एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में

छवि स्रोत,इंग्लिश पिक्चर इंग्लिश सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी+वीडियो+जबरदस्ती: एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में, मैंने कहा- हां पटा लो … मैं तो एकदम गाय जैसा हूँ … जल्दी से पट जाऊंगा.

सेक्सी मूवी सेक्सी मूवी इंग्लिश

धीरे-धीरे फिरोज अपनी प्यारी भांजी के कपड़े उतारने लगा और एक एक कपड़ा उतारते हुए उसे पूरी नंगी कर दिया. भाभी देवर की सेक्सी वीडियो भाभी देवर कीउसने 12 वीं कक्षा में 93 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे और इसी लिए आगे की पढ़ाई अच्छी तरह से हो, ये ख्याल रख कर मेरे चाचा ने उसे हैदराबाद के एक कॉलेज में दाखिला दिला दिया.

मैंने हाथों से उसकी चूचियां दबाते हुए उसको अपने पास खींचा और अपने लंड को उसकी गांड से चिपका लिया. सेक्सी इंग्लिश नंगी सेक्सीसमता ने कहा- मुझे फ्रेश होना था, मैं अभी फ्रेश होकर आपके साथ चलती हूँ.

देसी कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी के अगले भाग में मंजू की सीलतोड़ चुदाई का मजा लिखूंगा.एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में: बुआ मेरे मुँह में एक दूध देने लगीं और मैंने बुआ के उस दूध का निप्पल अपने मुँह में दबा लिया और दबाते हुए चूची चूसने लगा.

जीजू मेरी परवाह किए बिना अपने मोटे लंड को मेरी चुत में धक्के देते हुए अन्दर बाहर कर रहे थे.मैं दिन भर अपनी सौतेली मम्मी को चोदने के बारे में सोचता रहा और अब मैंने सोच लिया था कि आज तो इन्हें चोदकर ही रहूंगा.

डिलीवरी सेक्सी डिलीवरी - एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में

अब मेरे सामने मेरी बहन सिर्फ एक लाल रंग की पैंटी में मेरे आगे पड़ी हुई थी.मीना ने जोर से सिसकारी ली- आअहह … अहह उफ्फ!मैंने एक हाथ से अपनी ज़िप खोल कर लंड बाहर निकाला और उसका हाथ पकड़ कर लंड पर रख दिया.

वो पैरों को क्रॉस करके चूत को छुपाने लगी और अपनी बांहों से चूचियों को छुपा लिया. एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में तब उसने मुझे छोड़ा और मुझे घुटनों के बल बिठा कर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया.

उस रात खाना खाने के बाद मैं चुपके से पीछे के दरवाज़े को खोलने गई ताकि मैं देर रात को पीछे के दरवाज़े से आ और जा सकूं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में?

मीना एक बार को उछल सी गई और उसके मुँह से चीख निकल गई- आआह … ऐईईई … बहुत दर्द हो रहा है!वो सीधी होकर बैठ गई. लंड का टोपा ऐसे फूल गया था जैसे उसकी गांड में कुत्ते के लंड जैसा अटक जाएगा. मैंने उन्हें पकड़ लिया क्यूंकि मेरी वासना पूरी तरह से परवान चढ़ चुकी थी.

वो एक बार भी नहीं शर्माई बल्कि इठला कर मुझसे पूछने लगी- ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं, बस तुम्हें ही देख रहा हूँ. भाभी बोलीं- आधा घंटे तक क्या करता है?मैंने समझ लिया- भाभी मूड में हैं, तो मैंने साफ़ लिख दिया कि आधा घंटे तक चुदाई करता हूँ. मैंने आंटी से पूछा- आप अपनी बगल और चूत के बाल क्यों नहीं काटती हैं?आंटी ने कहा- खून निकलने के डर की वजह से.

मेरी ही तरह मेरी तीन और सहेलियाँ हैं, बरखा, गुलज़ार और तान्या!ये तीनों बुर चोदी चोदने और चुदाने में बड़ी एक्सपर्ट हैं।लड़कों में रोहित, गोपी, विकी, अंकित, संजू और नीरज हैं।ये सब हमारे पक्के बॉय फ्रेंड्स हैं।बस कमी इस बात की है कि न हमने कभी इन्हें नंगा देखा और न इन लोगों ने कभी हमको नंगी देखा।आज मौक़ा है सबको नंगा और नंगी देखने का. धीरे धीरे हमारा उनके घर जाना और उनका हमारे घर आना काफी कॉमन हो गया. धीरज- अरे ये क्या … ये सब भी चलता है क्या?हम दोनों एकदम से धीरज को कमरे में आया देख कर सकपका गए.

चूंकि शादी एक दिन बाद थी, तो उस दिन मैं उसके साथ आराम से कुछ भी कर सकता था. मैंने अपने स्कूल के एक बड़े लड़के से पूछा कि जब एक आदमी किसी औरत के ऊपर चढ़ा होता है, तो वो क्या करते हैं.

मैं जानबूझकर अपने हाथ ऊपर नीचे ले जाने लगा और दीदी की चुदाई के बारे में सोचने लगा जो होने वाली थी.

मामी भी झड़ चुकी थीं- मजा आ गया मेरे राजा … आज तो तुम में अलग ही जोश था.

एक गैरमर्द के कठोर लंड की याद करते ही ऋतु मन ही मन खुश हो गई और उसकी गीली चूत में एकदम से खुजली बढ़ गई. कोई पंद्रह मिनट बाद मैं नव्या की चुत में झड़ गया और निढाल होकर उस पर ही लेट गया. उन्हें मेरे बारे में सब पता चला तो सर ने मुझे एक दिन बुलाया और खूब डांटा- तुम किसे किसे अपने रूम में रखती हो, तुम्हें दुनिया का कुछ ख्याल भी है?मैं चुपचाप सुनती रही.

मोहिनी ने उसे आलिंगन में लेकर उसके होंठ चूम डाले।मैंने भी उसको कस कर गले लगाया और उसको होंठों पर चूम कर स्वागत किया।बकरी का खेल खेलने के लिए मोहिनी ने स्वाति को नग्न किया, खुद भी नंगी हो गयी. मैं खुश हो गया और उससे कहा- तेरे दोनों छेदों में एक साथ लंड जाएंगे, तो सोच तुझे कितना मजा आएगा. मैं उसके होंठों को चूमने लगा और उसके चूचों को ड्रेस के ऊपर से ही दबाने लगा.

जब मैं छुट्टी पर घर आने वाला था और रात बहुत हो गई थी, तो मैंने घर पर कॉल करके बता दिया था कि मैं देरी से घर आने वाला हूँ.

मुझे आपको ये सब बताते हुए काफी आनन्द आ रहा है कि मैंने दिव्या की मर्जी से उसके साथ ये सब करना शुरू कर दिया था. तो फिरोज भी मजाक के अंदाज में बोला- तो जब तक लॉकडाउन चलेगा, तब तक तुम भी लक्की हो. मैंने अन्दर जाकर देखा तो चाचा और चाची अपनी कामुक क्रियाओं में लीन थे.

मेरा भी उत्तेजना के मारे बुरा हाल था, पर घबराहट इतनी थी कि कुछ समझ में नहीं आ रहा था. थोड़ी देर में मेरा दर्द कम हुआ तो वे धीरे धीरे कमर हिला कर मुझे पेलने लगे. कहानी के पिछले भागआखिर चूत चुदाई की तमन्ना पूरी हो गयीमें आपने पढ़ा कि नगमा की पहली चुदाई का वृत्तांत सुनने के बाद मुझसे रहा ना गया.

आंटी के घर के सब दरवाजे बंद थे तो मैंने घर का मुख्य दरवाजा भी बंद कर दिया और आंटी के पास चला गया.

जिनमें एक फोटो मेरी खुली गोरी जांघ की, दूसरी फोटो बिना ब्रा-पैन्टी की थी और तीसरी ब्रा-पैन्टी में भी थी, पर भेजी नहीं!मैं चाह रही थी कि एक बार फिर मेरे ससुर जी मुझे फोटो भेजने के लिये मैसेज करें।हुआ भी वही … ससुर जी माँ मेसेज आया- फोटो भेजा नहीं?मैंने अभी भी उस मैसेज को इग्नोर किया. तब मुझे सेक्स के बारे में ज्यादा पता नहीं था पर मैंने पापा को मम्मी के ऊपर चढ़े हुए देखा था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में देसी गांड चुदाई कहानी में पढ़ें कि पापा ने मुझे मॉम की चूत गांड चोदकर दिखाई पर मुझे चुदाई का मजा नहीं मिला था. उत्तराखंड के एक गांव की इस सच्ची देसी सेक्स कहानी में आपका एक बार फिर से स्वागत है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में जिस वक्त मैं उनके घर रूम देखने गया था शायद उस वक़्त उनके घर में कोई नहीं था. आधे घंटे तो मैंने खून की बूंदों से सनी हुई और दर्द से तड़पती हुई रोती रही, पर मुझे मेरे प्यार पर भरोसा था.

अब लंड गपागप अंदर बाहर होने लगा बुआ जोर जोर से चिल्लाने लगी और शांत हो गई।रेखा की चूत ने भी पानी छोड़ दिया।वो उठकर बाथरूम चली गई.

सास दामाद सेक्स

इंडियन हॉट भाभी सेक्स कहानी मेरे ख़ास दोस्त की बीवी की गर्म चूत की चुदाई की है. एक बार तेल लगाकर उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में डालने की कोशिश की थी तो बहुत दर्द हुआ था।दरअसल शर्माजी ने स्वाति को बताया था कि वह कॉलेज के दिनों में एक लड़के की गांड मारा करते थे, उसे शुरू में थोड़ा दर्द होता था, फिर वह मज़े लेकर गांड मरवाता था. विकास अपनी कार में समता को बिठा कर खुद भी उसके साथ पीछे बैठ गया था.

[emailprotected]हॉट फॅमिली सेक्स कहानी का अगला भाग:लखनऊ वाली जवान मामी की कामुकता- 5. पर वो मान ही नहीं रहा था, बार बार यही बोल रहा था- यार मान जाओ ना … मैं तुम्हें बहुत खुश रखूँगा, जो तुम बोलोगी, मैं वो करूंगा. कोई उनसे पूछे कि सत्तर के दशक से नब्बे के दशक तक किसी लड़की को पटाना कितना मुश्किल काम था.

उसने कहा कि ठीक है, लेकिन अगर दर्द ज्यादा हो रहा है, तो दवा लगा लो.

फिर भाभी ने मेरी तरफ करवट ली और उन्होंने अपना एक हाथ मेरी जांघों पर रख दिया. मीना तुरंत बोली- बाहर क्यों निकाला … डाल ना!मैंने फिर से लंड फंसा कर वैसा ही किया. वो मेरा पूरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी थीं और बीच बीच में टट्टे भी चाट रही थीं.

मम्मी की चुत किसी जवान लड़की की तरह टाईट थी क्योंकि लॉकडाउन की वजह से उन्होंने काफी दिनों से अपनी चुदाई नहीं करवाई थी. फिर बातों ही बातों उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने बोला- नहीं. मैंने भी तेवर बदलते हुए कहा- सुन बे भड़वे … मादरचोद छोटे लंड का सैंपल … अपना लंड अपनी मांबहनों की गांडमें पेल कर मजा लेना कुत्ते.

चचा हल्के खड़े से हो गए और उन्होंने अपना लंड पकड़ कर नीचे करके फिर से मेरी गांड में डाल दिया. तभी अचानक मैंने महसूस किया कि उसने अपना लंड मेरी चुत पर लगाने की बजाए मेरी गांड के छेद पर लगा दिया और हल्का सा जोर लगा रहा था.

फिर बिना कंडोम के ही राहुल ने इक्शाना की चूत पर अपना लंड टिकाया और एक जोर का धक्का दे मारा जिससे इक्शाना की गीली चूत के राहुल का पूरा लंड एक बार में ही घुस गया. वैसे मैं इतनी सुबह उठती नहीं थी लेकिन उस सपने ने मेरी चूत गीली कर दी थी. जैसे ही मम्मी जी वाशरूम में घुसी, झट से मैं उसी नाईट गाउन में उनके कमरे में घुस गयी, अन्दर से में बिल्कुल ही नंगी थी.

इसी वजह से मैंने दुकान से बाल सफा क्रीम लाकर अपनी झाँटों को एकदम साफ कर लिया और लंड को एकदम चिकना बना लिया.

मैंने बड़ी बेसब्री से कहा- क्या?मुझे समझाते हुए मीना बोली- देखो तुम्हारे स्तन बड़े हो रहे हैं … और नितम्ब भी लड़कियों जैसे फैल रहे हैं, तो तुम्हें लड़कियों की ब्रा पैंटी और मेरे जैसी सलवार कमीज ट्राय करने होंगे. गोशाला के कोने में एक दीवार है, वो इसलिए बनाई गई है कि जंगली जानवर घरों की तरफ ना आ सकें. कुछ ही पलों में सनी, ऋतु के होंठों को जोर जोर से ऐसे चूस रहा था मानो उनमें से कोई रस निकल रहा हो.

पापा बोले- लालटेन बंद कर दूँ क्या?मम्मी बोलीं- नहीं रहने दो … कौन देख रहा है. अंकल मेरी मम्मी के दोनों मम्मों को बारी बारी से दबा दबा का पी रहे थे.

अब मैंने सांस खींच कर अपने चूतड़ पीछे किए और मीना के कन्धों को पकड़ कर एक जोरदार शॉट लगा दिया. इन सबमें पहले मैंने मीना को उसी के घर पर दूसरी बार चोदा था जो दोनों के लिए अप्रत्याशित था. देसी सेक्सी हॉट गर्ल कहानी पड़ोस की युवा लड़की के साथ खेल खेल में हुई सेक्सी कारनामों की है.

साउथ इंडियन सेक्सी फिल्म

एक दिन ज्योति को अचानक पुणे जाना पड़ा और घर पर मैं और नीता ही रह गए थे.

तो वहां क्या हुआ?लेखिका की पिछली कहानी:मेरी अन्तर्वासना ने क्या गुल खिलायेदोस्तो, मेरा नाम अजय है. ज्योति ये सुनकर एकदम अवाक रह गई और बोली- अरे तूने ये सोचा भी कैसे कि मैं विजय से शादी करूंगी?किशन बोला- मम्मी परसों जब आप सोशल मीडिया पर विजय अंकल की फोटो देख रही थीं, तो मैं समझा कि आप दोनों के बीच कुछ है, इसलिए मैंने ये बोला. तभी अचानक मैंने महसूस किया कि उसने अपना लंड मेरी चुत पर लगाने की बजाए मेरी गांड के छेद पर लगा दिया और हल्का सा जोर लगा रहा था.

वो मेरी तरफ देखने लगी, मैं उसके पीछे से होता हुआ उसकी बाईं तरफ को गया और उसकी गोल गांड पर हाथ फेर दिया. मैंने कहा- क्या घुसा लूं … मेरी जान पूरा बोलो ना!प्रिय- साले तेरे लौड़े को अपनी सीलपैक बुर में घुसाने का जी कर रहा है … अब तू ज्यादा चुदुर चुदुर न कर बस लंड पेल दे. सेक्सी फूकिंग वीडियोसजब बुआ ने अपने जिस्म पर पानी डाला तो उनके दोनों चूचे साफ़ दिखने लगे और मेरे अन्दर की आग भड़क उठी.

अब उसकी चुत एकदम से ऊपर उठ गई थी, मेरा लंड धीरे धीरे उसमें गोता लगाने लगा. बीच बीच में मैं भाभी की चुदाई के साथ उनके मम्मों के साथ खेलने लगा और उनके होंठों को चूसता रहा.

मामी- आह आह … थोड़ी देर तो रुक जाओ यार!मैं- मैं तो रुक जाऊंगा … मगर ये लंड आपकी चूत का दीवाना हो गया है, इसको बाहर चैन ही नहीं पड़ रहा. मैंने कहा- जब मैं हॉट लग रही थी, तो दारू क्यों पी … मुझे देख कर ही गर्म हो जाता. उसने पूछा- तुम क्या लोगी?मैंने कहा- मतलब?उसने कहा- मतलब कुछ गर्म पीना है या नहीं?मैंने धीमे से कहा- मैं भी तेरे साथ ड्रिंक ही ले लूंगी.

तब मुझसे कहा- मेरे भाई, मेरी बुर तुम्हारे लंड का इंतजार कर रही है अपनी बहन को जरा प्यार से चोदना! इस तरह से चोदना के तुम्हारी बहन को ज्यादा दर्द ना हो क्योंकि इसी बहन से तुम प्यार करते हो!मैंने कहा- दीदी, थोड़ा दर्द तो होगा पर मैं कोशिश करूंगा कि आपको ज्यादा दर्द ना हो!कहकर मैंने भी अपने हाथों में थोड़ा सा थूक लिया और अपने लंड पर लगा लिया. नफीसा ने लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।थोड़ी देर बाद मेरा लंड पूरा खड़ा होकर तैयार हो गया. जैसे ही हमारी नजरें मिलीं, मामी मुस्कुरा दीं और अपनी उंगली पर चूत का पानी लेकर चाटने लगीं.

चुदाई करते हुए तुम मेरी चूची पियो, बदन को काटो ऐसा वाला, पूरी नंगी होकर बिस्तर पर लेट कर चुदना है.

मैं बोला- मेरा लंड खड़ा है, तो तेरी चुत की फोटो देख कर लंड को ठंडा कर लूँगा. रेशम से मुलायम बाल, मेरे ललाट में लगी नन्ही सी लाल बिंदी, पतली सी मेरी सुतवां सी नाक, गुलाब की पंखुड़ियों जैसे गुलाबी रस से भरे मेरे होंठ, नर्म नर्म स्तन, पतली सी कमर, बड़े भरावदार और सही जगहों से गोल मेरे नितम्ब और गठीली-मांसल भारी जाघें … ये सब देखकर मैं तो ठगी सी रह गई और एक पल को खुद को देखती ही रह गई.

फिर उसने मेरा लौड़ा अपने हाथों से हल्के से पकड़ा और उसको निक्कर के अन्दर करने की कोशिश की. पर तभी मेरे दिमाग में एक ख्याल आया कि क्यों ना दीदी की बुर चाटते चाटते दीदी को भी अपना लंड चुसाया जाए. इतने दिनों के सेक्स का खेल और किताबी ज्ञान एवं संजय के दिए ज्ञान से मैं काम कला में माहिर होता जा रहा था.

अभी उसकी चूत पूरी तरह से खुली नहीं थी, जिस कारण लंड पूरा फंस कर जा रहा था और लंड की ठोकरें तो जैसे चुदाई में चार चांद लगा रही थीं. मैं सोचने लगी कि छोटा सा … मेरी तो इससे जान ही निकल जाती है … और इसे अपना लंड छोटा सा लग रहा है! फिर भी मेरी चुत को अब बड़े लंड को देखने और उससे चुदने की ललक हो उठी थी. हम कभी कभी अलग अलग पोर्न वीडियो देख कर नए नए सेक्स पोजीशन में चुदाई कर लेते हैं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में उस समय मैं जग गया था, लेकिन जानबूझ कर मैंने भी कुछ नहीं कहा और सोने का नाटक करता रहा. उनकी हालत अब ऐसी हो गयी थी कि मानो मेरे पति को जैसे किसी ने इतना नशा करवा दिया हो कि वो होश में ही ना हों।वो बिल्कुल आँखें बंद करके पूरा आनंद लेने लगे।यह देख कर मेरे दिमाग में जैसे एक खुराफात सूझी।मैंने झट से उनका लंड मुँह से निकाल दिया.

राजस्थान की मारवाड़ी सेक्सी

Xxx लड़की सेक्स कहानी में पढ़ें कि अपनी सहेलियों से चुदाई की बातें सुनकर मैं भी चुदाई करवाना चाहती थी. तो हुआ कुछ ऐसा था कि भाभी ने मुझे फोन किया और अपने घर बुलाया, वो भी जल्दी आने को कहा. तीन दिन तक हम लोग गेस्ट हाउस में रहे और नंगे नंगे ही रहे।न किसी लड़की ने कोई कपड़ा पहना और न किसी लड़के ने कोई कपड़ा!चलते चलते सबने यह तय किया कि हर महीने इसी तरह की सामूहिक चुदाई पार्टी हुआ करेगी।चुदाई पार्टी की हिंदी स्टोरी में मजा तो आपको जरूर आया होगा.

जैसे ही पूरा लंड अन्दर घुसा, दर्द के मारे ऋतु की आंखें फैलती चली गईं और उसकी आंखों में फिर से आंसू आ गए. उसने मेरी पेंटी को थोड़ा नीचे को सरका दिया और अपने लंड पर थूक लगा कर मेरी चूत के ऊपर रख दिया. सेक्सी वीडियो सुहागरात की सेक्समतलब हम दोनों काफी क्लोज हो गए और अपनी ‌सीमा भूल कर एक दूसरे में खो गए.

भाभी को अपना नंबर देकर मैं अपने घर आ गया और भाभी के नाम की मुठ मार कर लेट गया.

अब मुझे कपल स्वैपिंग के लिए तैयारी करनी थी, तो मैंने अपने दोस्त की साली प्रिया से बातें बना कर उसे बहला फुसला कर राजी कर लिया. उस समय मैं जग गया था, लेकिन जानबूझ कर मैंने भी कुछ नहीं कहा और सोने का नाटक करता रहा.

क्या विधवा औरत पुनः विवाह नहीं कर सकती? क्या उसे अपनी जिंदगी अपनी पसंद से जीने का अधिकार नहीं है?ज्योति धीमे स्वर में बोली- बेटा मैंने तो ऐसा कभी कुछ सोचा ही नहीं है. मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि मेरे सामने इतनी कमसिन जवानी, जो इतनी टाइट है … नग्न पड़ी है और चुदने को तैयार है. ‘आह मेरी दीपा डार्लिंग … तेरी चुत में बड़ी आग है साली … ले लंड खा मां की लौड़ी.

दोस्तो, मेरा नाम शनाया है। मैं आपको अपनी आपबीती बताने जा रही हूं।यह कहानी सुनें.

भाभी ने कहा- नहीं, आज वो सब रहने दो … मैं आज बिना कंडोम के चुदने के मूड में हूँ. मैं अब झटकों पे झटके लगाने लगा और थोड़ी देर बाद लंड ने नफ़ीसा की गांड में वीर्य छोड़ दिया. मैंने भी उसकी चूचियों को दबाना शुरू किया, तो उसके अधरों से सिसकारियां छूटने लगीं- आह ह ह आशु धीरे रे दर्द करता है … आह्ह … ओह्ह!मीना की साड़ी अब तक अस्त-व्यस्त हो चुकी थी, उसके बाल बिखर चुके थे, भीगे होंठ मस्त लग रहे थे.

वीडियो में सेक्सी दिखाओ वीडियोखचाक से उसके चूचों के साथ एक पिक लिया और नेहा ने भी सेल्फी वाला पाउट बना कर पोज़ दे दिया. इस समय मेरे साथ मां बेटी दोनों एक साथ चिपक कर सो रही थीं और मैं उन दोनों को एक साथ चोदने का प्लान बना रहा था.

पंजाबी सेक्सी फिल्में

अक्सर मेरे पापा के बाहर रहने के कारण मुझे ऐसा लगता है कि उन्होंने मम्मी की जवानी का मजा ही नहीं लिया है. मैं उनकी नंगी गांड हो देख देख कर वासना के सागर में गोते लगाने लगा था. फिर मम्मी ने कहा- एक बैग तू उठा ले … एक मैं उठा लेती हूँ और तेरे भाई को भी ले लूंगी.

अब्बू के आते ही खाला उनके रूम में जाकर अब्बू के पैरों की मालिश करने लगीं. लन्ड पर चूत सरपट दौड़ने लगी।दोनों के शरीर अकड़ने लगे और एक साथ दोनों का पानी निकल गया।मैंने लंड निकाल कर बुआ के मुंह में डाल दिया. मौसी को चोदने के बाद मैं जमीन में से धीरे से उठ कर पलंग पर चला गया और मौसी बाथरूम में चली गईं.

मामा ने मामी का ब्लाउज खोलकर ब्रा उतार कर दूर फैंक दी और उनके बड़े-बड़े दूध दबाने लगे. मैंने ध्यान से देखा, तो समझ गया कि शायद ही कोई मेरा स्कूटर देखेगामीना को डरा हुआ असमंजस में देख कर मैं समझ गया कि इसने अभी तक कुछ भी नहीं किया है. उन्होंने मुझे बुलाया और फिर से कपड़े बदलने में मदद करने के लिए कहा।मैंने उनके ब्रा पैंटी झट से निकाल लिए अलमारी में से!वो चिढ़ कर बोलीं- ये तो पहनी हुई है न मैंने! भूल गए तुमने ही पहनाए थे?सॉरी मासी मैं भूल गया था!” मैंने कहा।पर वो जान चुकी थीं कि मेरे मन में क्या है.

उसने बातों ही बातों में मुझसे कहा कि मेरा पहला ब्वॉयफ्रेंड जब अपना लंड मेरे हाथ में देता था तो उसकी नसें उभरी हुई दिखती थीं. मेरा लंड उसके चूतड़ों को टच करते ही खड़ा हो गया था जोकि उसको भी चुभ रहा था.

मैंने कहा- भाभी ये क्यों?तब उन्होंने दो गिलास में पैग बनाए और बोलीं- लो पी लो, आज इसमें कल की तरह नींद की गोली नहीं है.

चाची मना करने लगीं- ये क्या कर रहा है तू … कपड़े उतारने की बात थी पकड़ने की बात कहां थी. बफ भेजो सेक्सीउसी गोली ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया था।रेखा ने भी खुद को नंगी कर दिया और मेरा लौड़ा अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. अच्छी चुदाई वाली सेक्सीपहले मेरी चूचियां इसलिए टाईट थीं क्योंकि उन दिनों मेरे अन्दर काफ़ी आग लगी रहती थी और मेरे कुछ आशिक़ थे जो मेरी चूचियों को खूब दबाकर चूसकर मुझे चोदते थे. तो प्रीति बोली- हाय जीजू, मैं तो खुद आपका लन्ड दोबारा अपनी चूत में लेना चाहती हूं.

भाभी की आंखें एकदम से फट गईं और उनके मुँह से गाली निकल गई- आंह भोसड़ी के धीरे चोद ना!मैंने सॉरी कहा और 2 मिनट रुक गया.

मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रखा और उसे लगभग दोहरी करके उसे ताबड़तोड़ चोदने लगा. मैं उल्टा लेट गया तो भाभी अपने हाथ को चड्डी से बाहर निकाल ही नहीं पाईं. मैंने कहा- तुम पूरी दुनिया के सामने मेरी बहन रहोगी … लेकिन प्रिया में तुमसे प्यार करने लगा हूँ और तुमको पाना चाहता हूँ.

फिर जैसे ही एक ने मेरी बहन को लिटा कर चुदाई की पोजीशन में लिया और लंड चूत में डाला तो वो कराहने लगी. मासी ने मुझे सब कुछ देखते हुए देख लिया था पर वो उस वक्त कुछ नहीं बोलीं।तब मैंने मासी को सलवार कमीज पहनने में मदद की. जब खाला की चुदाई फहीम और अब्बू करेंगे, तब मैं उस चुदाई की कहानी को लिखूंगा.

लड़की का नंबर वीडियो

हम दोनों ही नंगे थे तो उठते ही मैंने भाभी की चुत में एक बार फिर से लंड पेल दिया और धकापेल चुदाई शुरू हो गई. इस स्थिति में मुझे मामी की गांड का छेद आराम से नजर आ रहा था पर मैं गांड को इग्नोर करके घुटनों के बल आ गया और उनकी कमर पकड़ ली. गांड में लंड जाते ही इक्शाना जोर जोर से चिल्लाने लगी और कहने लगी- प्लीज रोहन निकालो, प्लीज बहुत दर्द हो रहा है प्लीज निकालो.

मैं बोला- देख पिंकू, तेरा मन भी करता होगा किसी से चुदाई करवाने को! आजकल भाई बहन में यह सब चलता है.

शिल्पा दीदी अपने रूम में अपने होने वाले पति से फोन पर बातें किया करती थीं.

भाई मोबाइल पर पोर्न देखते थे, मैं अन्तर्वासना की सेक्स कहानियाँ पढ़ती थी. राहुल का काला लंड इक्शाना की गीली चूत में फच फच की आवाज के साथ अन्दर बाहर हो रहा था. ई-मेल सेक्सी वीडियो इंग्लिशचचा ने मेरी दोनों टांगों को अपनी टांगों से लपेट लिया और हाथों से कंधे को पकड़ कर अपने शरीर को आगे पीछे करने लगे.

भाभी ने मेरे ही सामने से अपनी अल्मारी में से महंगी वाली एक लाल कलर की जालीदार ब्रा और पैंटी निकाली और पहन कर बेड पर आ गईं. उस दिन मेरा मन काम में जरा भी नहीं लगा और न आफिस में किसी और से बात करने में मन लगा. शाम 4 बजे करीब हम दोनों वहां जब निकल रहे थे तो स्कूल के एक व्यक्ति ने बोला- क्या आप अगले हफ्ते सोमवार और मंगलवार दो दिन और आ सकती हैं.

दूध सहलाते सहलाते मैंने उन्हें चूमना शुरू कर दिया और उन पर जीभ फिराकर चाटने लगा. मामा- देर हो रही है ट्रेन भी पकड़नी है जानू … एक राउंड जल्दी से लगा लेते हैं.

उसी के साथ उसने बताया कि मम्मी का फोन आ गया है कि वो भी दो दिन बाद घर आएंगी.

जब मैं दीदी के बूब्स से बालों को हटा रहा था तो दीदी बार-बार बोल रही थी- मान जाओ ना भाई, मत करो ना, मुझे शर्म आएगी! प्लीज मेरे भाई मान जाओ ना!पर मैं नहीं माना और दीदी के बूब से सारे बाल हटाकर पीछे कर दिए. उस दिन मैं पूरी रात तुम्हारे साथ रहूंगी, जो मर्जी वो कर लेना … लेकिन आज मान जाओ. इस कुकोल्ड सेक्स कहानी के बारे में अपनी राय जरूर दें।धन्यवाद।आप नीचे दी गई ईमेल पर अपने संदेश भेजें-[emailprotected].

सेक्सी बी एफ मुसलमान अपने उस मेल में उन्होंने लिखा कि मुझे आपकी कहानी बहुत अच्छी लगी, प्लीज आप जब भी पुणे आओ, तो जरूर बताना. दोस्तो, ये मैंने अपने तरीके से बताया है, लेकिन भाभी जो कह रही थीं, वो शब्द और भी खराब थे.

मैं बोला- तुम जब चाहो मेरा लन्ड चूस सकती हो लेकिन तुम सिर्फ मुझे अपने बूब्स दबाने देना और अपनी चूत दिखा देना मैं तुमसे और कुछ नहीं मांगूंगा. अब मैंने उससे पूछ लिया- क्या आपको मुझसे डर नहीं लगेगा?रचना ने कहा- इस अनजान शहर में आप ही तो मेरे मददगार हैं, आपसे कैसा डर!फिर मैंने उससे कहा- ओके मैं यहीं रुक जाता हूँ. 10-12 बड़े शॉर्ट्स लगाने के बाद पिंकू का शरीर कांपने लगा और उसकी चूत से रस निकलने लगा.

राजस्थानी पिक्चर सेक्सी

जैसे ही मैंने मुंह खोला, उसने चुत को मेरे मुंह में लगा अपना पानी छोड़ने लगी जिससे मेरा मुंह भर गया।मैं सुमन का सारा माल पी गया।अब सुमन बेसुध होकर सो गई, उसका काम हो गया था।20 मिनट आराम करने के बाद सुमन उठ कर मेरे लन्ड को मुंह में ले कर चूसने लगी, मेरा लन्ड खड़ा किया।मैंने सुमन को अपनी जींस से कॉन्डम निकाल कर दिया. फिर हम दोनों ने नॉर्मल बातें की और आकांक्षा ने मुझे कहा- यार तू थोड़ा झाड़ू मार दे क्योंकि मेरे भाई को चोट आ गई है. ये आवाज धीरे धीरे तेज़ हो गयी और सहमी हुई सी चीख़ ‘आआआह आह …’ आई, तो मेरे कान खड़े हो गए.

अब मैंने सांस खींच कर अपने चूतड़ पीछे किए और मीना के कन्धों को पकड़ कर एक जोरदार शॉट लगा दिया. थोड़ी देर के बाद उस लड़के ने उनकी ब्रा और पैंटी भी उतार दी और अपने कपड़े भी उतार दिएवो दीदी के मम्मों को चूसने लगा और चूत में उंगली डालने लगा.

एक तो बीयर की वजह से सुरूर बन गया था और दूसरा मामी को चोदने की तमन्ना मुझमें आग लगा रही थी.

उसने कहा- आगे किधर राजसी?वो शायद मेरे मुँह से चुत शब्द सुनना चाहता था. मम्मी मीठी आवाज में सिस्कारती हुई बोलीं- लीजिये चूसिए बाबूजी … आंह मेरी चूत आपकी भी है. सनी उसकी चूत को चूसता रहा और जल्दी ही ऋतु का बदन फिर से गर्म होने लगा.

तब मैंने दोनों के साथ ही मजा लिया, पर उन दोनों की जानकारी में आए बिना. इसी बीच उन्होंने अपनी दोनों उंगली मेरी गांड में डालीं और गोल गोल घुमाने लगे. ‘आह मामी थैंक्यू मामी आह आह … इतने मजे देने के लिए थैंक्यू … आह आह्ह आह्हम्म.

[emailprotected]माउथ सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी यौन अनुभूतियों की कामुक दास्तान- 8.

एक्स एक्स एक्स बीएफ देसी हिंदी में: मैंने बेड पर एक बड़ा गद्दा लगाया और छोटे गद्दे अपनी बांहें रखने के लिए अगल बगल में लगा दिए. वाजिहा- चोद न कमीने बाप … मैं तो न जाने कबसे चुत फड़वाने के लिए तड़फ रही हूँ.

अपने उस मेल में उन्होंने लिखा कि मुझे आपकी कहानी बहुत अच्छी लगी, प्लीज आप जब भी पुणे आओ, तो जरूर बताना. मम्मी चाचा की बात समझ गईं और उन्होंने अपनी सलवार का नाड़ा ढीला कर दिया. अब आगे हॉट सेक्स विद फ्रेंड्स:धीरज अंडरवियर में था, उसमें से उसका लौड़ा एकदम उभरा हुआ मोटा लम्बा साफ़ दिख रहा था.

ये बात उन दिनों की है, जब मैं नौकरी करने के लिए दिल्ली में रहता था.

तो ऋतु ने भी जोर से अपने टांगें भींच लीं और दोनों एक साथ ही झड़ गए. इसके साथ भी यही दिक्कत थी कि बाहर निकल नहीं सकती थी, बाहर निकल कर तो 2 मिनट में लंड का जुगाड़ कर लेती. तभी भाभी कहने लगीं- अमित, कल रात जो भी हुआ, सब गलती से हुआ लेकिन तुम्हें बाथरूम में जाने की जरूरत नहीं थी.