बीएफ एचडी 2019

छवि स्रोत,सेक्सी चित्रपट हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

बफ इंग्लिश सेक्सी: बीएफ एचडी 2019, उधर भाभी की सहेलियों के बच्चे आवाज देने लगे- आप कहां हो आंटी?तो भाभी भाग कर उनके पास चली गईं.

मुंबई की सेक्सी वीडियो फुल एचडी

आंटी की बड़ी सी काली चूत बेपर्दा होती हुई देख कर मेरे अंदर एक अलग ही रोमांच पैदा हो रहा था. राजस्थानी हीरोइन सेक्सीमां ने मेरे कपड़े पैक कर दिये और मैं वापस नानी के यहां आने के लिए तैयार हो गया.

लेकिन मेरा लंड वह बेताब था वह मेरे बस में नहीं था और सीमा भाबी के कोमल और मुलायम स्पर्श को पाकर मेरा लंड उनकी चूत में घुसने को बेताब था. हॉट सेक्सी कॉलेजमैंने आपको गलत कह दिया था, मुझे सोच समझकर बोलना चाहिए था कि आप मुझसे क्या चाहती हो.

फिर मैंने पूछा- ऐसा भी क्या है जो आपसे इतना भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है? आपको शायद किसी सही इन्सान की तलाश करनी चाहिए.बीएफ एचडी 2019: उसकी चूत तो बालों के नीचे ढकी हुई थी लेकिन बाकी का बदन देख कर मैं हैरान रह गया था.

मैं समझ गई कि अब निर्मला झड़ने वाली है और कुछ ही पलों मैं वो ‘ह्म्म्म … आह्ह्ह … ओह्ह्ह … सीस्स्स्स …’ करती हुई झड़ गई.उनका असली स्वार्थ ये था कि उनके व्यापार में किसी स्थानीय नेता हस्तक्षेप कर रहा था.

सेक्सी कार्तिक - बीएफ एचडी 2019

मर्दों की कमजोरी ये होती है कि वे औरत की उत्तेजना देख कर बेकाबू हो जाते हैं.दोस्तो क्या बताऊं … वो क्या मस्त एहसास था … मेरी तो समझ ही नहीं आ रहा था कि ये सब इतनी जल्दी क्या हो गया.

अब मैंने उसका हाथ छोड़ दिया और मेरे हाथ छोड़ते ही उसने अपने दोनों हाथ मेरे गले में डाल कर मुझे और ज़ोर से अपने पास खींच लिया. बीएफ एचडी 2019 मैंने भाई को ये अहसास नहीं होने दिया कि मैं नींद से जाग चुकी हूं और मैं उसकी हरकत को महसूस कर रही हूं.

निर्मला इधर हाय हाय करती रही और फिर कराहते हुए बोली- हो गया … मजा आया न?कांतिलाल ने अपनी सांस छोड़ी और ढीले बदन से अपना लिंग उसकी योनि से निकाल कर सोफे पर बैठ गया.

बीएफ एचडी 2019?

वह खाना छोड़ कर उस पर झपट पड़ा और एक कोने में ले जाकर खड़े खड़े ही उसकी चड्डी नीचे कर पूरा लंड पेल दिया. अगर मम्मी मान जाती हैं, तो मेरे लिए स्वर्ग का दरवाजा खुल जाएगा … और अगर नहीं, तो ज्यादा से ज्यादा मुझे डांट ही तो पड़ेगी. नमस्कार पाठको, मुझे आप सबका प्यार मिला, बहुत ख़ुशी हुई कि मेरी कहानियां आपको रोचक लगीं.

रात में मैंने युक्ता और शोभा की चूचियों और चूत के बारे में सोच कर मुट्ठ मारी. उससे मेरी बहुत सारी बातें हुईं और मैंने उससे पूछा- क्या सब लोग इकट्ठे हो चुके हैं? अभी तो नए साल आने में 2 दिन हैं. 8-10 धक्कों के बाद मेरा भी माल निकलने वाला था तो मैंने सोनू को पूछा कि मेरा आने वाला है, कहाँ निकालूं?उसने बोला कि अंदर ही निकाल दो.

चूंकि वह असल में तो सिंगल बेड ही था अतः हम दोनों चिपक कर ही सोते।मेरा रूम मेट भी यही कोई तेईस चैबीस साल का रहा होगा, मेरे से ज्यादा गोरा … बहुत माशूक बन ठन कर रहता. मैंने बोला- साली नखरे क्यों दिखा रही है रांड?ये कहते हुए मैंने दूसरा झटका भी कसके मारा. फिर मैं किस करते करते आंटी की गाउन के ऊपर से ही उनके बोबे को दबाने लग गया.

लेकिन अब मुझसे नहीं रुका जा रहा था, मैंने आंटी को अपनी बांहों में भर लिया और उनको किस करने की कोशिश करने लगा. उसके बाद मैं पूरा लंड पेल कर अपनी बहन अंतरा की झटके देते हुए चुदाई करने लगा.

ज़िन्दगी में मेरा पहला माल मेरी मैडम की चूत के अन्दर गिरा … अलग ही फीलिंग थी वो … जब मैंने अपना माल मैडम के अन्दर गिराया.

मैंने कहा- गर्लफ्रैंड बनाना तो बहुत आसान है लेकिन …वो बोली- लेकिन क्या? मेरी बात पूरी होने से पहले ही सोनू ने बड़ी उत्सुकता से पूछा.

बस इतना ही हुआ कि उसने और मैंने एक दूसरे का साथ पाने की लालसा एक दूसरे तक बिना बोले ही पहुंचा दी थी. मैं सोफे की तरफ गई … तो रमा बोली- अरे साड़ी वाड़ी तो उतार ही दे तू … अभी और ग्राहक दे रही हूँ आज तुझे. किरायेदारों में पति लोग जॉब पर चले जाते थे और उनकी पत्नियां या तो घरों में ही होती थीं, या उनमें से कुछ अपने काम काज के चलते घर से बाहर निकल जाती थीं.

जैसे-जैसे मेरे लंड के धक्के उसकी चूत में लग रहे थे वैसे-वैसे उसके चूतड़ भी उठ कर मेरे धक्कों का जवाब देने लगे थे. रात को 10:00 बजे सीमा भाबी नीचे का सारा काम निपटा कर छोटी गुड़िया को लेकर ऊपर मेरे कमरे में आ गई. सारा घर खुला था, सभी दरवाजे भी खुले थे और मैं अपने ही साले की बीवी को चोद रहा था.

वो मुझे तड़पता हुआ देखता रहा और बहुत समय के बाद जब मैंने अपनी आंखें खोलीं, तो वो मुझे मुस्कुराते हुए देख रहा था.

उसने मेरे हाथ से पैग लेते हुए बोला- मस्त है तू तो, कभी पहले नहीं दिखी, बाहर से आई है क्या?मैंने भी हां कहते हुए बोला- उत्तरप्रदेश से आई हूं. सभी लड़कियों से गुजारिश है मेरी न्यू सेक्स स्टोरी कपड़े उतार कर पढ़ें और अपनी चूत में उंगली करती रहें व लड़के अपना लन्ड हिला लें।हमारे पड़ोस में एक पंजाबी फैमिली रहती थी. अब तक आपने मेरी चोदाई कहानी के पहले भागमेरी पहली चोदाई कहानी-1में पढ़ा था कि रूबीना नाम की शादीशुदा लड़की से मैं दिल लगा बैठा था और उसको चोदना चाहता था.

मुझे पता था कि अगर मैं डॉली को गर्म कर दूंगा, तो आज वो मुझसे चुदवा भी लेगी. वह अपने हाथ कभी मेरे पैर पर तो कभी मेरे गाल पर चला रही थी। काफी देर तक वो ऐसे ही करती रही. अंकल ने मेरे दूधों को अपने हाथों में भर लिया और उनको दबाने सहलाने लगे.

रवि ने पूरी लय पकड़ ली थी, उसकी धक्के मारने की तरकीब और ताकत से मैं समझ गई थी कि अब ये झड़ने वाला है.

अरे गोवा सेक्स की नगरी है तो इतनी तैयारी तो बनती है ना!गोवा जाने की बड़ी चुल्ल थी. छठी मंजिल आने के बाद आंटी ने मुझसे हेल्प करने के लिए कहा तो मैंने उनको हां कहा और दो बैग उठा लिये.

बीएफ एचडी 2019 मैं इतनी तेज धक्के मारने लगी कि कमलनाथ समझ गया कि मैं भी झड़ने वाली हूँ. वो अपनी बहन को लेकर फिक्रमंद था इसलिए दोस्ती की खातिर मैंने उसकी बात मान ली.

बीएफ एचडी 2019 इसके बाद उसने मेरी कमर पर एक पतली सी चैन लपेट दी और फिर मुझे पूरी तरह तैयार कर दिया. चाची को अब गांड मरवाने में मजा आने लगा था और वो अब मेरे लंड पे अपनी गांड के धक्के मार रही थीं.

मेरा तो सारा मूड ही खराब हो गया, एक सुनहरी मौका आते आते हाथ से निकल गया।उसी बीच मैं 2 दिन की छुट्टी लेकर अपने घर आ गया क्योंकि अपने बेटे को देखे हुए काफ़ी दिन हो गये थे और पत्नी को भी बहुत दिनों से नहीं छुआ था.

பிஎஃப் ஃபுல் செக்ஸி

मेरे पापा ने तो कभी चूत भी ढंग से नहीं मारी थी तो फिर गांड तो बिल्कुल कुंवारी ही थी. उसने मुझे किसी तरह अपने ऊपर से उतारा और निर्मला को पकड़ कर उसे बिस्तर पर पेट के बल लिटा दिया. अब तक आपने मेरी इस दिलकश हॉट गर्ल अनल सेक्स स्टोरीकमसिन लड़की की कुंवारी गांड में सख्त लंडमें जाना था कि मैं नजमी को दुबारा भी चोद चुका था.

उसके होंठों को चूसते हुए मैंने अपने लंड को भाभी की चूत पर लगाया और लंड को चूत में पेल दिया. दो-तीन मिनट तक उसकी टाइट कुंवारी चूत में लंड को डालकर मैं लेटा रहा. मैंने भी उसको बोल दिया- लाओ मैं अच्छे से तेल लगा कर मालिश कर देता हूं.

मैंने उसके बालों को कसके खींचा और अपना लंड उसके मुँह में पूरा घुसा दिया.

ऊपर से वह बहुत खूबसूरत थीं तो वह मुझे मेरी मॉम नहीं, मुझे अपनी पत्नी जैसी लगती थीं. इस तरह से हम सब साफ साफ राजेश्वरी की योनि में लिंग घुसता निकलता देख सकते थे. चूंकि मैं और मैडम काफी अच्छे फ्रेंड्स की तरह ही थे, तो मैंने पूछ लिया- मैडम क्या हुआ? आप क्यों रो रही थीं?उन्होंने मेरी बात टाल दी.

मेरी चुदास बहुत ज्यादा बढ़ चुकी थी और मेरी आहों ने कमरे के माहौल को एकदम वासना से रंग दिया था. अगले दस मिनट तक मैं उसकी चूत को चोदता रहा और फिर मैंने अपने लंड का सारा दूध उसकी चूत के दरिया में बहा दिया. उन्होंने मेरे बालों को सहलाया और फिर मेरी गर्दन को हल्के से उठा कर मेरा माथा चूम लिया.

इसके तुरंत बाद मैंने उनकी नाइटी को निकाल कर फेंक दिया और खुद भी नंगा हो गया. चूंकि उन्होंने मुझे कुछ विशेष सुविधा दी थी, इसलिए मैं विरोध नहीं कर सकी.

जब सब जगह नजर दौड़ाने के बाद मैंने ठीक ठाक पाया तो मैंने हल्के से अपने हाथ को भाभी के चूचों पर लाकर उनको छेड़ने लगा. हमारी बात शुरू हुई, तो उसने पूछा कि तुम्हें मेरी बीवी में क्या अच्छा लगा?मैंने लिखा- खुल कर सच बोलूँ?उसने हामी भर दी, तो मैंने बोला कि मुझे तो सबसे ज़्यादा लड़कियों की चुचियां पसंद हैं और तुम्हारी बीवी की चुचियां तो सच में बहुत मस्त हैं. वो मेरे सामने जब चाय का कप रखने के लिए झुकी तो मैंने आंटी की चूचियों को देख लिया.

कांतिलाल ने कविता के बगल बैठ कर उसके चेहरे को हाथ से ऊपर उठा कर उसे देखने लगा.

एक दिन जब घर पर कोई नहीं था तो मुझे बाजार से एक सामान की जरूरत आन पड़ी. गीले होंठों को चूसते हुए मैंने अचानक से उनके मादक बोबे जोर से दबा दिए, जिससे उनकी चीख निकल गयी. शायद ये बात मेम को पता चल गई थी कि मैं उनके चुचे देखता रहता हूं, इसलिये अब मेम का ज्यादा ध्यान मेरे तरफ ही रहता था और वो बार बार साड़ी का पल्लू संवारने लगती थीं.

मुठ मार कर मैं हमेशा यही सोचता कि पता नहीं किस दिन मेरा ये लंड चाची की चूत में घुसेगा. मैंने सोचा कि यह मेरी पत्नी के पैर हैं, लेकिन कुछ टाइम बाद मुझे मालूम हुआ मेरा पैर तो मेरी भांजी की टांगों से टकरा रहा था और वो मेरी इस बात का कोई विरोध नहीं कर रही थी.

मेरी छाती दीदी के बूब्स पर कसी हुई थी और लंड था कि दीदी की जांघों में छेद ही करने वाला था. या फिर शायद विकास ने जानबूझकर मेरा हाथ उसके लंड से टच करवा दिया था. बरहराल हम सब के लिए एक अच्छी बात ये थी कि हम 4 के मुकाबले 5 औरतें थीं, तो इस वजह से किसी एक को थोड़ा विश्राम मिलने का मौका मिल जाता.

बाप बेटी चुदाई सेक्सी

जीजा जी उस दिन जा चुके थे और जब मैं घर पहुंचा तो दीदी सोफे पर बैठी हुई थी.

फिर 5 मिनट बाद जब मेरा लंड थोड़ा शांत हुआ, तो उसने फिर से अपने हाथ से मेरा लंड खड़ा कर दिया और मैंने फिर से उसकी चूत में डाल दिया और उसे चोदने लगा. मुझे अंदेशा हो रहा था कि आज कुछ अलग होने को है, बाकी ऐसा तो कुछ नहीं था जो कि मैं पहली बार करने जा रही थी. भाभी ने चॉकलेट मेरे मुँह में रख कर अपने होंठों को मेरे होंठों से मिला कर चॉकलेट खाने लगीं.

मैंने मेम से पूछा- मेम आज छुट्टी दी है क्या … कोई नहीं आया?मेम ने कहा- तुम अपनी जगह पर बैठो … वो लोग आ जाएंगे. शायद मैं भी ट्राय करूंगा … मैं सब कर सकता हूं, जान तुम्हारे लिए मेरा मन मचला जा रहा है. जानवरों की सेक्सी लेडीसरोहण को भी लंड चुसाई में मजा आ रहा था, वो प्रिया के बाल पकड़ कर मुख मैथुन में लगा हुआ था.

चूंकि हम लोगों में से 4 लोग जुआ खेल पाते थे, इससे हम लोगों ने फैसला किया कि हम चार चार लोगों के ग्रुप में हो जाएं, जिससे एन्जॉय किया जा सके. वीर्य ज्यादा तो नहीं था … मगर चिपचिपी पानी का तरल बहती हुई नदी सा रमा के दोनों जांघों से होकर बिस्तर पर गिरने लगा था.

फिर मैंने उनसे पूछा- आप यहां पर कैसे?उसने थकावट भरी आवाज में जवाब दिया- बहुत देर से बस का इंतजार कर रही हूँ लेकिन अभी तक कोई उस तरफ की बस नहीं आई है. उम्म्ह … अहह … हय … ओह … क्या बताऊं यारों, अपनी ममेरी बहन की चूत में लंड देने का वो पहला अहसास … आज भी उस पल को याद करते ही मुट्ठ मारने का मन कर जाता है. यह कह कर भाभी मुड़ीं, तो मुझे उनकी गांड देखी … उफ्फ्फ हिलती हुई गांड बड़ी मस्त लग रही थी.

अब आगे की पब्लिक बीच सेक्स स्टोरी:मुझे चोदने के बाद विवेक अल्पना की दूसरी साइड जाकर बैठ गया. तुम्हारा अभी तक नहीं हुआ? जल्दी करो, अब मुझसे दर्द बर्दाश्त नहीं होता. चूंकि काव्या पहले से ही बहुत गर्म थी, इसलिए अब उसने मेरा लंड चूसना बंद कर दिया और तड़पने लगी.

फिर रोहण ने अपना लंड प्रिया के हाथ में पकड़ा दिया और बोला कि इसे चूस कर खड़ा कर दे.

कांतिलाल समझ गया कि कविता झड़ने लगी है, इसलिए उसने भी अब नीचे से झटके देने शुरू कर दिए. इसके बाद मैंने अपने मुँह को उसकी बुर के पास ले जाकर अपनी जीभ से उसकी बुर को चाटना शुरू कर दिया.

जब मैं रूम में आया तो देखा कि मौसी ब्रा और पेंटी में ही बाहर आ रही थी. इसके बाद अगला राउंड मैंने भांजी की चुदाई से शुरू करके बीवी की चूत तक का किया. तो मैंने उनसे पूछा- क्या मैं तेल मालिश कर दूं?तो उन्होंने मना कर दिया.

लगभग नंगे हो जाने पर उससे रहा ही नहीं गया और उसने मेरी ब्रा पकड़ कर खींच दी. कभी मैं कहती कि आज वह ऐसी लग रही थी, आज उसने ब्लैक कलर की ड्रेस पहन रखी थी, तो उसमें वो बड़ी हॉट लग रही थी. मेरे पास चूंकि अपनी गाड़ी थी, तो मैंने भी श्रुति से कह दिया- चलो ठीक है, अब तुम गाड़ी की वॉशिंग करवा कर आ जाना.

बीएफ एचडी 2019 उसने पूछा- क्या सोच रहे हो?मैंने कहा- यही कि कैसे शुरू करूँ?उसने कहा- रुको!वो मेरी मम्मी के रूम में गयी, उस हॉस्टल गर्ल ने वही ड्रेस पहनी जिसमें मैंने उसे पहली बार देखा था. लेकिन अचानक ख्याल आया कि आस-पास अपने लोग हैं, जो उम्र में बड़े हैं.

सेक्सी नंगे में

मैं ढीली पड़ने लगी थी और अब विनती करने लगी- छोड़ दो कांतिलाल जी … मैं मर जाऊंगी, अब और नहीं सह सकती. एक बार मैंने फिर से कोशिश की और इस बार मैंने भाभी का हाथ अपनी जांघ पर रखने का प्रयास किया, तो भाभी ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुरा कर मेरे लंड को टच करके जल्दी से अपने हाथ को हटा लिया. मुझे अंदाज़ा हो चुका था कि वो झड़ने के क्रम में जो धक्के मुझे मारेगा, वो असहनीय होगा … पर मैं उसके वश में थी और मेरे पास बर्दाश्त करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था.

उन दोनों ने मेरी बीवी की गांड और चुत में बरी बारी से लंड पेले और मेरी बीवी को आधे घंटे तक ताबड़तोड़ चोदा. अब उसकी गोरी, मोटी गांड व बिना बालों की चूत मेरे मुँह से बस थोड़ी दूर थी. 1:00 का सेक्सी वीडियोकुछ देर बाद मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख कर उसको चूसना शुरू कर दिया.

मेरी मम्मी भी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थीं और बोल रही थीं कि आह चोद बेटा और जोर से चोद पेल दे अपना पूरा लंड … फाड़ दे मेरी चूत फाड़ दे बेटा … अपनी मम्मी की चूत.

स्वीमिंग करते समय हम स्वीमिंग कॉस्ट्यूम पहने हुए थे … जिनमें मेरे और खासकर रुचि के चूचे बहुत बड़े दिख रहे थे. वो मेरा लंड नहीं सह पा रही थी, इसलिए उसके मुँह से चीखें निकलने लगीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मैं मर गई … बहुत मोटा है … मेरी फट जाएगी … बस अब इसे निकाल लो … मुझे नहीं चुदना.

राज मेरे नीचे से बोल रहा था- पारुल जोर से कूद!वो जितना तेज करने को बोलता, मैं उतना ही जोर से उछलने लगती और जोर जोर से मेरी सिसकारियां निकल रही थीं. उम्म्ह… अहह… हय… याह… हम दोनों लंड और चूत को चूसने में इतना ज़्यादा जोश में थे कि अपने चरम तक पहुँच गये. जी हां, परिवार के मर्द ही उनको चोदते हैं, ये खुलासा आपको कहानी के अंत में हो जाएगा.

मैं रोज बस यही प्लान बनाता रहता कि क्या करूं, कैसे दीदी को चुदवाने के मनाऊं, उन्हें कैसे चोदूं.

एक ओर मेरी जीभ अनु की चूत में थी और दूसरी ओर मेरा लंड अनु के मुंह में था. जैसे जैसे मेरे धक्के तेज होते जा रहे थे मैं उसके चेहरे पर आनंद को साफ-साफ देख सकता था. हम दोनों ने एक दूसरे को पकड़ लिया और कुछ देर यूँ ही उसी अवस्था में लेटे रहे.

सेक्सी वैनेसावो बोली- मुझे आपसे पर्सनल ट्रेनिंग लेनी है … क्योंकि मुझे अपना थोड़ा सा पेट काम करना है और थोड़ा पतला होना है … ज़्यादा नहीं पर मैं अपना फिजिक मेंटेन करना चाहती हूँ. में फिर से भाभी की चुचियों से लिपट गया और उनकी मोटी चुचियों को मुँह में भर कर चूसते हुए भाभी को चोदने लगा.

हिंदी पिक्चर सेक्सी सीन

जिससे वो गर्म हो गई और तरह तरह उम्म्ह … अहह … हय … ओह … हह की आवाजें निकालने लगी. मैंने बीवी से कहा कि मेरा दोस्त राहुल तुमसे बात करना चाहता है क्योंकि तुम उसे बहुत ही हॉट और सेक्सी लगती हो. मैं उत्तेजना में उसके बालों को कसके पकड़ कर ऐंठन लेने लगी और टांगों से उसे जकड़ने का प्रयास करने लगी.

जब मैंने मॉम के नंगे बदन को देखा, तो मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कि कोई मेरे सामने एक ही बहुत खूबसूरत लड़की खड़ी हो. कांतिलाल ने सब लोगों को भीतर बिस्तर वाले कमरे में जाने को कहा और नीचे फ़ोन कर कुछ मंगवाया. वो तो जैसे पागल सी हो गई और बड़बड़ाने लगी- आह … जीज्जा … बहुत मज़ा आ रहा है.

किसी भी योनि को छूने का यह मेरा पहला अहसास था … बहुत ही कामुक और बेहद आनंददायक।मैंने एक दो बार दीदी की योनि को उनकी पजामी के ऊपर से ही मसला और फिर उनकी जांघों से पजामी को नीचे खींचने की कोशिश करने लगा. उसने अब मेरे चूतड़ों को दोनों हाथों से फैलाना शुरू कर दिया और अपना मुँह बीच में डाल मेरी योनि जीभ से टटोलनी शुरू कर दी. लाइट भी नहीं थी इसलिए सोचा होगा कि वैसे भी अंधेरे में क्या कुछ पता लगने वाला है.

मैंने भाभी के होंठों को जोर से चूसना शुरू कर दिया और दो मिनट में ही भाभी ने मेरा साथ देना शुरू कर दिया. जब रवि का लिंग निर्मला की योनि से बाहर आ गया, तब निर्मला ने अपनी एक हाथ में थूक लिया और अपनी योनि के ऊपर मल कर लिंग वापस अपनी योनि में सुपारे तक घुसाते हुए रवि को आगे बढ़ने का संकेत दिया.

बस एक कमी रह गयी थी … सिर्फ उसका मेरे लंड को चूसना चाटना!8वें दिन मम्मी आ गयी.

उसके बाद हम दोनों दोस्तों ने उन दोनों को ऑटो रिक्शा स्टैंड पर ड्राप कर दिया लेकिन युक्ता की नज़र मुझ पर से हट ही नहीं रही थी. 18 साल की लड़की की सेक्सी हिंदीअब आगे की अन्तर्वासना डॉट कॉम स्टोरी:उस रात मैं नजमी की अधपकी चूचियां देख कर लंड सहलाता हुआ अपने कमरे में आ गया था. आपसी की सेक्सीमेरी उम्र में और मेरे जैसे स्मार्ट से लड़के की कोई गर्लफ्रेंड न हो तो किसी के मन में भी ये सवाल पैदा हो सकता था. मैं राज के घर की तरफ चल दिया और उसके घर से कुछ दूर मोटर साइकिल खड़ी दी.

फिर एक घंटे की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद आखिर मेरा लंड झड़ने वाला हो गया था.

उधर कांतिलाल ने निर्मला को उठाया और मेरे बगल में सोफे पर एक टांग नीचे लटका कर पेट के बल झुका कर पीछे से अपना लिंग प्रवेश कराते हुए धक्के मारने लगा था. मैंने कहा- संगीता डार्लिंग, इतनी कमाल की चीज सिर्फ मुझे मिलनी चाहिए थी. वो मेरी बूर में लण्ड डालने के लिए बहुत उतावले हो रहे थे लेकिन उनका लण्ड अब उतना टाइट नहीं था जैसा पहले था.

उस समय मेरा कॉलेज शुरू होने वाला था और मैं घर पर उन दिनों फ्री ही रहता था. अब मैं आपका ज्यादा समय न लेकर आपको सीधे कहानी की तरफ लेकर चलता हूं. अब मैं भी उसकी मंशा समझ चुका था, इसलिए अब कोई खतरा नहीं था तो मैंने उसके चूचों पर हाथ रख कर उनको दबाना शुरू कर दिया.

हिन्दीसेक्स स्टोरी

जैसे ही मेरी गिनती 401 पहुंची, रवि के चूतड़ किसी मशीन की भांति आगे पीछे होने लगे. मैं स्तब्ध रह गया कि ये गांव की लड़की क्या सोचेगी? गांव का सबसे शरीफ लड़का इस लड़की के साथ क्या कर रहा है. इस पर अल्पना शर्मा गई और बोली- क्या करूं … मैं तो विवेक से परेशान हूँ.

हां मुझे तो इतना तो पता था कि मुट्ठ कैसे मारते हैं लेकिन मैंने सुना था कि मुट्ठ मारने से लंड की नसों पर दुष्प्रभाव पड़ता है इसलिए मैं मुट्ठ मारने की आदत नहीं डालना चाहता था.

फिर मैंने एक जोरदार धक्का दिया, तो मेरा लंड आधा से ज्यादा अन्दर चला गया.

वो मेरी तरफ देख कर वो शर्म से पानी पानी हो रही थी और फिर वो चली गई. खैर … जो भी हो … मुझे यहां अच्छा लग रहा था क्योंकि मैं जैसा जीवन चाहती थी वैसा ही सब दिख रहा था. देसी वीडियो सेक्सी गर्लउसे पता था कि जिसकी बांहों में वो है, वो शायद एक आत्मसुख की प्राप्ति कर रहा है.

उसके बाद शीमा ने मेरे लंड पर हाथ रख कर कहा- देखूँ ज़रा कितना सिग्नल पकड़ रहा है?वो मेरे लंड को सहलाते हुए धीरे धीरे हिलाने लगी. मेरा ध्यान बस अब उसकी चूत की रसीली फांकों के बारे में ही जा रहा था. रमा उस सुकून भरे पल को मजे से झेलती हुई अपनी आंखें बंद कर चुपचाप आने वाले सुखमयी पलों की कल्पना में खो गई.

वो कॉलेज गर्ल हरिद्वार से थी और वो रुड़की के किसी इंजिनियरिंग कॉलेज से अपनी पढ़ाई कर रही थी. हाथ डाला तो पता चला कि कुतिया की पूरी ही चड्डी चूत के पानी से गीली हो चुकी थी.

मैंने उससे पूछा- मैं भी झड़ने वाला हूँ अपना माल कहाँ गिरा दूं?तो वो बोली- आज मेरी जिंदगी का सबसे खूबसूरत और यादगार दिन है आज तो आप अपना माल मेरी चूत में ही गिरा दो!यह सुनकर मैंने अपनी पिचकारी को उसकी चूत में ही छोड़ दिया और उसकी फुद्दी मेरे गर्म माल से भर गई.

उसके बाद शकूर का ऑफिस दूसरी जगह शिफ्ट हो गया और उसके साथ ही अरशी भी चली गई. दीदी- ये क्या बोल रहे हो?मैं- अरे उसमें शरमाना क्या, दर्द से ज़्यादा ज़रूरी कुछ नहीं है. मैं अचानक उसके मम्मों और चूतड़ों के बारे में सोचने लगा कि इतने मस्त चूचे और चूतड़ हैं, पता नहीं साली कितनों से चुदी होगी.

सेक्सी मराठी सेक्स सेक्स फिर मैंने एक पैन लिया और अपनी उसमें डालने लगी पर मेरी चाहत कम नहीं हो रही थी. मुझे पता था कि अगले धक्के पर वो चीखेगी इसलिए मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और धीरे धीरे लंड के टोपे को चूत में धीरे धीरे आगे पीछे सरकाने लगा.

बेड पर लिटाते ही मैं उसके होंठों पर टूट पड़ा। किस करते हुए ही मैंने उसकी केपरी भी निकाल दी. मैं समझ गई कि अब निर्मला झड़ने वाली है और कुछ ही पलों मैं वो ‘ह्म्म्म … आह्ह्ह … ओह्ह्ह … सीस्स्स्स …’ करती हुई झड़ गई. सम्भोग के बीच में अंतराल होने का मतलब था, अब कांतिलाल ने इससे पहले जित्तनी देर सम्भोग किया था, उतनी ही देर संभोग वो बिना झड़े फिर से कर सकता है.

आरती भाभी की सेक्सी वीडियो

तो मैंने जल्दी से कपड़े पहने और मैं बाहर देखने गया तो बाहर पोस्टमैन पोस्ट देने आया था. हम दोनों ने हमारी चारपाइयों के बीच की जगह में हाथ चारपाई से नीचे लटका रखे थे. मैंने भाबी को चूमते हुए धीरे से कहा- आपने मुझे आज वो प्यार दिया है जो मुझे पहले कभी नहीं मिला.

मैंने मन ही मन कहा ‘नेकी और पूछ पूछ?’ मैंने सोनू की गर्दन को पकड़ा और उसे किस करने लगा. कमलनाथ- हां यार बहुत मजा आता है, तुम्हारी दीदी तो मेरे भइया का लंड मजे से लेती हैं.

मैं मन ही मन खुश हो रहा था क्योंकि अब मुझे मामी को चोदने का मन कर रहा था और मैं सोच रहा था कि अब ये मौका भी अच्छा हाथ लगा है क्योंकि मामा के रहते हुए तो मैं मामी से इस तरह की बात नहीं कर पाता.

एक तरफ तो मुझे उसके साथ सेक्स की चाहत भी थी और दूसरे तरफ मैं उसके विषय में गलत भी सोच रही थी कि कहीं उसका दोस्त भी मेरे साथ जबरदस्ती न करे. मैंने अपने लंड को अंडरवियर में दबाया हुआ था ताकि मामी को मेरा तना हुआ लंड दिखाई न दे. फिर मैंने मौसी के टी शर्ट को निकाल दिया और मौसी ने ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी.

मुझे लगा कि शायद सीमा भाबी गलती से मेरी रजाई में आ गई हो इसलिए मैं थोड़ी देर ऐसे ही चुपचाप लेटा रहा. युक्ता के कोमल हाथ का लंड पर स्पर्श होते ही मुझसे रहा न गया और मैंने अपना लंड चेन खोल कर बाहर निकाल लिया. इस पर मैंने कहा- फिर तो साइज़ का अंदाज हो ही गया होगा कि क्या साइज़ ठीक रहता है.

मैं बोला- प्रिया खुद इसे मुँह में लेने के सपने देख रही है और तुम उसे देखने से भी रोक रही हो, ये ग़लत बात है … है न प्रिया?प्रिया हंसती हुई वहां से भाग गयी.

बीएफ एचडी 2019: मम्मी मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोल रही थीं- आह … पी जा बेटा … अपनी मम्मी की चूची को पूरा पी जा … खा जा इनको. इधर मैं मामी जी की चूत को देख कर अपना लंड मसल रहा था और वहां मामी जी अपनी चूत में उंगली करके अपनी चूत को शांत करने की कोशिश कर रही थी.

भाभी को बेहद मजा आ रहा था और उनके मुँह से लगातार मादक कराहें निकल रही थीं. मैंने बिना कुछ सोचे ट्यूशन टीचर के चूचे पकड़ लिए और ब्लाउज के ऊपर से मसलने लगा. फिर मैंने मॉम की चुत को चुदाई के लिए खोला और निशाना लगाते हुए एक ही झटके में अपना आधा लौड़ा मॉम की चूत में घुसा दिया.

उस चुदाई के बाद करीब एक महीने तक तो मुझे उस बड़ी उम्र की औरत को चोदने का मौका नहीं मिला.

मेरा काम ही ऐसा है कि मैं अपने इस काम के लिए कहीं भी कभी भी चला जाता हूं. मेरी बात पर वो हँस पड़ीं और बोलीं- तुम कहां से आए हो?मैंने बोला- काफी दूर से. राजशेखर ने वो बोतल पकड़ ली और जब केवल 10 सेकण्ड्स बचे हुए थे, तभी उल्टी गिनती शुरू हो गई.