सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली

छवि स्रोत,सेक्सी नेपाल सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स बीएफ गांव की: सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली, या बोल सकते हो कि कुछ ख़ास है।मैं भी सोच में पड़ गया कि यार क्या हो सकता है।मैंने बहुत पूछा.

गावठी सेक्सी व्हिडिओ मराठी

यह सुन कर मैंने और तेज़ी से उसके मम्मों को निचोड़ा।उसके मुँह से अजीब सी आवाजें आने लगी थीं- आआ आहह. वीडियो सेक्सी डॉक्टर वाली’अकरम अंकल ने एक बार फिर बिस्तर पर बैठ गए और अम्मी को मुँह में अपना लण्ड दे दिया। अम्मी के मुँह से बीच-बीच में सिसकारी भी निकल जाती थी। वो अपने कठोर लण्ड को अम्मी के मुँह में मारते रहे और अम्मी ने अपनी चूत घिसवाना चालू कर दिया।मुँह से लौड़ा चुसवाते हुए जैसे ही अंकल का वीर्य छलका.

तब तेरा सारा गुरूर धरा का धरा न रह जाए तो कहना।पायल- तू क्या जीतेगा. गुजराती सेक्सी फुल एचडीमुझे पूरा जोश आया हुआ था, मैं जोरों से चूत को चोद रहा था।अब फिर रितु गर्म हो गई.

मेरे बहुत ज्यादा इसरार करने पर वो राज़ी हो गई और कहने लगी- अगर दर्द ज्यादा हुआ तो मैं गाण्ड नहीं मरवाऊँगी।मैंने बोला- मंजूर है.सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली: जिसकी पीठ पर ज़िप लगी हुई थी। वो नाक में सानिया मिर्जा जैसी नोज रिंग पहने हुई थी और काफ़ी सेक्सी लग रही थी।उसे अचानक कमरे में देख कर मेरी फट गई.

की आवाज़ें निकालता हुआ मजे से चुसवाने लगा।फिर उसने मुझे पास के एक पेड़ से लगा दिया और मेरे मुंह को चूत बनाकर चोदने लगा। मैं भी उसके लंड को पूरा अंदर ले जा रहा था.मैंने गेट खोला और एक आंटी अन्दर आईं और बोलीं- मुझे सुधा से मिलना है।सुधा- आओ शांति.

अंग्रेजी वीडियो दिखाइए सेक्सी - सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली

तब मैंने सहर्ष उनका कार्य करने का निर्णय ले लिया और उन्हें ‘हाँ’ कर दी।मेरी ओर से मिली सहमति से वह बहुत ही खुश हो गए और अपनी मेज़ की दराज़ से तीन लाख रूपये निकल कर मुझे दे दिए और कहा- बाकी के दो लाख वह काम होने के बाद देंगे।इसके बाद उन्होंने बताया कि अगले तीन दिन वह ऑफिस के काम से बाहर जा रहे हैं.ऐसे समझ में नहीं आएगा।वो मान गई।मगर 69 के पोज में उसने मेरा लन्ड नहीं चूसा.

और फिर धीरे-धीरे शुरू हो जाता। इसी बीच उसने मेरी तरफ नजर भर कर देखा और शर्म से अपनी नजरें नीचे झुका लीं. सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली बात उन दिनों की है जब मैं हॉस्टल में रहती थी। मेरी रूम पार्टनर सीमा मुझसे तीन साल सीनियर थी, उसके कई बॉय फ्रैंड थे।कई बार जब वो आते थे तो सीमा किसी बहाने से मुझे बाहर भेज देती थी।एक बार जब मुझे शक हुआ तो मैं बाहर तो गई लेकिन दोनों पैरों में अलग-अलग तरह की चप्पल पहन कर।पंद्रह मिनट के ही बाद मैंने अपने रूम का दरवाजा खटखटाया।अंदर से सीमा की भारी आवाज आई-.

मेरा दिल मचल गया कि भाग कर उसके पास जाऊँ और उसके खड़े लंड को मुंह में भर लूं.

सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली?

मैंने भी उसकी तड़प देख कर अपना लण्ड उसकी चूत में ज़ोर से धकेल दिया. रोज ही अपने काम पर जाता था।मेरे दफ्तर में कुछ लोग बड़े अच्छे थे लेकिन कुछ लोग शुरू से ही मेरे को डांटते रहते थे. तब दूसरी ले लूँगी।अवि- जैसा आप कहें!मैं सोचने लगा कि कहीं मैडम को पता तो नहीं चल गया कि वो किताब मेरे पास है। मैं कल ही यहाँ किताब रख दूंगा।मैडम शायद अपने मन में सोच रही थीं कि उन्हें पूरा यकीन है कि किताब अवि के पास ही है। मेरे घर में अवि के अलावा कोई नहीं आता है और मैं तो किताब हमेशा बिस्तर के नीचे रखती हूँ। शायद अवि डर गया होगा इसी लिए झूठ बोल रहा है।‘कॉफ़ी पियोगे?’अवि- हाँ क्यों नहीं.

तब तक आपके लौड़े को मैं काबू में लाती हूँ।इतना कहकर मुनिया ने रॉनी की पैन्ट का हुक खोल दिया और तने हुए लौड़े को बाहर निकाल लिया।लौड़ा एकदम टाइट हो रहा था. तो सोनिया मदन के लण्ड पर से उतर गई और अच्छे से रिंकू का लण्ड चूसने लगी।मदन मेरे पास आया और मुझसे कहने लगा- अमित आज सोनिया की चूत में एक साथ दो लण्ड डाल कर देखते हैं।तो मैंने भी आँख दबाते हुए बोला- हाँ यार. उसे देख कर ऐसा लग रहा था कि अभी उसका रस किसी ने पिया ही नहीं हो।वो ब्लू साड़ी में क्या कमाल लग रही थी.

इसी कारण इतना फूल गया है।भाभी ने लण्ड को सहलाना चालू किया और अब मेरे लण्ड को चूसने लगीं।मैंने भी हगने के बाद घर आकर लण्ड और हाथ-पैर नहीं धोए थे. पर वो तो बहुत ज्यादा प्यासी थी और गर्म भी थी। वो भी बहुत सेक्सी होने लगी। मेरे हाथों पर अपना हाथ रखा और ज़ोर-ज़ोर से अपने मम्मों को निचुड़वाने लगी।दोस्तो, मैं अपने जीवन की एकदम सत्य घटना लिख रहा हूँ. मैं तो देखता ही रह गया।फिर हम रसोई से निकल कर बाहर आ कर बातें करने लगे।बातों बातों में भाभी ने बताया- सासू माँ अगले हफ़्ते बाहर जा रही हैं तो घर में हमें रोकने के लिए कोई नहीं होगा।मैंने भी खुशी से कहा- सच में.

और औपचारिक बात करके फोन बन्द कर दिया।फिर धीरे-धीरे लगभग रोज़ ही बात होने लगी. जिससे प्रीत और भी मस्त होने लगी और सिसकारियाँ भरने लगी।थोड़ी देर प्रीत के चूचों को चूसने के बाद मैंने प्रीत को दीवार की तरफ उसकी पीठ कर दी और मुँह अपनी तरफ कर लिया। अब मैंने अपना लंड आगे से ही उसकी चूत में डाल दिया।प्रीत की चूत ज्यादा गीली थी.

लेकिन मेरे दिमाग में थोड़ी देर बाद कुविचार आने लगे।दोस्तो, ना जाने मुझमें क्या प्राब्लम है कि बस थोड़ा सा उल्टा-सीधा सोचने पर ही मेरा हथियार बुरी तरह से खड़ा हो जाता है और बहुत देर तक बैठता नहीं है। इसी वजह से मुझको बहुत बार मॉम डैड से डांट भी पड़ चुकी है।ज्यादा सोचने से मेरा लौड़ा हार्ड हो गया था और मैंने लोवर पहना हुआ था.

पर मैं अभी भी सोनी की चुदाई कर रहा था। करीबन 20 धक्के मारने पर मैंने भी सारा माल उसकी चूत में निकाल दिया और दोनों ही एकदम से निढाल से पड़ गए।मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा और उसको चुम्बन करने लगा।पांच मिनट बाद ऐसे ही लेटे-लेटे मेरी नजर घड़ी पर गई.

’ कर रही थी, उसे बहुत मजा आ रहा था।मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी ब्रा उतार कर फेंक दी।आह्ह. दोनों का टाइम फिक्स हो गया।सोमवार को सुबह के समय हम दोनों गोलू के घर गए. ’यह आवाज़ सुनकर मेरा मूड ताज़ा हो गया और मैं उसे बिस्तर के किनारे पर लाकर ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा।कुछ देर बाद उसने मुझे ज़ोर से पकड़ लिया.

उसे रगड़ने लगी।मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया और वो उसके सुनहरे बदन से अलग कर दिया।अब वो सिर्फ ब्रा और पैन्टी में थी. तो भाभी ने मुझे रोका और मुझे अपने पर्स से 2100/- निकाल कर दिए।मैंने कहा- भाभीजी मैं अपनी फीस ले चुका हूँ।तो उन्होंने कहा- यह फीस नहीं. उसका लंड आधे तनाव में लग रहा था।आगे की कहानी दूसरे भाग में…[emailprotected].

लेकिन अनु को तो बस चुदाई दिख रही थी।अनु ने अपना लण्ड थोड़ा सा बाहर निकाला और पूरी रफ़्तार से एक झटके में अपना पूरा मूसल मेरी चूत में डाल दिया।उस समय मेरी आँखें भी बाहर आ गई थीं।वो तेज़-तेज़ चुदाई कर रहा था, कुछ ही मिनट की चुदाई में मैं दो बार झड़ चुकी थी।अब अनु अपना पूरा ज़ोर लगा रहा था.

लेकिन थी एकदम बम टाइप की।उसके चूतड़ों को देखकर लोगों का लन्ड खड़ा हो जाता था, उसका नाम गौरी था, उसकी एक दुकान भी है। गौरी अभी वो 12वीं में पढ़ रही थी और दुकान का काम भी देखा करती थी।मैं रोजाना उसकी दुकान पर अखबार पढ़ने और उसे लाइन मारने जाया करता था। मैं कभी-कभी आँख भी मार दिया करता था. वे चली गई कुछ पलों बाद वापस आईं।मैंने कहा- कहाँ गई थीं?तो कहने लगीं- अपनी सास का रूम लॉक करने. मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि उसके सामने खड़ा रह सकूँ, मैं अंदर चला गया और वो फ्रेश होकर यहाँ वहाँ काम में लग गया।मैं भी 12-1 बजे तक उसके सामने नहीं आया.

वो अब सीधे होकर लेट गई। उसके बड़े-बड़े मम्मे और पावरोटी जैसी चूत मेरे सामने खुली पड़ी थी।मैं ज्यादा सा तेल लेकर उसके मम्मों को मसलने लगा. फिर उन्होंने मेरी चुदाई शुरू कर दी, अब मुझे पहले से ज्यादा मजा आने लगा, हम एक बार और झड़ गए।तभी सुधा एक हाथ में जूस लेके आई और मेरे सिर पर हाथ फेरते हुए कहने लगी- ले ऋतु. मैंने कमरे पर पहुँचते ही अपने जूते छुपा दिए।अन्दर यानि नीचे के हॉल में बच्चा आराम से सो रहा था। रसोई में देखा तो वहाँ कोई नहीं था, मुझे लगने लगा साली ने अपनी गेम बजा दी।फिर मैं ऊपर गया.

लेकिन मैंने जाहिर नहीं होने दिया। सही कहूँ तो शीला का दिल तुम पर आ गया है और वह बातों-बातों में तुम्हारे बारे में पूछती रहती है।’‘हे भगवान.

उसकी छाती उसके चूचे पर जा टिकी और वो रवि को चूमने लगी पागलों की तरह और रवि की गांड को अपने हाथों से दबाते हुए लंड को चूत में धकेलने लगी।अब रवि की स्पीड भी बढ़ गई थी और गाड़ी हिलने लगी. कोई आ जाएगा।मैंने 10-12 धक्कों के बाद उनकी सलवार पर ही माल छोड़ दिया।भाभी बोलीं- बस इतना ही दम था?मैं बोला- जान.

सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली जिससे मेरे जोश के कारण मेरी स्पीड और तेज हो गई।भाभी फिर से दुबारा झड़ गईं। मुझे भाभी को चोदते हुए काफ़ी समय हो चुका था. मैं सोचने लगा।इतने में दीदी साड़ी पहनते हुए थोड़ी पीछे आई और वो मुझसे एकदम साथ में लग कर खड़ी हो गई और उसी वक्त मेरा हाथ अपने आप उसकी कमर को ढूँढने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली मुझे डर था कि वो कहीं किसी से कह न दे। लेकिन 2-3 दिनों तक जब किसी ने कुछ नहीं कहा. ’ कर रहा था।बोलीं- क्या शानदार ‘चॉकलेटी बार’ है।अब उन्होंने लंड को मुँह से निकालकर बुर के पास हाथ से रखा.

मेरा मन तो किया कि नेहा भाभी को भी अभी कमरे में ले जाकर फुल चुदाई करूँ।इतने में नेहा भाभी बोली- यश क्या हुआ.

2019 की सेक्सी वीडियो

रात के करीब 1 बजे का समय रहा होगा कि अचानक मुझे महसूस हुआ कि कोई भारी भरकम वज़न मेरे ऊपर आकर गिर गया है. उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।मेरी फीमेल दोस्तों की चूतों को अपने बड़े और कड़क लंड से. वो मुझे अपनी चूचियों से खेलने देती और मैं भी पैंट के ऊपर से ही अपने लंड को स्कर्ट के ऊपर से ही उसकी गांड उसकी चूत पर रगड़ता था।एक दिन.

अर्जुन तो बस कोमल की टाँगें कंधे पर डाल कर लौड़ा स्पीड से पेले जा रहा था और कोमल सिसकारियाँ ले रही थी. अब मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिए और किस करने लगा। दस मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके चूचों को अपने हाथों से मसलने लगा और कुछ देर बाद एक चूचे को मुँह में लेकर पीने लगा।आह्ह. जिससे उसका लंड रिचा की चूत में पूरा समा गया।अब रिचा एक बार फिर ज़ोर से चिल्लाई- राहुल.

शायद नई जगह होने से कुछ अटपटा लग रहा था।मैंने करवट बदली तो देखा कि वर्षा भी जाग रही थी।मैंने पूछा- क्या हुआ.

और कल आएंगे।मैंने उससे नशीले और कामुक अंदाज से पूछा- अब क्या करना है?तो वो शर्मा गई और बोली- जो तुम चाहो।जैसे ही उसने ये बोला. और प्रियंका ने बिना ब्रा और पैंटी के सुरभि का ही ढीला टॉप पहन लिया. मैं आगे को धक्के लगाता और वो पीछे को होकर मेरा पूरा लंड अन्दर लेने की कोशिश करती।इतना मज़ा आ रहा था कि पूछो मत.

?मैं बोला- मैंने आपको डैड के साथ कई बार सेक्स का मज़ा लेते हुए देखा है. तो वो चिल्ला उठती और मैं अपनी जीभ को उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगता।अब उसकी आवाज़ से पूरा कमरा मादक और रूमानी हो गया था। थोड़ी देर बाद मैं उठा और अपना लंड उसके मुँह पर रख दिया. जिस्म की आग मिटाने वो लोग जिस्म-2 देखने गए थे हा हा हा।सुरभि हंस पड़ी।सुरभि- तू तो उसके बॉयफ्रेंड को जानती है न?प्रियंका- हाँ अब तो.

तो मैंने धीरे-धीरे अपना पूरा लण्ड उसकी चूत में डाल दिया।अब वो भी मजे लेकर चुदवा रही थी। हम दोनों ने बहुत लम्बी चुदाई की और मैं उसकी चूत में ही झड़ गया।उस रात हमने 2 बार चुदाई की. तो उसने एकदम नजरें झुका लीं।काफी देर बाद मेरे गाँव तक जाने के लिए एक ऑटो मिला। जाने वाले बहुत लोग थे.

उसने सिमरन की कमीज़ को उठा कर उसके मम्मों को बाहर निकाल लिए थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तभी गीत आ गई. तुम तो बहुत तेज हो।मैंने खुल कर लौड़े पर हाथ फेरते हुए नशीले अंदाज में कहा- जान. तो मैं कुछ भी कर सकता हूँ।मैंने तुरन्त ही मोहिनी से कहा- मैम, हम सब नंगे हैं और एक आप केवल अपनी चूत और चूची के दाने को ढकी हुई हो। अपने हुस्न के महल की ये दो खूबसूरत चीजों को परदे से बाहर लाओ।सब मुझे इस तरह घूरने लगे कि मैंने कुछ गलत कह दिया हो.

सब जगह हाथ ले जाकर मुझे मसलने लगा।काफी देर तक मेरी जाँघों और चूतड़ों पर मालिश करता रहा। संतोष के हाथ से बार बार चूतड़ और बुर छूने से मेरी चुदास बढ़ गई और मैं मादक अंगड़ाई लेते हुए सिसकने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !‘आहह्ह्ह उउईईईईई आहह.

तो मैंने देखा कि बाथरूम में कोई नहा रहा था।मैंने जब दरार से झांक कर देखा. पूछो क्या पूछना है?फिर मैंने कहा- जब अभी हम आपके घर के सामने बात कर रहे थे. तो उसमें ही रहने लगा और धीरे-धीरे मेरे करीब आ गया।चूंकि मुझे बचपन से ग़लत आदत पड़ गई थी.

वो चारों और से घिरी हुई थी। कुछ सरकारी मकान बने थे और बाकी की जगह में गार्डन और खेल का मैदान बना था।पार्टी के बाद परी ने कहा- सचिन आज मैं तुम्हें रिर्टन गिफ्ट देना चाहती हूँ. कुछ दूर चलने के बाद सुनसान सी जगह देख कर परी ने कहा- मैं चाहती हूँ कि तुम मुझे किस करो।कभी इस प्रकार के काम न करने के कारण मुझे थोड़ा अजीब लग रहा था कि ये प्यारी सी लड़की.

मैंने उसके चूचों को मसलते हुए कहा- मुझे इसका दूध पीना है।फिर वो बोली- भैया छोड़ो ना. कहाँ मर गई?आयशा समझ गई कि दरवाजे पर 34c-28-34 के फिगर वाली उसकी सहेली प्रियंका है, वो एक ठण्डी सी सांस लेती हुई आगे बढ़ी।मैं पास रखी पानी की बोतल उठा कर पानी पीने लगा. जब मैं जवान होने लगा था। तब मैं पढ़ता था और वो भी पढ़ाई कर रही थी।हमारे परिवार में सभी एक साथ ही सोते थे, मैं अक्सर रात में बहन के सो जाने के बाद उसके बदन को छूता था। धीरे-धीरे उसके बोबे दबाता था और उसको अपने से चिपका कर सो जाता था।उस उम्र में उसकी नींद बहुत पक्की थी। लेकिन मुझे उस उम्र में यह नहीं पता था कि हथियार कहाँ डाला जाता है। मतलब लड़की के आगे के छेद में या पीछे गाण्ड के छेद में.

हिंदी सेक्सी वीडियो हिंदी मूवी

मुझे उल्टी सी आने लगी तो हमने ओरल न करने का फैसला लिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उसके और वो मेरे निप्पल चूस रही थी और हम दोनों के हाथ एक-दूसरे के सामानों पर थे। करीबन 5-10 मिनट ऐसा चलने के बाद हमारा पानी छूट गया।उसने कहा- यार अब सहन नहीं होता।मैं तो इसी पल के इंतज़ार में था.

मुझे ऐसा ही लण्ड चाहिए था।उसने मेरा जोश बढ़ा दिया, मैं ज़ोर-ज़ोर से लण्ड को अन्दर-बाहर करने लगा, उसे भी मज़ा आने लगा- आह. कब से बाहर आने को तड़प रहा है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !उसने मेरी जीन्स और फ्रेंची उतार कर फेंक दी और तुरंत मेरा फनफनाता हुआ पूरा टाइट लण्ड उसके मुँह के सामने झूलने लगा।उसे देखते ही उसकी आँखें फटी की फटी रह गईं. मैंने बहुत सोचा कि एक बार इससे पूछ ही लेता हूँ, उम्र तो इसकी भी हो गई है.

’ये कहते हुए दोषी ने गाण्ड में लंड घुसाने की स्पीड बढ़ा दी।अब सौम्या जम कर चुदा रही थी, आज एक नया एक्सपीरियंस सौम्या को मिल रहा था।सारी रात सौम्या और मैं आशू और दोषी से अपनी गाण्ड का भुरता और चूत की चटनी करवाते रहे।तो यह थी मेरी पाठिका ने मुझसे शेयर की हुई कहानी।वो तो मुझसे चुदकर गई. इस बहती हुए चूत में लौड़ा पेलकर इसकी प्यास बुझा दे।इसके बाद मेरा उससे कहना भर था- बस रानी एक बार मेरा लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूस ले. लंदन का सेक्सीऔर नीचे से दो उंगली से उसके जी-स्पॉट को नीचे से ऊपर की ओर रगड़ रहा था।वो इतनी अधिक जंगली सी हो उठी थी कि जैसे मेरे सर के बाल नोंच ही लेगी। फिर अचानक से उसने अकड़ते हुए अपना पानी निकाल दिया.

इतना कहकर सन्नी भी बिस्तर पर आ गया और कोमल के मुँह में लौड़ा घुसा दिया।अर्जुन उसके मम्मों को दबाने लगा और सन्नी उसके मुँह को चोदने लगा।दोनों कुछ ज़्यादा ही मस्ती में आ गए और कोमल को कभी नीचे लेटा कर चूसते. तो मुझे पता भी नहीं था कि ये सब किया कैसे जाता है।2007 की गर्मियाँ थी.

जल्दी ही दूसरे पार्ट में पूजा चुदने वाली है।[emailprotected]कहानी का अगला भाग :बिरज की होली और ट्रेन में चूत ले ली -2. ऋतु ने आवाज़ दी और कहा- कहां खो गए? मैं कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रही हूँ।उसने मेरे पास आकर मुझे किस कर दी और हम दोनों ने किस-लीला शुरू कर दी।किस करते हुए हम कुछ इस तरह खो गए कि पता ही नहीं चला कि उसने मेरे कपड़े उतारे थे. पर उन्होंने मुझे इतनी जोर से पकड़ रखा था कि मैं पूरी ताकत लगा कर भी अलग नहीं हो पा रही थी।मेरे बार-बार कहने को सुन कर उन्होंने अपना मुँह मेरे मुँह से लगा दिया और मेरा मुँह बंद कर दिया। उन्होंने अब अपने हाथ मेरे पीठ से हटा के चूतड़ों पर रख दिए।अब मेरे चूतड़ों को जोर से दबाते हुए ऐसा करने लगे.

मैंने तुम्हारा जैसा बहुत लड़का लोग को केवल 5 मिनट में ठंडा करके यहाँ से वापस भेज दिया है. जिससे हम दोनों को ही मज़ा आने लगा।वह कहने लगी- और ज़ोर से चोदो।मेरी स्पीड अब और बढ़ गई। कुछ ही देर में उसका पानी छूट गया. किसी भी लड़की के साथ किसी भी वक़्त मैं चुदाई के लिए तैयार रहूँगा।जो मैंने अपने सगे भाई के साथ किया उसकी वजह सिर्फ़ ये थी कि हम दोनों एक ही वक़्त में एक ही जगह पर बगैर कपड़ों के नंगी हालत में थे और बहुत गरम थे.

मैंने कहा- अब तो मेरी गाण्ड प्यासी ही रहेगी।उसका मुँह भी उतर गया।लेकिन भगवान ने जैसे हमारी इच्छा सुन ली और राजेश की पोस्टिंग झाँसी में ही हो गई और उसे मेरे घर के पास का ही मकान रहने के लिए मिल गया, कुछ ही दिनों में मेरी और उसकी बीवी एक-दूसरे की सहेलियां बन गईं, हम लोगों का एक-दूसरे के यहाँ आना-जाना शुरू हो गया।मैंने सोचा कि अपनी वाइफ को सच-सच बता देना ठीक रहेगा.

‘क्यूं?’‘सर। घर है मेरा वहाँ पर…’‘तो अभी कहाँ से आ रहा है?’‘सर ऑफिस से…’‘ठीक है. ताकि यह कुछ उसके थूक से नरम हो ज़ाए। दस मिनट तक लण्ड चुसवाने के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसकी गाण्ड को अपनी ज़बान से चाटने लगा.

अंकल की हैण्डसम पर्सनैल्टी मेरे होशो-हवास पर बुरी तरह छाई हुई थी। उनके भरे-भरे सीने. पर कोई जाता ही नहीं।फिर मैंने कहा- कभी बारिश में सेक्स किया है?तो प्रीत बोली- नहीं।मैंने कहा- करोगी?प्रीत बोली- ओके. बाद में मेरे पिता जी का तबादला हो गया और मेरी यह कहानी बंद हो गई।बाद में कई साल बाद वो मिली.

’ की आवाज निकल रही थी।कई बार भाई ने इतनी तेज दूध दबाए कि मैं चीख पड़ी, मैंने भाई से कहा- इतनी तेज नहीं दबाओ. तो मैंने सब साफ़-साफ़ बता दिया- मेरी पहले एक गर्ल-फ्रेंड रह चुकी है और मैंने उसके साथ सब कुछ किया है।भाभी को जब मैं ये बता रहा था तो मुझे थोड़ी शर्म भी आ रही थी. हम चार लोग ही हैं।नासिक में हमारा बहुत बड़ा बंगला है जिसमें नीचे दो कमरे.

सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली मैंने उनके होंठों को बड़े प्यार से छुआ और अपने होंठों से उन रसीले अधरों का रसपान करने लगा।भाभी के जिस्म से बहुत ही मादक सुगंध आ रही थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !दोस्तो, भाभी गर्म होती जा रही थीं और मैं उनके पूरे जिस्म को मानो किस नहीं कर रहा था. कुछ पता ही नहीं चल रहा है कि हाथ को कहाँ जाना है।अब तक मेघा भी मस्त हो चुकी थी.

सेक्सी जानवर वाला

आँखों से आंसू आ गए।मैंने उसके होंठों को मुँह में भर लिया और चूसने लगा और दर्द का कम होने का वेट करने लगा। एक मिनट बाद वो कुछ शान्त हुई. उसके बाद रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया।कुछ देर आराम करने के बाद शाम को अपने दोस्तों से मिला. जो अपने बदन पर चादर डाल कर मेरे कमरे की तरफ ये देखने आई थी कि मैं क्या कर रहा हूँ और वो सिसकारी किसकी थी।थोड़ी देर वहीं खड़े रहने के बाद नेहा अपने कमरे में चली गई और उसके कमरे का दरवाजा बंद हो गया, जिसकी आवाज़ मुझे अपने कमरे तक सुनाई दी। शायद जोर से बंद किया गया था। मुझे कुछ अजीब सा लगा.

और गाली गलौच के साथ या तो सुलझेड़ा होकर गले मिल जाते हैं या फिर एक दूसरे का गला दबाने के लिए भागते हैं. तो भाभी मेरा लंड छू देती थीं या कुछ काम करते-करते अपने चूचे मुझे लगा देती थीं।आप सबको तो पता ही होगा कि अक्सर सभी इंसान घर में हाफ पैंट या खुले कपड़े ही पहनते हैं. तो मुझे पता भी नहीं था कि ये सब किया कैसे जाता है।2007 की गर्मियाँ थीहम ऐसे मर्द नहीं हैं। मैंने उसको किस करना स्टार्ट कर दिया और कुछ देर बाद उसने भी मेरा साथ देना शुरू कर दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके निप्पल बाहर निकल कर दाँत से मींजे और फिर पूरे मम्मे को लेकर चूसने लगा।वो सिसकारियां भरने लगी.

तो मेरी गाण्ड में भी खुजली शुरू हो गई।मैं बोला- क्या तुम मुझे भी चोदोगे?उसने कहा- अगर मुझे अच्छे लगे तो जरूर चोद दूँगा।मैं तो बिल्कुल तैयार था.

उन्हें कह कर मेरी नानी मुझे ऊपर भेज देती थीं और मामा मुझे ऊपर ले जा कर मेरे कमरे में मुझे सुला देते थे। लेकिन जब वो सीढ़ियों से ऊपर ले जाते. तो कभी हवा में उठा कर उसके मुँह को चोदते।लगभग 15 मिनट तक वो दोनों बारी-बारी उसको मसलते रहे और लौड़ा चुसवाते रहे.

जो कि हमेशा लॉक ही रहता था क्योंकि मेरे डैड का ट्रांसफर मुंबई में हो गया था. और हाँ तू ये क्यों भूल जाती है कि मैंने तुझे मंगल सूत्र पहना दिया है. ’ कर रही थीं।सच में मज़ा आ गया। मैंने मैम की गाण्ड मारने के बाद अपना सारा माल मैम के मुँह में डाल दिया। मैम भी मजे से पूरा माल पी गईं, मैम की चूत भी झड़ गई.

उसके दिमाग़ में बस यही ख्याल आया कि पहली बार निधि ने इसको लिया कैसे होगा।अर्जुन- पी मेरी रानी.

तो वो आराम से लण्ड को चूसने लगी।एक मिनट भी नहीं गुजरा था कि उसके फ़ोन की घंटी बजने लगी, मेघा की मम्मी का ही फ़ोन था।वैसे भी काफी देर हो गई थी।मैंने मेघा से कहा- सन्डे को मिलते हैं। फैक्ट्री में कोई नहीं होगा. उसकी चूत टाइट होने के कारण मेरा लंड फिसल रहा था। ऐसा लग रहा था कि वो बहुत सालों से चुदी नहीं हो।फिर धीरे-धीरे मैं धक्के पे धक्के लगाने लगा। उसकी सिसकारियाँ निकलती जा रही थीं और फिर मैंने उसके मुँह पर अपना हाथ रख दिया. तो वो इस तरह से अपने हाथ उठाकर मुड़ गई कि उसका कमीज मेरे हाथों उतरने सा लगा, मेरे सामने उसकी पूरी नंगी पीठ और गोरी मखमली कमर आ गई।जब उसकी ब्रा की पट्टी तक दिखने लगी.

बंगाली छोरी का सेक्सी वीडियोअब आगे का गेम शुरू करो।पायल के मन से अब डर मानो बिल्कुल निकल गया था. अब फ़र्क़ सिर्फ़ इतना था कि इस बार काजल जागी हुई थी और टीवी देख रही थी।मैं ये मौका किसी भी हाल में नहीं जाने देना चाहता था.

मैगी बनाना दिखाइए

उसने मेरा सिर अपनी छाती में दबा लिया।धीरे-धीरे मैंने उसकी साड़ी उतार दी और पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया। अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैन्टी में थी।मैं उसकी गर्दन पर चुम्बन करने लगा. उसकी चूत गीली होने के कारण मेरा लण्ड उसकी चूत में आधा घुस गया।वो ज़ोर से चिल्लाई- एयाया. मैं अपने कमरे में गया और कैमकॉर्डर ले कर आया। मैंने कमरे में वो ऐसे लगाया कि नेहा का क्लोज़-व्यू आ सके। मैंने वीडियो रेकॉर्डिंग शुरू कर दी।मैं नेहा के पास गया और उसे चूमने लगा.

तो उन्होंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और मेरे हाथ में अपना लंड दे दिया। मैंने आज से पहले इतना मोटा लंड नहीं देखा था. क्या आजकल किसी गाँव की दूसरी औरतों के साथ हगते हो?इतना कह कर वे जोर-जोर से हँसने लगीं।मैं शरमाते हुए बोला- भाभी आपने ही तो मेरे हगना बंद कर दिया. उसका पानी कहाँ इतनी जल्दी निकलने वाला था।एनी ने झटके खाते हुए ही सन्नी का लण्ड चाट कर साफ किया और घुटनों के बल घोड़ी बन गई।अर्जुन- आह्ह.

शायद आपको मैं पसन्द नहीं आई।मैं अब भी उससे शर्मा रहा था।शायद वो मेरी इस बात को भांप गई थी. जब मेरे भाई की शादी थी। मेरे मामा भी शादी से एक दिन पहले ही आ गए। मैं छुट्टी लेकर आया था. तो घर पर सिर्फ मैं और मम्मी ही रहते हैं।एक दिन शाम को मैं और मम्मी चाय पी रहे थे.

’ की आवाजें निकलने लगी थीं और आँखें भी अधमुंदी सी हो रही थी।उसने विचलित सी आवाज में कहा- कुछ और म़त करना भैया. मेरी पिछली कहानीस्नेहल के कुँवारे बदन की सैरको आप लोगों ने बहुत सँवारा, जिसके लिए मैं आप सभी पाठकों को तहेदिल से धन्यवाद कहता हूँ।खैर.

मैंने कहा- आपकी चूत है ही ऐसी कि मैं इसे चाटे बिना नहीं रह सकता।दोस्तो, मेरी भी आप सभी को एक सलाह है.

सन्नी की बात सुनकर अर्जुन ने लौड़ा चूत से निकाल दिया और बिजली की तेज़ी से एनी के पैर सीधे किए. हिंदी में सेक्सी गाना वालामैं रुका और उसके होंठ चूसने लगा। इस दौरान मैंने एक जोर का झटका लगाया और लंड उसकी चूत को चीरता हुआ जड़ तक समा गया, उसके चिल्लाने की आवाज हम दोनों के होंठों में दब गई।वो नीचे से अपने चूतड़ हिलाने लगी, अब मैं भी उसे धक्के लगाने लगा, रितु मस्त होकर चूत चुदवा रही थी और मैं तेज-तेज धक्के मार रहा था।उसकी चूत से ‘फच. चाची की नंगी सेक्सी वीडियोजिससे उसे मजा आने लगा और कुछ देर में ही वो शांत हो गई।अब वो भी मजे में अपनी गाण्ड आगे-पीछे करने लगी। मैंने देखा कि अब इसका दर्द ठीक हो गया है. सो मैंने सब काम धीरे-धीरे जारी रखा।आपको यह बता देना चाहूँगा कि वो यह सब काम मुझे आसानी से नहीं करने दे रही थी।उसके मुँह में अब भी ‘ना’ ही था.

मैंने उसके चूचों को मसलते हुए कहा- मुझे इसका दूध पीना है।फिर वो बोली- भैया छोड़ो ना.

और ना ही तेरे इन कुत्ते दोस्तों का नाम लूँगी।टोनी- अच्छा इतनी अकड़. ’वो नीचे से अपनी गाण्ड को ज़ोर-ज़ोर से उछालने लगी। मैं उसके मम्मों को भी ज़ोर-ज़ोर से मसलने और कभी चूसने लगा और अपने लण्ड से धकाधक चोदने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कुछ देर बाद हमने आसन बदला और मैंने उसे उल्टा कर दिया. तब तेरा सारा गुरूर धरा का धरा न रह जाए तो कहना।पायल- तू क्या जीतेगा.

वो पानी छोड़ रही थी।वो नीचे से कमर उठा-उठा के चिल्ला रही थी और बड़बड़ा रही थी- हाआआअन और चोदो. मोनू ने मेरा हाथ पकड़ लिया।मैंने कहा- मुझे देखने दे तेरा बरमूडा इतना ज्यादा क्यों उठा हुआ है।मोनू का चेहरा शर्म से लाल हो गया और बोला- सॉरी दीदी. और मैं भी अपने बच्चों में खोई रहती हूँ। आजकल तेरे जीजाजी मुझे बस हफ़्ते एक या दो बार ही चोदते हैं.

व्हिडिओ सेक्स सेक्स व्हिडिओ

जिसकी वजह से उसकी चीख़ निकल जाती थी।वो अब तक दो बार झड़ चुकी थी।मैंने उसे उठाया और घोड़ी बनने को बोला. क्या मस्त मज़ा आ रहा था।फिर ज़ोर-ज़ोर से चॉकलेट के साथ चूत चूसने लगा।‘आहह. जिससे वो नरम हो जाए। कुछ देर चाटने के बाद मैंने थोड़ा सा थूक उसकी गाण्ड के सुराख में और थोड़ा अपने लण्ड पर लगाया और अपने लण्ड की टोपी उसके सुराख पर रख दी।फिर मैंने हल्के-हल्के आगे की तरफ ज़ोर लगाना शुरू किया.

जिससे वो थोड़ा एक्साइट हो गई।अब मैं साबुन रख कर उसके गोल चूचों पर साबुन मलने लगा।वो थोड़ा गरम हो गई.

वो कभी-कभी अपनी ज़ुबान मेरे मुँह में डाल रही थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !इस तरह 10-12 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूत को पैन्टी से आज़ाद कर दिया। मैं उसकी चूत के दाने को चाटने लगा और वो ‘आहें’ भरने लगी ‘आआअहह मेरे राआजज जजाआ.

जो मेरी चूत इतनी गौर से देख रहे हो।मैं- देखी तो बहुत हैं और पेली भी हैं भाभी।भाभी- क्या? कब. फिर मैंने उन्हें पीठ के बल कर दिया और उनके ऊपर लेट गई। अब मैं जोरदार तरीके से चुदाई करने लगी. नंगी सेक्सी वीडियो चुदाई वालीपर मैंने उसके होंठों को चूस कर और उसकी चूत पर हाथ फेरकर उसका दर्द कम किया।कुछ पलों बाद जब वो शांत हो गई.

वहाँ सोनाली अपने कंप्यूटर पर पहले से ही सेक्सी वेबसाइट देख रही थी। उसकी नाइटी उसके टाँगों से ऊपर थी. वो दोनों हाथों से मेरा मुंह लौड़े पर घुसाए जा रहा था और मैं पैंट के ऊपर से ही उसको चूस रहा था और उसकी जिप से वीर्य की हल्की हल्की खुशबू भी आने लगी थी जो उसकी मर्दानगी का अहसास करा रही थी और मुझे मदहोश कर रही थी।अब मैं झटके मारते लंड को चूसने के लिए मरा जा रहा था…उसने बाल पकड़ कर मेरा सिर उठाया तो मेरे थूक से उसकी पैंट पर लंड का आकार बन गया था और उसका तंबू मेरे थूक में सन गया था. जिससे लगे कि हम दोनों सेक्स तक पहुँच जाएंगे।मेरे अन्दर तो आग थी ही उसे चोदने की.

अब मुझसे नहीं जा रहा था। मैंने पहली बार उसकी बांह में चुटकी काटी। वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने उसके गाल पर चुटकी काटी। वो फिर भी कुछ नहीं बोली। फिर मैंने हिम्मत करके उसकी समीज़ के ऊपर से ही उसकी चूचियों पर चुटकी काटी. घर के सभी लोग शादी में जा चुके थे और उन्हें अगले दिन वापस आना था। घर पर केवल हम दोनों ही थे.

एक बार तो मन किया कि यहीं पटक कर साली को चोद दूँ।सन्नी- अच्छा ठीक है.

इस घटना के विषय में आप सभी से गुजारिश है कि अपने विचार मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा।[emailprotected]घटनाक्रम जारी है।कहानी का अगला भाग :खिलता बदन मचलती जवानी और मेरी बेकरारी-2. फिर मैंने उसकी चूत में अपना पानी निकाल दिया।वो अब खुश थी… फिर मैंने उसकी 7 दिन में गाण्ड भी मारी. आज तुझे जन्नत का मज़ा देती हूँ।उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे कमरे में ले गई।कमरे में जाते ही साथ उसने कहा- पहले कुछ पीते हैं.

मद्रासी सेक्सी पिक्चर बताओ वो गीली हो चुकी थी। मैंने उसे और गरम किया फिर उसकी चूत के छेद में उंगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। इससे वो बहुत गरम हो गई और मुझसे चिपक गई। मैंने उसके होंठों को चूमा।उसने फिल्म ख़त्म होने बाद मेरा नंबर माँगा और हम घर आ गए।अगले दिन मैं ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रहा था. लड़कों के प्रति मेरा आकर्षण तो शुरु से ही था लेकिन इस घटना के वक्त वो आकर्षण कुछ ज्यादा ही हावी होने लगा था मुझ पर.

और उनकी नज़रें मेरी तरफ बार-बार उठ रही थीं।जब मुझे अहसास हुआ कि वो मेरी किताब की बजाए मेरे सीने की तरफ देख रहे हैं. इतनी गोरी और मस्त फिगर वाली लड़की उसने जिंदगी में देखी नहीं थी और ये आज उसको चोदने को मिल रही है, यही सोच कर उसका लौड़ा पैन्ट में झटके खाने लगा था. इसकी जानकारी यह है कि स्त्री के बदन के जिस भाग पर आपके छूने से उत्तेजना की अनुभूति होती है.

इंग्लिश सेक्सी फुल एचडी

तो सनडे को इनके घर होने पर भी तुमको कॉल करने का रिस्क ना लेती। यह प्यार ही था. तो मैंने उससे पूछा- अपना पानी कहाँ निकालूँ?तो वो बोली- अन्दर ही छोड़ दो. और ना ही उसके बस में था।पूजा सलवार तो उतार चुकी ही थी सो मैंने भी देर ना करते हुए उसकी पिंक कलर की पैन्टी को नीचे खींच दिया।अब हम दोनों नीचे से बिल्कुल नंगे हो गए थे और मैंने अपना लंड चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया।इससे पूजा सिसकारियाँ लेने लगी ‘आहहाअ.

तो मैं कंप्यूटर में मूवी देखने लगा। करीब 8 बजे दरवाजे की घन्टी बजी. मैं और भी मस्ती में चुदाई में मशगूल हो गया था।भाभी इतने लगी शायद वो झड़ने की स्थिति में आ चुकी थी।फिर अचानक मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और झड़ गया।झड़ने के बाद मेरा मन अन्दर से बुरे अहसास से भर गया कि यह मैंने क्या कर दिया।किसी भी इन्सान पर हवस और बुरी नजर या कामवासना सर पर चढ़ जाती है.

लेकिन एक शख्स था जिसके बारे में अक्सर सोच सोच कर मैं मुट्ठ मारा करता था और वो थे मेरे ताऊ जी के लड़के संदीप.

जिससे मैं कुछ उत्तेजित हो जाती थी।मैं आपको बता दूँ कि मैं थोड़े डीप नेक के टॉप इस्तेमाल करती हूँ। मेरे सूट्स के गले काफी खुले हुए होते हैं. मुझे भी आज पहली बार इतना मज़ा आ रहा था। मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी पूरे कमरे में हमारी आवाजें गूंज रही थीं।नीलम को चोदते हुए मैंने नीलम से पूछा- मज़ा आया मेरी जान?तो वो बोली- हाँ राजा. वह मेरे लण्ड को तेजी से अन्दर-बाहर करने लगी।कुछ देर बाद मैडम की अकड़न चालू हुई और वो झड़ गई।दोस्तो, मैडम मेरे लौड़े से फंस चुकी थी.

मेरे जीवन में भी बहुत से मौके आए और बहुत से मौकों में चौके भी मारे।उनमें से ही एक कहानी आज मैं यहाँ पेश कर रहा हूँ. जिससे पानी की मेरे लण्ड को गीला कर रहा था। मैंने हल्के से लण्ड को बाहर निकाला और पूरी जान से पेल दिया।इस बार तो सोनी का बुरा हाल हो गया। वो जोर से चीखने ही वाली थी कि मैंने उसका मुँह अपने हाथ से बंद कर दिया. तो निकालते ही प्रियंका की चूत का पानी ‘भल्ल’ से बाहर आने लगा।थोड़ी देर तक प्रियंका तेज सांस लेकर कहने लगी- आह्ह.

मेरी नज़र उस पर से हट ही नहीं रही थी।इतने में उसने मेरे सीने पर जानबूझ कर एक धौल जमाई और कहा- ऊ.

सेक्सी वीडियो बीएफ नेपाली: पर वो भी आकर जल्दी चले गए और नेहा को छोड़ गए।मम्मी के रिश्तेदारों में बस नेहा ही रह गई थी. मैंने कहा- ठीक है भाभी जी।लेकिन थोड़ी देर बाद फिर फ़ोन आया तो भाभी बोलीं- तुम पढ़ाने आ जाना.

कि आगे हम दोनों ने एक-दूसरे के जिस्मों को एक साथ किस तरह से चुदाई से जोड़ा. अर्जुन ने लौड़ा गाण्ड से बाहर निकाल लिया, एनी स्पीड से सीधी हुई और लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी।तभी अर्जुन के लौड़े ने एक. उसे बाहर निकाला और उठ कर अपना गाउन ठीक किया और गाउन के ऊपर से ही अपनी ब्रा ठीक की।उसके बाद उन्होंने तकिए पर रखी हुई अपनी पैन्टी उठाई.

कि वो ना के बराबर थी। ऐसा लग रहा था कि जूही मेरे सामने सिर्फ़ ब्लैक-पैन्टी में खड़ी है।उसे ऐसा देखकर तो मेरा भी लण्ड खड़ा हो गया।तभी हमारे दरवाजे की घण्टी बजी, मैंने कहा- जूही.

’ करने लगी।वो भी अपने हाथ को मेरे अंडरवियर के ऊपर से रगड़ने लगी और मेरे लौड़े को जोकि उसके होंठों का स्पर्श मेरे होंठों पर होते ही तन कर खड़ा हो गया था. पर वो जोर से चिल्ला उठी और मुझे दूर को धकेलने लगी।मैंने झट से उसे पकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए।उसे बहुत दर्द हो रहा था. मेरा लौड़ा तो खड़ा ही था। मैं उसके पीछे गया और चुदाई का एक्शन करके बताया।हम दोनों को बहुत मजा आया।ऐसे में रोज उसे पोर्न कहानी सुनाता था और एक्शन करके समझाता था।अब तो मैं चाहता था कि मैं उसे चोद डालूँ.