मां बेटे की बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉटेल सेक्सी बीपी: मां बेटे की बीएफ सेक्सी, मेरी आपा जो अब मेरी दुल्हन थी, उसकी चूत बुरी तरह से सूज चुकी थी लेकिन मेरा लण्ड तना हुआ खड़ा था.

एक्सीडेंट बीएफ

फिर धीरे-धीरे मेरे लंड पर बैठते हुए मेरे लंड को उसने अपनी चुत में ले लिया और जोर जोर से हिलने लगी. बीएफ दिखा दे बीएफ बीएफवो उठ कर बाथरूम में जाने को हुई तो दर्द के मारे रूपा से चला भी नहीं जा रहा था.

पहली बात! यह समय ठीक नहीं था, कम से कम आज के दिन तो ऐसा कुछ होना ठीक नहीं था. करीना कैफ की सेक्सी बीएफवो पूछने लगी- आंटी कब आएंगी वापस?मेरा जवाब सुनकर उसने एक-दो बात इधर-उधर की ही की और फिर वो अपने घर चली गई.

मैं सोनू के ऊपर चढ़ा हुआ उसकी चूत को ठोकता रहा और सोनू मेरे नीचे लेटी हुई मेरे पूरे मोटे लंड को अपनी चूत में लेती रही और मजे से कुछ-कुछ बोलती रही.मां बेटे की बीएफ सेक्सी: मैं उठी और बाथरूम चली गई, वहाँ पानी से अपने मुँह को साफ़ किया, फिर अपने चुत को देखी तो एकदम लाल पड़ चुकी थी, जगह जगह उसके काटने के निशान थे.

मैं बहुत बिगड़ चुकी हूँ दोस्तो … दारू सिगरेट सब कुछ पीने लगी हूँ मैं! मेरे बहुत सारे बॉयफ्रेंड भी हैं कॉलेज में.उसने बताया कि कॉलेज के बाद उसको कोई मिला ही नहीं चुदाई करवाने के लिए.

बीएफ सेक्सी चुदाई वीडियो सेक्सी - मां बेटे की बीएफ सेक्सी

वो एकदम उदास हो गयी और बोली- पता नहीं मेरे में क्या कमी है कि वो मेरे पर ध्यान ही नहीं देते.फिर मामा ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और मेरा मुँह चोदने लगे.

कितना सुहावना मौसम था, हम दोनों भाग कर एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए और मैंने वहां उसे गुलाब का फूल निकालकर प्रपोज कर दिया. मां बेटे की बीएफ सेक्सी जानकारी हुई, तो मालूम हुआ कि वो मेरे घर से पास ही में रहते थे, तो मिलना आसान था.

बड़ी देर तक अन्दर घुमाते रहे, फिर तेल से लसड़ा लंड मेरी गांड पर रखा और धक्का दे दिया.

मां बेटे की बीएफ सेक्सी?

मैं अपना लंड चुत से बाहर निकाल ही रहा था, तो पूजा ने पूछा- चुत से लंड बाहर क्यों निकाल रहे हो?मैंने कहा- वैसलीन लेना है न. फिर उसने मेरा अंडरवियर उतार दिया और मेरा 6 इंच का लंड तनकर बाहर आ गया. मैंने पिंकी को दिखाने के लिए उनका हाथ पकड़ लिया- छोड़ दो ना सर प्लीज़!बहुत प्लीज सुन ली तेरी, अब चुपचाप मेरी प्लीज़ सुन ले.

मैंने अपने हाथों को अपने सिर के नीचे से हटाया और उनके हाथों को स्तनों से दूर धकेलने की कोशिश करने लगी. मैं भी चंचल स्वाभाव की हूँ और वह भी चंचल स्वाभाव की।हंसी मजाक, गन्दी बातें, गंदे चुटकुले उसे भी खूब अच्छे लगते हैं और मुझे भी!न मैं उससे कम हूँ और न वह मुझसे कम!एक दिन मजाक मजाक में उसने कह दिया- रीमा, तू बुर चोदी आजकल बहुत उड़ रही है।मैंने कहा- उड़ तो तू रही है भोसड़ी वाली रूपाली मौसी!वह बोली- अच्छा तू मुझसे जबान लड़ा रही है. फिर करीब और 10 मिनट की चुदाई के बाद रितेश और मीरा एक साथ ही झड़ गए.

पापा का बिजनेस अच्छा चलता था, तो बचपन से ही हमें किसी चीज की कमी नहीं थी. इसके पीछे कारण था क्योंकि यह सब सोचने के लिए उसे यह भी सोचना पड़ेगा कि वह रीना की अपनी बीवी की तरह चुदाई कर रहा है। उसके बाद सीमा की चुदाई कर रहा है और वह भी दोनों की मर्जी से, अपने पूर्ण रूप के मजे के साथ. वो दर्द से चिल्ला रही थी और बोल रही थी- बस यश, निकाल लो, बहुत तेज दर्द हो रहा है.

रस से लबालब भरी हुई बुर में लंड फिसलता हुआ पूरा घुस गया, केवल अंडे बाहर रह गए. चूंकि ये मेरा रोज का रास्ता था, तो मैंने उससे कहा कि मुझे तो रोज ही इधर से आना जाना रहता है, यदि आपको ठीक लगे, तो आप मेरे साथ चलिएगा.

हमें देखकर शुभी की हालत खराब हो गयी इसलिए वो वहां से उठकर आगे कमरे में चली गयी और टीवी देखने लगी.

फिर भाभी पानी लाकर मेरे पास आकर बैठ गईं और हम दोनों बातें करने लगे.

और फिर अनचाहे ही मेरी उंगलियां सुरेश अंकल को याद करते हुए मेरी चूत पर जा पहुंचतीं और मोती सहलाना शुरू कर देतीं. अब मेरा अगला स्टेप था इन अंकल जी को सेड्यूस करने का मतलब उन्हें लुभाने का ललचाने का और उन्हें मुझ पर आशिक करवाने का था. कामदेव मुझ पर रह-रह कर काम-बाण चला कर मुझे पीड़ित किये जा रहे थे और वसुंधरा साक्षात मेनका के समकक्ष मुझ से रति-दान लेने पर उतारू थी और मैं बेचारा, काम के इस भयावह बवण्डर में तिनके की तरह कभी इधर (कभी हाँ), कभी उधर (कभी न) डोल रहा था.

मैं तो चाहता था कि काश ये आज मुझे मिल जाएं, तो मुझे जन्नत का अहसास हो जाएगा. लेडी डॉक्टर, जो मेरी स्कूल की क्लासमेट थी, से बात की तो वो बोली- चूंकि लंड की नसें खड़े रहते समय दबी लगती हैं इसलिए ये बैठ नहीं रहा है बाकी तो पूरी गहन जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. इससे आपको इतना ज्यादा सुख और आनन्द मिलेगा कि आप बयान नहीं कर पाएंगी.

[emailprotected]देसी मॉम की चुदाई कहानी का अगला भाग:सेक्सी मम्मा से वासना भरा प्यार- 2.

मैंने फ़ौरन अपना हाथ वसुन्धरा के मुंह से निकाल लिया और उसी हाथ से वसुन्धरा के दोनों उरोजों से खिलवाड़ करने लगा. इस वक्त वो दूसरे हाथ से पूरे अंडकोष को ऊपर से नीचे तक मलहम लगाकर सहलाने सी लगी थी. उसकी वासना में डूबी आंखें बता रही थीं कि जैसे वो कह रही हो कि अपना मूसल मेरे अन्दर ठोक दो.

सुरभि ने एक दिन बताया कि उसके जीजा जी उसके ऊपर काफी शक करते हैं कि उसका किसी लड़के के साथ चक्कर है, इसलिए वो उसके साथ और उसकी दीदी के साथ काफी सख्त रहते हैं. नहाते नहाते मैंने भाभी को याद करके मुठ मारने का बहुत सोचा पर जैसे तैसे मैंने खुद को कंट्रोल कर लिया. मैंने उसको इशारा किया और वो तुरंत मेरी गोदी में आकर बैठ गयी उसने अपनी चूत मेरे लौड़े पर टिकाई और जोर लगाया, परन्तु लौड़ा अन्दर नहीं जा रहा था.

फिर रूम से बाहर निकल कर देखा कि किसी ने उसको अन्दर आते हुए तो नहीं देखा है.

एक बार तो मन किया कि शायद मैं ही ज्यादा सोच रहा हूँ मगर फिर ध्यान आया कि अगर उसे कुत्ते को अंदर बंद ही करना था तो कमरे की लाइट बंद करने की क्या जरूरत थी?हो न हो जरूर उसकी चूत का लावा कुत्ते के लंड के पानी से शांत होने की इच्छा कर रहा होगा. रानी चिल्लाने लगी- राजे … बहन के लौड़े, साले तेरी माँ की चूत … आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद चोदू राम … ले भोसड़ी के … फिर चार पांच ज़ोरदार धक्के … और ले माँ के लौड़े राजे … फिर कुछ तगड़े धक्के ….

मां बेटे की बीएफ सेक्सी आरती के पापा से जॉब का आश्वासन पाकर मैं उनका थॅंक्स करते हुए आरती के साथ बाहर आ गई और वो मुझे अपने साथ पास ही किसी रेस्टोरेंट में ले गई. कल्पना- दर्द चला गया अब … और अब कभी दर्द नहीं करेगा वहां … जितना दर्द होना था हो चुका, अब तो बस!यह कह कर उन्होंने अपनी बात अधूरी छोड़ दी.

मां बेटे की बीएफ सेक्सी फिर जॉन ने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे बूब्स को आज़ाद कर दिया. अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है, इसलिए आप सभी से निवेदन है कि अगर कहानी लिखने में मुझसे कुछ ग़लती हो जाए, तो मुझे माफ़ कर दीजियेगा.

उधर मीना जल बिन मछली सी तड़प रही थी, उसे अब भोग चाहिए था, संभोग का भोग! लिहाजा उसने मुझे फिर से अपने ऊपर खींच लिया और अपनी टांगों को फैला दिया जिससे मेरा लन्ड उसकी चूत में जल्दी से जा सके.

विश्व बीएफ

कुछ देर बाद सोनू का शरीर अकड़ने लगा और उसने मुझे अपने दोनों हाथों से कमर से खींच लिया. मैंने उसे बेड पे धक्का देते हुए और उसके ऊपर आते हुए कहा- रांड आज तेरा भोसड़ा ना सूज गया मेरे लन्ड की चुदाई से तो मेरा नाम बदल देना।यह कहते हुए मैंने फिर से उसके बूब्स को मसलना और मारना शुरू कर दिया. अमर अपनी स्पीड में तो था ही … उसने कुछ और तेज झटके दिए तो पिंकी झड़ने लगी.

कुछ दिन बाद मेरे नौकरी एक बढ़िया कंपनी में लग गई और वहाँ पर एक लड़का मुझ को लाइन मारने लगा. इतने में मैं उसके सामने आ गया और बोला- मैं ढूँढ कर दूँ मैडम आपकी पैंटी!मुझे देख कर वो थोड़ा डर गई और बोली- क. मैं भावना की भूरी कलर की निप्पल को जोर-जोर से चूस रहा था।उसके मुंह से सिसकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…वह गाली देकर बोली- और जोर से चूस बहनचोद! जोर से काट लो मेरी चूचियों को। आह … पी लो मेरे भाई।मैं उसके पैरों की उंगलियों से किस करता हुआ ऊपर की तरह बढ़ रहा था.

हर समय, हर घड़ी …तभी मैंने देखा कि चाची घर के पीछे बने स्टोर की तरफ जा रही थी (उनके घर के पीछे तीन स्टोर बनाये थे जिन्हें उन्होंने साफ सफाई करके चाची के परिवार वालों को रहने के लिये दिया था शादी में) लेकिन अभी थोड़ी ही देर पहले मैंने चाची के भाई कपिल को उधर जाते देखा था.

साली तेरे लिए मैं कुछ भी दवाई खाकर अपने लौड़े का साइज बड़ा करूंगा, तू बहुत चुदासी है. अगली सुबह हम दोनों मिले और बाइक से चालीस किलोमीटर दूर एक पार्क में आ गए. वसुंधरा ने सारे हालात पर कुछ क्षण सोचा, फिर बोली- नया नाड़ा कहाँ से मिलेगा? नाड़ा कौन काटेगा? आप रिपेयर कर के मुझे लहंगा कितने समय में लौटायेंगे? मैं लहंगे के बिना कहाँ रहूंगी?”हे भगवान्! फिर से वही पुरानी सड़ियल वसुंधरा जागने क़ो थी.

मैं कोशिश करता था कि जब मम्मी घर आ जाएं, तो मैं कुछ समय के लिए सर के सामने से हट जाऊं और वे सर से बात कर सकें. शीतल भाभी की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, इस पर आप मुझे जरूर अपनी राय दें. जरूरत से ज्यादा चुदाई करने के कारण मेरा लंड और भी ज्यादा मोटा और लंबा हो गया था.

हालांकि वो अभी छोटी ही थी, पर बड़े पापा ने उसकी शादी जल्दी कर दी थी. मैं अभी सो ही रहा था कि तभी बहन ने आकर मुझको नींद से जगाया और बोली- भैया उठिए … चाय पी लेना, मैंने मेज पर रख दी है.

वे बोलीं- बस उम्र में ही छोटे हो, इस काम में तो बड़ों से भी आगे हो. कुछ देर के बाद उसका दर्द छू मंतर हो गया और मैंने उसके होंठों से होंठ हटाए तो वह सिसकारी ले रही थी. फिर सारा ने साड़ी गिरा कर दूसरी टांग नंगी करके अपनी गांड लहराई और जीभ अपने होंठों पर फेर कर मुझे ललचाने लगी.

एक दिन किसी काम के चलते मैंने उससे उसका मोबाइल नंबर मागा, उसने तुरंत अपना नंबर मुझे दे दिया.

आरती ने कहा- हां यह बात तो है … मगर कैसे मिले? मैं तो अब चुदवाना चाहती हूँ मगर कोई ऐसे लंड मिले जो किसी से कुछ ना कहे! वरना बहुत बुरा हो जाएगा मेरे साथ. जब उस स्टॉप से बस चलने को हुई, तो मैंने देखा कि एक लेडी मेरी सीट पर बैठ गयी है. जिसने भी इस असीम सुख के सागर में गोता लगाया है, सिर्फ वही इसका आनन्द जान सकता है.

दसवीं की परीक्षा पास करने के बाद नजदीक के ही शहर में मैं एक प्राइवेट जॉब करने लगा था. मैं जब भी उठना चाहता था, तो बीवी अपने पैर से मेरी गांड को पकड़ लेती थी.

मैंने भी देर न करते हुए उसको पीछे से पकड़ कर उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़ लिया. मगर यह तो संभव सी बात नहीं लग रही थी कि बगल में चुदाई चल रही हो आपको नींद आ रही हो. बाकी परिवार वाले भी होंगे वहां पर, कुछ लेन-देन या रीति-रिवाज की बातें हो रही होंगी शायद!मैंने वापस फोन पर बात करते हुए इन्दु से कहा- ओहो … तो ये बात है, लेकिन यार, जब तुम मिलती हो तो कुछ करने नहीं देती.

बीएफ नंगी चुदाई वाली पिक्चर

इसके लिए एकांत की जरूरत थी, जिसके लिए मकान मालिक का घर पर नहीं रहना जरूरी था.

सलोनी- रियली? ऐसा क्या देखा आप ने मेरे में जो किसी ने नहीं देखा? और आपने देख लिया? आप झूठ बोल रहे हैं. हम लोग सो चुके थे, तभी अचानक बाहर से कुछ अजीब सी आवाज सुनाई पड़ी तो हम लोग आवाज सुन कर बाहर आ गए. तब उसने कहा- सारिका जी क्या आप ऊपर आकर धक्के मारोगी? मैं अब थकने लगा हूँ प्लीज.

मेरी बीवी सीधे लेट गयी और उसने अपनी चड्डी से चुत से बहता हुआ वीर्य पौंछ दिया. मैं पेशे से एक कम्प्यूटर इंजीनियर हूँ और एक कंपनी में जॉब करता हूं. लेडीस और जानवर का सेक्सी बीएफउसकी आवाज तेज होने की स्थिति में आ सकती थी इसलिए मैंने पहले ही निशा का मुँह अपने एक हाथ से दबा दिया कि आवाज न निकले.

मगर जिस छोटे से गांव से मैं ताल्लुक रखता हूँ, उधर ये सब इतना खुला नहीं था. मैंने भाभी से पूछा, तो भाभी बोलीं- जानू मेरा पानी शुरू से ही बहुत ज्यादा छूटता है … और आज तो मैं जीवन में पहली बार लगातार दो बार झड़ी हूँ.

मैंने नमस्कार किया, वे सवालिया निगाहों से देख कर बोले- पहचाना?मैं- जी. उत्तेजना में मैंने किसी तरह एक हाथ पीछे ले जाकर उसके चूतड़ को पकड़ना चाहा, पर वहाँ तक मेरा हाथ नहीं पहुंचा. मैंने घड़ी की तरफ देखा, क्लास में जाने के लिये अभी भी 20-25 मिनट बाकी थे.

उसका शौहर उसको खुश नहीं कर पाता और उस वजह से हम दोनों में थोड़ी अनबन होती रहती है. उसने वैसा ही किया और हम दोनों के संयुक्त प्रयास से मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया. उसने मुझे बताया कि उसके पति का लन्ड अब खड़ा ही नहीं होता है जबकि उसके सेक्स की भूख बहुत बढ़ गयी है.

उसने कहा- किस बात पर ध्यान लगा रहे थे … और क्या बात है, आजकल तुम मुझसे बात ही नहीं कर रहे हो.

सारा ने मेरा और ज़रीना का हाथ पकड़ कर हमें सोफे पर बिठा दिया और बोली- शैल वी स्टार्ट?सारा ने सिर्फ आसमानी नीले रंग की साड़ी पहन रखी थी, न ब्रा न पैंटी सिर्फ साड़ी को छातियों पर साड़ी को बांधा हुआ था. उसने मेरे टॉप के अन्दर अपना हाथ डाल दिया और वो मेरे पेट को सहलाने लगा.

क्योंकि धीरज अपने माँ बाप का इकलौता लड़का था, उसकी कोई और बहन या भाई नहीं था और मेरी भी कोई और नहीं था इस लिए दोनों ही परिवार वाले हमें सगे भाई बहन की तरह ही मानते थे. मैंने अपनी अधखुली नजरों से देखा तो डाक्टर की आंखों में और चेहरे पर कामुकता नजर आ रही थी. फिर नीचे पार्किंग में पहुंच कर मैंने अपनी कार का दरवाजा खोला और रिया को बिठा दिया.

मेरी सहेली आरती मेरे भाई से कई बार चुदी और उस को बुलवा भी लेती थी जब कभी मौक़ा मिलता था ताकि उस के लंड का मज़ा ले सके. मैं आप सभी से पहले ही बता दूं कि ये एक फैंटसी से भरी देसी मॉम की चुदाई कहानी है व उसी फंतासी के चलते मेरी और मेरी मम्मा के कामवासना से भरे प्यार की कहानी है. रिया ने मुझसे हंसते हुए कहा- बस यूं ही हंस रही हूँ यार … और हां तुम जोकर ही लग रहे हो.

मां बेटे की बीएफ सेक्सी जब लौंडिया स्खलित होती है तो उसके हाथ पैर ठन्डे हो जाते और बदन मूर्छित जैसा हो जाता है. वो बोली- ये क्या कर रहे हो?मैंने उससे कहा- जान रुको थोड़ा, तुम्हारा सरप्राइज वेट कर रहा है.

सेक्सी बीएफ गाना वाला भोजपुरी

वो पहले तो वो ताई पर हाथ फिराते हुए उनका ब्लाउज उतारने लगे, फिर छाती पर हाथ फिराते फिराते उनए मम्मों को मसलने लगे. बहुत देर तक लंड चूसने के बाद मुझे ऐसा लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, तो मैंने अंकल को अलग किया और उनके दूध पीने लगा. इतना बोलकर उसने लंड को थोड़ा-सा चूस कर गीला किया और खुद कुतिया बन कर अपनी गांड और चूत मेरे लंड के सामने रख दी.

सुरभि ने एक दिन बताया कि उसके जीजा जी उसके ऊपर काफी शक करते हैं कि उसका किसी लड़के के साथ चक्कर है, इसलिए वो उसके साथ और उसकी दीदी के साथ काफी सख्त रहते हैं. वो चिल्लाई- अअअअअ मर गई बाबू हटो …मैं उसको हिलने भी नहीं दे रहा था. सुपरहिट बीएफ हिंदीफिर मुझे लगा कि एक बार पकड़ कर देखूँ, मैंने मुट्ठी खोली तो उसने मेरी हथेली में अपना लंड पकड़ा दिया.

आह … क्या एहसास था! उसका थूक और लार भी उस समय मुझे मीठा लग रहा था।एक बार फिर से मैं उसके नंगें शरीर के ऊपर आया और उसको गली देते हुए और उसकी गाली सुनते हुए मैं उसे चोदने लगा.

जानबूझकर मैं इस तरह एक्टिंग कर रहा था जैसे मेरा साली की तरफ ध्यान ही नहीं है. कुंवारी भाभी की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मुझे अपने ऊपर झुका देख कर मेरी इस हरकत का एहसास तो भाभी को भी हो गया था, पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं थी, तो मैंने भी मौके का फायदा उठाकर अपना एक हाथ उनके उभरे हुए वक्ष पर रख दिया.

मेरी कमसिन जवानी की कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि मेरे अंग्रेजी वाले टयूटर अंकल ने मुझे अपने जाल में फंसा लिया था और मुझे भी उनके इस जाल में फंसने में मजा आ रहा था. वीर्य के चटखारे लेते हुए चाची बोलीं- आख़िरकार तुमने आज मेरी प्यास बुझा ही दी. अब मैं करवट लेकर अपनी बीवी की तरफ मुँह करके हो गया अपना दांया पैर पूजा की कमर के बाजू में रख दिया.

वो अपना मुंह मेरे कान के पास लाकर धीरे से मेरे कान में बोला- मिस राठौड़, प्लीज ओपन योर आइज़!अब मैंने भी इस नाटक को बंद करना ही उचित समझा.

चिकनी चुत में अमर का मोटा लंड फांकों को चीरता हुआ घुसा तो पिंकी भाभी की एक तेज चीख निकल पड़ी. मेरा दिल तो कर रहा था कि जाकर सीधा उनको पीछे से पकड़ लूं और उनकी गर्दन के पास एक बांह डालकर, दूसरे हाथ से उनकी साड़ी और पेटीकोट उठा कर उनके थिरकते बड़े बड़े चूतड़ों के बीच में अपना पूरा लंड एक बार में ही गांड के अन्दर तक डाल दूं. पर तब उसने कहा- आपकी कॉफी ड्यू रही मैं फिर कभी पीऊंगा, अभी मैं जल्दी में हूँ.

वेस्टइंडीज बीएफ चुदाईलड़कियां मेरी तरफ खिंची चली आती हैं … और ये तय मानिए कि जो लड़की एक बार मेरे पास आ गई और उसने मेरे 8″ लम्बे और 3″ मोटे लंड का स्वाद चख लिया, फिर उसको इसकी आदत पड़ जाती है. दस-बाहर मिनट तक फोरप्ले करने के बाद उसने कहा- बस, अब जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल दो.

बुआ भतीजे का बीएफ

मैंने अपना चेहरा ठीक उनके चेहरे के सामने करके और अपना हाथ उनके मम्मे से हटा कर उनकी चूत पर रखते हुए कहा. उसकी बातों में अब ये बातें भी स्थान लेने लगी थीं कि मुझे किस तरह का ब्वॉयफ्रेंड पसंद है वगैरह वगैरह. कुछ देर बाद मेरा भी जब माल निकलने वाला था, तो मैंने उससे पूछा- मैं तुम्हारे मुँह में माल डालना चाहता हूँ.

इस तरह की कहानी मैं आपके लिए समय-समय पर लेकर आता रहूँगा और आपका मनोरंजन करता रहूँगा. फिर धीरे धीरे मैं अपने हाथ ऊपर लाने लगा और उनके ब्लाउज में हाथ डालकर उनकी दोनों नंगी चूचियां पकड़ कर मसलने लगा. इसके बाद मैंने उन्हें ज़ोर से अपनी बांहों में खींच लिया और नीचे से पूरा नंगी हालत में ही चिपक कर सो गया.

उसकी एक टांग को ऊपर उठा दिया और दोनों हाथों से पकड़ कर लंड को उसकी चूत पर सेट कर दिया. मेरे मुँह में पूरा लंड समा ही नहीं रहा था, लंड पूरा मेरे गले के नीचे तक उतर रहा था. फिर मैंने भी सुषी से पूछा कि क्या उसने कभी किसी के साथ कुछ किया है? सुषी ने भी ना में जवाब दिया.

कल मैंने तुम्हारी गर्दन तक किस ली … आज गर्दन से पेट तक के हिस्से की किस लेनी है. मैं दर्द में चिल्लाई जा रही थी मगर वो नहीं माना और दनादन चुदाई चालू कर दी.

हो गया सर, जाने दो हमें …”सर गुर्राते हुए बोले- अच्छा, पेपर हो गया तो जाने दो? हमें नहीं करना पेपर … वाह! मैं क्या चूतिया हूँ जो इतना बड़ा रिस्क ले रहा हूँ!”जैसे ही मैं खड़ी हुई सर ने मेरी कमर को पकड़ कर मुझे अपनी गोद में बैठा लिया.

आपने मेरी कहानीआपा के हलाला से पहले खाला को चोदामें पढ़ा कि कैसे मैंने सारा आपा के हलाला से पहले नूरी खाला को चोदा और फिर मेरा निकाह सारा आपा से हुआ. बीएफ जबरदस्ती बीएफ जबरदस्ती‘तूने खुद मसली हैं अपनी चूचियां?’वो- साली सहेलियों ने पूरा बिगाड़ कर रख दिया था … तुम वो सब छोड़ों … और अन्दर डालो लंड. ठेठ देहाती बीएफइस पर पिंकी ने अपनी आंखें बंद कर लीं और वो अमर की गर्दन को अपनी चूचियों पर दबाने लगी. उधर मेरी सहेली अपने ब्वॉयफ्रेंड से होटल में चुदवा रही थी और इधर मैं अपनी सहेली के भाई से चुदवा रही थी.

मैंने उसका मुँह दबा लिया और फिर अपना उतना सा लंड ही आगे-पीछे करने लगा.

मैं उनके ऊपर से हट कर साइड में कंधे के बल लेट गया और उन्हें भी अपनी तरफ कर लिया. मोहतरमा का आदेश आया, तो मैंने बाइक उठायी और बताए गए पते पर अपनी किट लेकर पहुंच गया. मैं बोली- हां मेरे आशीष, सच में मैं बहुत चुदक्कड़ हूं … मेरा अपने आप बेहद चुदवाने का मन करता रहता है.

फिर वो पिंकी की टांगों को चौड़ा करते हुए उसकी चूचियों की तरफ चढ़ने लगा. और मेरे लण्ड को सहलाते हुए बोली- अब मुझे भी चोदो!मैंने सारा के कपड़े निकाल दिए और उसे किस करने लगा. उसका शौहर उसको खुश नहीं कर पाता और उस वजह से हम दोनों में थोड़ी अनबन होती रहती है.

एक्स एक्स बीएफ डाउनलोडिंग

मैंने माया भाभी को खड़ा किया और उसकी पजामी और पैंटी दोनों एक साथ निकाल दी. अपने लंड में बहुत सारा तेल लगा कर मेरी गांड के छेद में लंड का सुपारा सैट कर दिया. मैं मायरा के रूम में गया तो मायरा ने बायोलॉजी की बुक निकाली और बोली- भैया, मुझे ये समझना है कि बच्चा कैसे बनता है.

एक नारी लगभग अपनी आधी जिंदगी गुजरने के बाद आज पहली बार अपने नारीत्व को प्राप्त हुई थी.

फिर उन्होंने मुझसे मेरी पिक मांगी और मेरी नंगी गांड देखने की इच्छा जाहिर की.

कुछ पांच मिनट तक मैं उसके होंठों को चूस चूस कर खाने के बाद उसे नंगी करने लगा. मैंने सोनू से कहा- अगर तुम चाहो तो अपनी मम्मी को यह लौड़ा दिलवा सकती हो. दुल्हन के सेक्सी बीएफकहानी में और भी पात्र हैं, उनका परिचय उनके आगमन के साथ ही मिल जायेगा।शारदा चाची का घर मेरे ही नगर में कुछ ही दूरी पर है.

फिर मैंने धीरज से फोन कर कुछ इधर उधर की बात करके कहा- तुम्हारे लिए एक सरपराइज़ है. मतलब जितनी देर में एक मालगाड़ी बंद फाटक से निकलती है और फाटक खुलता है, उतनी देर में हम दोनों की क्रॉसिंग चुदाई हो जाती है. उसी समय यदि मैं पम्मी आंटी को देख लेता था … तो मेरा लंड पैंट फाड़कर बाहर आने को हो जाता था.

रोहन ने फिर सफाई देते हुए कहा- वैसे मुझे तो कोई परेशानी नहीं है लेकिन तुम्हारी परमिशन भी तो जरूरी है. मैंने अपना लंड साफ किया और जाकर सो गया, इसके बाद और कुछ नहीं हो पाया.

मैंने अमीषी को दीवार से लगाया और अपना लोवर उतार कर अपना 8 इंच लंबा लंड उसकी चूत पर लगा कर उसका दवाब उसकी चूत पर दिया.

मारे उत्तेजना के मेरा लिंग पत्थर सा सख़्त हो रहा था और उसमें से प्री-कम भी बहुत निकल रहा था जिस के कारण वसुन्धरा की उंगलियां मेरे प्री-कम से सनी सनी जा रही थी. मैंने सोनू की चूत को देखा तो पता चला कि उसने चूत के जो रोयें थे वे भी साफ कर रखे थे और उसकी चूत आज कुछ थोड़ी सी फूली हुई लग रही थी. उसके घर की रास्ता पीछे वाली गली में खुलती थी … और मेरे घर की रास्ता आगे वाली गली में खुलती थी.

बीएफ हिंदी वाला वीडियो रात के 9:30 बज गए और नींद का मेरे लिए दूर दूर तक नामोनिशान नहीं था. आज इस बात को 3 माह हो गए हैं, लेकिन मुझे उनकी कोई खबर नहीं मिल रही है.

अब मुझे अनंत सुख का एहसास होने लगा और 2-4 काफ़ी तेज धक्कों के बाद मेरे लंड में बहुत तेज दर्द हुआ. थोड़ी देर बाद आंटी जी चाय बना कर ले आई और बोलीं- निशा, मैं पड़ोस में जा रही हूँ थोड़ी देर बाद आ जाउंगी, कुछ चाहिए तो फ़ोन कर देना. मैंने सरिता के होंठों पर होंठ रखकर किस करके कहा- सरिता, तुम बहुत ही होशियार हो.

लड़की के बीएफ वीडियो में

आप मेल कीजिए, मुझे बताइए कि भाई बहन Xxx स्टोरी आपको कैसी लगी?[emailprotected]. मैं उसके उछलते हुए मम्मों को अपने सीने पर महसूस कर सकता था।चोदते-चोदते मैंने उसे गोद में उठा लिया. मुझे अपने आप से ऐसा लगने लगा था कि मुझे आशीष अपने बांहों में लेकर मेरे जिस्म से चिपका रहे और वैसे ही मेरे होंठों को चूमता रहे.

तो अंकल राजी हो गए और कहा- चलो तो सुनो … और प्लीज तुम्हें बुरा लगे तो माफ कर देना. आन्या तो कुछ बोलने की हालत में नहीं थी, वो ‘बस बस …’ कहे जा रही थी.

30 बजे वो मेरे रूम में आई थी और उसने अपना लहंगा अभी भी नहीं चेंज किया था.

आज से से दो साल पहले मेरे साथ एक चुदासी कहें या मजबूरी वाली घटना घटी, जिसे मैं आज आप सबके साथ शेयर कर रहा हूँ, मैंने बहुत सोचने के बाद तय किया कि क्यों न मैं भी अपनी इस सच्ची सेक्स कहानी को आप सबके सामने पेश करूं. हम एक दूसरे से मिलने के लिए पागल हो गए, कहीं से रूम का भी जुगाड़ नहीं हो पा रहा था. फिर मैं तो कुलीन को पसंद करती थी, इसलिए मैं उससे ही ज्यादा बात करती थी.

अब मैं अपना पूरा लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लेता, फिर झटके से एक ही बार में पूरा घुसा देता. वह बोली- ठीक है, मगर वादा करो कि अंदर नहीं डालोगे?मैंने कहा- नहीं, अंदर नहीं डालूंगा. आंटी ने अपनी शर्ट निकाल दी और ढीले पड़े मम्मों पर मेरा मुँह लगा दिया.

दोनों एक दूसरे से करीब 5 मिनट चिपके हुए अपनी अपनी साँसों में काबू पाते और सुस्ता कर दोनों के बदन ढीले पड़ने लगे थे.

मां बेटे की बीएफ सेक्सी: ऐसा महसूस करते ही रितेश ने भी अपना पूरा हाथ मीरा की पैन्टी में डाल दिया और वो मीरा की मस्त गांड को मसलने लगा. मैं भाविका चंद्रवाडिया उर्फ भाव (मेरे प्रेमी द्वारा दिया गया नाम) गुजरात के एज्यूकेशन हब आणंद की रहने वाली हूँ.

शायद वो अपनी चूत की आग को मिरर में देख कर थपथपा कर ठंडी करना चाह रही थी. नीतू तुमने पूछा था ना मैं चॉकलेट खाता हूं कि नहीं, अब देखो मैं ये दो चॉकलेट खाने वाला हूँ. मम्मी के लिए तो तुम शादी के बाद भी बच्ची ही रहोगी बेटी, हे हे हे …” सर अपनी जांघों के बीच तनाव को कम करने के लिए ‘वहाँ’ खुजाते हुए बोले- पर तुम बताया करो ना … तुम तो अब पूरी जवान हो गयी हो … लड़कों का दिल मचल जाता होगा इन्हे यूँ फड़कते देख कर … पर तुम्हारा भी क्या कुसूर है … ये उम्र ही मज़े लेने और देने की होती है.

दिलिया को भी मजा आने लगा, उसने अपने टाँगें उठा कर मेरी पीठ पर लपेट ली.

वहां हम एक लेडी गारमेंट्स की शॉप में गये और फिर वहां से मैंने मेरे लिये कुछ ड्रेसेस लीं। फिर रोहन मुझे एक लेडी अंडरगार्मेंट्स की शॉप में ले गए. एक दिन भाभी मुझसे बोली- आप भी इंजीनियर हो, तो सुरभि को कभी कभी किसी सब्जेक्ट में हेल्प कर दिया करो. मैं तुम्हें कल एक चुदाई वाली मॅगज़ीन दूँगा, तुम अपनी किसी सहेली को दिखलाना और उसको ध्यान से देखना कि क्या वो उसमें कुछ मज़ा ले रही है.