बीएफ चुदाई 2020

छवि स्रोत,सुपर बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

चुदाई देहाती बीएफ: बीएफ चुदाई 2020, मैं उसकी चुत चाटने लगा तो वो बोली- ये क्या कर रहे हो?मैं बोला- यही तो असली चुदाई का मजा है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ वीडियो

वह देखना चाहता था कि पद्मिनी कैसे गुसलखाने से बाहर निकलेगी, क्या पहनकर आएगी और उसको कौन सा हिस्सा उसके जिस्म का दिखेगा. ओपन सेक्स व्हिडिओ बीएफफिर बहूरानी अचानक मुझसे खुद को छुडाने लगी- पापाजी … देखो आठ चालीस हो गये, चाचा जी आने वाले ही होंगे.

”साले भेड़िये… बोलती हूँ न अब छोड़ भी दे… नहीं तो दर्द की गोली लेनी पड़ेगी… जिस दिन मैंने तुझे पहली बार देखा ना तुम्हारी शादी में उसी वक़्त जूसी से जल भुन के मैं तो फुंक गई थी. बीएफ नंगे गानेइतनी पास था राज मेरे… मैं उसे देखने लगी… अचानक मेरा हाथ उसके तौलिये पर पड़ गया और उसके लंड से छू गया.

फिर बहूरानी अचानक मुझसे खुद को छुडाने लगी- पापाजी … देखो आठ चालीस हो गये, चाचा जी आने वाले ही होंगे.बीएफ चुदाई 2020: अब तक इस चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा कि चाचा ने मेरी गांड में अपना लंड घुसेड़ रखा था और मनोहर ने मेरे मुँह में अपना लंड ठूंस रखा था.

लेकिन राशिद ने उसे हाथ से सहलाया तो वह एकदम टाईट हो गया। डेढ़ इंच की मोटाई रही होगी और छः से सात इंच के करीब लंबाई थी।देखो.मैं कभी उसके पैरों की उंगलियों को मुँह में लेता, तो कभी उसकी पैंटी के साइड में खुली हुई चिकनी जाँघों को किस करता.

सेक्सी बीएफ दादा - बीएफ चुदाई 2020

अब तक की इस हिंदी में चुदाई की कहानी में आपने जाना था कि बाप अपनी बेटी से अपने लंड की मुठ मरवा रहा था, उसे मर्द के लंड की मुठ मारना सिखा रहा था.जानते हैं भाईजान मेरी 5 फ्रेंड हैं, जिनमें से 3 का अपने बड़े भाई से और एक का अपने छोटे भाई से चक्कर है.

फिर भाभी ने मेरी पैन्ट खोली और मेरा लंड बाहर निकल कर हाथ में पकड़ कर कहा- ये तो तुम्हारे भईया से बड़ा है. बीएफ चुदाई 2020 अब मैंने भी दोस्ती के नाते हां कह दिया और उसके बताए पते पर चला गया.

साली खेली खाई चुसक्क्ड़ लग रही थी, पता नहीं चूत की सील खुली थी या टूटी थी.

बीएफ चुदाई 2020?

फिर धीरे धीरे मेरा लंड अपने पूरे रूप में आ गया, जिसका एहसास दीदी को हो गया था. मैं अपनी बहन की चूत चाट रहा था- रीनू, तेरी चूत तो काफी गीली हो गई है. कल उसे मार्केट ले जाकर नया मोबाइल जो दिलवाना था, शायद इसलिए…तो अन्तर्वासना के मेरी प्रिय पाठिकाओ और पाठको.

वह थोड़ा कसमसाने लगी तो मैंने उसके कन्धों को पकड़ कर जोर लगा कर एक ही झटके में पूरा लण्ड अन्दर ठोक दिया. मैं बोला- कैसे?माधुरी- यार और कोई होता तो अकेली लड़की देख उस पर टूट पड़ता, पर तुम बहुत सही लड़के हो. तबस्सुम ने उनको देख कर कहा- नहीं, यह आज हमारी मेहमान है और सिर्फ़ हम सबको देखेगी और फिर यह किसी खास आदमी की अमानत है.

मैं लंड को चुत पर रख कर रगड़ने लगा वह कराहने लगी और चुत में लंड डालने को बोलने लगी. मैंने उनकी गांड के छेद पर लंड टिकाया और एक धक्का दे मारा तो मेरी मम्मी एकदम से उछल पड़ीं. मैंने उसे नीचे लिटा कर उसकी टांगों के बीच में आकर अपना लंड जो कि काफी गीला था, उसकी चूत के होंठों के बीच में सैट किया और लंड का टोपा अन्दर डाल दिया.

फिर थोड़ी देर में उसके सामान्य होने पर मैं उसकी गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. फिर अचानक फूफा जी ने मुझे अपनी बांहों में कसते हुए एक पलटी लगाई और मैं फूफा जी के नीचे आ गयी और फूफा जी मेरे ऊपर आ गये और मेरी तरफ़ देखते हुए बोले- क्या बात है कोमल बहू… मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा कि तुम मेरे साथ मेरे कमरे में आकर मेरी नींद का फ़ायदा उठा कर यह सब कर रही हो?मैं कुछ बोल पाती, उससे पहले ही फूफा जी ने फिर से मेरे होंठों को अपने मुँह में ले लिया और मेरे चुचे मसलने लगे.

फिर मैंने भाभी की ब्रा भी खोल दी और उनके सख्त चूचों को देख कर मैं पागल हो गया.

वो अपने हाथों के नाखून मेरे पीठ पे गड़ाने लगीं, जिसके कारण मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन उस समय उस दर्द का भी अपना मजा था.

फिर वो मेरी गर्दन को किस करने लगा, फिर उसने मेरे गालों को चूसना शुरू कर दिया और अपने दांतों से चबाने लग गया. जब वो मेरे सामने आई तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे पकड़ कर एक झप्पी ले ली. मुझे नीचे कुछ हो रहा था, लंड पहले से ही बहुत टाइट था, अब तो खुशबू के पास में होने से तो और ही अकड़ गया था.

मैं तो होश में नहीं था करीब दस मिनट से ज्यादा की एकता की गांड चुदाई के बाद मैंने उसे ऊपर से हटाया और डॉली को बेंच पर लेटा दिया. थोड़ा इधर उधर की बातें की, उसने पूछा- सफर कैसा रहा?मैंने कहा- ठीक रहा।बातें करते करते कब उसका घर आ गया पता ही नहीं चला। उसने कार अंदर की, हम घर के अंदर गये. जब आपा कॉलेज चली जातीं, तो उसकी ब्रा निकाल कर उसपे मुठ मारा करता था और उसके आने से पहले ब्रा धोकर सुखा दिया करता था.

जाने कब हम लोग अब अलग हो जाएं!देवेश- सर! आप भी इस उमर में भी हम दोनों से ज्यादा माशूक हैं.

एक तो बुआ इतनी हॉट और सेक्सी थीं कि उनकी कुंवारी जवानी को सोच कर ही सारा दर्द काफूर हो गया. ” वह ऐसे याचनात्मक स्वर में बोला कि मुझे लगा वो बस अभी रो ही देगा।तुम ठीक तो हो… तुम्हें कुछ हुआ तो नहीं?” मैंने चिंताजनक स्वर में कहा।नहीं।” उसने रुआंसे होकर कहा।मैंने न चाहते हुए भी खुद को बाथरूम से बाहर कर लिया और उसने उठ कर दरवाज़ा बंद कर लिया. अभिलाषा ने कहा- मुझसे अब रहा नहीं जाता, अब देर मत करो, जो कुछ करना है, फटाफट करो.

इस तरह से वे दोनों अपनी चुदास की मस्ती में न जाने क्या क्या बड़बड़ाते हुए एक दूसरे को चूमते चाटते रहे और न ज़ाने क्या क्या बोले जा रहे थे. मुझे ऐसा लगा कि ये बहुत जोर से चिल्लाने वाली है तो मैंने उसके लिप लॉक कर दिए थे, अब तक मेरा आधा लन्ड अंदर जा चुका था और वो रो रही थी, तो थोड़ा टाइम रुका और उसके बूब्स के साथ खेलने लगा. इस पर भी जब उसका दिल नहीं भरता, तब चूत को अपने हाथों से पूरी तरह से खोल कर देखता है.

मैं बोला- आपने सॉरी क्यों कहा?तो वो कुछ देर कुछ नहीं बोली और फिर मुस्कुरा कर बोली- आपको कहाँ जाना है?मैंने बता दिया कि घर जा रहा हूँ.

शुरू में तो मैं उसे सामान्य बातें करता था, पर धीरे धीरे मैं आगे बढ़ा. फ़िर मैंने चॉकलेट चाटने का सिलसिला शुरू किया, होंठों के करीब गया तो उसने मेरे होंठ जकड़ लिए.

बीएफ चुदाई 2020 इतनी रात में उनका वहाँ से आना ठीक नहीं, तो प्लीज़ तुम उसके घर चले जाओ. मैं दर्द से तड़प उठी और फूफा जी को रोकना चाहा मगर तब तक फूफा जी का पूरा लंड मेरी चुत में घुस चुका था.

बीएफ चुदाई 2020 कभी उनसे मिलने भी जाता था, तो कभी हम दोनों साथ में फिल्म भी देखने जाते. एक निपुण मूर्तिकार द्वारा घड़ी गयी किसी हसीन मूर्ति सी पतली कमर, उसके नीचे ग्रेसफुली फैलता हुआ नितम्ब तक का बदन, फिर उतना ही ग्रेसफुली टांगों तक जाता हुआ साटिन सा चिकना शरीर.

दूसरे दिन सुबह को मैंने उसे पिक किया और कार में बैठाते ही मैंने उसे किस किया.

सिक्स ईपी लाइव

तो लालजी आ गया, मैं पेटीकोट में थी और ब्लाउज का पीछे बटन बंद करना था. क्योंकि मैं उनसे बहुत प्यार करता था और मैं उनको उदास नहीं देख सकता था. अब तो बुड्ढा मेरी चिता जलाने को तैयार था, बुड्ढा मैडम के ऊपर चढ़ने को आतुर हो रहा था। बुड्ढे ने मैडम की दोनों जांघों को फैलाया और खुद बीच में आकर बैठ गया, वहाँ उसने अपना लिंग उस कामिनी की योनि में अंदर डाला और इधर जैसे मुझे हर्ट अटैक आ गया हो।बुड्ढा अब ऊपर नीचे हुए जा रहा था, मैडम ने अपनी दोनों जांघें बुड्ढे पर वार दी और अपने दोनों हाथों से बुड्ढे की पीठ को नोच रही थी.

चुदने के बाद बहूरानी पता नहीं कहां गायब हो गयी और मैं वापिस हाल में जाकर बैठ गया. चाहे कोई मरे या जिये आपकी बला से!”ऐसे नहीं न कहते मेरी जान … अच्छा चलो मेरी सॉरी; आगे से बड़े प्यार से एंटर करूंगा. जब तक भाभी फिर से गरम हो गईं और मेरे ऊपर आकर लंड अपनी चुत में लेकर कूदने लगीं.

आधा घंटे बाद जब थोड़ा दर्द कम हुआ तो काजल ने पूछा- क्या तुम आज रुक सकते हो?मैंने मना कर दिया और कहा- यार आज ही जाना होगा.

उसने कहा- मैं किसी लड़के को नहीं जानती हूँ और इसमें मुझे डर भी लगता है. साथ ही वो एक साथ पूरे लंड को चूसते वक़्त अपने कोमल हाथों से खड़े लंड को रगड़ने लगी. ज़रा सोचिए दोस्तो, जब एक जवान लड़की पैरों को मोड़कर अपने करवट लिए सोयी हुई हो और छोटी सी स्कर्ट में हो तो कैसा नज़ारा देखने को मिलता है.

अंकल सुरेंद्र जीजा को बोले- यार तू अब वन्द्या के पीछे का मोर्चा संभालना, मैं इसके आगे चूत को और बूब्स को देखता हूं।अंकल ने अब मेरी टांगों को इधर-उधर फैलाया और मेरे जांघ पर किस करते हुए बिल्कुल मेरी चूत में पहुंच गए और अपनी उंगली डाल दी. उसका टोपा किसी काऊबॉय के हैट जितना चौड़ा और मांसल था! उसके लंड का आकार तो सामान्य से थोड़ा बहुत ही अधिक था, लगभग 18 या 20 सेमी लेकिन टोपा किसी दैत्याकार मशरूम के जैसा लग रहा था. शाहिद, वाजिद, और राशिद, इनमें से शाहिद सबसे बड़े थे और एक दिन सबसे ऊपर के एक कमरे में वह और शाजिया अप्पी एकदम नंगे पकड़े गये थे.

आप बेशक मुझे अपना वह दोस्त समझ सकती हैं जिससे आप पूरी सेफ्टी के साथ जैसी चाहें बात कर सकती हैं।”मैं नहीं समझ पाती. तब उसने बोला- आज तुमने मुझे बहुत खुश किया है, मैं अपनी खुशी से दे रही हूँ.

मैंने उससे कहा- ज़रा आराम से कीजिएगा, मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ. फूफा जी ने अपना लंड मेरी चूत में हिलाते हुए कहा- हाअ… हाअ! शायद हो गया होगा नशे में… मगर मैंने तुम्हारे कपड़े तो नहीं उतारे और मेरे कपड़े भी?मैंने भी फूफा जी के हल्के हल्के झटकों का साथ देते हुए अपनी कमर हिलनी शुरू कर दी और फूफा जी का लंड मेरी चूत में अंदर बाहर होने लगा. उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोला- चल आज मुझे अपना सुख दे दे.

मैंने एक दर्द निवारक क्रीम लाकर उसके पास बैठ गया लेकिन वो क्रीम लगवाने से मना करने लगी, मैंने कहा- फिर क्या लगा कर मालिश करूँ?उसने अपनी अलमारी से एक तेल की शीशी निकालने को कहा, मैं ले आया.

जीजा ने दीदी के दूध दबोचे और बोला- भैन की लौड़ी, अब तेरी चुत में एकाध दोस्त का लंड भी पिलवा दूंगा. अभी यहां तो दोस्त भी तुम हो, साले भी तुम, रिश्तेदार भी तुम! इसलिए दोस्ती वाली बातें कर रहा हूं. मैंने तभी लाल जी को आवाज दी कि लालजी अन्दर आना, मेरे को थोड़ी तेरी हेल्प चाहिए.

ऐसे ही मैंने एक दिन कहा- हमेशा ऐसा ही होगा या सामने से भी किस होगा?तो उसने फिर से मना कर दिया. फिर हमने पलंग का सारा सामान … कपड़े, मिठाई के डिब्बे जैसे रखे थे वैसे ही रख दिए.

करीब पौने दो साल बाद फिर हाज़िर हूँ आपके बीच। अगर भूलें न हों याद दिला दूँ और पढ़ी न हों तो पढ़ लें. उस समय मैं टुटू को नहीं जानता था, वो भी मेरे को बस नाम से ही जानती थी. मेरे पास मोटे कपड़े थे, जब मैंने उनको डालना शुरू किया तो बोली- क्या यार, तुम भी कहाँ की दकियानूसी हो.

दोस्त की मां को

फिर कुछ देर बाद उसने मेरी लोअर उतार दी तो मेरा टेंट उसे दिखा, उसने कहा- नए अंडरगारमेंट्स पहने हैं?उसने भी नई ब्रा पैंटी का सैट पहना था.

और हां दोस्तो, कल ही आरुषि का मेसेज आया है कि वो किसी काम से पालमपुर जा रही है, अब आप तो जानते ही होंगे कि लड़कियाँ बुलाती नहीं हैं, लड़के खुद आ जाते हैं. अब मेरे दिमाग में उसकी तस्वीर कुछ दूसरी बनने लगी थी, लेकिन उसकी मदभरी आवाजें मुझे कुछ और सोचने पर मजबूर भी कर रही थीं. अगले दिन शादी थी तो उसकी तैयारियों व खाना पानी में कब शाम हुई पता ही नहीं चला और बारात के टाइम पर मैं तैयार होकर सबके साथ पहुंचा.

एक तरफ लड़के लोग, दूसरी तरफ लड़कियां और हा हा हा हा दोनों के बीच में बुज़ुर्ग लोग, ताकि कोई भी कुछ गड़बड़ न कर सके. हम दोनों ने शाम तक आपस में बातें की और रात को एक दूसरे के पास बैठ कर टीवी देखते रहे।रात को जीजा जी के शॉप से घर आने के बाद हमने अलग अलग खाना खाया और सोने चले गये. बीएफ सेक्सी साडी वालामुझे क्या बात करनी चाहिये।” मुझे लगा, वो मुझ पर भरोसा कर रही है।कोई बात नहीं.

तो बोलीं- खाना मेरे मुँह से खाओगे या हाथ से खाओगे?मेरी समझ में नहीं आया… मैंने बोल दिया- मुँह से खाऊंगा. यह एक सच्ची घटना है, मेरा एक दोस्त है उसका नाम नवल है, वह मेरा सबसे पक्का दोस्त है.

उसने उंगली और अंगूठे को मिला कर तार सा बना कर दिखाया और मैं आश्चर्यचकित रह गयी- यह कहां से आ गया. मैं आपके लन्ड को मसलती रही और सोच रही थी कि किसी दिन मौका मिले और आप मुझे चोदो. मैंने कहा- जैसे तुम्हारी मर्जी!वो मेरे ऊपर आई, हाथ से मेरा लंड पकड़ा और एक ही झटके से पूरा लंड अपनी गांड में ले लिया और जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी.

थोड़ी देर बाद जब मैं झड़ने को हुआ तो मुझे याद आया कि मैंने इस बार कंडोम तो लगाया ही नहीं. उन्होंने अन्दर पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी और वो बहुत ही हॉट लग रही थीं. उसने मुझे जब पूरी तरह से पेल लिया तो बोला- सुनो मैं अपना माल तुम्हारी चुत में गिरा दूं.

मैंने कहा- तो ठीक है, मुझे तो आप जूली से भी ज्यादा सेक्सी लग रही हो.

मैंने चाकलेट का एक पीस लिया और उसे खाने को दिया और उसके कान में कहा कि मुझे भी दो!उसके कुछ पूछने से पहले ही मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. कुछ देर बाद मैं उसे अपने दोनों पैर फैलाकर गोद में लेकर चोदने लगा और उसकी चूचियों को चूसता रहा.

मेरा लंड झड़के मुरझा चुका था और रानी की लार व मेरे माल की बूँदों से लिबड़ा एक तरफ को पड़ा हुआ था. यह अपने अंतरंग पलों को किसी और के बहाने वापस जी लेने जैसा अनुभव देगा, जिसकी उसे इस वक्त सख्त जरूरत है।वह सोच में पड़ गयी. इसलिए पहले ही निवेदन है कि गलतियों को नजरअंदाज करते हुए कहानी का आनन्द लीजिएगा और इस कहानी को लेकर अपने विचार ज़रूर मेल कीजिएगा.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:सास विहीन घर की बहू की लघु आत्मकथा-4. मैंने कहा- आंटी, क्या कभी आपने अपने पति का लंड चूसा है?आंटी बोली- हां, उन्हें चुसवाना बहुत पसंद है, लगभग हर रात को मैं उनका लौड़ा चूसती ही हूं. सो मैं पीछे के दरवाज़े से सीधा मॉम के कमरे में ही जाके मॉम को सरप्राइज देता हूँ.

बीएफ चुदाई 2020 मैंने देखा कि बलवीर के ऊपर भी कोई लेटा था और उसकी गांड में भी लंड पेल रहा था।बलवीर उसे पहचानता था, बोला- अरे, मम्मा! नेक धीरे धीरे… दम तो लेन दो… आज लगत गांड फार के ही दम लै हो।मैंने अपनी गांड सिकोड़ी और चित हो गया, उसकी गिरफत से छूटने की कोशिश की, उसे एक मुक्का जड़ दिया व खड़े होकर गांड पर एक लात दी. मैंने उनसे पूछा कि मुझे क्या करना होगा?तो वे बोलीं- ये तुम सोचो! और हाँ, पहले तो कोई बड़ी सी जगह ढूँढो!मैंने कहा- ये मैडम भी ना मरवायेगी मुझे! क्या क्या करवाती है मुझसे!वो दोनों हंसने लगीं तो मैं बोला- हाँ हाँ… हन्स लो, अभी समय है आपका!और वहां से चला गया.

बीपी वीडियो मारवाड़ी

मैं पतले वाले गीले तौलिये में थी तो मेरी चूची के उभार थोड़े साफ़ दिख रहे थे. अब मेरा भी निकलने को हो रहा था तो मैंने और भी स्पीड से चोदना चालू कर दिया और जब मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने लण्ड को उसकी चूत से निकाल लिया और अपने हाथों में लेकर चरमसुख की प्राप्ति की आवाज़ आअह्हह्ह आआह्हा के साथ पूरा वीर्य उसके नंगे बदन पर फैला दिया. वो बोला- वन्द्या, तुम बहुत बड़ी सेक्सी आइटम हो, आज तक इतनी सेक्सी नाभि और ब्लाउज में इतने मस्त चूचे मैंने आज तक नहीं देखे, तुम्हारी कमर बहुत सेक्सी है.

उसने माँ को अपनी गोदी में उठा कर अपना लंड उसकी चूत में डालकर माँ को बोला कि अब धक्के मारो इस पर. जगत तो शायद मेरा नाम सुन कर ही हवा भर रहा था, वो कहाँ अब रुकने वाला था, वो बोला- आह. पार्टी की बीएफउसके बाद सोनिया ने दोनों टांगें मेरी कमर में डाल कर मेरी कमर पकड़ ली और आहें भरने लगी.

मैंने मिसेज़ रानी को जगाया, वो अपना सर पकड़े उठी, बोली- हैंग ओवर से सर फटा जा रहा है.

दीदी ने अपनी जीभ को जीजा के लंड के सुपारे पर फेरी और तभी जीजा ने अपने मुँह में भरी दारू अपने लंड पर गिरा दी, जिससे दीदी को लंड के साथ दारू का मजा भी मिलने लगा. मैंने काजल को सॉरी बोला, किस किया तो काजल जोर से बोली- माधुरी डार्लिंग, मैं ठीक हूँ.

फिर बलवीर ने जो आशंका जताई थी वह हो ही गई।आज शादी का दिन आ गया था, मेहमानों की भीड़ बढ़ गई, रात बारह बजे तक बारात आई, टीका व बारात की दावत हुई, हम सबने खाना खाया, फिर मामा जी हम दोनों को एक दूर झोपड़ी में ले गए. वह श्रीनगर कश्मीर की रहने वाली थी, उसके पति चेन्नई में नौकरी करते थे, श्रीनगर में भी वह होटल इंडस्ट्री में ही काम करती थी और जब उसके पति की ट्रांसफर चेन्नई में हुई तो उसने यहां भी होटल ज्वाइन कर लिया. पहले उसे चिकेन खिलाया, फिर घूँट घूँट कर के उसे पिलाने लगी और खुद भी उसी में से पी और खा रही थी.

कुछ देर में वो उत्तेजना में न जाने क्या क्या बड़बड़ाने लगी- चोद दे मेरी भोसड़ी को … जोर जोर से फाड़ दे मेरी चूत को!और मेरी स्पीड उसके कहे अनुसार बढ़ती चली गयी.

उन्होंने कुछ नहीं कहा, मैंने तुरंत कहा कि वो आफिस में लैपटॉप की जरूरत पड़ेगी, अगर आपको जरूरत न हो तो लैपटॉप. अब मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपना लंड को उसकी चुत पे रगड़ने लगा. मैं समझ गया कि वो अब झड़ने वाली है तो मैंने और तेज झटके लगाने शुरू कर दिए.

बीएफ सेक्सी पिक्चर नंगावो दस मिनट बाद आई, उस समय उसकी लिपस्टिक होंठों से ऐसे हो चुकी थी कि किसी ने उसको बुरी तरह से चूमा चाटा है. अब उनके पैर उनका साथ छोड़ने लगे, वो डगमगाने लगे तो मैंने उन्हें इस तरह व्यवस्थित किया कि उन्हें कुछ ना करना पड़े और कुछ और धक्कों के बाद मैंने भी उनकी योनि में अपना वीर्य भर दिया.

बाथरूम में नहाते हुए सेक्सी

उसकी माँ की चुत को गीली देख कर मैं सीधा मुठ मारकेमाँ की चूतचाटने लगा. मैंने ओके कहा और वो मेरे पैरों के बीच में आ कर जोर से लंड चूसने लगी. मैं एक झपकी ले लेती हूं। आप मुझे ठीक मुझे दस मिनट के बाद जगा देना।वह मेरे सामने ही आराम कुर्सी पर बैठकर पढ़ रही थी। वह उसी पर आँख बंद करके सो गई। उसी वक्त मेरी नजर उसके भरे-पूरे उरोजों से जा टकराई थी। दोनों उरोज के बीच की गली साफ दिखाई दे रही थी। उसके मदमस्त उभार मानो मुझे आमंत्रित कर रहे थे। उसे देखकर मेरा ध्यान पढ़ाई से हट गया। उसके दूध मुझे लुभा रहे थे.

फिर मैंने उनको दुबारा उठा लिया और पीछे से लण्ड उनकी गाण्ड में अच्छी तरह से गड़ा दिया. कि तभी सुकन्या रानी अपनी गांड उछाल उछाल कर मेरी उंगलियों के ताल से ताल मिलाने लगीं और थोड़ी देर में सुकन्या चीखते हुए आंखें बंद करके चरमानंद का सुख महसूस करने लगी. मैंने उसे जकड़ कर रखा था और साथ में मैं उसकी गांड धीरे धीरे मारने लगा.

वो मेरी बगल में बैठ गई और मुझे नाश्ते की प्लेट लगा कर दी और आग्रह कर कर के मुझे खिलाने लगी. मैं जा रहा था कि एक भाई साहब मिले, वे मेरे नाच के कारण मुझे पहचान गए, बोले- थोड़ा आगे मेरे साथ चल!मैं चला गया. आप सबसे विनम्र निवेदन है कि नीचे लिखी मेरी मेल आई डी पर इस कहानी के बारे में अपने विचारों से मुझे अवश्य अवगत कराएं.

खाना खाने के बाद हम थोड़ी देर बाहर घूमने चले गए और रात के 11 बजे वापस अपने रूम में आए. साथ ही वो एक साथ पूरे लंड को चूसते वक़्त अपने कोमल हाथों से खड़े लंड को रगड़ने लगी.

हम दोनों तुमको ठीक वैसे ही चोदेंगे, जैसे अंग्रेजी फिल्मों में विदेशी करते हैं.

उसका हाथ मेरी चूत पर पड़ा ही नहीं बल्कि वहाँ पर फिरना भी शुरू हो गया. सोते हुए बीएफ सेक्सीमुझे पता चला कि वो आज छुट्टी पर है, आएगी नहीं, रात भर मुझसे चुदने के बाद जूली अगले दिन होटल नहीं आ पाई थी।मैं बुकिंग मेनेजर अभिलाषा के कमरे में गया तो वहां अभिलाषा भी नहीं थी. 2020 की सेक्सी बीएफअब मैंने काजल को गोदी में उठा कर बेड पर लिटा दिया और खुद भी उसके ऊपर चढ़ गया. वो सोफे पे अपने चौड़े से तशरीफों को रखते हुए बोलीं- तुम्हारी ये ईदी मुझे पंसद आई.

डॉली नीचे झुक कर एकता की चुत को चाटने लगी और मेरी गोटियों के साथ भी खेलने लगी.

क्योंकि हम सोसाइटी में तो बात नहीं कर सकते… और मैं आपको फोन कर लूंगी. जैसे ही मैंने उसको चूमने के लिए मुंह बढ़ाया तो उसने मेरी ठुड्डी पर उंगली रख के मुझे रोक दिया और फिर मेरे दोनों गाल अपने नरम हाथों में थाम के बहुत ही धीमे स्वर में बोली- निवास अब देर न करो… जल्दी से जो करना है करो… अब रुका नहीं जा रहा… चुम्बन वग़ैरा बाद में. अब मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने उसके पास अपना एक पैर लाकर उसकी जांघों पर रख दिया.

फिर मैंने उसको उठाकर टेबल पर बैठा दिया, तभी मेरी नज़र सिल्क चॉकलेट पर पड़ी. मैंने उनसे पूछा- मैं आपका सामान ला दूँगा, पर मुझे क्या मिलेगा?भाबी ने कहा- जो आप कहो. उसके बाद तो उसने यह बोल कर मुझसे फोन पर बात करनी ही बंद कर दी कि वो कुछ दिनों के लिए मुंबई जा रही है.

सेकसीविडीय

अब न मंजू को पति का डर था न किसी की शर्म वो बस चुदने को बेताब थी!मैंने मंजू की चूत में जीभ और बीच की उंगली दोनों डाल ली, मंजू अब तड़पने लगी, वो कामवश होकर मुझे दोनों टांगों से जकड़ रही थी. फिर थोड़ी देर बाद वो झड़ गई, पर मैं अभी भी नहीं थका था और वैसे ही झटके लगाए जा रहा था. उसका हाथ मेरी चूत पर पड़ा ही नहीं बल्कि वहाँ पर फिरना भी शुरू हो गया.

इतना कहते ही उसने तुरंत मेरे पेंट की जिप खोली और लंड को तुरत खींचकर बाहर निकाला.

बिल्कुल कर सकती हूँ… लेकिन वहां स्टूडियो में सब कुछ रियल नहीं होता, एक-एक शॉट के दस दस रीटेक होते हैं, फैसिलिटी ही अलग होती हैं… और मैं तो आज बिल्कुल ही तैयार नहीं थी एनल सेक्स के लिए… और वो भी ऐसे मोटे ढपाल लंड के साथ!”प्रत्युत्तर में आर्थर सिर्फ हंसने लगा और उसने अपने कंधे उचका दिए.

बस फिर क्या था वो कभी मेरे मम्मों को दबाता तो कभी मेरे गांड की छेद में उंगली करता. यह सुनकर वो बहुत खुश हो गयी, उसके चेहरे की मुस्कान से ही पता चल रहा था. वीडियो बीएफ सेक्सी सेक्सी वीडियोलेकिन समझते देर नहीं लगी कि ये यहां पर क्यूं है… घर में कोई नहीं है और गगन इसके साथ अंदर रंगरेलियां मनाने में लगा हुआ था।उस नाइजीरियन ने मुझसे हाथ मिलाया, मैंने उसको हैल्लो कहा।मैंने गगन की तरफ देखा, आंखों ही आंखों में उससे पूछा, बस यही था तेरा प्यार… वो मेरा चेहरा देखते ही समझ गया कि मेरे अंदर क्या चल रहा है.

तो फिर लिया या नहीं चुत में?” रंजू ने पूछा।हाँ लिया ना… एक बार… बहुत मजा आया था…” चेतना सब याद करते हुए बोली।पर मैं शर्त लगाकर कहती हूं कि राजू का उससे भी बड़ा होगा. बाहर जाते वक्त चाची ने मुझे देख लिया और घबरा कर वहां से तेज कदमों के साथ चली गईं. मुझे आज तक कभी किसी से इतना मजा नहीं आया था लंड चुसवा कर… फिर वो मेरा लंड मुंह में लेकर चूसने लगी.

इतने में बड़ी चाची ने मुझे बेड पर धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और छोटी चाची उठ कर दरवाजा लगाने चली गईं. कश्मीर मैंने देखा भी नहीं था और नूरी खाला का साथ मुझे अच्छा लगा था.

फिर उसने मुझे जबरदस्ती मेरे बेड पर भेज दिया।उसके कुछ देर बाद मैंने जीजा को जगाया और उनके साथ स्टेशन चला आया.

तो स्पीड बढ़ाऊँ?तो उसने हाँ बोला और फिर उसे उसे थोड़ा जोर से चोदने लगा और लंड भी अन्दर डालता गया. फिर साड़ी का सिरा पकड़ कर धीरे-धीरे खींचने लगा, वो गोल गोल घूमने लगीं. थोड़ी देर में मॉम ढीली पड़ गईं और दोनों हाथों से कुर्सी पकड़ कर खड़ी हो गईं.

इंदौर की बीएफ सेक्सी हाय भाईजान अब आप जल्दी से अपनी बहन को चोदकर बहनचोद बनिए और मुझे भी जवान होने का मज़ा दीजिए. मेरा दोस्त अपनी गर्लफ्रेंड के मम्मे दबा रहा था, साथ ही साथ उसके होंठों को भी जोर से चूस रहा था.

मैंने देखा बुआ कुछ बोल नहीं रही थीं तो मैंने लगातार दो शॉट मारे और पूरा लंड बुआ की चूत में डाल दिया. जब वो क्लास में आती थी, तब मैं उसे पढ़ाने के बहाने यदा-कदा छू भी लेता था और कभी सबकी नजरें बचा कर उसके उरोज भी हल्के से मसल देता था. जब मैंने कुछ नहीं कहा तो वो मुझे किसी सुनसान जगह पर ले आया और अपनी पैन्ट खोल कर बोला कि देख ले आदमी का ऐसा होता है.

चोदी चोदा चोदी वीडियो

जब मैंने उसको देखा तो वो कोई 50 साल का बुड्डा होगा, मुझे डर लगने लगा और मैं वहाँ से हट कर दूसरी जगह खड़ा हो गया और अपने काम पर चला गया. मैंने पता भी लगवाया था कि कहीं किसी और के साथ तो कोई चक्कर नहीं चला रहे, मगर ऐसा भी कुछ नहीं है. उसके कमरे में जाकर जब मैंने उसके लंड की तरफ देखा, तो पाया कि उसका लंड एकदम उसके पेंट में खड़ा था.

आंटी ने कहा- सॉरी की कोई बात नहीं है, हां मैंने बहुत बार देखा है, नेहा के पापा मुझे बहुत बार पोर्न दिखाने के लिए सीडी लाते हैं घर पर. जब वह खड़ी हुई तो वीर्य उसकी चूत से निकल कर उसकी जांघों से होता हुआ उसके घुटनों तक बहने लगा.

उस धर्म की महिलाएं बला की खूबसूरत होती हैं, ये तो आपको पता ही है दोस्तो.

दीदी की शादी हो चुकी थी लेकिन तीन साल पहले उनका डाइवोर्स हो गया था, तब से वो भी यहीं कानपुर में ही हमारे साथ रहती हैं. मैं सोचने लगा कि मेरे पास गर्लफ्रेंड नहीं और उनके पास उनका शौहर नहीं. रोहित ने अपना लोअर और टीशर्ट उतार कर साइड में रख दिया। अब हम दोनों भाई बहन नंगे थे।भाई ने अपनी चचेरी बहन को बांहों में भर लिया!आह क्या नज़ारा था… दो नंगे जवान जिस्म, भाई बहन के।मेरे बूब्स उसकी छाती से दब रहे थे वो मेरी पीठ पर, गांड पर, फ़ुद्दी पर हाथ फिरा रहा था। मैं पहले से ही तैयारी करके आई थी, मैंने अपनी चूत की झांटें क्रीम लगाकर साफ़ कर रखी थी और मेरी चूत चमक रही थी.

मैं तुरंत उठा तो माधुरी ने पूछा- क्या हुआ?तो मैं बोला- यार काजल 12 के बाद आने को बोल रही है और अभी तो सिर्फ 9 ही बजे हैं. इस सेक्स कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि रात को मुझे सड़क किनारे एक लड़की मिली, वो खुद से मेरी गाड़ी में बैठ गयी और मुझे धमका कर उसने मेरे साथ सेक्स किया. जब तक बर्फ पूरी तरह पिघला, इनकी योनि भी उंगली करने पर पिघल गई और इसी पिघली हुई योनि में मैंने इनके द्वारा चूमने मात्र से खड़ा हुआ लिंग धीरे धीरे करके अंदर डाला.

किस चोदू को यह न पसंद होंगी।” नितिन ने उसके दूध से मुंह हटाते हुए कहा और उठ कर उसकी योनि देखने लगा।मैंने उंगली और अंगूठे के दबाव से उसकी योनि फैला कर अन्दर देखा.

बीएफ चुदाई 2020: मैंने कहा- चाची मैं उसको पहचानूंगा कैसे?चाची बोली- उसने ग्रीन टॉप और ब्लू जीन्स डाली हुई है. कुछ देर यूं ही माहौल को हल्का करने जैसी बातें हुईं, फिर हमने केक काटा, एक दूसरे को खिलाया और थोड़ी वाइन भी पी.

फूफा जी ने अपना सारा लंड मेरे बदन पर निचोड़ दिया और फिर अपने हाथ से मेरे बदन पर रगड़ने लगे जिससे मेरा चेहरा, बाल, बूब्स और पेट गीला हो गया और फिर फूफा जी मेरे ऊपर ही गिर गये. उसने बड़ी गर्मजोशी से मेरे पूरे बदन पर किस किया और फिर मेरा लंड चूसने लगी. ऐसे कोई तीन चार मिनट तक मेरी बहू अपने ससुर से चुदाई का मज़ा लेती रही, फिर …पापा जी, अब मैं आपके ऊपर आऊँगी.

जब दो घंटे बाद उसे कुछ होश आया तो लड़कों ने बोला- जाओ यहाँ से अब दफा हो जाओ.

जब पद्मिनी ने ठीक से वैसे ही करना शुरू किया तो बापू फिर से लेट गया और मजा लेते हुए, वासना में तड़पते हुए आवाज़ निकालने लगा. अंकल ने अपना टी-शर्ट उतार दिया और अंडरवियर के अन्दर ही उनका लन्ड लग रहा था कि वो फाड़ देगा अंडरवियर को!और जैसे ही अंडरवियर उतरा, उनका बहुत ही बड़ा लन्ड मेरे सामने था, मैं सोच भी नहीं सकती थी कि 50 साल के मर्द का इतना बड़ा सामान हो सकता है!मैंने अपनी आंखें झुका ली. देवेश भी बहुत तगड़ा मस्कुलर था और अभी अभी एक मस्त जवान अपने लम्बे मोटे लन्ड से मेरी गांड रगड़ चुका था। देवेश ने अपना पूरा लन्ड मेरी गांड में धीरे धीरे पेल दिया.