फूलों का बीएफ

छवि स्रोत,बेडरूम की सजावट कैसे करें

तस्वीर का शीर्षक ,

तामिळ सेक्सी व्हिडीओ: फूलों का बीएफ, क्या क्या सपने देख चुका था मैं इतनी देर में… पिछले एक साल से इस खिचड़ी को पकाने में लगा था और अब हाथ भी आई तो इसके नखरे पूरे नहीं हो रहे.

हिंदी सेक्सी हिंदी सेक्सी मूवी

वैसे घर कब तक अपने अंडर में है?संजय- जब तक सारा काम नहीं निपट जाता तब तक तो है. कंडोम वापरण्याची पद्धत दाखवामुझे पता है कि आप यह भी जानना चाहोगे कि अगली सुबह क्या हुआ… मगर वो बात मैं आपको तब बताऊँगी जब आप मुझे मेल करोगे और पूछोगे कि मेरी प्यारी सेक्सी कोमल भाभी अगली सुबह क्या हुआ था…तो अब मेरी तरफ से आपके प्यारे प्यारे लौड़ों को बाइ बाइ…[emailprotected].

बस वो इसी सोच में बाथरूम चली गई।जब मोना फ्रेश हो गई तो दोनों बैठे आराम से चाय की चुस्की ले रहे थे।गोपाल- जान तुम्हारी तबीयत ठीक नहीं है तो आज खाना बाहर से मंगवा लेंगे।मोना- अरे नहीं ऐसा भी नहीं है. ऑल न्यू सेक्सी वीडियोमेरी रंडी बहनिया, मेरी कुतिया!और ऐसा कहते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी बुर में ठेल दी.

मानसी- जो मज़ा तुम्हारी हालत पतली करने में आ रहा है, वो और किसी चीज़ में नहीं आ सकता जस्सी!मैं- तुमने अभी तक लंड का मज़ा नहीं भोगा इसलिए ऐसे कह रही हो.फूलों का बीएफ: वैसे भी ये चूतनिवास अपनी बेगम जान अंजलि रानी से इतना गहरा प्रेम करता है कि यदि वो बोले कि राजे चलती ट्रेन के आगे कूद जा तो उसका ये गुलाम बिना कोई भी सवाल किये कूद जायगा.

पर प्रेरणा पुस्तक को स्कूल में नहीं ला सकती थी, तो उसने लगभग दस दिनों बाद संडे के दिन मेरे घर पर आकर मेरी नोट्स देने के बहाने चुपके से लाकर दिया। उसने उसे पालीथिन के अंदर तीन बार पेपर से लपेट कर उसमे रबर बैंड लगा कर रखा था। अभी मैंने उसे देखा भी नहीं था और पुस्तक को सिर्फ छू कर उसे सम्हाल के रखने का डर और उसको देखने की उत्तेजना में दिल धक-धक करने लगा।प्रेरणा ने उसे जल्दी वापस करने को कहा.वो बोली- तुम्हें दूध लाकर दूँ हल्दी वाला?मैंने कहा- नहीं मुझे नहीं पीना.

मंगल ग्रह के बारे में बताओ - फूलों का बीएफ

उसे पता था कि ज़्यादा देर चुसाई की तो ये झड़ जाएगा। फिर उसने लंड मुँह से निकाल दिया और गांड हिलाते हुए घोड़ी बन गई।मोना- आजा मेरे राजा.लंड को अन्दर और अन्दर करने के लिए वो मेरी बहन की कमर को पकड़ के जोर-जोर से झटके मार कर अन्दर करता जा रहा था.

पर प्रॉब्लम ये थी कि जाएं कहाँ। फिर हमने खंडवा रोड जाने का निश्चय किया।मैंने अमन से कहा- हम दोनों पीछे बैठते हैं।‘अरे नहीं इस कमीने का पूरा ध्यान हमारी तरफ रहेगा और एक्सीडेंट कर देगा, अपन आगे ही बैठते हैं।’मैं दोनों के बीच में बैठा था। राहुल ड्राइव कर रहा था। कोई 20 मिनट में हमने बायपास क्रॉस कर दिया था। जैसे ही थोड़ा सुनसान रोड हुआ. फूलों का बीएफ वो बोला- लंड को बाहर निकाल ले!मैंने चलती बाइक पर उसके लंड को अंडरवियर के कट से बड़ी मुश्किल से निकालते हुए उसकी चेन के बाहर लाकर आजा़द कर दिया.

रुचिका और सुलेखा ने एक साथ हमारे लौड़े पकड़े और सामने बैठ कर एक दूसरी से बदल-बदल कर लंड चूसने लगीं, कभी एक साथ और कभी बदल बदल कर, ऐसे उन दोनों ने हमारे लंड चूस-चूस कर हम दोनों की सिसकारियाँ निकाल दीं, जिससे हमारे जिस्म तड़पने लगे.

फूलों का बीएफ?

फिर एक मेसेज आया- प्लीज़ कॉल मत कीजिए, सभी घर पर है मैं तमन्ना हूँ!बस फिर ऐसे ही हमारी मेसेज पर बात होने लगी, बातों बातों में मैंने उसे लिख दिया- मैं आपको बहुत पसंद करता हूँ!उसने भी रिप्लाई में लिखा- पसंद तो मैं भी आपको करती हूँ पर अगर किसी को पता लग गया तो मेरी बहुत बदनामी होगी. सीमा थोड़ा घबरा कर बोली- कौ काउ कौन सी किताब?मैं- दीदी बनो नहीं, मुझे पता है तुम क्या सब कर रही हो. छोड़िये ना ये सब, आप ही कीजिए।मैंने अपना लंड उसकी फड़कती चुत से निकालने लगा तो वो मिन्नतें करने लगी कि प्लीज नहीं निकालो।मैंने कहा- तो इमेजिन करो।वो बोली- ठीक है।उस समय उसकी आँख मुंदी हुई थीं।मैंने उसकी चुत में अपने लंड को अन्दर-बाहर करने लगा और बोला- तो बोलो डार्लिंग.

वो अजीब सी आवाज़ें निकालने लगी- ओह साले कितना चूसोगे… चोद दो मुझे… बाबू अब… उंगली से कुछ नहीं हो रहा है जल्दी करो. मेरी मम्मे चूसने की स्पीड और बढ़ गई और फिर मैंने उसके दोनों मम्मों को पकड़ कर लंड से बहन की चूची चुदाई शुरू की और वो फिर ‘आआहह. मैंने सोचा कि 52 साल का बुड्डा मेरी चुत का उखाड़ पाएगा, इसका तो लंड ही चार इंच का होगा.

अपने आप सब समझ आ जाएगा।दोस्तो यहाँ तो सब हमने देख लिया। चलो अब वहाँ गाँव का चक्कर लगा आते हैं।काका ने रात भर राधा की चुत का जो बैंड बजाया था. कमरे में पहुँच कर मैंने उसे बिस्तर पर लिटाकर उसके होंठों को चूमा, फिर मैं उसके होंठों को चूसने लगा. फिर मौसी ने मेरे हाथ का अंगूठा अपनी दोनों टाँगों के बीच में ले लिया, वहाँ पे कोई गीली सी मगर गर्म जगह थी.

कल ही पापा ने हमारे पुराने घर की चाभी मुझे दी और कहा है कि उसकी सफ़ाई करवा दूँ, उसका मेंटीनेंस करवा कर वो उसको माल का गोदाम बनाएँगे।वीरू- वाउ यार. अगले दिन सुबह ही चंडीगढ़ में एक होटल फाइनल किया, उसका कमरा ऑनलाइन बुक किया और मानसी को फ़ोन करके मंगलवार का प्रोग्राम फाइनल किया क्योंकि उसकी ड्यूटी कुछ ऐसी थी कि छुट्टी मंगलवार को ही मिल रही थी.

एक दिन मैं बाजार कुछ सब्जी वगैरह लेने गया था तब वहाँ मुझे मेडम मिलीं.

ये समझ के बाहर है?संजय- सालो, इसे चोदना मेरा मकसद नहीं है, मैंने कहा ना इसको ऐसी रंडी बना दूँगा कि दिन रात ये लंड लंड करेगी, तब जाकर मेरे दिल को सुकून मिलेगा।विक्की- मगर क्यों यार ऐसा क्या किया इसने जो तू इसे रंडी बनाने पे तुला है?संजय- ये आज की नहीं बहुत पहले की भड़ास है.

शायद उसने सोने की तैयारी की थी इसीलिए ब्रा निकालकर सिर्फ टी-शर्ट पहनी हुई थी. समझी मेरा नाम मोना है मेरा मगर तू सिर्फ़ दीदी बोलना समझी!मोना ने एक घंटे तक नीतू से बातें की और उसका विश्वास जीत लिया. स्मृति के बारे में आपको बताना चाहता हूँ, स्मृति मेरे पापा के गहरे दोस्त वर्मा जी की पुत्री है.

तब उन कपल के एक और कपल दोस्त से मेरी स्काइप और फोन पर बात हुई और उनको मैं और मेरा मस्ताना बहुत पसन्द आया और हमने स्काइप पर कैम सेक्स भी किया था. बस स्टैंड के बाहर निकलकर बस की स्पीड तेज हो गई और दरवाजे बंद कर दिए गए. फिर उसने अपनी गीली चूत मेरे मुंह पर रख दी और मैंने भी अपना पेट उसके रस से भर लिया.

मैं जमीला की चुचियों में मुँह देकर और जमीला मेरा मस्ताना पकड़ कर सो गए.

अब मैंने उसे नीचे लेटा दिया और उसकी साड़ी को ऊपर करके अपना लंड निकाल कर उसकी बुर पर लगा दिया. रफीक- राजा, मेरे मुँह की तरफ आओ मैं चढ़ाऊँगा कंडोम, इसको भी मैंने सिखाया है कंडोम मुँह से चढ़ाना. ’‘ठीक है, मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड को थोड़ी ड्रिंक करवा दूंगी और आप मदद के बहाने हमें अपने घर ले चलना.

इस क्लीनिक में सारी लेडीज़ पेशेंट ही आती थी, जिनमें गर्भवती, बच्चे न होने वाली और अन्य डिप्रेशन आदि की शिकार. फिर मैं अब वहाँ अपने घर के लिये निकल गया और आते आते मैंने उसके दो नंगे बूब्स को खूब दबाया और चूसा. अगले दिन ऋतु को स्कूल छोड़कर जब मैं कॉलेज गया तो मेरा मन पढ़ाई में नहीं लगा.

हम दोनों की बातों का सिलसिला करीब एक साल चला और फिर वो मौका आया जिसका हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था.

उसकी चुत चलनी की तरह पानी झाड़ने लगी।राधा- आह ससस्स काका का लंड कितना बड़ा है. मैं हमेशा पूजा के नहाने के बाद नहाता था ताकि मुझे उसकी ब्रा और पैंटी देखने को मिलती थी.

फूलों का बीएफ मैंने उस लड़की को इशारा किया और मैं आगे निकल गया, वो मेरे पीछे-पीछे आ गई. मैं घबरा गई थी, वैसे भी मुझे पता था कि इन दोनों से नहीं चुदी तो ये साले कहीं मेरी चुदाई के चर्चे सबसे न कह दें और शायद मेरे पति को भी ना बता दे.

फूलों का बीएफ मैं जब निधि के रूम में गया तो उन्होंने पूछा- क्या बात है?मैं बोला- बाहर जगह नहीं है इसलिए मामी ने मुझे आपके रूम में सोने के लिये बोला है. संजय- अच्छा ये बात है और सुना कोई लड़का तुझे तंग तो नहीं करता ना?पूजा- नहीं ऐसे तो कोई नहीं करता मगर बस मैं कभी-कभी कोई मुझे पीछे से टच करता है.

थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद चाची मेरे ऊपर आ गईं और उन्होंने मेरा लंड चूस कर साफ कर दिया और मेरी छाती पे सर रख लिया.

बीएफ सेक्सी वीडियो मां बेटे का

अगर मेरी बहन किरण तैयार हो जाए तो छुपने की ज़रूरत नहीं न पड़ेगी और फिर दोनों बहनें आमने सामने चुदा करेंगी. बहुत बढ़िया दुकान है। उसमें एसी भी लगा है और हाँ पता है चाय कितनी महंगी है. दबाया और चाटा। निशा भाभी की साँसें तेज़ हो गईं। मैं उनके बोबों को चूमते हुए नीचे की तरफ आया और उनकी नाभि पर ज़ुबान फिराने लगा। वो इससे मदहोश हो गईं और उनका जिस्म अकड़ गया, वो अपनी जांघें मसलने लगीं। मैंने भाभी की सलवार का नाड़ा खींचा.

गोरी, चिकनी जांघें, कोई मोटी, कोई पतली, गोरी, चिकनी बाहें, कोई गदराई, कोई सूखी सूखी. वो दोनों लड़के साथ के साथ मेरे चूचों पर टूटे पड़े थे और तीसरा लड़का मेरी सहेली के चूचों पर… वो उसकीचूत में उंगलीकर रहा था और उसका मुँह, उसके चूचों को चूस रहा था. कितना दर्द हो रहा है।संजय- अरे आज ठीक से चुदवा ले, सारा दर्द हवा हो जाएगा। फिर तू रोज मज़ा लेना.

मेरा मुंह भी उसके काम रस से लबालब भर गया और हम गहरी साँसें लेते हुए वहीं आधे नंगे लेटे रहे.

मैंने उनसे चाबी मांगी तो वो उसी अवस्था में उठीं और टेबल के ड्रावर से चाबी निकलने नीचे झुकी, जिससे गीला पेटिकोट उनके पिछवाड़े से चिपक गया, उनके बूब्स बहुत बड़े थे, ब्लाउज़ में कसे हुए थे. इस बार मुरुगन ने मुझे कमोड के सहारे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चुत में अपना लंड पेल दिया. उसके बाद मैंने अपना गाऊन पहनना चाहा क्योंकि मुझे लगा कि इस राउंड से उसका पेट भर गया अब और नहीं माँगेगा.

यह सुनते ही तुरंत मैं कपड़े निकालकर नंगा होकर 69 पोजीशन में आ गया और हम 5 मिनट के अन्दर डिस्चार्ज हो गए. लेकिन मैं बड़े ही एहितयात से सावधानी से रगड़े मारता रहा, मेरा प्रयास था कि जल्द से जल्द मैं झड जाऊं और मुक्ति पा लूं!लेकिन सुबह ही मैंने बीवी को चोदा था इसलिए झड़ने में देर लग रही थी. टीना- नहीं अभी मत पहन, जब मैं कहूँ, तब पहनना समझी! अब तुम घर जाओ मुझे भी थोड़ा काम है, कल मिलते हैं.

मन नहीं भरता, अब क्या हो गया?पूजा- मन तो है मामू लेकिन मेरे पैर और कमर भी दुखने लगे हैं।संजय- सब ठीक हो जाएँगे, रात को मैं खुद तेरी मालिश करूँगा। चल इधर आ मेरे पास. तभी मैंने देखा कि रुचिका और सुलेखा भी अपने हाथ से एक दूसरी के मम्मों को सहला रहीं थीं.

उसके लिए तो ये नई बात थी, बस वही उसको भारी पड़ गई और वो अपने चरम पर पहुँच गई. वो बोला- कंडोम से मज़ा नहीं आता!मैंने कहा- मैं बिना कंडोम के नहीं करुँगी. ‘समीर ये तो काफी बड़ा लग रहा है और लगता है ये तुम्हारी पैन्ट में तुम्हें परेशान कर रहा है.

तो मेरे प्यारे मामू, कपड़े मैं निकालूं या आप निकालोगे?संजय- तू इत्ती सी है मगर बहुत पॉवर वाली लड़की है.

दोस्तो, मेरी देसी लड़की की कामुकता की कहानी कैसी लग रही है, मुझे आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें. अब मैं सोचने लगा कि माँ को कैसे बाहर भेजू ताकि सीमा दीदी को चोद सकूं. चोदते चोदते मेरा लंड इतना चिकना हो गया था कि वह बाहर निकल कर कहीं भी जा लगता था.

मगर इस बार सुमन जोश में थी तो मॉंटी का सारा रस वो गटक गई और अपनी बुर का रस अपने हाथ पर लेकर वहीं ज़मीन पे निढाल होकर बैठ गई. वह बोली- पिछले दो माह से उसके लिए जगह ढूँढ रही हूँ लेकिन मुझे अभी तक कोई भी सुरक्षित जगह नहीं मिली.

मगर मुझे थोड़ी शर्म सी आ रही है खुल के बोलने में, न जाने आप मेरे विषय में क्या सोचेंगे. शिवानी ने नाइटी पहनी हुई थी, जिसमें से उसके 34 के चूचे 40 के माफिक दिख रहे थे और गांड 50 की. नताशा ने बड़े मनोयोग से अपने सगे पति के लंड को चाट-चाट कर साफ़ करना शुरू कर दिया.

बीएफ सेक्स एचडी हिंदी

जग्गी ने मेरे मुंह में लंड दिया और पीछे से राजू और संदीप ने एक साथ अपने लौड़े मेरी गांड में धकेल दिये, मैं दर्द के मारे बेहोश हो गया.

आयेशा ने मेरी तरफ देखा तो मैंने उसे इशारे से साइड में बुला लिया, वो आते ही बोली- यार रोहन अकेले में मुझसे मिलना चाहता है. एक बार तो नीतू घबरा गई क्योंकि लंड बहुत गर्म और सख़्त था मगर पैसे और आईसक्रीम के लालच में वो लंड को दबाने लग गई. जग्गी आकर मेरे मुंह के सामने घुटनों के बल बैठ गया और अपने लंड और आंडों को मेरे मुंह और होठों पर फिराने लगा.

इतना बोलकर मोना सुबकने लगी, उसकी आँखों से आँसू टपकने लगे और यही तो होता है त्रिया चरित्र, जिसके वार से कोई मर्द नहीं बच सकता. मैं अभी सब साफ़ कर देती हूँ फिर आप अपने दैनिक क्रिया से निपट लीजियेगा. డాక్టర్ సెక్స్ब्लाउज़ उतारने के बाद मैं बूब्स पर बरस पड़ा, वो इतने बड़े थे कि मेरे दोनों हाथों में नहीं आ रहे थे.

यही ना चलो अब बोलो।मोना के मुँह से चुदाई शब्द सुनकर सुधीर का लंड पेंट में अकड़ने लगा।सुधीर- ओके मोना तुम्हें प्राब्लम नहीं है तो सुनो, हम दोनों जब बड़े हुए. उसका लंड अभी भी उसकी पैंट में ही तना हुआ बाहर निकला हुआ था और बाइक एक कोठरी की तरफ बढ़ रही थी जिसके अंदर एक धीमी सी रोशनी थी.

मैं चाहता था कि सुमित जल्दी से फारिग हो ताकि मैं कीकू को चोदने का मज़ा ले सकूँ. मैं बोला- जमीला भाभी, इस में शर्माना नहीं है क्योंकि बुजर्गो ने कहा है ‘जिसने की शर्म. उसने बताया- पता नहीं मुझे क्या हो गया है, मेरी येचुदाई की प्यास बुझती ही नहींहै.

मुझे ढेरों ईमेल भी आये जिसमें कुछ मित्रों ने अपनी कहानी लिखने को मुझसे कहा और कुछ सहेलियों ने मुझसे सम्बन्ध बनाने की भी इच्छा जाहिर की. सुकांत सेकन्ड ईयर में था। मेरी उम्र तब यही कोई बाईस तेईस की रही होगी. डॉक्टर आंटी ने एक तेल की बोतल निकाली और हाथ में तेल लेकर मेरे लंड पर मालिश करने लगी.

उसने कहा- आह्ह ईई उईई मेरे चूत में ईई जोर से करो माँ ओह्ह बाबू ओर जोर से ईईई मेरे चूत में इस जिंदगी के सबसे तेज झटके है… ऐसे कोई मुझे नहीं चोदा है बाबु उईईइ ऊउउऊ ऊफ फुफ उफुफ़ फुफ फुफुफ़ ईईई इईई चोदो जोर से इईई… उह उफ़ राजा ईई बाबू तुम्हारा लंड महाराज मेरे चूत की गहराइयों को पार कर मेरी बच्चेदानी के अंदर घुस गया हैं उईई फ्फार दो बाबू.

मेरी मम्मे चूसने की स्पीड और बढ़ गई और फिर मैंने उसके दोनों मम्मों को पकड़ कर लंड से बहन की चूची चुदाई शुरू की और वो फिर ‘आआहह. यार जब पानी ही लेना था तो मुझे क्यों देख रही थी?साली औरत का भी पता नहीं होता कि चाहती क्या है?इतने में वो फिर से कमरे से बाहर आई और जैसे मैंने चादर से चेहरा ढक लिया, सिर्फ़ आँखों से चादर हटी हुई, ऐसे पड़ा रहा.

पूजा का मन नहीं था मगर संजय ने उसको कपड़े पहना दिए, फिर वो उसको पढ़ाने लग गया. मेरी चूत में वो कभी तो लंड डाले निकाले और कभी जीभ से चाटे, फिर अचानक लंड घुसेड़ दे. क्या मैं तुम्हारे पास बैठ जाऊं?’मैं भी बैठ गया और वो मेरे नजदीक आ आकर बैठ गई.

10 मिनट तक चुदाई करने के बाद मामा ने रफ़्तार बढ़ा दी, मैं समझ गयी कि मामा का रस निकलने वाला है, इस चुदाई के दौरान मेरा तो दो बार रस निकल चुका था इसलिए मैं भी चाहती थी कि मामा जी जल्दी झड़ जायें क्योंकि मेरी चूत में दर्द सा होने लगा था. मोना की चुत ठंडी होने के बाद काका ने लंड चुत से निकाल लिया और दीवार से टेक लगा कर बैठ गए।मोना- क्या हुआ काका आप नहीं निकालोगे अपना पानी या फिर आपके दिमाग़ में बस मेरी गांड ही घूम रही है?काका- गांड तो तेरी मैं मारूँगा ही मेरी रानी. उनको देख कर सभी बिल्डिंग वाले आहें भरते थे और सोचते थे कि कब मौक़ा मिले और उन्हें चोद दें.

फूलों का बीएफ मेरी मम्मे चूसने की स्पीड और बढ़ गई और फिर मैंने उसके दोनों मम्मों को पकड़ कर लंड से बहन की चूची चुदाई शुरू की और वो फिर ‘आआहह. मैं उसकी आँखों में देखता रहा, फिर मेरा ध्यान उसके बोबों की तरफ गया, तो उसने अपना दुपट्टा हटा कर मुझे अपने बोबे दिखाये.

बीएफ कुत्तों वाली

मरियम के मुंह से ‘आह…’ निकला, मुझे ऐसा लगा कि मेरा लंड किसी बहुत ही गर्म जगह पर जाकर फंस गया है, मेरे हाथ-पाँव काम्प रहे थे, मुझे लगा कि कोई चीज मेरे अन्दर से बाहर आना चाहती है।उसके मुंह से बस वो हल्की सी आह निकली, मरियम ने मेरी तरफ देखा और फिर वो सुधा के मम्मों को पीने लगी. डिनर में मैं पूरी सज धज के साथ शिफान की नीले रंग की साड़ी पहन कर गई. मैंने लंड हिलाते हुए आंटी को देखा तो आंटी ने बोला- पहले मेरी चुत को शांत करो.

एक बार मैं अपनी मौसी के घर गया हुआ था, तो अपनी मौसी के बेटे से बात की- यार, लगता है ये जवानी ऐसे ही निकल जाएगी, साली कोई लड़की ही नहीं पटती. जिससे वो बौखला गई और कहने लगी- पूरा क्यों नहीं कर रहे हो?पर मैं दूसरे कमरे में गया, फ्रिज खोला बर्फ और ठंडा पानी लेकर आया। मैं उसके नंगे जिस्म पर पानी की बौछार करने लगा. राजस्थानी सेक्सी पिक्चर सेक्सीफिर उसने कहा कि मैं साथ साथ उसकी चूचियों को भी पीता रहूँ और एक हाथ से मसलता रहूँ.

मैंने आकाश से कहा- मैं तो मज़ाक कर रही थी यार, तुम सच में पैसे ले आए?आकाश बोला- तुम्हारे लिए ये सब मज़ाक होगा पर मैंने तुम पहले ही कहा था तुम्हारे लिये में कुछ भी कर सकता हूँ.

तो वो बस उसको देखता जा रहा था और उसका लौड़ा अपने आप तन कर पूजा की बुर को सलामी दे रहा था. कहीं वो मुझे मार न दे!तो उसने समझते हुए आँख मारी और मुझसे कहा- नहीं मारेगी.

फिर थोड़ी देर बाद उसने रोहन से कुछ कहा तो रोहन ने मौका देखकर उसके बूब्स दबा दिए और स्माइल करता हुआ वहाँ से चला गया. मैं समझ गया था कि आग दोनों तरफ लगी है और अब ये दीवार गिराए बिना आगे नहीं बढ़ा जा सकता. आंटी ने मुझे बेडरूम में बुलाया और पूछा- क्या कभी तुमनेबॉडी मसाजकी है?मैं- नहीं तो!आंटी- तो आज सीख लो!मैं- मतलब क्या है आपका?आंटी- अरे पागल, तुम मेरी बॉडी मसाज करो, मैं तुम्हें 500 रुपये दूँगी.

मुझे लगा कि जैसे उसकी चूत से रस की बरसात हुई हो, मेरी झांटें तक नहा गईं.

ये सब सुमन के लिए ही है, बस मैं उसको सरप्राइज दे रहा हूँ।अनीता- वाउ… आपकी आदत गई नहीं सरप्राइज देने की. लेकिन जैसे ही वो बस में यहाँ वहाँ देखती, मैं सीट से कमर लगाकर आँख बंद कर लेता था और हल्के से गर्दन उनकी तरफ टेढ़ी करके फिर देखने लगता. मैं नीचे लेट गया तो जमीला बोली- सबीना, अब हम दोनों मस्ताना चूसेंगे और राजेश हम दोनों की चूत.

रावण के नाना का नाम क्या थाफिर मैं हिलूँगा तो मज़ा आएगा।दोस्तो, पहले भी संजय ऐसे ही पूजा को आराम कुर्सी पर बैठा झूला झुला देता था मगर आज तो उसका इरादा कुछ और ही था।पूजा- मामू ये क्या. दोस्तो, भाभी के मुख से वो जोश भरी बातें सुन कर मैं बहुत गर्म हो गई थी और तभी उन्होंने मुझसे बोला कि मैं एक बार उन्हें अपनी चूत दिखाऊँ.

सनी लियोन की बीएफ फिल्म दिखाओ

अनिता- हाँ वो तो सही है मगर इसको देख कर खुश होने की क्या वजह थी?गुलशन- अरे पागल… किस्मत से ही ऐसा लंड किसी को मिलता है… तेरा नशेड़ी बाप उसको चुदाई का सुख नहीं दे पाता था, वो प्यासी थी. चलते-चलते मैं पानी के तालाब के पास पहुंच गया जहाँ पर गांव के लोग अपनी भैंसों को नहलाने के लिए ला रहे थे… कोई नहला रहा था तो कोई नहलाकर वापस जा रहा था, कोई भैंस की पीठ पर बैठकर तालाब के पानी में भैंस की सवारी कर रहा था. अरमान भी एक कम्पनी में काम करता है, वो परचेज मैंनेजर है, इसलिए दिन में ज्यादा बिज़ी होता है और उसकी पत्नी सुलेखा भी एक कम्पनी में कंप्यूटर ओपरेटर है इसलिए वो भी बिजी होती है, परन्तु फिर भी टाइम टाइम पे रिप्लाई देती रहती है, उसके रिप्लाई बहुत मस्त होते हैं, क्योंकि वो चैट में बहुत खुले शब्द इस्तेमाल करती है और चैट में रंग जम जाता है.

मेरी हवस में पूरी आग लग चुकी थी और अपनी घायल गांड में उसका लंड लेने के लिए मैं वहीं पर खुद बेचैन होने लगा. मगर अजय इनके अलग होते ही बिस्तर पर चढ़ गया और लंड गांड में पेल दिया।फ्लॉरा इस अचानक हमले के लिए तैयार नहीं थी मगर अजय ने उसकी कमर को कसके पकड़ा हुआ था, जिससे वो आगे ना गिर सके।फ्लॉरा- उफ़ जान लेने का इरादा है क्या सालों. गुलशन- हा हा हा ऐसा कुछ नहीं होगा… तू कोशिश तो कर… फिर मज़ा आएगा तुझे.

पहले नहीं लगी क्या?मॉंटी- अरे नहीं दीदी, आप तो सुन्दर ही हो, बस कपड़े निकलने के बाद आपका पूरा बदन लाइट की तरह चमक रहा है. सिर्फ़ दिक्कत अगर होती है भी तो सिर्फ़ प्राइवेसी और सेक्यूरिटी को लेकर ही होती है वरना कोई परेशानी नहीं होती. उस वक्त लगभग 11 बज गए थे। इस वक्त मैंने सिर्फ़ फ्रेंची पहनी हुई थी। मैं ऐसे ही रूम से बाहर मुँह धोने के लिए आया। जब मैंने मुँह पर पानी डाला.

पर उसका लंड ढीला पड़ जाने से मोना नीचे आ गई और नीचे काका उसके कमरे में बैठे थे वे उसकी इस हरकत को देख चुके थे। ये जान कर मोना ने रोने का नाटक शुरू कर दिया।अब आगे. बहुत दिनों के बाद पोस्ट कर रहा हूँ, क्या करूँ… लिखने को समय ही नहीं मिला!चलो शुरू करते हैं:मैं ग्वालियर शहर में भाड़े पर कमरा लेकर रहता था, मैं वहां लगभग 6 साल तक रहा.

आज सुबह से जानवरों और खेतों को नहीं देखा है उन्हें भी कल सुबह से ही देखना होगा.

उसने मेरे थूक से सना हुआ लंड मेरे मुंह से बाहर निकाला और मेरी शर्ट के बटन फाड़ते हुए मेरी शर्ट को अपनी तरफ ऊपर खींच कर अपने लंड को साफ करने लगा. फक व्हिडिओमैंने भी किस करते-करते दीदी को नंगी कर दिया और दीदी की चूत चाटने लगा. ब्रेस्ट में दर्द का घरेलू इलाजमैंने आदी से कहा- ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी भाभी हूँ।आदी ने कहा- भाभी इतना बनने की जरूरत नहीं है, मुझे पता है आप भी यही चाहती हो।मैंने कहा- ये गलत है।आदी ने कहा- कुछ गलत नहीं है…और मुझे और कस कर पकड़ लिया, मेरे बूब्स मसलने लगा और साथ ही साथ किस भी कर रहा था. फिर मैंने अपनी जीभ उनकी गांड के छेद में डाल कर गांड को कुत्ते के तरह चाटने लगा.

इतनी सुन्दर तस्वीर देख कर मेरे अन्दर जंगली वासना जग उठी और मैं अपना लंड हाथ में पकड़े नताशा के ऊपर चढ़ गया, अपने तपते हुए लंड को एंड्रयू के ठस्सेदार लंड से भरी हुई अपनी पतिव्रता बीवी की गांड में घुसेड़ दिया.

कुछ देर बाद रश्मि ने कहा- अब दर्द नहीं हो रहा, मजा आ रहा है, तुम करो. अरे बोर मत हो दोस्तो, ये तो सिर्फ हमारी इंट्रो थी, बस कहानी अब शुरू होने जा रही है. तो देखा कि वो लड़की 12 से 15 cm लम्बे लंड को आसानी से चूत में ले रही है।फिर मामा ने वीडियो बंद कर दिया, अचानक से मेरी नज़र मामा के लोवर पर गई। मैंने देखा लोवर के अन्दर से मामा का लंड तन गया है.

मैंने ऐसा ही किया… मेरे लंड के पिचकारी मारते ही मैंने अपनी मुठ से अपने लंड का मुंह बंद कर दिया और सारा माल मेरी हथेली में जमा हो गया. मैंने कहा- कीकू, तुम्हारीचूत गुलाबी है क्या?उसने कोई जवाब नहीं दिया. काफ़ी देर दोनों वैसे ही पड़े रहे, फिर गुलशन ने अनिता को सहारा देकर उठाया, उसको वॉशरूम लेके गए.

चेन्नई बीएफ सेक्सी

घर में विवाह से सम्बंधित बहुत सारे कार्य थे तो माँ पापा से कह कर स्मृति को विवाह के कुछ दिन पूर्व ही बुला लिया था. बाथरूम में कदम रखते ही अंदर का नज़ारा देख कर मेरे पाँव आगे नहीं बढ़ पाये और दो क्षण के लिए माला को देख कर उल्टे पाँव वापिस कमरे में आ गया. अतः कुछ दर्द हुआ। फिर उसने मुझे औंधा कर दिया और मेरे ऊपर चढ़ बैठा। वह मेरे से लम्बा और मजबूत मर्द था। उसके गांड मारने के अंदाज से लगता था कि पुराना खिलाड़ी है। फिर उसने धीरे-धीरे पूरा लंड पेल दिया।मैं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ कर रहा था। बगल वाले अब जाग गए थे और मेरी गांड मराई का लेटे-लेटे आनन्द ले रहे थे.

अभी मेरा नहीं निकला है।भाभी- नहीं अक्की मैं थक गई हूँ प्लीज़ छोड़ दो.

अब मेरी गांड में अपना हॉट लंड डालो प्लीज़ और तेज़ी से चोद दो मुझे मेरे यंग जिगोलो ब्वॉय.

मगर यह क्या उनका लंड तो फिर से खड़ा होना शुरू हो गया था… और फूफा जी ने नशे की हालत में ही मुझे फिर से पकड़ लिया और मेरे ऊपर चढ़ने की कोशिश करने लगे… मगर अब मुझे पता था कि अगर फूफा जी ने फिर से मुझे पकड़ लिया तो मैं चीख चीख कर पूरा गाँव बुला लूँगी… इसलिए मैंने किसी तरह खुद को फूफा जी से छुड़वाया और उनको ऐसे ही नंगा छोड़ कर अपने कपड़े उठा कर अपने कमरे में भाग गई. उसने कहा- राजा, मैं पिछले तीन साल से चुदवाने के लिए तड़प रही हूँ, आज तुम मेरी प्यास बुझा दो. सेक्सी वीडियो हिंदी राजस्थानतभी ऋतु ने बेड के नीचे से अपना काला डिल्डो निकाला और मुंह में चूस कर पूजा को दिखाया… फिर दोनों हंसने लगी.

मगर चुत बहुत टाइट थी और दर्द की वजह से फ्लॉरा नींद में भी चीख पड़ी. तू पति सुख से वंचित थी। यहाँ आकर तुझे थोड़ी संतुष्टि हुई है मगर जल्दी तू यहाँ से चली जाएगी और तेरी कुंडली का दोष तेरे पति को खा जाएगा. जैसे ही मैं कोमल के कंधों की तरफ जाता तो योगिराज कोमल की चूत पर रगड़ देता और मैं पीछे आता तो हट जाता.

मैंने तुरंत उठ कर माला का ब्लाउज एवम् पेटीकोट उतार कर उसे नग्न किया और फिर अपनी टी-शर्ट एवम् लोअर उतार दिया. पूजा- हाँ मामू मैंने भी गौर किया ये… और मेरे स्कूल के लड़के भी मुझे अब घूरने लगे हैं, पता है एक क्या बोला?संजय- क्या बोला बता तो मुझे भी?पूजा- वो बोला देख तो यार दिन पे दिन ये तो खिलती ही जा रही है.

ऋषिका का शरीर सख्त हो गया और उसने भी रयान के पैरों को अपनी टांगों से दबोच लिया.

हवस के पुजारी हर वक़्त बस यही सूझता है।वीरू- अब इसमें इनकी क्या ग़लती है यार. अरे तेरे ये मुहाँसे मिट जायेंगे देख लेना और मज़ा ही ऐसा आयेगा कि तुझे अभी तक नहीं आया होगा!’मेरी बात सुनके वो चुप रह गई. सुलेखा के मुंह से एक चीत्कार निकली और उसने मचल के लौड़े को मुंह में ले लिया.

यु से लडकों के नाम जमीला क्या कर रही है?तो रफीक बोला- भाई हम भी मस्ती कर रहे हैं, जमीला टीवी देखते हुए मेरा लंड चूस रही है. मेरा आप सभी लंड और चुत धारकों को नमस्कार। मैं बनारस का रहने वाला हूँ मेरी उम्र 21 साल है.

हाथ धोते हुए उसने पूछा- कितनी बार चुदा है अभी तक?मैंने कहा- दो बार!तो वो बोला- मुझसे चुदना चाहेगा?मैंने कहा- आपकी तो नई-नई शादी हुई है, और बीवी भी है… आपको गांड की क्या जरूरत?उसने कहा- वो मेरी बीवी नहीं है, मेरे दोस्त की वाइफ है जिसको मैं सोनीपत से उसके ससुराल छोड़ने जा रहा हूँ. मैं स्ट्रेचर पर लेट गया, डॉक्टर ने मेरा अंडरवियर भी खींचकर नीचे कर दिया और मेरे लंड को पकड़ कर देखने लगी. और मेरी तरफ देखा और मुझे आँख मार कर बोला- जा गाड़ी निकाल कर ला जल्दी!मैं झट से भाग कर गया और सुमित वाली कार लेकर आया.

बीएफ पिक्चर एचडी हिंदी

आप बहुत खर्राटे मारती हो।मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस ग्रुप सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं. उस फ्लैट में स्थानांतरण के बाद जब मुझे खाने पीने और घर के रख-रखाव की समस्या आई तब मैंने उसी इमारत के अन्य फ्लैट में काम करने वाली एक पचास वर्षीय वृद्ध महिला को घर का काम करने के लिए रख लिया. फिर अचानक से एक और जोरदार धक्का मार दिया तो मामा जी का पूरा का लण्डमेरी चूत को चीरते हुए मेरी चूत में समा गया, मैं दर्द से कराहने लगी.

शनिवार की सुबह मैं घर से निकला और रास्ते से नेहा को पिक किया और एक लिप किस के साथ हम दोनों मिले उसके बाद मैंने अपनी कार को सीधा कर दिया मनोज के घर की तरफ, मनोज का घर करीब हमारे घर से से 1 घंटे की दूरी पर है. ’ यह कहते हुए आंटी अंकल से लिपट गईं और अंकल उन्हें बेतहाशा चोदने में लगे थे। उनका लंड चुत में अन्दर-बाहर होते दिखाई दे रहा था। अंकल का कितना बड़ा लंड था.

पर एक बार बकार्डी की कोल्ड ड्रिंक कभी पी थी तो सोचा लिम्का शिमका से उतना इम्प्रेशन नहीं पड़ेगा जितना बकार्डी से!मैं नहीं जानती थी कि बकार्डी की हार्ड ड्रिंक भी आती है.

com/koi-mil-gaya/koi-mil-gaya-bhai-ka-karnama/भाई का लंड तो काफी बड़ा है और सुन्दर भी!ऋतु- हाँ शायद… क्योंकि मैंने कभी और किसी का लंड तो देखा नहीं है… ले दे के सिर्फ अपना डिल्डो ही है जिससे हम भाई के लंड को तौल सकते हैं. जैसे उस वीडियो में वो आदमी चाटता है, फिर तो विश्वास हो जाएगा न?’ मैंने कहा. तो मेरा दोस्त मुझे उसके पास ले गया जिसे वो रोज़ चोदता था, उसका लड़की का नाम आबिदा था, उसके घर में वो और उसके मम्मी पापा ये तीन जने ही रहते थे.

नौकरानी- तो क्या हुआ… मैं हूँ तो एक औरत ही ना… और औरत को भी तो तन की भूख लगती है, मुझे अपनी भूख मिटानी है बस!मैं- अरे… तो आपके पति?नौकरानी- वो साला गांडू निकला, उसे मर्द पसंद आते हैं, वो बस हिजड़ों के बीच में घूमता है!मैं- तो आपको चोदता कौन है?नौकरानी- तुम जैसे नए लड़के जिनको चूत चाहिए होती है. मैंने सोचा नहीं था कि सीमा दीदी इतनी जल्दी खुल जायेगी और इस तरह से बोलेगी. ’ कर रही थी। उसकी कमर बार-बार ऊपर-नीचे हो रही थी। दोनों हाथ मेरी बगल से नीचे से निकाल कर मुझे बुरी तरह जकड़े था। उसके गाल मेरे गाल से सटे थे.

ऋतु मुझे कामुक निगाहों से देखते हुए एक हाथ अपनी चूत में डालकर अपना रस चाटने लगी.

फूलों का बीएफ: चाची सेक्स के लिए तैयार हैं, यह सुनते ही मैंने उन्हें गले लगा लिया. उसने मेरी टाँगें चौड़ी कीं, एक तकिया मेरे पेट के नीचे लगा दिया और मेरे चूतड़ थोड़े से ऊपर उठाये.

संजय- अच्छा ये बात है और सुना कोई लड़का तुझे तंग तो नहीं करता ना?पूजा- नहीं ऐसे तो कोई नहीं करता मगर बस मैं कभी-कभी कोई मुझे पीछे से टच करता है. तो मैंने कहा- कि आप क्या देखोगे?तो उन्होंने कहा- तुम्हें हमसे ज्यादा कौन जाने?तो मैंने कहा- ये भी ठीक है. मेरे भी आनन्द की सीमा न थी मैं भी सिसकार रहा था- हाय मेरी रंडी, तुम्हारी बुर कितनी टाइट और गर्म है, ओह मेरी प्यारी बहन, लो अपनी बुर में मेरे लंड को… ओह ओह.

वो दूसरे दिन सुबह चंडीगढ़ आ गई थी और मैं अन्दर से खुश हो रहा था कि अब आज बहन की चुदाई का काम बनाना ही होगा, वर्ना कल विक्की के जाने के बाद कुछ नहीं हो पाएगा.

अब मेरी गांड में अपना हॉट लंड डालो प्लीज़ और तेज़ी से चोद दो मुझे मेरे यंग जिगोलो ब्वॉय. पता नहीं अम्मा की बात सुन कर मुझे उन दोनों पर क्यों तरस आ गया और मैंने उन्हें कह दिया- ठीक है अम्मा, ऐसा करो, आप आज ही अपना और माला का सभी सामान ले कर यहाँ आ जाओ. मुझे ऐसा लगा जैसे जन्मों-जन्मों की प्यास आज बुझी हो।वो थक कर मेरे बगल में लेट गया और उसके लेटते ही मैं उसके ऊपर आ गई।मैंने कहा- देवर जी आपका बहुत-बहुत धन्यवाद.