और मैं दुकान बंद करके जाने लगा तो एक उसने एक चिठ्ठी छोड़ रखी थी- विक्रम सर… यह सच है कि मैं आपको बहुत चाहती हूँ. हिंदी बीएफ जंगल मेंवो नाईटी में थी जो पूरी तरह से पारदर्शी थी और अन्दर उन्होंने कुछ भी नहीं पहना हुआ था.

साली उफ़फ्फ़ पहले साली पूजा ने आह पागल किया आह साली अब तेरा यौवन देख के आह. उसने बोला- तुझे कैसे पता था कि मैं तुझसे प्यार करती हूँ?यह बात सुन कर मेरे दिमाग चकरा गया.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि संजय अपनी मुँहबोली बहन की बेटी यानि भांजी पूजा को बिस्तर पर लिटा कर उसकी चुत चाट कर उसको मजा दे रहा था। मजा रस को लेकर अब पूजा भी कहने लगी थी कि उसको भी ये रस चाट कर मजा लेना है।अब आगे. मैंने भी चोदने की स्पीड बढ़ा दी और जब मेरा निकलने लगा तो मैंने पूरे जोर से धक्का लगाया और लंड भाभी की चुत में पानी की बौछार करने लगा।फिर मैंने भाभी की चुत से लंड निकाला भाभी सीधी होकर लेट गई मैं भी उनके पास लेट गया. चलो मेरी जान अब चुदाई के लिए तैयार हो जाओ।संजय ने फ्लॉरा को गोदी में उठा लिया और बिस्तर पर लेटा दिया और बाक़ी सब गली के कुत्तों की तरह लार टपकाते हुए बिस्तर पर आ गए।फ्लॉरा- संजय प्लीज़ आराम से करना.

शाम को आप खुद उसे साथ ले जाना ताकि उसका गुस्सा उतर जाए और आप पर उसको भरोसा हो जाए कि उसके पापा उसका भला चाहते हैं और डर की वजह से रात को उसे मना किया था. इतने मोटे खीरे के भीतर घुसते ही गांड जो फैली तो चूत ने तंग होकर लौड़े को बड़ा कस के जकड़ लिया. बचपन की इच्छा आज पूरी हो गई।अंकल बोले- कैसे?मैं बोला- अंकल मुझे बचपन से ही आप जैसे बड़ी उम्र के लोगों को नंगा देखना बहुत अच्छा लगता था.

उन्होंने ने मुझे कहा- हम तुम्हें यहाँ दुल्हन की तरह तैयार करेंगे क्योंकि सचिन सर तुम्हें अपनी दुल्हन की तरह देखना चाहते हैं.

राजे ने झपट के मुझे अपने पास घसीटा और मेरे मुंह से मुंह चिपका दिया. मैंने भी कुछ सोचे बिना उसे पीछे से पकड़ लिया और उसके उरोजों को दबाने लगा, उसकी ब्रा उतार कर उसके दोनों बूब्स दबाने लगा.

इस तरह उन दोनों को बहुत मजा आ रहा था।हम दोनों अमिता की ताबड़तोड़ गैंग-बैंग चुदाई कर रहे थे।अपनी पत्नी को अपने बेस्ट फ्रेंड से चुदवाकर मैं बहुत खुश था. एल ई डी बल्ब की रोशनी में उनका दूधिया तन एकदम चांदी सी चमक मार रहा था. मैंने मन में बोला ‘जायेगा नहीं तो क्या… कितना बड़ा लंड लिया है मेरी चूत ने!’उसके धक्कों से मेरी चूत का दर्द और बढ़ने लगा पर सहन करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था.

लेकिन मैं उसको ज्यादा भाव नहीं देती थी। मैं नहीं चाहती थी कि मैं किसी से चुदूँ क्योंकि मैं जॉब करके पैसा कमाना चाहती थी। तो जैसा कि मैंने बताया कि मैं प्रतिदिन जॉब करने जाती और वो मुझे लाइन मारता था. मेरा नाम अजय है और मैं कोटकपुरा, पंजाब का रहने वाला हूँ और एक कम्पनी में जॉब करता हूँ, मेरी अच्छी तन्खवाह है. जो काफी लम्बा और मोटा था।अंकल बोले- मेरी रानी, जल्दी से लंड चूस ले, उसके बाद मैं तेरी चुत फाड़ दूंगा।आंटी ने जोर से लंड चूसना शुरू कर दिया। करीब पांच मिनट में ही लंड एकदम से तन कर आंटी के मुँह से बाहर आ गया।अंकल ने आंटी को पकड़ कर बिस्तर पर चित लेटा कर उनकी टांगें चौड़ी कर दीं।अब अंकल ने आंटी की चुत को बिना चूसे ही अपना लंड उनकी चुत पर रखा और एक जोर का झटका दे मारा। तभी आंटी चीख पड़ीं.

जंगली बीएफ वीडियो हिंदी नताशा को इस खेल में बड़ा मजा आया और वो खूब जोर-2 से कराहते हुए चुदने लगी. तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि मेरी मान प्रतिष्ठा मोहल्ले में बहुत अच्छी थी अतः मैं किसी भी तरह की कोई भी रिस्क लेने के खिलाफ था या स्थिति में ही नहीं था तो मैं स्नेहा का चक्षु चोदन करके और उसे ख्यालों में लाकर अपनी बीवी को चोद चोद कर या मुठ मार कर ही खुश था.

క్రైమ్ స్టోరీస్

फिर अपनी चुची दादाजी के मुंह में लगा कर लंड अपनी चूत में डाला और जोर जोर से कूदने लगी. क्या हुआ मॉम को?मॉंटी- आपको कॉल करने से क्या होता। मैंने डॉक्टर अंकल को बुला लिया था. यह जीजा साली सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!जीजू ने हल्के से अपनी गांड को पीछे किया और एक झटका आगे मार दिया.

तभी एकदम से मुझे छींक आ गई और भाभी झट से दरवाजा खोल कर भर आ गई।मुझे देख कर बोली- रोहन, इस वक़्त यहाँ? कुछ काम था?मैं- नहीं भाभी, काम नहीं था, वो बस मुझे नींद नहीं आ रही थी और बेचैनी सी हो रही थी तो मैंने सोचा कि छत पर चल जाता हूं थोड़ी देर!भाभी- ओह्ह ऐसी बात है क्या!मुस्करा कर बोली. तुम हमारी बॉलीवुड में ट्राय क्यों नहीं करती हो?मैं- करना तो चाहती हूँ, पर. सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ सेक्सी फिल्मअबकी बार वो दोनों चौंक गए, मैं हँसने लगा तो वो थोड़ा नोर्मल हो गए!‘अबे तू मेरे बचपन का दोस्त है.

’ कहते मुझसे चिपके रहते थे।टीना- वाउ यार तू तो किसी फिल्म की कहानी जैसे बता रहा है.

आज तक नहीं भूला हूँ।बुआ भी पूरी तरह से हॉट हो गई थीं। अब बुआ मेरी टी-शर्ट और बनियान साथ में ऊपर करते हुए मेरे बदन को चूमने लगीं।आह. साहिल- अब मुझे समझ आया कि तेरा लंड तना क्यों था पानी में… नीलिमा और रीता को स्विम सूट में देखकर तेरी नियत डोल गई.

आओ आज तुम और मैं मिलकर दोनों की आग बुझा लेते हैं।इतना सुनते ही मैंने उसके चुचों पर हाथ रख दिया. अब हम दोनों के मुख से मादक आवाजें आने लगी और वो बोल रही थी- मादरचोद… तुझे मुझसे नहीं, मेरी चूत से प्यार है… चोद मादरचोद!मुझे और जोश बढ़ता जा रहा था… उसके मुख से लगातार गालियाँ और मादक आवाजें ‘आह उह आह ओ याह आह आह… आह फ़क मी… कमीने चोद!’ निकल रही थी. तेरे भाई ने घर सर पर उठा लिया और बेटी तू इतनी रात तक क्यों बाहर रहती है, मुझे तेरी फ़िक्र रहती है।टीना- आप बिना वजह मेरी फ़िक्र करती हैं। मैंने कहा ना मैं आपकी बेटी नहीं बेटा हूँ.

तो उसी वक़्त तुम हमारे ग्रुप से बाहर हो जाओगी। उसके बाद ये सब मिलकर क्या करेंगे.

तुम्हें अकेले ही जाना पड़ेगा।मैंने कहा- फिर आज की टयूशन का क्या रहेगा?वो बोलीं- तुम आ सकते हो. ‘हाँ मैम?’ बस मेरे मुंह से इतना ही निकला, फिर वो मुझे एक एड्रेस लिखवाती हुई आधे घंटे के बाद उस एड्रेस पर पहुँचने को बोली. राजे ने साफ बोल दिया- रंडी तू ये असंभव सा आईडिया को दिमाग से निकाल दे, कहीं ऐसा न हो तेरे जूसी रानी से सम्बन्ध ही टूट जाएँ, तेरा यहाँ आना जाना ही बंद हो जाए और जितनी चुदाई मिल रही है, तू उसे भी खो बैठे.

बीएफ फिल्म हिंदी आवाज मेंसबसे पहले उन दोस्तों का शुक्रिया करना चाहूँगा जो मेरी कहानियाँ पढ़कर उसके रस में डूबकर आनन्दित होने के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हैं मेल और डिस्कस के द्वारा!वो कहते है न कि शेर के मुँह को अगर मांस लग जाये तो फिर वो ज्यादा वक्त तक भूखा नहीं रह सकता. मैं एक घंटे बाद आती हूँ।मेरी माँ भी आराम कर रही थी तो मैं ऊपर वाले कमरे में चला आया। थोड़ी देर बाद में नीचे आया और उसको आँख मारकर और इशारे से ऊपर बुलाया। वो बैग बंद करके ऊपर आ गई। मैंने हाथ पकड़ कर उसको अपनी ओर खींचा और कहा- तू प्यार करती है मुझसे?उसने कहा- हाँ.

वीडियो जी सेक्सी

चलो तब तक ऑफिस में चलते हैं, पास ही है।मैं उसके ऑफिस में एक दूसरी वर्कशॉप अटेन्ड करने पहुँच गया. इस पूरे वाकिये की खूबसूरती यह थी कि मानसी मेरे हर कारनामे का जवाब बराबर दे रही थी और उसके मज़े भी ले रही थी. क्या कर रहे हो?मैं- तुमसे प्यार कर रहा हूँ।वो- ऐसे थोड़ी न होता है।मैंने थोड़ा चुत को सहला कर कहा- हां और कैसे होता है?वो बोली- नहीं नहीं ये गलत है.

मैं तो पागल हुआ जा रहा था। मेरा बाइक चलाने में ध्यान ही नहीं लग रहा था। पहली बार कोई इतनी सुंदर लड़की मुझसे चिपकी बैठी थी, ये सोच कर ही मैं मन ही मन में खुश हो रहा था।सच कह रहा हूँ दोस्तों ऐसा लग रहा था कि लंगूर के हाथ अंगूर आ गया हो। वो इतनी खूबसूरत और मैं. अब 5 दिन बीत चुके थे और आज गुरुवार था और सोमवार को फीस भरने की आख़िरी तारीख थी. बुआ और चाची तो फिर भी दादाजी का लौड़ा ले लेती हैं, बेचारी कामिनी भाभी को लौड़ा चूसे और लिए हुए काफी वक़्त हो गया है, वो भी आज लौड़ा देख कर कल की चुदाई की तैयारी कर लेगी वर्ना इतने वक़्त से मेरी चूत चाट कर गुज़ारा कर रही हैं.

भाभी- ओ जान… मुझे किस करो ना!मैं- मैं आपको किस कर रहा हूँ, मेरे होंठ अपने होंठों पे महसूस करो. इस लगातार मर्दन से मेरे मम्मे एकदम सख्त और लाल पड़ गए थे, मैं कराह रही थी।रवि का लंड खड़ा हो चुका था और मेरी चूत पर रगड़ खा रहा था जिससे मेरी चूत गीली होने लगी. उसकी बात सुन कर रामू काका भी हमारे पास आ गए और मेरे लंड को देख कर बोले- अरे वाह भाई, तू तो तीस मार खान निकला, इतना बड़ा लौड़ा तो पूरी सोसाइटी में किसी का नहीं होगा, अगर सोसाइटी में ये बात पता चल गई, तो तुझे तो एक से एक चूत मारने को मिलेगी.

वो बोला- कोई बात नहीं… मैं कौन सा अपना लंड तुझे मुंह में लेने को कह रहा हूँ. उसने झट से लंड को चूसना शुरू कर दिया। वो उसे ऐसे चूस रही थी, जैसे ना जाने आज के बाद कभी लंड मिलेगा ही नहीं। उसने अपनी लार से लंड को तार कर दिया था।काका- बस राधा बस.

अगले दिन सुबह रूबी की आँख तो 6 बजे ही खुल गई थी पर जब उसने अजय को उठाया तो वो कुनमुना कर वापिस सो गया.

हम्म… की आवाज़ आने लगी, वो पागल सी हो गई और मेरे को अपने ऊपर खींचना शुरू कर दिया. हरियाणवी सेक्सी बीएफ हिंदीअगले हफ्ते रामू काका ने मुझे कहा- आज रात को 12 बजे के बाद हम ड्यूटी से वापिस अपने क्वाटर में आ जाएंगे. बीएफ बुर वालामैं प्रवीण, आज काफी टाइम बाद अन्तर्वासना पर अपनी जबरदस्त चुदाई कहानी लिख रहा हूँ. अगले दिन फिर वही लड़की मेरी दुकान पर आई और सीधे शब्दों में मुझे उसके साथ सेक्स करने का प्रस्ताव रखा.

तो उनको थोड़ा बुरा लग रहा था।मैंने कहा- हाँ बुरा तो लगेगा ना उनको।ऐसे ही बातें चलती रही और हम दोनों खाना खाने लगे।तो मैंने भाभी से कहा- तुम खाना अच्छा बनाती हो?तो भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा- थैंक्स।खाना खाने के बाद डोरबेल बजी.

30 हम दोनों स्टेशन पर उतरे। दोनों एक साथ एक लॉज में गए। वहाँ हम दोनों को डर लग रहा था कि कोई रूम मिलेगा या नहीं। लेकिन बड़ी आसानी से हमको रूम मिल गया। रूम मिलते ही हम दोनों कमरे के अन्दर चले गए। मैं रूम के चारों तरफ देखने लगी कि कहीं कोई कैमरा आदि तो नहीं लगा है। अनूप भी चारों तरफ देखने लगा। फिर उसने दरवाजा बंद कर दिया. मैं रीना के कहे अनुसार फर्श पर घुटनों के बल बैठ गया और रीना रानी बेड पर ठीक मेरे सामने आकर उकड़ूँ बैठ गई. मेरी फट गई और मैं अंदर आ गया पर उसे इस रूप में देख कर अपने आप को मुठ मारने से न रोक सका.

मैंने देर न करते हुए उन्हें उल्टा लेटने को कहा, मौसी भी अपना नाड़ा खोल कर उल्टी लेट गई. जिन्हें देखकर मैं पागल सा हो गया और उसके मम्मों को पूरी दम से मसलने और चूसने लगा।दुशाली- अह आह. मैंने देखा कि रूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला हुआ था तो मैंने सोचा कि शायद मैडम जाग रही है तो इसलिए मैं रूम के बहुत करीब गया और जैसे ही मैंने अंदर देखा तो देखकर मेरे होश उड़ गये और मेरी दोनों आँखें फैल गई, क्योंकि उस समय मेरी बॉस मेक्सी के ऊपर से ही अपनी चूत को सहला रही थी और आअहह उउफफफ्फ़ हनमम्म कर रही थी.

दिल्ली की रंडी की सेक्सी फिल्म

किसी भी मस्त लड़की को देखकर मेरा लंड फुंफकार मारने लगता था।बारहवीं क्लास के 6 महीने बीत चुके थे और मेरा लंड अब चुत की तलाश में था। कोशिश करने पर एक पटाखा मुझे पट गई, बस फिर क्या. एक मैं हूँ बदकिस्मत… जिसके नसीब में मेरे स्वर्गीय पति सरीखा चूतिया लिखा था. तुम्हें पता है ये भारी डिस्काउंट तुम्हें क्यों मिले?मैंने अनजान बनकर कहा- क्यों?तो सर ने कहा- सामने के दो बटन खुले थे, तो पांच सौ रुपये का डिस्काउंट मिला, कहीं चार बटन खुले होते तो मोबाइल फ्री में ही आ जाता!मैंने शरमाने का नाटक किया और सॉरी कहा… तो सर ने कहा- अरे, सॉरी की बात नहीं है.

फिर उसने मेरे गले में हाथ डालकर मुझे झुका लिया और मेरे होंठ काटने लगी ‘हाय राजा, चोदो मुझे… मस्त चुदाई करते हो आप! बेरहमी से फाड़ो मेरी बुर आज! पता नहीं फिर लंड कब मिले मुझे, अच्छी तरह से चटनी बना दो चूत की! हाँ हाँ… और जोर से… जल्दी जल्दी… मैं फिर से झड़ने पे आ रही हूँ… हाय रे!ऐसे बड़बड़ाते हुए उसके मुंह से किलकारियाँ निकलने लगीं.

मेरी पहली गे सेक्स स्टोरी मेरे पड़ोसी लड़के के साथ अट्टा बट्टा करने यानि गांड मारने मरवाने की है!दोस्तो, मेरा नाम निकी है और मैं ऑटोमोबाइल कंपनी में ट्रेनी इंजीनियर हूँ। मैं देहरादून से हूँ और अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ। यह मेरे साथ पहला अनुभव है, जो आज से 2 साल पहले हुआ था। मैं आशा करता हूँ कि आपको पसंद आएगा।मेरे लिंग का साइज़ 5.

माँ मेरे दरवाजे को पीट कर आवाज देने लगी, मैं मोबाइल बंद कर के दरवाजे पर गया, मेरे लंड पैन्ट के अंदर इतना टाईट था कि पैन्ट उठी हुई थी. इसलिए मैं पहले उसके घर जाता था, फिर हम दोनों स्कूल जाते थे।ऋषि की मम्मी और मेरी मम्मी भी आपस में काफ़ी अच्छी सहेलियां थीं। ऋषि की मम्मी काफ़ी सुंदर और मॉडर्न टाइप की थीं। वो ऋषि को खुद ही टयूशन देती थीं. बीएफ एचडी फुल सेक्सीफिर मैं उसके गांड की तरफ आ गया उसकी चूत थोड़ा सा हाथों से फैलाया और मेरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया.

‘यार आसिफ, अब कुछ नया करते हैं, रेगुलर तरह के सेक्स से बोर हो गया हूँ!’ सुनील अंकल बोले. मैं कुछ नहीं करूँगा बस उंगली तक ही रहेगा।लेकिन मैं कहां हार मानने वाला था तो मैंने अपने दोनों हाथों की स्पीड तेज कर दी और वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई। मैंने उसको किस करके इतना गर्म कर दिया था कि अब वो मेरा लंड खाकर ही मानने वाली थी।तभी मेरे दोस्त का कॉल आया और बोला- किसी सेफ चीज की जरूरत हो तो अलमारी में है।तो मैंने जाकर देखा. उसके बाद दोनों ने जगह बदली और दोनों के जगह बदलने तक दोनों की गांड को राहत मिली.

शानदार नताशा ने अपने होठों के ऊपर जीभ फेरते हुए अमेरिकन लंड अपनी गांड में लेना शुरू करते हुए शरारती आँखों से मेरी तरफ देखा और चेलेंज भरी मुखमुद्रा के साथ अपनी एंड्रयू के लंड से भरी गांड को सहलाने लगी. उसकी सहमति पाकर मैंने फिर से उसकी कमर में हाथ डाल कर अपने से लिपटा लिया उसे और धीरे धीरे उसकी पीठ सहलाने लगा.

लेकिन मैं मां के पास नहीं गया, मुझे पता था कि अगर मां ने मेरी आंखों में आंसू देखे तो वो पूरी बात पूछे बिना नहीं छोड़ेगी इसलिए मैं सीधा ऊपर वाले कमरे में जाकर गद्दे पर गिर गया.

फिर उसकी पेंटी भी निकाल दी। दोस्तो, क्या नजारा था फ्लॉरा के 36″ के गोल चूचे. दस मिनट तक ये घमासान चुदाई चलती रही। अब राधा की कुँवारी चुत की गर्मी काका के लंड को पिघलाने लगी थी। वो चरम पे पहुँच गए और साथ में राधा का फव्वारा भी फूट गया। दोनों के पानी का मिलन हो गया. हम एक झील के किनारे गए, थोड़ी देर वहाँ बैठे, फिर एक वीडियो गेम कैफ़े में गये जहाँ हिम्मत ने अपने बेटे को बाइक राइडिंग गेम खिलाया, फिर हमने एक रेस्टोरेंट में खाना खाया और 8.

मकई खेत वाला बीएफ बाद में मुझे पता चला कि ये उसी सामने वाली भाभी के पति ही थे, मेरे भैया और चिराग दोनों एक ही कंपनी में काम करते थे वो मेरे भैया के सीनियर थे. मैंने धीरे-धीरे से लंड पर ज़ोर लगाया और उनकी चुत में अपने लंड का टोपा घुसा दिया और फिर धीरे-धीरे धक्कों को तेज करता गया। फिर पूरा लंड उनकी चुत में पेल दिया, वो चिल्लाने लगीं और उनकी चीखें पूरे बाथरूम में गूंजने लगीं।पर उनके चिल्लाने में भी एक अजीब सा प्यार आ रहा था.

दूसरी बार तेरी जम कर चुदाई करूँगा और आज तो तेरी गांड भी मारूँगा।मोना- ओह नहीं गोपाल, गांड नहीं. ‘क्या नया करेंगे सुनील? सैंडविच करें, मैं आगे से डालता हूँ तुम पीछे से डालो। क्या कहती हो नीतू? तुम्हारे पीछे के छेद का भी उदघाटन कर देते हैं आज!’ आसिफ अंकल बोले।‘बिल्कुल नहीं, बहुत दर्द होगा, मैं पीछे से नहीं करने दूंगी!’ मैंने उनको बोला तो वो दोनों नाराज हो गए।पर एक काम कर सकते हैं, मैंने कभी खुले में सेक्स नहीं किया, क्यों ना आज रात टेरेस पे सेक्स करें! मैंने दोनों से पूछा. हा… हमें जल्द ही कुछ करना चाहिए!’ उसने कहा।उसके मुंह से यह सुनकर मैं फिर से मुस्कुराई, ‘हमें क्या करना चाहिए?’ मैंने उसे पूछा।‘देखो, बहुत जोर से बारिश हो रही है, इस हालत मैं तुम अपने घर नहीं जा सकती.

बिहारी वाली सेक्सी

जब मैंने माला से ऐसा करने से मना किया तो वह बोली- साहिब, आपने मुझे माँ बनने का जो सौभाग्य दिया है मैं उसके लिए जीवन भर आपकी सदा ऋणी रहूंगी. 32 लिखा था, और मकान मतलब मेरे उरोज जो मकान की तरह उठे हुए हैं उसका साईज 30 है, हमारा मकान नं. ‘हाँ मैम?’ बस मेरे मुंह से इतना ही निकला, फिर वो मुझे एक एड्रेस लिखवाती हुई आधे घंटे के बाद उस एड्रेस पर पहुँचने को बोली.

और अपना एक हाथ उसकी लोवर में डाल दिया जिससे पिंकी कसमसाने लगी और ‘अअओ. ‘मैं ये रूम लॉक करता हूँ, तब तक तुम प्रिंसीपल के ऑफिस में जाकर अपने घर में फ़ोन करो, फिर हम आराम से मेरे घर जाकर रह सकते हैं।’‘ह्म्म.

वो वहाँ अकेले ही रहते थे, तो मुझे उन्होंने अपने ही क्वाटर में जगह दे दी.

मगर मैं आँखें बंद करे आराम से लेटी रही!अब वरुण मेरा गाउन ऊपर तक सरका रहा था, मैंने भी धीरे से अपनी गांड ऊपर उठा दी गाउन पूरा ऊपर हो गया. फिर मैंने भी मौका देख कर चौका मारा- जो आप रात को अंकल के साथ कर रही थी, वो ही ना?आंटी बोली- वाह, क्या बात… तू तो बहुत समझदार है!ऐसा कह कर ब्रा उतार दी और बोली- चूस इनको!मैंने चूसना चालू कर दिया, मेरी बनियान खुलवा दी हाफ पेंट भी… अब आंटी केवल पैंटी में और मैं अंडरवियर में…चूंकि मैं पहली बार किसी औरत के बूब्स चूस रहा था तो मजा आ रहा था और मैं बूब्स चूसने से झड़ भी गया. मोना मान गई तो सुधीर उसको लेके पास के ही एक पार्क में चला गया, जहाँ ज़्यादा लोग नहीं थे बस कुछ कपल और कुछ कॉलेज के स्टूडेंट ही थे.

उनकी चूत बहुत ही ज्यादा गीली थी, गीली होने के कारण वो आसानी से अन्दर चली गई, मैंने देखा कि उनका छेद बड़ा है और मेरी एक उंगली से उनका कुछ नहीं होगा. वो पागलों की तरह कभी उसके चूचे दबाता, कभी उसकी गांड मसकता। वो बस पागल सा हो गया था।मोना- आह ऑउच आराम से करो आह. फिर मैंने उस की चूत में एक चॉकलेट घुसा दी और अपनी बॉडी पर भी चॉकलेट लगा कर उसके हाथ पैर खोल दिए.

’‘सॉरी यार गलती हो गई!’ मैंने नंगी हो चुकी अमिता को खींच कर मुदस्सर की तरफ कर दिया.

जंगली बीएफ वीडियो हिंदी: मैंने अंजलि को इशारा किया कि वो अपनी बुर को मेरे मुँह पे रख दे…वो समझी नहीं… पर मेरे सिखाने पर मेरे चेहरे से बुर सटा दी. लेकिन मुझे नहीं पता था कि सहारा लेते हुए ही हम दोनों में प्यार हो जाएगा.

’करके लॉलीपॉप की तरह चूसे जा रही थी।दीदी ने अपनी जीभ से मेरा पूरा लंड साफ कर दिया और उसे वापस ताजे केला की तरह तैयार कर दिया और चूस-चूस कर मेरा लंड गरम लोहे की तरह कड़क बना दिया। मैं दीदी की चुची से खेल रहा था, जिससे दीदी भी अब कड़क हो गई थीं।‘अब तुमको फिर चोद कर मजा देता हूँ रानी. मैं भी देखूँ कि तेरा लंड कितना बड़ा है।यह सुनकर मेरा लंड खड़ा होने लगा और मामला हाथों से बाहर आने लगा। उन्होंने मेरे हाथों को पकड़ा और साइड में कर दिया।अब उनके सामने मेरा लंड था, वो मेरे लंड को देख कर बोलीं- अभी से इतना बड़ा कर लिया तूने?मैंने कहा- किया क्या. रामू काका ने मेरी नज़र भाँप ली और गीता से बोले- ए गीता, उठ और चल इधर आ कर मेरी जांघ पर बैठ!गीता ने कामुकता से भरी बड़ी टेढ़ी मुस्कान दी और अपनी ही साड़ी में उलझती हुई रामू काका की जांघ पर बैठ गई.

तब से मुझे कुछ कुछ होता है मैं तो साहिल जब मुझे चोदता था तब तेरे पति को याद् कर मन ही मन न जाने कितनी बार उनसे चुदवा चुकी हूँ.

अपने पैरों को दूर-दूर करो। आंटी ने वही किया और मैंने चूत में एक उंगली डाली और हिलाने लगा। आंटी ‘सी सी. मैं एक घंटे बाद आती हूँ।मेरी माँ भी आराम कर रही थी तो मैं ऊपर वाले कमरे में चला आया। थोड़ी देर बाद में नीचे आया और उसको आँख मारकर और इशारे से ऊपर बुलाया। वो बैग बंद करके ऊपर आ गई। मैंने हाथ पकड़ कर उसको अपनी ओर खींचा और कहा- तू प्यार करती है मुझसे?उसने कहा- हाँ. मुझे तो सचिन की उंगली से ही इतना दर्द हो रहा था तो अब पता नहीं लंड कितना दर्द देने वाला था.