बीएफ मुजरा

छवि स्रोत,जानवरों की फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो ट्रेन: बीएफ मुजरा, अन्दर वो मुझे भी उसी कमरे में ले आई जहां सब लड़कियां तैयार हो रही थीं.

एचडी सेक्स वीडियो दिखाएं

उसने मेरा हाथ पकड़ा और बोली- चल मेरे साथ अन्दर!मैंने कुछ नहीं कहा और चुपचाप सर झुका कर अन्दर चला गया. वीडियो सेक्सी देखने वालासाबिरा के बाल खींचते हुए मैं उसके मुँह अपने लंड को ऊपर नीचे करने लगा.

रेशमा ने मेरा हाथ दबाया और अपने झड़ने का मजा लेती हुई अपना पूरा शरीर बिस्तर पर ढलका दिया. செக்ஸ் மலையாளம்मौसी बोलीं- तनु, क्या हुआ?मैंने कहा- आपको दर्द हो रहा था तो निकाल लिया.

शिराज को लौड़ा चुसवाते मैंने कहा- चूस मादरचोद … अपनी बहन की चूत का रस चाट ले … तेरे जीजा के लौड़े से रस चूस ले हिजड़े की औलाद.बीएफ मुजरा: वो मेरा साथ तो दे रही थीं पर जैसे किसी छोटे बच्चे को किस करते हैं, वैसे कर रही थीं.

पर मैंने रात की तरह पूरा नहीं पेला, सिर्फ टोपी ही अन्दर डाली और हल्का सा हिलाने लगा.’अब वो अपने घुटनों पर होकर घोड़ी बन गई और मैंने भी उसके पीछे जाकर लंड चूत में डाला और उसकी कमर को पकड़ लिया.

शीतल नाम के लोग कैसे होते हैं - बीएफ मुजरा

पाठको, मैं राज शर्मामेरी पिछली कहानीपड़ोसन आंटी ने मुझे फंसाकर चूत चुदवा लीमें आपको अपनी पड़ोसन आंटी की चूत गांड चुदाई की कहानी बता रहा था.ये हॉट सेक्सी भाभी की चुदाई कहानी है व मेरे सच्चे अनुभव पर आधारित सेक्स कहानी है.

फिर मैं अपने बूब्स को रगड़ने लगी और अपनी बुर को भी उंगली डालकर साफ़ किया. बीएफ मुजरा उस रात मैंने निधि के साथ चार राउंड और करे और सुबह 5:00 बजे अनुराग ने मुझे मेट्रो स्टेशन छोड़ दिया और बाय बोल कर चले गए.

रेशमा- आहहह अम्मीई ईईई जानन्न उफ्फ धीरे करो मालिक्क फाड़ दी मेरी चूत.

बीएफ मुजरा?

मैं भी उसके बदन को अपने आप से जुदा ना कर सका और वैसे ही उससे चिपककर सो गया. ऐसा अक्सर होता भी है कि एक स्टेशन से जाने वाले यात्रियों का आरक्षण एक ही बोगी में किया जाता है. एक एक बूंद को चाटकर साफ करने के बाद मैंने लंड को अपने मुँह से निकाला.

थोड़ी देर बाद हम सबने मिलकर कमरे का माहौल बनाना शुरू किया और कुछ ही पलों बाद पूरा कमरा हल्के से संगीत और वाइन के साथ तैयार हो गया. रुक रुक कर उसकी चूत से पेशाब निकलती रही और बिस्तर की चादर गीली हो गई. तो मुझे भी अपने पुराने शौक ताज़ा हुए!जिनको मैं तब न कर सकी, उनको अब कर सकती थी.

अब मैंने उसकी योनि को चाटना शुरू किया, तो वो आआ आह ऊऊ उफफ की आवाजें निकालने लगी. मैंने फिर से मोबाइल चालू किया और देखा तो वो दोनों फिर से चुदाई कर रहे थे. अब लड़के अपने लौड़े हिलाने को … और लड़कियां अपनी चूत में उंगली करने को तैयार हो जाएं.

कोमल बोली- आज तो घर में कई आवाजें आएंगी … आह-आह … फच फच …मैं बोला- लेकिन आपकी पसंददीदा आवाज कौन सी है?कोमल बोली- चरमसुख के समय आह आह की आवाज. अञ्जलि ने भी अपनी स्पीड बढ़ाते हुए थप थप थप की आवाज करती हुई लंड सवारी शुरू की.

नंदा मेरे पैरों के बीच बैठ कर मेरे मुरझाए हुए लंड को मुँह से आक्सीजन देने लगी.

मैंने ललिता को उठाकर बिस्तर के किनारे लिटा दिया और उसकी एक टांग अपने कंधे पर रख कर चोदने लगा.

कुछ ही देर में मेघना पसीने से पूरी तरह से भीग चुकी थी और उसका नंगा जिस्म पसीने के कारण चमकने लगा था. धारा उसी तरह दबाव बनाते हुए अपने भारी-भरकम चूतड़ ऊपर नीचे करती रही और देखते ही देखते शेखर का सुपारा गांड में घुस गया. इसके बाद आरती जब भी हमारे घर रुकने आती थी, तो हम पूरी रात चुदायी का मजा लेते थे.

एक सामने की तरफ से बैठी और दूसरी इस तरफ लड़के के बगल में!इससे मैं उस लड़के को जगह देने के लिए एकदम किनारे को घुस गई. जैसे ही मेरा लंड चूत की गहराई में जाता, उसके मुँह से निकलता ‘ऊउ ईई आआ आह. मैं और जोश में आकर तेजी से झटके लगाने लगा और आंटी की दोनों चूचियों को मसलने लगा.

मैं दूसरे हाथ से बीच बीच में उनकी चूचियों को दबाने लगा, पीठ पर चूमने लगा और कूल्हे पर हाथ फेरने लगा.

उस दिन के बाद उन्होंने कल्लू के घर जाना भी बंद कर दिया और सपना और कल्लू भी हमारे घर नहीं आते थे. तीन दिनों बाद जब मैं घर गया, तब तक बॉस जा चुका था और मेघना अकेली थी. वो मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह ऐसे चूस रही थी, जैसे उसे मस्त चीज मिल गई हो.

अञ्जलि ने मेरे गाल पर अपना हाथ रख कर चेहरा घुमाया और मेरे होंठों को चूसने लगी. मैं उस रूम में गया और देखा तो एक 30 साल के आसपास एक महिला पेट के बल लेटी हुई थी और उनने अपने ऊपर कंबल डाल रखा था. मैंने जैसे ही आंटी की चूत में हाथ लगाया, वो सिहर उठीं और आह आह आहह करने लगीं.

ऐसे ही वो एजेंट मेरे लिए कभी कोई कॉलेज की लड़की को भेजता तो कभी किसी हाऊस वाइफ भाभी को.

मैं उनके करीब गया तो भाभी बोलीं- तुम जल्दी से मेरे घर में आ जाओ, आज घर में कोई नहीं है. भाई ने मेरी साड़ी पेटीकोट उठाकर मेरी चड्डी नीचे की और अपना लंड पीछे से मेरी चूत में पेल दिया.

बीएफ मुजरा ऐसा करने से रूना बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई और उसकी दोनों टांगें कांपने लगीं. साबिरा सकते में आकर अपने भाई की गंदी करतूत देख कर गुस्सा होने लगी, पर मैं उसे शांत करते हुए उसे समझाने लगा.

बीएफ मुजरा रेशमा ने भी मजे लेते हुए अपने आपको मेरे हवाले कर दिया और जोर जोर से चोदने की गुज़ारिश करने लगी थी- आअह याहह मेरे राजाजी ईईई उफ्फफ्फ्फ़ फाड़ दी मेरी मेरी गांड … साले सांड, भोसड़ा बना दे वीरू मेरी गांड का … याहहह अम्मीईई चुद गई तेरी लौंडिया … आह अब्बू तेरी लड़की रंडी बन गई. कभी गांड तो कभी चूत में लंड डालकर मॉम को किसी बाजारू रंडी की तरह चोद रहा था.

कुछ देर तक और चूत चाटने के बाद मैं उठा और मॉम से लंड चूसने के लिए बोला.

केला की सब्जी की रेसिपी

गर्ल एनल फक़ स्टोरी में पढ़ें कि हम पड़ोसी लड़के लड़कियां साथ साथ खेलते थे. मेरी बहन की गांड का छेद पहले ही गीला था, मैंने उसमें अपना फौलादी लंड पेल दिया. दोस्तो, अन्तर्वासना पर मेरी पहली कहानी में आपका स्वागत है।उम्मीद करता हूं कि आपको मेरी लिखी हुई कहानी पसंद आएगी.

अब मॉम लंड को चूसने लगीं और मेरे हाथ अपनी चूचियों पर रखकर बोलने लगीं- तनु, आज की रात तू जो चाहे कर ले, मैं तुझे रोकूंगी नहीं. फिर जब वो औरत जगह बना कर बैठी तो वो लड़का एकदम से मुझमें घुस सा गया, जिससे मेरी नंगी बांह पर उसके होंठ एक दो बार पड़े. फिर मैंने अपने सारे कपड़े खोले और उसे नीचे बैठा दिया, उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया और उससे लंड चूसने को कहा.

उस रात 3 बार मैंने लच्छो को चोदा जबकि उससे पहले दोपहर में ही मैंने दो बार उसे चोदा था.

उस दिन मेरा शक बिल्कुल यकीन में बदल गया कि निश्चित ही मेघना रात में किसी से चुदी है. मैंने तेज तेज गति से भाभी के मुँह में लंड देना शुरू किया और कुछ ही मिनट बाद मैं उनके उन्ह में ही झड़ गया. मैंने कहा- डैड क्या अच्छे से चोदते नहीं हैं?मॉम बोलीं- बहुत सालों से मेरे साथ तेरे डैड ने सेक्स नहीं किया इसलिए ग़लती हो गयी.

उसने मुझे बताया था कि उसने आज तक सेक्स नहीं किया है और वो अभी तक वर्जिन है. बहन ने कहा- तो क्या हुआ, हमारी आजू बाजू की बर्थ तो खाली हैं और चलती गाड़ी में थोड़े ही कोई आ जाएगा. खैर … उस दिन दोनों लोग पानी में भीगते हुए सुमैत्री के घर पहुंचे और मैं सुमैत्री को ड्रॉप करके अपने घर के लिए निकलने लगा.

उसको भी पता चल गया कि मैं उसको गांड खोलने का आदेश दे रहा हूँ तो उसने भी अपने हाथ से अपने मांसल चूतड़ फ़ैलाए और मेरे लौड़े का स्वागत करने लगी. मुझे चूत मिलने की एक उम्मीद नजर आई क्योंकि अगर उसका पति बाहर रहता है.

तकरीबन आधा घंटा बाद आसिफ फिर से कमरे में तान्या को लेकर आया और बोला- इसका मेकअप फिर से ठीक कर दे. अब आगे मैरिड गर्ल हॉट फक़ स्टोरी:मैंने खड़े होकर गीता की तरफ मुँह किया तो गीता मेरी जांघों को सहलाती हुई बोली- ओह हर्षद बहुत मजा आया. अभी ये अब चल ही रहा था कि तभी मैं एक झटके में रूपा के ऊपर लेट गया और जैसे ही मेरा वजन उसके ऊपर आया, उसकी आह की आवाज निकल गई.

इसलिए पाटिल जी ने अपना लौड़ा रेशमा की चूत से बाहर निकला और सीधा किरण में मुँह में घुसा दिया.

ऐसे करने से अब मेरी गांड भी किरण के सामने आ गयी और मैंने झट से उसका मुँह अपनी गांड में दबा दिया. अपनी जीभ कुतिया की तरह बाहर निकालते हुए उसने मेरे टट्टों को चाटना चालू किया और धीरे धीरे अब उसकी जीभ मेरे गेंदों से लेकर मेरे सुपारे तक घूमने लगी. चूत के पानी की मदद से मेरा लंड लौड़ा अब साबिरा की फुद्दी की तंग दीवारों से रगड़ने लगा और पहली बार चुदाई का मजा लेती साबिरा की चूत ने भी अब खुलना चालू कर दिया.

मैंने दरवाजा खोला तो सामने एक नाइट ड्रेस में खड़ी थी और बड़ी ही कामुक लग रही थी. मैंने नीता को पकड़कर उसे नीचे ले लिया और मैं उसके ऊपर अपने घुटनों के बल बैठ गया.

हम सबने जब खाना खा लिया तो मम्मी ने एक कटोरे में खीर देकर मुझसे बगल में समीर भैया के घर दे आने को कहा. उस दौरान कभी भी ऐसा नहीं हुआ था कि सुनीता ने मुझे एक मर्द की नजर से देखा हो या मैंने उसकी चुदाई के बारे में कुछ सोचा हो. ऊपर से दो कातिल चूचियाँ … जो धारा के आगे पीछे होने की वजह से थिरक-थिरक कर माहौल को और भी हवस से भरपूर बना रहे थे.

सेक्सी देहाती वीडियो भोजपुरी

मैंने कहा- दोनों एक साथ चोदते थे क्या?वो बोलीं- नहीं, दोनों अलग अलग दिन चोदते थे.

साबिरा का थूक देख कर मैंने शिराज को गालियां देते हुए कहा- तेरी मां का भोसड़ा साले, मेरी बेगम के मुँह में झड़ गया कुत्ते? अब चाट ये फर्श, तेरे अम्मी की भोसड़ी हिजड़े, तुझे आज इसकी सजा मिलेगी. तब क्या हुआ?साथियो, मैं आपको अपनी सेक्स कहानी में उस समय का किस्सा सुना रहा हूँ जब इंटरनेट नहीं के बराबर था और हम सब गांड चुदाई वाले सेक्स का मजा ले रहे थे. मेरे अन्दर घुसते ही उसने अपना मुँह मेरे मुँह पर रख दिया और उसका हाथ सीधे मेरी चूत पर आ गया.

मैंने एयर कंडीशनर को फुल स्पीड पर चालू करके रुचिका के कपड़े उतार दिए और चादर खींच कर मैं भी नंगा होकर उससे चिपक कर लेट गया. मैं- ले साली मादरचोद रंडी, चाट इस मादरचोद कुतिया की गांड … आज हम दोनों मर्द मिल कर तुम्हारे भोसड़े चोदेंगे. मराठी सेक्सी वीडियो फुल एचडीआज तक मुझे किसी लड़की के साथ ऐसा मजा नहीं मिला था, जो मजा मुझे रूपा दे रही थी.

जैसे ही 5 बजे, मैं ऑफिस से तुरंत निकला और मेट्रो स्टेशन के लिए बढ़ गया. एक दिन मेरे पास एक मेल आया, जिसमें एक लड़की ने मुझसे मेरा व्हाट्सएप नम्बर मांगा.

इसका लन्ड भी अच्छा होगा। प्लीज इस से बात कर लो लेकिन बता देना कि सिर्फ चूसूंगी और रस पियूंगी. फ्रॉक के पीछे का ज़िप बहुत ज्यादा लम्बा था तो मैं ज़िप को अच्छे से उसको लगाकर बाहर आ गई. मैं भाभी की चूचियों को दोनों हाथों में भरकर मसलने लगा और उनकी गर्दन पर चुम्बन करने लगा.

मैंने अपने हाथों से पकड़ कर लंड का सुपारा सरिता की चूत के खुले हुए मुँह पर रख दिया और थोड़ा सा रगड़ कर एक जोर का धक्का मार दिया. मौसी बोलीं- क्या कभी तेरा मन नहीं करता?मैंने कहा- करता है लेकिन क्या मॉम मेरे साथ करेंगी?तभी मौसी ने मेरा लौड़ा पकड़ लिया और बोली- अरे तो मैं हूं न … तेरी मौसी करेगी तेरे साथ. मैंने वैसे ही किया और आसिफ ने तेल की बोतल उठा कर मेरी चिकनी गांड पर गिराने लगा.

मैं- आअहह साली रंडी … हम्म्म चूस में मेरे लौड़े की रांड किरण, साली आज तुझे उस पाटिल के सामने ऐसे चोदूंगा कि तेरी चूत का हाल देख कर उसकी भी गांड फट जाएगी रंडी.

यहां किरण ने भी पाटिल जी के लंड को अच्छी चूस चूस कर साफ़ करने लगी थी. क्योंकि जो राजी से मिल रहा है, उसे ले ले … नहीं तो वो भी हाथ से चला जाएगा.

साथ में मेरी जीभ मॉम की जीभ से लग रही थी, इसलिए और ज्यादा मज़ा आ रहा था. अब मेरा मन दुकान या पढ़ाई में बिल्कुल नहीं लगता, दिन भर बस सोनी के बारे में सोचना या उसके कॉल का इंतजार करना, यही मेरा काम रह गया था. मैं चुपचाप अपने मोबाइल में सब कुछ देखने लगा कि वो दोनों क्या क्या कर रहे हैं.

इतने प्यार से जो चूस रही थी वो!वेटर ने 5 मिनट के अंदर ही रस छोड़ दिया जिसे प्रिया ने ऐसे पिया जैसे मानो अमृत मिल गया हो।प्रिया लन्ड रस पीकर बोली– मजा आ गया। कितना गाढ़ा था रस और एकदम अलग स्वाद। लेकिन बहुत जल्दी निकल गया तुम्हारा रस!वेटर- मैडम, आप लन्ड चूसती भी तो ऐसा है कि कोई भी ज्यादा देर नहीं टिक सकता. फिर मैंने तकिए को उसकी गांड के नीचे से निकाला, जिस पर बहुत ज्यादा खून गिरा हुआ था. एक बार को तो मेरा मन कर रहा था कि अगर दोनों को पकड़ लूँ, तो कभी छोड़ूंगा ही नहीं.

बीएफ मुजरा उसने मुझे बताया कि शनिवार की रात में पार्टी करेंगे और मैं उस दिन दारू पीकर घर भी नहीं जा सकती, तो मैं तुम्हारे रूम पर ही रुक जाऊंगी. डैड अपने व्यापार के लिए सुबह से ही निकल जाते हैं और वापस आने का कोई समय निश्चित नहीं रहता है.

सेक्सी किन्नर की

उसके इस अंदाज से खुश होकर मैंने उसे अपने पास खींचा और कहा- आज तेरे लिए और एक सरप्राइस है, पर पहले वादा कर तू गुस्सा नहीं होगी. पर ये साली रांड मेरे लौड़े को ऐसे चूस रही थी मानो आज पूरा लौड़ा काट कर खा जाएगी. अब मैं चुदाई का तरीका बदलते हुए अपने घुटनों पर हो गया और रूना के दोनों पैरों को कमर में डालकर मैंने लंड चूत में डाल दिया.

मैंने पूरी रात सोचा कि अगर फातिमा चली गयी तो मैं क्या करूंगा, मेरा सच्चा प्यार अधूरा रह जाएगा. इस कारण रूचि के झटके से एक झटके में लंड उसकी चूत को चीरता हुआ गर्भाशय से जोर से जा टकराया. ಸ್ಸ್ಸ್ಸ್ಸ್धारा ने आज से पहले बस दो बार ही अपनी गांड में लंड डलवाया था और यही वजह थी कि उसकी गांड ने अब तक लंड लेने की आदत नहीं लगवायी थी और अब भी किसी कुँवारी गांड की तरह तंग ही थी.

मैंने एक तकिया लिया और उसके चूतड़ों के नीचे रख दिया, जिससे उसकी बुर और ऊपर की ओर उठ गई.

एक दिन मैंने मजाक में ही कह दिया- खा रही हो, फ्री में मत समझना, इसके बदले आपको भी कुछ देना पड़ सकता है।भाभी मुस्कुराते हुए बोली- ले लेना पैसे ही तो लोगे!मैंने कहा- पैसे किसको चाहियें! मुझे तो आपका प्यार मिल जाए, वही काफी है।भाभी मुस्कुरा के वहां से चली गई. दोस्तो, आपको गीता की चुदाई की कहानी का पूरा ब्यौरा सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगा.

लंड चूसने के बाद वो अपनी चूत को लंड पर रखकर बैठ गई और मेरे हाथ अपनी चूचियों पर रखकर उछलने लगी. हम दोनों भाई बहन एक ही कमरे में सोया करते थे क्योंकि मैं बहुत डरपोक था तो मैं अपने कमरे में ना सो कर अपनी बहन के कमरे में सोता था. काफी देर मेरी चूत चोदने के बाद अंकल ने मुझसे सोफे से उठाया और खुद उस पर बैठ गए.

जल्द ही हम दोनों फिर से गर्म हो गए और मैंने उसकी फिर से चुदाई करनी शुरू कर दी.

जब तक हमारी बातें होती रहीं, तब तक उन दोनों मां बेटे ने खाना खा लिया और शिराज मुझे ढूंढता हुआ साबिरा के कमरे पर दस्तक देने लगा. कुछ तो उसने मुँह से निकाल दिया लेकिन ज्यादातर पानी उसको पीना पड़ गया. उसको देख कर ऐसे लग रहा था, जैसे अभी अभी इस औरत पर दस लोग एक चढ़ चुके हैं.

मारवाड़ी सेक्स न्यूमन नहीं माना तो मैंने अपना एक हाथ बहन की कुर्ती के ऊपर से ही उसके मम्मों पर रख दिया. यही मजा चुत गांड Xxx सैंडविच सेक्स कहानी के अभी आने वाले भागों में मिलेगा.

साड़ी कैसे बनते हैं

फिर मैंने अपने सारे कपड़े खोले और उसे नीचे बैठा दिया, उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया और उससे लंड चूसने को कहा. फिर आंटी बाहर निकल कर देखने गईं, बाहर कोई नहीं था तो मैं चुपके से अपने रूम में आ गया. देविका ने मुझे लिटा दिया और मेरे दोनों पैर फैला कर बीच में खड़ी हो गयी.

फिर एक दिन मैं जब कोचिंग जा रही थी तो रास्ते में अचानक से बहुत तेज़ बारिश होने लगी. मैंने उसी वक्त उसके होंठों पर किस कर दिया और उसने भी मेरा साथ दिया. तब सुची ने हिम्मत करते हुए कहा- अभी तो हम छुपम छुपाई खेलने वाले हैं, तुम भी खेल लो.

कुछ देर बाद देविका ने अपना ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लगाकर उसे लबालब कर दिया, मेरे लंड का सुपारा चिकना बना दिया. उन सबने और मेरे टीचर ने मुझे आज पूरे दिन बड़ा घूर घूर कर देखा क्योंकि मेरी कमर खुली थी. आपने मेरी पहली Xxx चुदाई की कहानीलॉकडाउन में दूकान वाली आंटी की चूत चुदाईको पढ़ा.

शाम को बॉस से बात करके मैंने दो दिन की छुट्टी ले ली क्योंकि अब चाहे जॉब रहे न रहे, भाभी को चोदना ज़रूरी था. साला लंड भी काट कर फैंक दिया क्या?ये कह कर उसने भी अपने कपड़े उतार दिए.

उसने कहा- एक जवान लड़की नंगी लेटी है भड़वे साले और तुझे उस बुढ़िया की बुर की पड़ी है.

हिन्दी सेक्स कहानी साईट अन्तर्वासना पर आप सभी पाठकों का मैं राज शर्मा दोनों हाथ जोड़कर नमस्कार करता हूं. सेक्स वीडियो साड़ी वालाआपको मेरी हिंदी सेक्सी चूत पोर्न कहानी पढ़ कर कितना मजा आया? मुझे कमेंट्स में जरूर बताएं. अंग्रेजी सेक्सी वीडियो अंग्रेजी सेक्सीपूरे ट्रिप पर उसने खुद से ही नए नए लड़कों के खूब लन्ड चूसे और चुदायी कराई।आखिर हमारी यात्रा खत्म हुई और हम अपने शहर आ गये. सरिता ने अपने दोनों हाथों से मेरे लंड को रगड़ा और बोली- बहुत जान है तुम्हारे इस मोटे लंड में हर्षद.

शर्ट के ऊपर से मैंने एक फॉर्मल जैकेट डाल ली और आईने में अपना सेक्सी रूप देख कर मस्त हो गई.

उनको ऐसे अपने घर पर आया देख कर मुझे झटका सा लगा और विश्वास ही नहीं हुआ कि ये सपना है या हकीकत. मिहिरा- वैसे तुम क्या कर रहे थे?मैं- घर में कोई नहीं है तो वेब सीरीस देख कर टाइम पास कर रहा हूँ. अब मेरी आंखों सामने देसी गर्लफ्रेंड सोनी की गेहुआं रंग की पुष्ट जांघें थीं और जांघों के जोड़ पर छोटे छोटे काले बाल थे.

किरण भी मजे से रेशमा के लब चूमने लगी और मेरा बचा हुआ वीर्य जो उसके मुँह में था, वो रेशमा को भी पिलाने लगी. यही मजा चुत गांड Xxx सैंडविच सेक्स कहानी के अभी आने वाले भागों में मिलेगा. उस दिन उस लड़की को नंगी देख कर मेरा भी मन मचल गया, तो उसको हम दोनों ने मिल कर चोदा था.

मारवाड़ी चूत की सेक्सी

मैं बोला- एक शर्त है, तुम अपनी मम्मी की किसी बात का मना नहीं करोगी. ऊऊह …’कुछ देर में मॉम ने मेरी उंगलियों से अपनी में मजा लेना शुरू कर दिया. पर उसकी चूत बहुत टाइट थी जिससे मुझे ज़्यादा ज़ोर लगाना पड़ रहा था और उसे भी तकलीफ़ हो रही थी.

उन्होंने कहा- कुछ देर इंतजार करो, कोई और भी है, जो तुमसे मिलना चाहता है.

इसलिए उससे आगे कुछ करने का ना तो मैंने कोई कोशिश की और ना ही मेरा मन हुआ.

मैं उनके पास गई और अपनी दोनों टांगें फैलाकर उनके लंड को चूत पर लगा कर उस पर बैठ गई. कुछ देर बाद उसने अपना सारा माल मेरी दोनों चूचियों पर झाड़ दिया और बाजू में गिर कर लम्बी लम्बी सांसें लेने लगा. सेक्सी मूवी छोटी लड़कियों कीफिर मैं खाना खा कर लेट गया और उस भाभी के बारे सोचते सोचते लंड हिलाते हिलाते सो गया.

रूपा भी मेरे लंड को बड़े गौर से देख रही थी और अपने दूध मसलती जा रही थी. एक दिन उन्होंने खुलकर मुझसे बोल ही दिया कि वो मेरे साथ सेक्स करने की इच्छा रखती हैं. फिर जैसे ही मेरी नज़र मॉम पर पड़ी, मेरी तो गांड फट गई कि ये क्या हुआ.

वो सीत्कार करने लगी- आआहह उआहह बेटा ऊऊओह आहह ऊऊउ अया बेटा आराम से कर ना … प्लीज़ दर्द हो रहा है. वह बस मेरे लंड को देखे जा रही थी और मैं अपने लंड को धीरे धीरे सहला रहा था.

उसी समय मैंने एक तगड़ा झटका मारा और अपना पूरा लंड उसकी चूत में अन्दर तक घुसा दिया.

मेरी आंखों के सामने रेशमा किसी पराये मर्द से दो कौड़ी की बाजारू रंडी की तरह चुद रही थी. मैंने कहा- बहुत तड़पाया है तूने मुझे जान, आज तुझे एकदम चूस कर खा जाऊंगा. मैंने कितनी बार अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स किया … और मेरी बहन ने अपने बॉयफ्रेंड के साथ कब कब सेक्स किया, ये बात हम दोनों एक दूसरे से साझा कर लेते थे.

इंडियन हिंदी सेक्सी तो रमन ने कहा- एक रात और रुक जाओ, कल चली जाना, जहां कहोगी वहाँ छोड़ आऊंगा।दो चुदाई से मेरी भी प्यास कहां बुझने को थी, मैंने चेहरे की खुशी छुपाते हुए हां कर दी।हां करने की देरी थी, रमन फिर मुझे चोदने को तैयार थे।उन्होंने मेरे भीगे बदन से तौलिया खींच फेंका, अपने बेडरूम में मुलायम बिस्तर पर धकेल दिया और मेरी चूत में उंगली करने लगे. उस दिन ऐसे ही रात में मैं सोनम की चूत का भोसड़ा बना कर वापस आ रहा था.

मैंने कार पार्क की तो देखा सोनम मेरे लंड की तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी. अचानक एक दिन मेरा मेरी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया और अब मैं सिंगल हो चुका था. भाभी मेरे होंठों से अपने होंठों को छुड़ा कर चिल्लाने लगीं- आंह दर्द हो रहा है … मैं मर जाऊंगी.

ब्लू फिल्म सेक्सी सेक्सी मूवी

तभी मैंने मॉम के होंठों को अपने मुँह में लॉक किया और ज़ोर के झटकों के साथ उनकी चूत चुदाई करने लगा. मेरा लौड़ा और उसकी गांड की लड़ाई में जांघों से टकराने से थपाथप थपाथप का संगीत तेज होने लगा. जब मैं उसके साथ बाजार या कहीं शादी पार्टी में जाता हूं, तो लोग उसकी तरफ बड़ी गंदी निगाहों से देखते हैं.

मेरी बात सुनकर भाभी मुस्कुराती हुई रूम से बाहर चली गईं और हाथ में घी की कटोरी लेकर आ गईं. पैंटी के अन्दर हाथ होने की वजह से मेरे हाथ को वो आजादी मिल नहीं पा रही थी जो मुझे चाहिए थी.

कहानी के पहले भागमैं अपनी सेक्सी बीवी को मजा नहीं दे पातामें अभी तक आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी ने बॉस की चड्डी में हाथ डाल दिया था और वो उसका लंड सहलाने लगी थी.

ये सपना भाभी हिंदी कहानी आज से 6 साल पहले की उस समय की है, जब 12वीं में था. उसकी बेटी से भी कहीं ज्यादा खूबसूरत हो तुम! मैं तुम्हें बिल्कुल नंगी देखना चाहता हूँ, रेशमा! तुम्हारा जिस्म बड़ा मादक है यार … मैं तो बिल्कुल पागल हो रहा हूँ।मैं मन ही मन बड़ी खुश हो रही थी।मेरा निशाना तो उसका लण्ड था. मैंने अनुराग को वॉशरूम का पूछा और वॉशरूम चला गया। वहां मैं अपने मसाज वाले कपड़े पहन कर बाहर आ गया।फिर मैंने अपने बैग से तेल और क्रीम निकाल कर बेड के रख दी और अनुराग से बोला- मैं तैयार हूं!तो अनुराग बोला- ओके स्टार्ट करो!और अनुराग वही साइड में एक कुर्सी पर बैठ गया.

पर फ़ोन पर बातचीत के दौरान सोनी जिस तरह मेरा ख्याल रखती थी या जैसे मेरी परवाह करती थी, मैं कोई भी ऐसी वैसी हरकत करके उसे खोना नहीं चाहता था. और जाते जाते भाभी को एक किस देते हुए पीछे के गेट से निकल कर अपने घर आ गया।तो ये है मेरी भाभी की चुदाई की कहानी दोस्तो! उम्मीद है आप सभी को पसंद आएगी।आप सभी को ये ब्रदर वाइफ Xxx कहानी कैसे लगी, मुझे मेल कर के जरूर बतायें।[emailprotected]. दो दिन बीत जाने के उपरांत मैंने अपने मोबाइल फ़ोन से कोमल को कॉल किया.

जोश से भरी इस चुदायी ने दोनों को इतना थका दिया था कि दोनों उसी अवस्था में नींद की आग़ोश में समा गए.

बीएफ मुजरा: मैंने पन्द्रह मिनट तक धुंआधार चुदाई की और उसके साथ ही हम दोनों एक साथ में झड़ गए. मैं खुद उसी चक्कर में दोस्त के घर आया करता था तो मुझे भी काम फ़तेह होता हुआ दिखने लगा.

वो सिसकारियां भरने लगी- आह आह … मेरी जान जल्दी से मुझे चोद दो … मेरी बुर में बड़ी आग लगी है. मैंने उसकी जीभ चूसते हुए खींची और तेज तेज उसकी चूत में लंड से खुदाई करने लगा. मैं इतना ही बोला और भाभी के होंठों को अपने काबू में करके उन्हें लिपलॉक किस शुरू कर दिया.

किरण मुस्कुराती हुई बोली- कॉफी बना कर ला रही हूं, दूध रात को पी लेना.

ललिता लंड से उठ गई और चूसने लगी वो लॉलीपॉप की तरह लंड को बड़े प्यार से चूस रही थी. इस टाइम पर मेरे पास भी कुछ करने को काम नहीं था और ना ही आरती के पास. उधर नीता ने गर्म पानी बाल्टी में छोड़ दिया और गीता को कमोड पर बिठा दिया.